BSEB Bihar Board 12th Geography Important Questions Short Answer Type Part 2 are the best resource for students which helps in revision.

Bihar Board 12th Geography Important Questions Short Answer Type Part 2

प्रश्न 1.
जमशेदपुर एवं पुणे शहर के महत्त्व का उल्लेख करें।
उत्तर:
जमशेदपुर-जमशेदपुर झारखण्ड राज्य में स्वर्ण रेखा नदी के किनारे स्थित है। यहाँ भारत का सबसे बड़ा लौह-इस्पात का कारखाना है। यह कोयले की अपेक्षा लोहे की खान के निकट है। यह देश का निजी क्षेत्र का एकमात्र कारखाना है जिसे 1907 ई० में जमशेदजी टाटा द्वारा स्थापित किया गया था। यहाँ लोहे गुरुमहिसानी एवं नोआमंडी से प्राप्त होता है। कोयला झरिया के खानों से प्राप्त होता है।

पुणे-पुणे महाराष्ट्र राज्य में स्थित है। यहाँ सूती वस्त्र उद्योग काफी विकसित है। यह मुम्बई, शोलापुर औद्योगिक प्रदेश में स्थित है। यहाँ सूती वस्त्र के अलावे अनेक प्रकार के सौन्दर्य प्रसाधन, खाद, दवाइयाँ, रसायन, साबुन, वनस्पति तेल, इंजीनियरिंग सामान, विद्युत उपकरण, मोटरगाड़ी, टी० वी० फ्रिज तथा अन्य इलेक्ट्रॉनिक सामान बनाने का कारखाना है।

प्रश्न 2.
कोको के बारे में आप क्या जानते हैं ?
उत्तर:
कोको के पौधा बीजों से तैयार होता है। प्रायः समतल भाग में केले के साथ ही इसकी खेती की जाती है। पौधे की कटाई-छंटाई नहीं करनी पड़ती केवल साल में दो बार छीमी तोड़नी पड़ती है। चाकू से छिलका हटाकर एक सप्ताह किण्वन करके कड़वापन दूर किया जाता है। फिर, इन्हें धूप में सुखाया जाता है। दोनों को पूँजकर ऊपर से फिर छिलका उतारकर पीसा जाता है। चाकलेट बनाने के लिए इस पाउडर को और बारीक किया जाता है। इसके अतिरिक्त इससे मक्खन निकाला जाता है जिससे दवाइयाँ और सौंदर्य प्रसाधन बनते हैं।

प्रश्न 3.
हरित रासायनिकी क्या है ?
उत्तर:
हरित रासायनिकी का मूल मंत्र है, ‘दुर्घटना से बचाव की अपेक्षा दुर्घटना की संभावना को कम करना श्रेयस्कर है।’ निरंतर विकास और प्रगति को रोकना असंभव है। जनसंख्या वृद्धि और अन्य क्रियाकलापों के विकास के साथ प्रदूषण की समस्या भी बढ़ती चली जाएगी, जैसे भारत में कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए विभिन्न उर्वरकों और कीटनाशकों का आँख मूंदकर प्रयोग किया गया, फलस्वरूप भूमि की उर्वरा शक्ति कम होती चली गई। अतः हरित रासायनिकी का अर्थ है, ‘उद्योगों और रासायनिक क्रियाओं का ऐसा समायोजन जिससे हानिकारक पदार्थों की उत्पत्ति न्यूनतम हो या हो ही नहीं।

प्रश्न 4.
पत्तन एवं पोताश्रय के बीच अंतर स्पष्ट करें।
उत्तर:
पत्तन समद्री तट पर जहाजों के ठहरने के स्थान होते हैं। यहाँ पर सामान लादने उतारने की सुविधाएँ होती हैं। जबकि पोताश्रय समुद्र में जहाजों के ठहरने का प्राकृतिक स्थान है। यहाँ जहाज लहरों तथा तूफान से सुरक्षा प्राप्त करते हैं। प्राकृतिक पोताश्रय मुंबई में कृत्रिम पोताश्रय चेन्नई में है।

प्रश्न 5.
सतत पोषणीय विकास क्या है ?
उत्तर:
1960 के दशक के अंत में पश्चिमी दुनिया में पर्यावरण संबंधी मुद्दों पर बढ़ती जागरूकता की सामान्य वृद्धि के कारण सतत् पोषणीय धारणा का विकास हुआ। इससे पर्यावरण पर औद्योगिक विकास के अनापेक्षित प्रभावों के विषयों में लोगों की चिंता प्रकट होती थी। 1968 में प्रकाशित एहरलिव की पुस्तक ‘द पापुलेशन बम’ और 1972 में मीकोस और अन्य द्वारा लिखी गई पुस्तक ‘द लिमिट टू ग्रोथ’ के प्रकाशन ने इस विषय पर लोगों और विशेषकर पर्यावरणविदों की चिंता और भी गहरी कर दी। उस घटना के परिप्रेक्ष्य में विकास के एक नए मॉडल जिसे सतत् पोषणीय विकास कहे जाने की शुरूआत हुई।

प्रश्न 6.
भारत में घटते जल संसाधन के लिए उत्तरदायी दो कारकों का उल्लेख करें।
उत्तर:
भारत में जल संसाधन के घटने का दो प्रमुख कारण निम्नलिखित है-
(i) जल प्रदूषण – देश में उपलब्ध जल संसाधनों का तेजी से निम्नीकरण हो रहा है। देश के नदी जल में नालों के माध्यम से कृषिगत, घरेलू और औद्योगिक बहि:स्राव मिल जाते हैं, जिससे नदी जल प्रदूषित हो जाती है। इससे जल में कमी होती है।

(ii) जल के पन:चक्रण में कमी – नगरीय क्षेत्रों में पक्के मकानों एवं सड़कों के बन जाने से वर्षा जल का जमीन के अंदर रिसाव नहीं हो पाता है जिस कारण शहरी क्षेत्रों में भूमिगत जल का स्तर काफी नीचे चला गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि के विस्तार एवं औद्योगीकरण के कारण वनों का तेजी से विनाश हुआ है जिससे वर्षा का जल तेजी से बहकर नदी में चला जाता है और भूमि उसका अवशोषण नहीं कर पाता है। जिससे जल का पुनः चक्रण प्रभावित हो रहा है।

प्रश्न 7.
बारानी या वर्षा आधारित कृषि से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर:
बारानी या वर्षा आधारित कृषि-इसे वर्षा पर निर्भर कृषि कहते हैं। इसके अंतर्गत फसलों को केवल वर्षा का जल ही प्राप्त होता है। पश्चिम बंगाल, असोम, ओडिशा, बिहार, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश तथा अधिकांश पूर्वोत्तर राज्यों में इसी प्रकार की कृषि की जाती है। बारानी कृषि को दो भागों में बाँटा गया है-

  • शक कृषि – जहाँ वर्षा की मात्रा 75 सेमी० से कम होती है वहाँ शुष्क कृषि की जाती है। इन क्षेत्रों में शुष्कता सहन करने वाली फसल उगाई जाती है जैसे राई, बाजरा, मूंग, चना, ज्वार आदि।
  • आई कषि – जहाँ 75 सेमी० से अधिक वर्षा होती है उन क्षेत्रों में की जाने वाली कृषि आर्द्र कृषि कहते हैं। इन क्षेत्रों में अधिक पानी चाहने वाली फसल बोई जाती है, जैसे-चावल, गन्ना, जूट आदि।

प्रश्न 8.
नगरों, महानगरों एवं मेगा नगरों को परिभाषित करें।
उत्तर:
नगर – जहाँ की जनसंख्या 5,000 से अधिक हो, उसकी 25 प्रतिशत या इससे भी कम आबादी की मुख्य आजीविका कृषि न हो और अधिकांश जनसंख्या की आजीविका द्वितीय या तृतीय क्रियाकलाप हों, उसे नगर कहते हैं।

महानगर – 10 लाख से 50 लाख तक की जनसंख्या जिन नगरों में पाई जाती है उन्हें महानगर कहा जाता है। जैसे-पटना, लखनऊ, वाराणसी आदि।

मेगानगर – जिन नगरों की जनसंख्या 50 लाख से अधिक होती है उनहें विराट या मेगा नगर कहा जाता है। हमारे देश में मुम्बई और दिल्ली मेगानगर है।

प्रश्न 9.
गुच्छित एवं बिखरी बस्तियों के बीच अंतर करें।
उत्तर:
गच्छित बस्तियाँ – गुच्छित बस्तियाँ उन क्षेत्रों में मिलती है जहाँ मनुष्य सामाजिक दष्टि से अपने परे समाज के साथ मिलकर रहना पसंद करता है। उपजाऊ मिट्टी, समतल मैदानी भाग तथा पर्याप्त जलापूर्ति वाले क्षेत्र गुच्छित बस्तियों के बसाव के आदर्श क्षेत्र होते हैं। इन्हें सघन बस्तियाँ भी कहा जाता है।

बिखरी बस्तियाँ बिखरी बस्तियों में मकान एक-दूसरे से दूर-दूर बसे होते हैं, जिनका पारस्परिक संबंध कच्ची सड़कों या पगडंडियों से होता है। ऐसी बस्तियाँ सामान्यतः पहाड़ी क्षेत्रों में हैं जहाँ कृषि के लिए उपयुक्त धरातलीय अवस्थाएँ नहीं पायी जाती है।

प्रश्न 10.
बहुपक्षीय व्यापार क्या है ?
उत्तर:
बहुपक्षीय व्यापार विश्व के कई देशों के साथ वस्तु एवं सेवाओं का विनिमय है। व्यापार का प्रमुख उद्देश्य ऐसी वस्तुओं को खरीदना या बेचना होता है जिनकी आवश्यकता होती है। यदि किसी उत्पाद की माँग विदेशों में है और अपने यहाँ वह अधिक है तो निर्यात कर विदेशी मुद्रा अर्जित की जा सकती है। व्यापार का एक पहलू यह भी है कि इससे अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में प्रगाढ़ता आती है।

प्रश्न 11.
पर्यटन के कोई दो लाभों का उल्लेख करें।
उत्तर:
पर्यटन के दो लाभ निम्नलिखित हैं
(i) रोजगार – पर्यटन में लोग एक स्थान से दूसरे स्थान या एक देश से दूसरे देश में जाते हैं। इससे देश के जनसंख्या को प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से रोजगार के अवसर मिलते हैं। राष्ट्रीय एकता की दृष्टि से भी इसका महत्त्व अधिक है।

(ii) विदेशी मुद्रा की प्राप्ति – भारतीय कलाकृतियों को विश्व में बहुत मान्यता प्राप्त है। विदेशी पर्यटकों के आकर्षण के प्रमुख स्थल गोवा, राजस्थान, जम्मू-कश्मीर, दक्षिण भारत के मंदिर, आगरा का ताजमहल इत्यादि हैं। यहाँ विदेशी पर्यटक घूमने आते हैं और अपने साथ यहाँ की कलाकृतियों को खरीदकर ले जाते हैं, जिससे विदेशी मुद्रा प्राप्त होती है।

प्रश्न 12.
लिंग संरचना से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर:
लिंग संरचना को लिंग पिरामिड द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। अधिकांश विकासशील देशों में लिंग पिरामिड का आधार चौड़ा तथा शीर्ष पतला होता है। इसका अभिप्राय यह है कि उच्च जन्म दर के कारण निम्न आयु वर्ग में विशाल जनसंख्या पायी जाती है। विकसित देशों में पिरामिड के आधार तथा मध्य की मोटाई लगभग एक जैसी होती है। इसका अभिप्राय यह है कि जन्म दर कम होने के कारण बच्चों एवं मध्य आयु वर्ग के लोगों की संख्या लगभग समान है। पिरामिड का संकीर्ण आधार और शुंडाकार शीर्ष निम्न जन्म और मृत्यु दरों को दर्शाता है। इन देशों में जनसंख्या वृद्धि शून्य अथवा ऋणात्मक होती है।

प्रश्न 13.
कृषि घनत्व क्या है ?
उत्तर:
कृषि घनत्व का अर्थ एक ही खेत में एक कृषि वर्ष में उगाई गई फसलों की संख्या बोए गए शुद्ध क्षेत्र के प्रतिशत के रूप में सकल फसलगत क्षेत्र में शस्य गहनता की माप को प्रकट करता है। कृषि घनत्व को ज्ञात करने का सूत्र है सकल फसलगत क्षेत्र
Bihar Board 12th Geography Important Questions Short Answer Type Part 2, 1
कृषि घनत्व मिजोरम की 100 प्रतिशत से लेकर पंजाब की 189 प्रतिशत के मध्य बदलती रहती है। सिंचाई कृषि घनत्व का प्रमुख निर्धारक तत्व है। जनसंख्या घनत्व का दबाव भी शस्य घनत्व को प्रभावित करता है।

प्रश्न 14.
जीवन निर्वाहक कृषि क्या है ?
उत्तर:
अधिक जनसंख्या वाले भागों की कृषि होने के कारण इस प्रकार की कृषि के अंतर्गत ऐसी उपज पैदा की जाती है जिसमें अधिक-से-अधिक श्रम का उपयोग हो सके और अधिक उत्पादन हो सके जिससे खाद्य समस्या का समाधान हो सके। इन प्रदेशों में चावल के अतिरिक्त गेहूँ, गन्ना, जूट आदि उपज पैदा की जाती है।

इन कृषि प्रदेशों में कृषि मुख्यतः पशुओं की सहायता से की जाती है। कृषि प्राचीन काल से रूढ़िवादी क्रिया से की जाती है।
इन प्रदेशों में खेती प्राचीन ढंग से की जाती है जिस कारण इतना अधिक उत्पादन नहीं हो पाता कि उनका निर्यात किया जा सके।

प्रश्न 15.
खनिज आधारित उद्योगों से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर:
खनिज आधारित उद्योग वैसे उद्योग को कहा जाता है जिसका कच्चा माल भूमि के अंदर से खनिज के रूप में प्राप्त होता है। जैसे-लोहा-इस्पात उद्योग, एल्युमीनियम उद्योग इत्यादि।

प्रश्न 16.
चिकित्सा पर्यटन को परिभाषित करें।
उत्तर:
जब चिकित्सा उपचार को अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन गतिविधि से सम्बद्ध कर दिया जाता है तो इसे सामान्यतः चिकित्सा पर्यटन कहा जाता है।

प्रश्न 17.
मानव विकास से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर:
लोगों के विकल्पों को बढ़ाना तथा जन कल्याण के स्तर को ऊँचा उठाना ही मानव विकास है। आर्थिक, सामाजिक तथा सांस्कृतिक विकास जन-कल्याण के प्रमुख पक्ष हैं। जनकल्याण से तात्पर्य मानव की चाहते जैसे-दीर्घ और स्वस्थ जीवन, शिक्षा द्वारा ज्ञान प्राप्ति तथा रहन-सहन के उच्च स्तर हैं।

प्रश्न 18.
उत्तरी भारत में सिंचाई के मुख्य साधन क्या हैं ?
उत्तर:
उत्तरी भारत में सिंचाई के प्रमुख साधन हैं-

  • नहरें
  • नलकूप
  • कुएँ और
  • तालाब

प्रश्न 19.
शुष्क कृषि किसे कहते हैं ?
उत्तर:
शुष्क कृषि सिंचाई किये बिना ही कृषि करने की तकनीक है। यह उन क्षेत्रों के लिये । उपयोगी है, जहाँ बहुत कम वर्षा होती है। इसके अंतर्गत उपलब्ध सीमित नमी को संचित करके बिना सिंचाई के ही फसलें उगायी जाती हैं। वर्षा की कमी के कारण मिट्टी की नमी को बनाये रखने तथा उसे बढ़ाने का निरन्तर प्रयास किया जाता है। इसके लिए गहरी जुताई की जाती है और वाष्पीकरण को रोकने का प्रयत्न किया जाता है। इसके अंतर्गत अल्प नमी में तथा कम समय में उत्पन्न होने वाली फसलें उत्पन्न की जाती हैं। इस प्रकार की खेती विशेष रूप से भूमध्य सागरीय प्रदेशों, अमेरिका के कोलम्बिया पठार तथा भारत में पश्चिमी राजस्थान, गुजरात और हरियाणा में की जाती है।

प्रश्न 20.
ऊर्जा के नवीनीकृत तथा अनवीनीकृत साधनों में अंतर स्पष्ट करें।
उत्तर:
नवीनीकृत साधन – यह ऊर्जा का स्रोत बार-बार काम में लाये जा सकते हैं या समाप्त नहीं होते हैं। जैसे-जल शक्ति, वायु शक्ति, सौर शक्ति या ज्वारीय शक्ति इत्यादि।

अनंवीनीकृत साधन – यह ऊर्जा का ऐसा स्रोत है जिसे एक बार ही काम में लाये जा सकते हैं अर्थात् वे क्षय (नष्ट) हो जाते हैं। जैसे-कोयला, खनिज तेल, प्राकृतिक गैस इत्यादि।

प्रश्न 21.
संचार, परिवहन तथा व्यापार में क्या अंतर हैं ?
उत्तर:
संचार (Communication) – संचार के साधन एक स्थान से दूसरे स्थान को सूचना भेजते हैं और प्राप्त करते हैं। डाक सेवाओं, टेलीफोन, फैक्स, इंटरनेट, समाचारपत्रों, टेलीग्राम आदि द्वारा सूचनायें भेजी और प्राप्त की जाती हैं।

परिवहन (Transport) – परिवहन से अभिप्राय मनुष्य तथा आवश्यक उपयोगी वस्तुओं को एक स्थान से दूसरे स्थान पर लाने-ले जाने की प्रक्रिया है। परिवहन स्थल, जल और वायु द्वारा विभिन्न प्रकार के वाहनों द्वारा किया जाता है। कभी-कभी परिवहन के रूप में पशुओं और स्वयं मानव का उपयोग भी होता है।

व्यापार (Trade) – व्यापार बाजार के माध्यम से वस्तुओं और सेवाओं का आदान-प्रदान है। वस्तुओं के मूल्य में अंतर अथवा माँग और आपूर्ति व्यापार के लिए उत्तरदायी हैं। इस प्रकार व्यापार से अभिप्राय दो स्थानों के बीच वस्तुओं और सेवाओं का प्रवाह है।

प्रश्न 22.
समुद्री जल यातायात के क्या लाभ हैं ?
उत्तर:
सामुद्रिक जलमार्ग के निम्नलिखित लाभ हैं-

  • जल परिवहन एक देश से दूसरे देश के लिए भारी माल की ढुलाई का सस्ता और सरल साधन है।
  • महासागर सभी महाद्वीपों को एक-दूसरे से मिलाते हैं।
  • समुद्री परिवहन द्वारा जितना सामान एक साथ जलयानों द्वारा ढोया जा सकता है वह किसी अन्य साधन द्वारा संभव नहीं।
  • विशाल जलयानों में प्रशीतित कक्ष के बन जाने से शीघ्र नष्ट होने वाली वस्तुओं को ले जाना संभव हो गया है।
  • खनिज तेल अथवा गैस आदि को ढोने के लिए विशाल टैंकरों का उपयोग किया जा सकता है।
  • पत्तनों पर कंटेनरों के प्रयोग से सामान को उतारना या चढ़ाना आसान है।
  • आधुनिक जहाज रडार, वायरलेस आदि से सुसज्जित होते हैं। इसलिए खराब मौसम में भी रुकावट नहीं आतो!

प्रश्न 23.
बस्ती किसे कहते हैं ? यह सामान्यतया कितने प्रकार की होती है ?
अथवा, आप बस्ती को कैसे परिभाषित करेंगे ?
उत्तर:
बस्ती से अभिप्राय उस मानव अधिवास से है जिसमें एक से अधिक मकान होते हैं और जहाँ लोग सारा कार्य एक निर्मित क्षेत्र के भीतर ही करते हैं। ये सामान्यतया दो प्रकार की होती हैं-ग्रामीण तथा नगरीय बस्तियाँ।

प्रश्न 24.
स्थान एवं स्थिति के मध्य अंतर बताएँ।
उत्तर:
बस्तियों के स्थल (Settlement site)-

  1. बस्ती के स्थल से तात्पर्य उस वास्तविक भूमि से है जिस पर बस्ती विकसित हुई है।
  2. बस्ती का स्थल कोई मैदानी भाग, पहाड़ी क्षेत्र, नदी का किनारा अथवा एक तालाब या झीत हो सकता है।
  3. बस्ती का स्थल यह निर्धारित करता है कि वहाँ जल की उपलब्धता किस प्रकार होगी।

बस्तियों की स्थिति (Settlement situation)-

  1. बस्ती की स्थिति से तात्पर्य उस बस्ती के आस-पास के गाँवों के संबंध में उसकी स्थिति बताना होता है।
  2. बस्ती की स्थिति का अध्ययन प्राकृतिक पर्यावरण तथा सांस्कृतिक विरासत के संदर्भ में किया जा सकता है।
  3. किसी बस्ती का प्रतिरूप किसी प्रदेश विशेष के प्राकृतिक पर्यावरण का प्रतिनिधित्व करता है।

प्रश्न 25.
बस्तियों के वर्गीकरण के क्या आधार हैं ?
उत्तर:
बस्तियों को विभाजित करने के आधार निम्नलिखित हैं-

  • जनसंख्या का आकार तथा
  • प्रकार्य अथवा आर्थिक आधार।

इन दो आधारों के अनुसार बस्तियाँ दो प्रकार की होती हैं-

  • ग्रामीण बस्तियाँ,
  • नगरीय बस्तियाँ।

जनसंख्या के आकार के अनुसार विश्व के सभी देशों में ग्राम और नगर को विभाजित करने का आधार अलग-अलग है। कनाडा में 1000 से कम जनसंख्या वाली बस्ती को ग्राम कहते हैं जबकि भारत में 5000 से कम जनसंख्या वाली बस्ती को ग्राम कहते हैं।

प्रकार्य के आधार पर बस्तियों की पहचान आर्थिक संरचना है। ग्रामीण बस्ती में अधिकांश जनसंख्या प्राथमिक कार्यों जैसे कृषि, मत्स्य, पशुपालन आदि में संलग्न रहती है जबकि नगरीय बस्ती की अधिकांश जनसंख्या द्वितीयक और तृतीयक व्यवसायों में संलग्न रहती है।

प्रश्न 26.
मानव भूगोल में मानव बस्तियों के अध्ययन का औचित्य बताएँ।
उत्तर:
मानव बस्तियों का अध्ययन मानव भूगोल का आधार है इसलिये मानव भूगोल में बस्तियों का अध्ययन आवश्यक हो जाता है, क्योंकि किसी विशेष प्रदेश में बस्तियों का प्रारूप मनुष्य और पर्यावरण के संबंधों को प्रदर्शित करता है। मानव बस्तियाँ वह स्थान है जहाँ मनुष्य स्थायी रूप से रहता है।

प्रश्न 27.
सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी का एक कार्य के रूप में वर्तमान एवं नवीन बस्तियों के विकास पर क्या प्रभाव होगा ?
उत्तर:
अब तक नगर प्रशासन, व्यापार उद्योग, रक्षा और धार्मिक केन्द्र रहे हैं। लेकिन अब नगर सूचना संचार और तकनीक के केन्द्र बन गए हैं। इनमें से कुछ के कार्यों को नगरों की आवश्यकता नहीं है। इस तकनीक से इन नगरों का विकास होगा। अन्य कार्यों के केन्द्र बन जाएँगे। सूचना प्रौद्योगिक के कारण ये अन्य नगर तथा देशों से जुड़ जाएँगे।

प्रश्न 28.
ग्रामीण बस्तियाँ क्या हैं ?
उत्तर:
वे बस्तियाँ जो भूमि से सीधे तथा काफी नजदीकी से जुड़ी होती हैं, ग्रामीण बस्तियाँ कहलाती हैं। ग्राम किसान तथा खेतिहर मजदूरों की अधिकता वाले क्षेत्रों में विकसित होते हैं।

ग्रामीण बस्तियों में जनसंख्या नगरों की अपेक्षा कम होती है।
ग्रामीण घर अधिकतर स्थानीय सामग्री से बने होते हैं। ग्राम की अधिकतर जनसंख्या कृषि तथा पशपालन आदि कार्यों में लगी रहती है।

प्रश्न 29.
मलिन बस्तियों में क्या अभिप्राय है ? इनके कुछ उदाहरण दें।
उत्तर:
मलिन बस्ती से अभिप्राय एक ऐसे घने बसे आवासीय क्षेत्र से है, जिसमें अस्वच्छ घर होते हैं जिनमें समाज के कमजोर वर्गों के लोग रहते हैं तथा जिनमें सामाजिक विघटन की प्रवृत्तियाँ पाई जाती हैं। उदाहरण के लिए रांचो (वेनेजुएला), फावेला (ब्राजील) तथा बस्ती अथवा झुग्गी-झोंपड़ी (भारत)।

प्रश्न 30.
मानव स्वास्थ्य पर वायु प्रदूषण के प्रभावों का वर्णन करें।
उत्तर:
मानव स्वास्थ्य पर वायु-प्रदूषण का प्रभाव कई तरह से पड़ता है-

  1. वायु प्रदूषण को धूल, धुआँ, गैसों और दुर्गन्ध जैसे विषैले पदार्थों का वायु में वृद्धि के रूप में लिया जाता है।
  2. यह मानव शरीर के त्वचा को भी प्रभावित करती है।
  3. इससे स्नायुत्र, हृदय, फेफड़ा, परिसंचरण तंत्र आदि से संबंधित भी रोग होते हैं।
  4. इससे ओजोन परत भी प्रभावित हुआ है, जिससे पराबैगनी किरण पृथ्वी पर पहुंच कर मानव स्वास्थ्य को प्रभावित किया है।

प्रश्न 31.
जल-संभर प्रबंधन क्या है ?
उत्तर:
जल संभर प्रबंधन से तात्पर्य मुख्य रूप से धरातलीय अथवा भूमिगत जल संसाधनों का कुशल प्रबंधन करना है। इसके अंतर्गत बहते जल को रोकना और विभिन्न विधियों, जैसे-तालाब, अंतःस्रवण, कुओं, द्वारा भूमिगत जल को वृद्धि करना है। इस प्रबंध का मुख्य उद्देश्य वर्षा जल का संचयन करना तथा भूमिगत जल का विवेकपूर्ण प्रयोग है।

प्रश्न 32.
प्रवास के प्रतिकर्ष और अपकर्ष कारणों में अंतर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
प्रवास के प्रतिकर्ष कारक बेरोजगारी, रहन-सहन की निम्न दशाएँ, राजनीतिक उद्रिव, प्रतिकूल जलवायु, प्राकृतिक विपदाएँ, महामारियाँ तथा सामाजिक-आर्थिक पिछड़ेपन जैसे कारण उद्गम स्थान को कम आकर्षित बनाते हैं।

प्रवास के अपकर्ष कारक काम के बेहतर अवसर और रहन-सहन की अच्छी दशाएँ, शांति व स्थायित्व, जीवन व संपति की सुरक्षा तथा अनुकूल जलवायु जैसे कारण गंतव्य स्थान को उद्गम स्थान की अपेक्षा अधिक आकर्षित करते हैं।

प्रश्न 33.
पारमहाद्वीपीय रेलमार्ग क्या होता है ?
उत्तर:
पारमहाद्वीपीय रेलमार्ग पूरे महाद्वीप से गुजरते हुए इसके दोनों छोरों को जोड़ते हैं। इनका निर्माण आर्थिक और राजनैतिक कारणों से विभिन्न दिशाओं में लम्बी यात्राओं की सुविधा प्रदान करने के लिए किया गया था।

प्रश्न 34.
सहकारी कृषि से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर:
जब कृषकों को एक समूह अपनी कृषि से अधिक लाभ कमाने के लिए स्वेच्छा से एक सहकारी संस्था बनाकर कृषि-कार्य सम्पन्न करे उसे सहकारी कृषि कहते हैं। इसके अंतर्गत सहकारी संस्था द्वारा सभी प्रकार के कृषि सहायता कृषकों को पहुंचाया जाता है।

प्रश्न 35.
प्रकृति का मानवीकरण से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
समय परिवर्तन के साथ मानव अपने पर्यावरण और प्राकृतिक बलों को समझने लगता है। अपने सामाजिक और सांस्कृतिक विकास के साथ मानव बेहतर और अधिक सक्षम प्रौद्योगिकी का विकास करते हैं। पर्यावरण से प्राप्त संसाधनों के द्वारा वे संभावनाओं को जन्म देते हैं। मानव अपने विवेक, बुद्धि व कुशल तकनीक के द्वारा पर्यावरण के विभिन्न उपागमों पर विजय प्राप्त करता जा रहा है तथा पर्यावरण की समस्याओं का सामना करते हुए अपने को ढाल रहा है। ये क्रियाएँ प्रकृति के मानवीकरण के अंतर्गत सम्मिलित होती हैं।

प्रश्न 36.
उत्तर भारत की तुलना में दक्षिण भारत में जनसंख्या का वितरण कम है, क्यों ?
उत्तर:
उत्तर भारत की अपेक्षा दक्षिण भारत में जनसंख्या का वितरण कम है। उत्तर भारत में जनसंख्या अधिक मिलने का प्रमुख कारण समतल मैदानी क्षेत्रों का विस्तार, सड़क परिवहन, रेलमार्ग का विकास, जल की उपलब्धता इत्यादि है। जबकि दक्षिण भारत मूलतः पठारी क्षेत्र है, जहाँ कृषि हेतु समतल भू-भाग का अभाव पाया जाता है। साथ ही सिंचाई सुविधा व सड़क एवं रेलमार्ग जैसे यातायात साधनों का भी विकास कम हो पाया है।

प्रश्न 37.
अंकीय विभाजन क्या है ?
उत्तर:
सूचना और संचार प्रौद्योगिकी पर आधारित विकास से मिलने वाले अवसरों का वितरण पूरे ग्लोब पर असमान रूप से वितरित है। देशों में विस्तृत आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक भिन्नता पाई जाती है। कोई देश कितनी शीघ्रता से अपने नागरिकों को सूचना और संचार प्रौद्योगिकी तक पहुंचाकर और उसके लाभ उपलब्ध करा सकता है। इसी को अंकीय विभाजक कहा जाता है।

प्रश्न 38.
भारत में ज्वारीय ऊर्जा की संभावनाओं को लिखिए।
उत्तर:
महासागरीय धाराओं एवं तरंगों द्वारा प्राप्त ऊर्जा ज्वारीय ऊर्जा कहलाता है। भारत के पश्चिमी तट पर वृहत ज्वारीय तरंग उत्पन्न होती है, वहीं पूर्वी तटीय क्षेत्रों में भी इस प्रकार की तरंगें उत्पन्न होती हैं। भारत के अविकसित तकनीक के कारण वर्तमान समय में इससे ऊर्जा की प्राप्ति नहीं हो रही है। लेकिन भविष्य में इससे ऊर्जा की प्राप्ति की संभावना है।

प्रश्न 39.
सार्क देशों के नाम बताइये।
उत्तर:
भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, श्रीलंका और मालदीव सात दक्षिण एशि ई देशों ने मिलकर दक्षिण एशिया प्रादेशिक सहयोग संगठन का गठन किया है।

प्रश्न 40.
धात्विक एवं अधात्विक खनिजों में अंतर स्पष्ट करें।
उत्तर:
धात्विक एवं अधात्विक खनिज में निम्न अंतर है-

धात्विक खनिज अधात्विक खनिज
1. जिन खनिजों को पिघलाने से धातुएँ बनती हैं। जैसे – 1. जिन खनिजों एवं धातुएँ नहीं होती हैं उसे  अधात्विक खनिज लोहा, तांबा आदि। कहते हैं। कोयला, नमक आदि।
2. इसकी अपनी चमक होती है। 2. ये ठोस, तरलता गैसीय होते हैं।
3. ये आग्नेय और कायान्तरित शैलों में पाई जाती है। 3. ये अवसादी शैल में होते हैं।
4. इनका औद्योगिक महत्व अधिक है। 4. चूना-पत्थर, कोयला इसके उदाहरण हैं।
5. इनकी तार एवं चादरें बनाई जाती है। 5. इनकी तार एवं छड़ें नहीं बनाई जा सकती है।

प्रश्न 41.
ट्रॉन्स साइबेरियन रेलमार्ग पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखें।
उत्तर:
ट्रांससाइबेरियन रेलमार्ग विश्व का सबसे लम्बा रेलमार्ग है। इसकी कुछ लम्बाई 9332 है। यह पश्चिम में लेनिनग्राद को पूर्व में प्रशान्त महासागर तट पर स्थित नगर बमाड़ी बोस्टक से जोड़ता है। इस रेलमार्ग के प्रमुख स्टेशन मास्को, रयाजान, सिजराज, कुइबाईसेब, चेलियाबिसक, ओमस्क, नोवा सीबीरिक है। इसका निर्माण साइबेरिया के सामाजिक तथा आर्थिक विकास के उद्देश्य से किया गया है।

प्रश्न 42.
भारत में जनांकिकीय इतिहास को चार अवस्थाओं में बांटे।
उत्तर:
भारत के जनाकिकीय इतिहास को निम्नलिखित चार अवस्थाओं में बांटा गया है-

  1. रुद्ध अथवा स्थिर अवस्था : इसकी अवधि 1901 से 1921 ई० के बीच रही है। इस अवस्था में जनसंख्या वृद्धि अत्यन्त ही निम्न थी। अशिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाओं का अभाव, खाद्यान्न समस्या प्रमुख थी।
  2. स्थिर वृद्धि की अवस्था : इसकी अवधि 1921 से 1951 ई० के बीच रही है। स्वास्थ्य सुविधा में सुधार, स्वच्छता, परिवहन एवं संचार के कारण मृत्यु दर को नीचे लाया गया।
  3. विस्फोटक अवस्था : इसकी अवधि 1951 से 1981 ई० के बीच रही है। इसके अंतर्गत मृत्यु दर में तीव्र कमी तथा जन्म दर में तीव्र वृद्धि सम्मिलित है।
  4. अधोमुखी अवस्था : इसकी अवधि 1981 ई० से वर्तमान समय तक की है। इस अवस्था में जीवन की गुणवत्ता को सुधार कर जनसंख्या नियंत्रण को अपनाया गया है।

प्रश्न 43.
सांस्कृतिक नगर क्या है ?
उत्तर:
सांस्कृतिक नगर : वैसे नगर जिसका उद्भव ऐतिहासिक, धार्मिक दृष्टिकोणों से हुआ है, सांस्कृतिक नगर कहलाते हैं। जैसे-वाराणसी, हरिद्वार, मक्का, मदीना, जेरूसलम।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *