Bihar Board Class 6 English Book Solutions Chapter 15 Excuses, Excuses!

Download Bihar Board Class 6 English Book Solutions Chapter 15 Excuses, Excuses! Questions and Answers from this page for free of cost. We have compiled the BSEB Bihar Board Class 6 English Book Solutions for all topics in a comprehensive way to support students who are preparing effectively for the exam. You will discover both numerical and descriptive answers for all Chapter 15 Excuses, Excuses! concepts in this Bihar Board English Solutions pdf. Make use of this perfect guide and score good marks in the exam along with strong subject knowledge.

BSEB Bihar Board Class 6 English Book Solutions Chapter 15 Excuses, Excuses!

Candidates who are looking for English Chapter 15 Excuses, Excuses! topics can get them all in one place ie., from Bihar Board Class 6 English Solutions. Just click on the links prevailing over here & prepare all respective concepts of English properly. By viewing/practicing all Bihar Bihar Board Class 6 English Chapter 15 Excuses, Excuses! Text Book Questions and Answers, you can clear any kind of examinations easily with best scores.

Bihar Board Class 6 English Excuses, Excuses! Text Book Questions and Answers

A. Warmer

Excuses Excuses Poem Questions And Answers Bihar Board Question 1.
What excuses do you make for being late of absent or not doing a home work ? Discuss some ready made excuses the children often make ?
Answer:
Children make many kinds of excuses. Some of them are pain in stomach, being sick, headache, toothache etc.

B. Comprehension

B. 1. Think and Tell

Excuses, Excuses Poem Answers Bihar Board Question 1.
Why was Blenkinsopp late ?
Answer:
His Grandma died.

Excuses Excuses Poem Bihar Board Question 2.
Why was Blenkinsopp absent ?
Answer:
He was absent for his grandmother was seriously ill and died.

Excuses Excuses Poem By Gareth Owen Bihar Board Question 3.
Why was Blenkinsopp unable to line up for Physical Education?
Answer:
His kit was not with him.

Excuses Excuses By Gareth Owen Bihar Board Question 4.
Why did Blenkinsopp not put on kit for Physical Education ?
Ans.
His grandma spoiled it.

Excuse Excuse Poem Bihar Board Question 5.
Who helped Blenkinsopp to put on Physical Education kit ?
Answer:
His grandma.

B. 2. Think and Write.

B. 2. 1. True or False.

Excuses Excuses Excuses Poem Bihar Board Question 1.
Based on the story write ‘true’ or ‘false’ next to each sentence given below.
(a) Blenkinsopp was late because of his fault.
(b) The excuse Blenkinsopp made for being absent for his maths test was his grandmother’s death.
(c) Blenkinsopp really wanted to miss the Maths test.
(d) Blenkinsopp agreed to line up for P.E.
(e) Blenkinsopp used the words “can’t, sir” thrice in the poem.
Answer:
(a) True
(b) True
(c) True
(d) False
(e) False.

B. 2. 2. Tick the answers to each of the questions given below.

Class 6 English Chapter 15 Question Answer Bihar Board Question 1.
What’s the excuse this time ? The teacher asked this question because
(a) It was not the fust time Blenkinsopp was late.
(b) Blenkinsopp was late for the first time.
(c) Blenkinsopp’s teacher felt sorry for him.
Answer:
(a) It was not the just time Blenkinsopp was late.

Excuses Excuses Poem Blenkinsop Bihar Board Question 2.
Blenkinsopp’s kit was at home because he wanted to prove that
(a) It was dirty
(b) Not ironed
(c) Her grandmother was dead
Answer:
(c) Her grandmother was dead

B. 2. 3. Answer the following questions

  1. How was the grandmother responsible for Blenkinsopp’s coming late ?
  2. Why was Blenkinsopp’s P.E. kit at home ?
  3. What excuses did Blenkinsopp make for his mistakes and negligence?
  4. What is your opinion about Blenkinsopp ?

Answer:

  1. She had died.
  2. He did not want to bring his kit at school.
  3. For his mistakes and negligence, Blenkinsopp used to make excuses. His excuse was that his grandmother had died. He also made excuses of his teeth problem that he had pain in it and had gone to a dentist.
  4. Blenkinsopp is a non-serious boy. He hates attending the classes of Physical Education. He always makes excuses on being absent on those days. His favourite excuse is that his grandmother died. He always makes this excuse before his physical teacher which irritates him.

C. Word Power

C. 1. Go through the text again and guess the meaning of the following words:

Excuses Excuses Poem Analysis Pdf Bihar Board Question 1.
(excuse, fault, term, absent, missed, usually)
Answer:

  1. excuse = to make an apology for.
  2. fault = blemish, mistake, defect,
  3. term = time, period,
  4. absent = not present,
  5. missed = failure to attain.
  6. usually = normally, generally.

C. 2. Abbreviation

P.E.- Physical education
An abbreviation is a shortened or contracted from of a word or phrase used to represent the whole.

Find out what these short forms stand for.

  1. Mr – Mister
  2. Dr – Doctor
  3. Md – Muhammad
  4. Govt – Government
  5. Ltd – Limited
  6. No – Number
  7. Min – Minute
  8. Kg – Kilogram
  9. etc – etcetera
  10. Max – Maximum

D. Grammar

D. 1. Comma and Inverted Commas

Comma is used to separate words from each other and to separate a reporting verb from the reported speech.
Example: I have pens, pencils and books.
She says, “I am a girl.”
Inverted commas are used to show the actual words of a speaker.
Example: “The boy said, “I am a student.”
Titles of songs, books, stories etc. are also put within Inverted Commas.

Example: I am reading, “India Today.” We may use single commas in the place of double commas.
Ex: Have you read ‘Panchtantra’ ?

D. 1. 1. Use commas or Inverted commas wherever necessary

  1. He said I want to buy books note books pencils and pens.
  2. There were lions elephants tigers and bears in the zoo.
  3. Tanzim said I have eaten mangoes oranges grapes papayas and bananas.
  4. Tufail Monu Farhan Rajesh Shivam and Ravi are friends.
  5. He asked what is your father ?

Answer:

  1. He said, “1 want to buy books, note books, pencils and pens.”
  2. There were lions, elephants, tigers and bears in the zoo.
  3. Tanzim said, “I have eaten mangoes, oranges, grapes, papayas and bananas.
  4. Tufail, Monu, Farhan, Rajesh, Shivam and Ravi are friends.
  5. He asked, “What is your father ?”

E. Let’s Talk and Write

Excuses Excuses Poem Analysis Bihar Board  Question 1.
Role play the conversation between the teacher and Blenkinsopp in prose.
Answer:
The teacher asked Blenkinsopp what was the excuse this time. Why was he absent in the Physical education class. Blenkinsopp said that it was not his fault. Then whose fault was it, asked the teacher. Blenkinsopp said that it was his grandma who died. The teacher said that including this excuse he had said four times his grandmother died. Then the teacher asked, how many grandmother had he.’ Blenkinsopp said, none, sir.

Excuses, Excuses, Excuses Poem Bihar Board Question 2.
You are ill. Write an application to your Headmaster requesting him to grant you leave for two days.
Answer:
To,
The Headmaster,
M.P. High School, Monghyr.
Through the Class Teacher
Sir,
With due respect I beg to say that I have been suffering from fever since yesterday.

So, I request you to grant me leave of absence from the class for two days.

Your most obed ient pupil,
Arjun Kumar ,
Class VI, Roll No. 12,
15 th March, 2011

G. Translation

Translate into English

Excuses, Excuses Poem Bihar Board Question 1.

  1. यह गलती किसकी है?
  2. वह किताब किसकी है?
  3. आप किसके बेटे हैं?
  4. यह किन लोगों का देश है ?
  5. हमलोग किनके छात्र हैं?

Answer:

  1. Whose mistake is this ?
  2. Whose book is that ?
  3. Whose son are you ?
  4. Whose country is this ?
  5. Whose student’s are we ?

Excuses, Excuses! Summary in English

‘Excuses, Excuses’ is a poem based on children’s psychology. The poem is well written by the poet Gareth Owen. A boy Blenkinsopp hates attending classes of physical education. H always makes excuses on being absent on those days. His favourite excuse is that his grandmother died. This excuse he makes four times which irritates his physical teacher.

Excuses, Excuses! Summary in Hindi

‘एक्सक्यूजेज, एक्सक्यूजेज’, बाल मनोविज्ञान पर लिखी गई कविता है। प्रस्तुत कविता, कवि गेरेथ ओवन द्वारा उत्तम तरीके से लिखी गई है। इसमें हास्य का पुट भी है जो बालक ब्लेनकिनसॉप के बहानों पर सामने आता है। यह बालक शारीरिक शिक्षा की कक्षाओं से नफरत करता है। उन दिनों वह अनुपस्थित रहने के बहाने ढूँढ़ता रहता है और उसका प्रिय बहाना है कि उसकी दादी उस दिन मर गई थी। जब चार बार वह ऐसा बहाना करता है तो उसका शारीरिक शिक्षक चुटकी लेता है कि उसकी कितनी दादियाँ हैं ! चार दादी को तो वह मरा बता चुका है और भी दादी हैं क्या उसकी ? यह बहानेबाजी ब्लेनकिनसॉप के शारीरिक शिक्षक को चिढ़ा देती है।
Word Meanings : Excuse (n) (एक्सक्यूज] = माफी । Fault (n) [फॉल्ट] = दोष । Serious (adj) (सीरियस) = गंभीर | Upset (adj) [अपसेट] = घबराया । Physical education (n) [फीजिकल एजेकुशन] = शारीरिक शिक्षा । Dentist (n) [डेंटिस्ट) = दाँत बनानेवाला । Usual (adj) [यूजुअल] = सामान्य।

Excuses, Excuses! Hindi Translation Of The Poem

Lateagain, Blenkinsopp………………………..Dead, sir.
हिन्दी अनुवाद-फिर देर किये ब्लेकिनसॉप ?
इस बार का क्या बहाना है?
मेरा दोष नहीं है, सर ।
तो फिर किसका दोष है?
दादी का सर। दादी?
उन्होंने क्या किया?
वह मर गयी, सर। मर गयो ?
वह गंभीरतापूर्वक
मर गई, सर।
इसे लगाकर चार दादी हो गई तुम्हारी, ब्लेनकिनसॉप ।

और सभी शारीरिक शिक्षा के दिनों में।
मैं जानता हूँ, यह बहुत घबड़ा देने वाली बात है, सर ।
तुम्हारी कुल कितनी दादी हैं, ब्लेनकिनसॉप? दादी, सर?
कोई नहीं, सर ।
तुमने कहा कि चार थीं।
सभी मर गईं, सर । और कल क्या हुआ था, ब्लेनकिनसॉप?
कल क्या हुआ था, सर?
कल तुम अनुपस्थित थे।
वह तो दाँत का डॉक्टर था, सर ।
दाँत का डॉक्टर मर गया?

नहीं सर, एक दाँत ।
तुमने अपनी गणित की परीक्षा छोड़ दी ब्लेनकिनसॉप ।
मैं फिर आगे दे दूँगा, सर ।
ठीक है, शारीरिक शिक्षा के लिए लाइनें लगो। नहीं कर सकता, सर।।
‘नहीं कर सकता’ जैसा कोई शब्द नहीं है ब्लेनकिनसॉप ।
किट नहीं है, सर ।
कहाँ है? घर पर, सर। घर पर क्या कर रहा है? नहीं कह सकता, सर ।
क्यों नहीं? बुरा हाथ, सर।
कौन सामान्यतः ऐसा करता है?
दादी, सर।
वह ऐसा क्यों नहीं कर सकती है?
मर गई, सर ।

We hope this detailed article on Bihar Board Solutions for Class 6 English Chapter 15 Excuses, Excuses! Questions and Answers aids you. For more doubts about Bihar Board Solutions, feel free to ask in the comment section below. We will revert back to you very soon with the best possibilities. Moreover, connect with our site and get more information on State board Solutions for various classes & subjects.

Bihar Board Class 12 English Unseen Passages for Comprehension

Students who are in search of Class 12 English Answers can use Bihar Board Class 12 English Book Solutions Poem Unseen Passages for Comprehension Pdf. First check in which chapter you are lagging and then Download Bihar Board Solutions for Class 12 English Chapter Wise. Students can build self confidence by solving the solutions with the help of Bihar State Board Class 12 Solutions. English is the scoring subject if you improve your grammar skills. Because most of the students will lose marks by writing grammar mistakes. So, we suggest you to Download Bihar State Board Class 12 English Solutions according to the chapters.

Bihar Board Class 12 English Unseen Passages for Comprehension

PASSAGE NO. 1

Today, India looks like it is on course to join the league of developed nations. It is beginning to establish a reputation not just as the technology nerve centre and back-office to the world but also as its production centre. India’s secularism and democracy serve as a role model for other developing countries. There is great pride in India that easily integrates with a global economy, yet maintains a unique cultural identity.

But what is breathtaking is India’s youth. For despite being an ancient civilization that traces itself to the very dawn of human habitation. India is among the youngest countries in the world. More than half the country is under 25 years of age and more than a third is under 15 years of age.

Brought up in the shadow of the rise of India’s service industry boom, this group feels it can be at least as good as if not better than anyone else in the world. This confidence has them demonstrating a great propensity to consume, throwing away ageing ideas of asceticism and thrift. Even those who do not have enough to consume today feel that they have the capability and opportunity to do so.

The economic activity created by this combination of a growing labour pool and rising consumer demand is enough to propel India to double¬digit economic growth for decades. One Just has to look at the impact that thee baby boomers in the US had over decades of economic activity, as measured by equity and housing prices. This opportunity also represents the greatest threat to India’s future. If the youth of India are not properly educated and if there are not enough jobs created. India will have forever lost its opportunity. There are danger signs in abundance. Fifty-three per cent of students in primary schools drop out, one-third of children in Class V cannot read, three-quarters of schools do not have a functioning toilet, female literacy is applied 45 per cent and 80 million children in the age group of 6-14 do not even attend school.

India’s IT and BPO industries are engines of job creation, but they still account for only 0.2 per cent of India’s employment. The country has no choice but to dramatically industrialize and inflate its domestic economy. According to a forecast by the Boston Consulting Group, more than half of India’s unemployed within the next decade could be its educated youth. We cannot allow that to happen. India is stuck in a quagmire of labour laws that hinder employment growth, particularly in the manufacturing sector. Inflexible labour laws inhibit entrepreneurship, so it is quite ironic that laws ostensibly designed to protect labour actually discourage employment.

Answer the following questions briefly :

  1. What makes the author think India is on the verge of joining the select band of developed nations? [3]
  2. Despite the fact that India is one of the oldest civilizations why does the author say it is young? [3]
  3. The author feels that if certain problems are not arrested, India would lose its opportunity. Why would India lose this opportunity? [3]
  4. What hinders employment growth? [3]

Answers:

  1. India’s self establishment as an important nerve centre of technology and its emergence as a great production centre makes the author think that India is on the verge of joining the select band of developed nations.
  2. The author says that despite being one of the oldest civilizations India is young because more than half the country is under 25 years of age and more than a third is under 15 years of age.
  3. India would lose its opportunity if the youth of India do not get proper education and if jobs are not created for them.
  4. Complex labour laws hinder employment in the manufacturing sector and discourage business industry and employment.

PASSAGE NO. 2

The therapeutic value and healing powers of plants were demonstrated to me when I was a boy of about ten. I had developed an acute persistent abdominal pain that did not respond readily to hospital medication. My mother had taken me to the city’s central hospital on several occasions, where different drugs were tried on me. In total desperation, she took me to Egya Mensa, a well-known herbalist in my home-town in the Western province of Ghana. This man was no stranger to the medical doctors at the hospital He had earned the reputation of offering excellent help when they were confronted with difficult cases where western medicine had failed to effect a cure.

After a brief interview, not very different from what goes on daily in the consulting offices of many general medical practitioners in the United States, he left us waiting in his consulting room while he went out to the field. He returned with several leaves and the bark of a tree and one of his attendants immediately prepared a decoration. I was given a glass of this preparation, it tasted extremely bitter, but within an hour or so I began to feel relieved. The rest of the decoration was put in two large bottles so that I could take doses periodically. Within about three days, the frequent abdominal pains stopped and I recall gaining a good appetite. I have appreciated the healing powers of medicinal plants ever since.

My experience may sound unusual to those who come from urban areas of the developed world, but for those in the less affluent nations, such experiences are a common occurrence. In fact, demographic studies by various national governments and intergovernmental organisations such as the World Health Organisation (WHO) indicate that for 75 to 90 per cent of the rural populations of the world, the herbalist is the only person who handles their medical problems. In African culture, traditional medical practitioners are always considered to be influential spiritual leaders as well, using magic and religion along with medicines. Illness is handled with the individual’s hidden spiritual powers and with the application of plants that have been found especially to contain healing powers.

(a) On the basis of your reading of the passage, answer the following
questions:
(i) Why did the author’s mother take him to Egya Mensa? What did Egya Mensa do? [3]
(ii) What do the WHO demographic studies indicate? [3]
(iii) What is the status of traditional medical practitioners in African culture?
(b) Find words in the above passage which convey similar meaning as the following : [l+i+l=3]
(i) often repeated (para 1)
(ii) pertaining to changes concerning people (para 3)
(iii) rich (para 3)
Answers:
(a) (i) The author’s mother took him to Egya Mensa because different modem drags had failed to cure his abdominal pain. Egya Mensa prepared decoration of several leaves and the bark of a tree. Only a glass of the decoration relieved him of the pain.
(ii) The WHO demographic studies indicate that 75 to 90 per cent of the rural population of the world depends totally on the herbalist for their medical problems.
(iii) In African culture, the status of traditional medical practitioner is very prestigious.
(b)
(i) persistent
(ii) demographic
(iii) affluent

PASSAGE NO. 3

Early automobiles were sometimes only ‘horseless carriages’ powered by gasoline or steam engines. Some of them were so noisy that cities often made laws forbidding their use because they frightened horses. Many countries helped to develop the automobile. The internal- combustion engine was invented in Austria, and France was an early leader in automobile manufacturing. But it was in the United States after 1900 that the automobile was improved most rapidly. As a large and growing country, the United States needed cars and trucks to provide transportation in places not served by trains. Two brilliant ideas made possible the mass production of automobiles. An American inventor named Eli Whitney thought of one of them, which is known as ‘standardization of parts’. In an effort to speed up production in his gun factory. Whitney decided that each part of a gun could be made by machines so that it would be exactly like all the others of its kind.

Another American, Henry Ford, developed the idea of the assembly line. Before Ford introduced the assembly line, each car was built by hand. Such a process was, of course, very slow. As a result, automobiles were so expensive that only rich people could afford them. Ford proposed a system in which each worker would have only a portion of the wheels. Another would place the wheels on the car. And still, another would insert the bolts that held the wheels to the car. Each worker needed to learn only one or two routine tasks.

But, the really important part of Ford’s idea was to bring the work to the worker. An automobile frame, which looks like a steel skeleton, was put on a moving platform. As the frame moved past the workers, each worker could attach a single part. When the car reached the end of the line, it was completely assembled. Oil, gasoline and water were added and the car was ready to be driven away. With the increased production made possible by the assembly line, automobiles became much cheaper and more and more people were able to afford them. Today, it can be said that wheels run America. The four rubber tyres of the automobile move America through work and play.

Even though the majority of Americans would find it hard to imagine what life could be without a car, some have begun to realize that the automobile is a mixed blessing. Traffic accidents are increasing steadily and large cities are plagued by traffic congestion. Worst of all, perhaps, is the air pollution caused by the internal-combustion engine. Every car engine bums hundreds of gallons of fuel each year and pumps hundreds of pounds of carbon monoxide and other gases into the air. These gases are one source of the smog that hangs over large cities. Some of these gases are poisonous and dangerous to health, especially for someone with a weak heart or a respiratory disease.

(a) On the basis of your reading, answer the following questions :
(i) How does the standardisation of parts help make mass production possible? [3]
(ii) How does the assembly line help make mass production possible? [3]
(iii) Why do some Americans call the automobile a mixed blessing? (Two points) [3]
(b) Complete the following with a word or phrase from the reading :
(i) Another idea, developed by Henry Ford was the [1]
(ii) With the increased production made possible by the assembly line, cars [1]
(c) Pick out the words from the passage which are similar in meaning to the following [1]
(i) a mixture of smoke and fo Upara 7)

Answers:
(a) (i) Standardisation of parts helps mass production possible by allowing each part being made by machines so that it is exactly like the others of its kind.
(ii) Assembly line allows a worker to make only a portion and thereby helps mass production possible.
(iii) The Americans call the automobile a mixed blessing because on the one hand it runs America but on the other hand it causes accidents and air pollution.
(b) (i) the moving platform which brought the work to the worker.
(ii) became much cheaper.
(c) (i) smog

PASSAGE NO. 4

Smoking is the major cause of mortality with bronchogenic carcinoma of the lungs and is one of the factors causing death due to malignancies of the larynx, oral cavity, oesophagus, bladder, kidney, pancreas, stomach and uterine cervix and coronary heart diseases. Nicotine is the major substance present in the smoke that causes physical dependence. The additives do produce damage to the body for example, ammonia can result in a 100-fold increase in the ability of nicotine to enter into the smoke. Levulinic acid, added to cigarettes to mask the harsh taste of the nicotine, can increase the binding of nicotine to brain receptors, which increases the ‘kick’ of nicotine.

Smoke from the burning end of a cigarette contains over 4000 chemicals and 40 carcinogens. It has long been known that tobacco smoke is carcinogenic or cancer-causing. The lungs of smokers collect an annual deposit of 1 to 1 Vi pounds of the gooey black material, Invisible gas phase of cigarette smoke contains nitrogen, oxygen and toxic gases like carbon monoxide, formaldehyde, acrolein, hydrogen cyanide and nitrogen oxides. These gases are poisonous and in many cases interfere with the body’s ability to transport oxygen.

Like many carcinogenic compounds, they can act as tumour promoters or tumour initiators by acting directly on the genetic make-up of cells of the body leading to the development of cancer. During smoking within the first 8-10 seconds, nicotine is absorbed through the lungs and quickly ‘moved’ into the bloodstream and circulated throughout the brain. Nicotine can also enter the bloodstream through the mucous membranes that line the mouth (if tobacco is chewed) or nose (if snuff is used) and even through the skin. Our brain is made of billions of nerve cells. They communicate with each other by chemical messengers called neurotransmitters.

Nicotine is one of the most powerful nerve poisons and binds stereo-selectively to nicotinic receptors located in the brain, autonomic ganglia, the medulla, neuro-muscular junctions. Located throughout the brain, they play a critical role in cognitive processes and memory? The nicotine molecule is shaped like a neurotransmitter called acetylcholine which is involved in many functions including muscle movement, breathing, heart-rate, learning and memory. Nicotine, because of

(i) Smoking is the major cause of mortality because it causes cancer in various parts of the body like the lungs, the mouth, the larynx, etc. It also causes the blockage of arteries resulting in heart diseases.
(ii) Nicotine in a cigarette makes the people addicted to it because it causes physical dependence.
(iii) Neurotransmitters are actually chemical messengers which help millions of nerve cells to communicate with one another.
(iv) Nicotine produces toxic effects by attaching itself to the acetylcholine sites of the brain.

PASSAGE NO. 5

I stopped to let the car cool off and to study the map. I had expected to be near my objective by now, but everything still seemed alien to me. I was only five when my father had taken; me abroad, and that was eighteen years ago. When my mother had died after a tragic accident, he did not quickly recover from the shock of loneliness. Everything around him was full of her presence, continually reopening the wound. So he decided to emigrate. In the new country, he became absorbed in making a new life for the two of us so that he gradually ceased to grieve. He did not marry again and I was brought up without a woman’s care, but I lacked for nothing for he was both father and mother to me. He always meant to go back one day, but not to stay. His roots and mine had become too firmly embedded in the new land. But he wanted to see the old folk again and to visit my mother’s grave. He became mortally ill a few months before we had planned to go and when he knew that he was dying, he made me promise to go on my own.

I hired a car the day after landing and bought a comprehensive book of maps, which I found most helpful on the cross country journey, but which I did not think I should need on the last stage. It was not that I actually remembered anything at all. But my father had described over and over again what we should see every milestone, after leaving the nearest town, so that I was positive I should recognize it is familiar territory. Well, I had been wrong, for I was now lost.

(a) On the basis of your reading of the passage, answer the following questions:
(i) Why did the author’s father emigrate? [3]
(ii) Why did the author not feel the absence of his mother after her death? [3]
(iii) Why did the author’s father want to go back to his old village? [3]
(iv) Why had the author come back to the land of his birth? [3]
Answers:
(a) (i) After the death of the author’s mother in an accident, the author’s father suffered from the shock of loneliness. Everything around him reminded him of her presence and memories. So he migrated.
(ii) The author did not feel the absence of his mother after her death because his father played the role of his mother also.
(iii) The author’s father wanted to go back to his old village because he wanted to see the old folk again and visit his wife’s grave.
(iv) The author came back to the land of his birth because he had promised his dying father to do so.

PASSAGE NO. 6

Years ago, when I was a young Assistant Professor at the Harvard Business School, I thought the role of business schools was to develop future managers who knew all about the various functions of business, to teach them how to define problems succinctly, analyse these problems and identify alternatives in a clear, logical fashion and finally, to teach them to make an intelligent decision. My thinking gradually became tempered by living and working outside the United States and by serving seven years as a college president. During my presidency of Babson College. I added several additional traits of skills that I felt a good manager must possess.

One must have the ability to express oneself in a clear articulate fashion. Good oral and written communication skills are absolutely essential if one is to be an effective manager. One must possess that intangible set of qualities called leadership skills. To be a good leader, one must understand and be sensitive to people and be able to inspire them towards the achievement of a common goal. Effective managers must be broadminded human beings who not only understand the world of business but also have a sense of the cultural, social, political, historical and (particularly today) the international aspects of life and society. This suggests that exposure to the liberal arts and humanities should be part of every manager’s education.

A good manager in today’s world must have the courage and a strong sense of integrity. He or she must know where to draw the line between the right and the wrong.

(a) On the basis of your reading of the passage, answer the following questions:
(i) What did the author think about the business schools in the
(v) How can the companies help their managers to be effective ? [12]
(b) Find words in the above passage which convey similar meaning as the following : [ 1 + 1 + 1 = 3]
(i) briefly and clearly (para 1)
(ii) modified (para 2)
(iii) that cannot be grasped (para 3)
Answers:
(a) (i) In the beginning, the other thought that the role of business schools was to produce future managers who knew about various functions of business, to teach them to define and analyse problems and identify alternatives.
(ii) An efficient manager must have good oral and written communication skills, leadership skills and sense of judgement.
(iii) The author was an Assistant Professor at the Harvard Business School.
(b) (i) Succinctly
(ii) added
(iii) intangible

PASSAGE NO. 7

Doing housework, taking care of children and carrying out assorted jobs for a husband are work just as much as is performing paid employment in an office or factory. Ignore this is to do a disservice to women in the labour force. The reality of housework that women’s work in the home is average 56 hours per week for the lull time homemaker and 26 hours per week for the employed wife/mother. Husbands and children barely increase their contribution to housework and child care when the wife/mother is in the labour force. As a result, the employed woman gives up most of her leisure carry out the responsibilities of family life.

We realize that it may sound strange to hear women’s activities in the home, called work. Since women, who do housework and take care of children receive no salary wages; homemaking is not considered ‘work’. Economists have finally helped us recognise the importance of women’s work in the family by estimating the monetary value of home-making. These estimates range from $4,705 (1968) through $8200 (1972) to over $13,000 per year in 1973 depending on whether the work of the home-maker is considered equivalent to an unskilled, skilled or a professional worker, respectively. For example, is child care comparable to babysitting at $ 0.75 per hour, to a nursery school aid at $ 3 per hour, or to the care of a child psychologist at $ 30 per hour?

Some people have proposed that the solution to the problems of the employed housewife would be simply to pay women for being housewives. Hence women with heavy family responsibilities would not have to enter the labour force in order to gain income for themselves and or their families. This is not a solution for many reasons wages provide income, but they do not remedy the isolating nature of the work itself nor the negative attitudes housewives themselves have towards housework (but not towards child care).

Wages for housework would reinforce occupational stereotyping by freezing women into their traditional roles. Unless women and men are paid equally in the labour form and there is no division of labour based on sex. women’s work in the home will have no value. Since it is not clear what constitutes housework, and we know that housework standards vary greatly, it would be difficult to know how to reward it. Pay for housework might place home-makers (mainly wives) in the difficult position of having their work assessed by their husbands, while in the case of single home-makers, it is not clear who would do the assessing.

Wages for housework, derived from spouse payments overlook the contribution women make to society by training children to be good citizens and assume that their work is only beneficial to their own families. Finally, payment for housework does not address itself to the basic reason why women with family responsibilities work; to increase family income over that which the employed husband father makes. Also, single women with family responsibilities work because they are the family breadwinners. On the basis of your reading of the passage, answer the following questions as briefly as possible :

(i) Why is an employed woman deprived of the joys of leisure? [3]
(ii) Why is home-making not considered at par with paid work? [3]
(iii) When will the women’s work in the home acquire recognition?
(iv) Why should the women working at home be not considered
equal to those working in offices or business centres? [3]
Answers:
(i) An employed woman is deprived of the joys of leisure because she has to work outside and in her home. Her husband and children contribute little to the housework and the employed woman manages it is her leisure.
(ii) Home-making is not considered at par with paid work because it is not clear what constitutes housework and how it should be assessed and rewarded.
(iii) The women’s work in the home will acquire recognition only when women are paid equally in the labour force and are not discriminated on the basis of gender.
(iv) The women working at home are not considered equal to those working in offices or business centres because the latter are paid and serve as bread earners.

PASSAGE NO. 8

In democratic countries, intelligence is still free to ask whatever question it chooses. This freedom, it is almost certain, will not survive another war. Educationist should, therefore, do all they can while there is yet time to build up in the minds of their charges, a habit of resistance to suggestion. If such resistance is not built up, the men and women of the next generation will be at the mercy of that skilful propagandist who contrives seize the instruments of information and persuasion., Resistance to suggestion can be built up in two ways. First, children can be taught to rely on their own internal resource and not to depend on incessant stimulation from without. This is doubly important. Reliance on external stimulation is bad for the character.

Moreover, such stimulation is the stuff with which propagandists bait their books, the jam in which dictators counsel their ideological pills. An individual who relies on external stimulation thereby exposes himself to the full force of whatever propaganda is being made in his neighbourhood. For a majority of people in the west, purposeless reading, purposeless listening to radios, purposeless looking at films have become an addiction, psychological equivalents alcoholism and morphinism. Things have come to such a pitch that there are many millions of men and women who suffer real distress if they are cut-off for a few days even a few hours from newspapers, radio and music or movie pictures. Like an addict to a drug, they have to indulge their vice not because their indulgence, gives them any real pleasure but because, unless they indulge they feel painful, subnormal and incomplete.

Even by intelligent people, it is now taken for granted that such psychological addictions are inevitable and even desirable, that there is nothing to be alarmed at in the fact that the majority of civilized men and women are now incapable of living on their own spiritual resources, but have become exactly dependent on incessant stimulation from without. How can children be taught to rely upon their own spiritual resources and resist the temptation to become reading addicts, hearing addicts, seeing addicts? First of all, they can be taught how to entertain themselves, by making things themselves, by playing musical instruments, by purposeful study, by scientific observation and by the practice of some art and so on. Based on your understanding of the passage answer the following questions:

(i) What does the author want educationists to do? [3]
(ii) Mention the two ways in which resistance to suggestion can be built up. [3]
(iii) What does the author mean by psychological addiction ? Give an example. [3]
(iv) How can children be saved from becoming reading, hearing or seeing addicts?
Answers:
(i) The author wants educationist to develop a habit of resistance to suggestion so that young men and women do not become prey to skilful propagandists.
(ii) The resistance to suggestion can be built in the following two ways :
(a) Children should be taught to depend on their own internal resources and not on sudden stimulation from outside.
(b) They should be trained to analyse critically the various methods and devices of the propagandists.
(iii) ‘By psychological addiction’ the author means becoming totally dependent on quick outside stimulation and not depending on one’s own spiritual resources. For example, a person deprived of newspaper, radio, movies, music for a few days will feel subnormal and incomplete. He will behave like a drug addict.
(iv) Children can be saved from becoming reading, hearing or seeing addicts by being taught how to entertain themselves, make things themselves or do scientific observations.

The main aim is to share the knowledge and help the students of Class 12 to secure the best score in their final exams. Use the concepts of Bihar Board Class 12 Poem Unseen Passages for Comprehension English Solutions in Real time to enhance your skills. If you have any doubts you can post your comments in the comment section, We will clarify your doubts as soon as possible without any delay.

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 2 एक दल के प्रभुत्व का दौर

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 2 एक दल के प्रभुत्व का दौर Textbook Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 2 एक दल के प्रभुत्व का दौर

Bihar Board Class 12 Political Science एक दल के प्रभुत्व का दौर Textbook Questions and Answers

एक दल के प्रभुत्व का दौर प्रश्न उत्तर Bihar Board प्रश्न 1.
सही विकल्प चुनकर खाली जगह को भरो –
(क) 1952 के पहले आम चुनाव में लोकसभा के साथ-साथ ………… के लिए भी चुनाव कराए गए थे। (भारत के राष्ट्रपति पद/राज्य विधान सभा/राज्य सभा/प्रधानमंत्री)
(ख) ………….. लोकसभा के पहले आम चुनाव 16 सीटें जीतकर दूसरे स्थान पर रही (प्रजा सोशलिष्ट पार्टी/भारतीय जनसंघ/भारतीय कम्पयुनिष्ट पार्टी/भारतीय जनता पार्टी।
(ग) …………. स्वतंन्त्र पार्टी का एक निर्देशक सिद्धान्त था। कामगार तबके का हित / रियासतों का बचाव/राज्य के नियन्त्रण से मुक्त अर्थ व्यवस्था/संघ के भीतर राज्यों को स्वायत्तता)।
उत्तर:
(क) राज्य विधान सभा
(ख) कम्युनिष्ट पार्टी
(ग) राज्यों के नियन्त्रण से मुक्त अर्थव्यवस्था

एक दल के प्रभुत्व का दौर Bihar Board प्रश्न 2.
यहाँ दो सूचियाँ दी गई है। पहले में नेताओं के नाम दर्ज हैं व दूसरे में दलों के। दोनों सूचियों में मेल बैठाएँ।Ek Dal Ke Prabhutv Ka Daur Bihar Board

उत्तर:
Bihar Board 12th Political Science Syllabus

Bihar Board 12th Political Science Syllabus प्रश्न 3.
एकल पार्टी के प्रभुत्व के बारे में यहाँ चार बयान लिखे गए हैं। प्रत्येक के आगे सही या गलत का चिह्न लगाएँ।
(क) विकल्प के रूप में किसी मजबूत राजनीतिक दल का अभाव एकल पार्टी-प्रभुत्व का कारण था।
(ख) जनमत की कमजोरी के कारण एक पार्टी का प्रभुत्व कायम हुआ।
(ग) एकल पाटी-प्रभुत्व का सम्बन्ध के औपनिवेशिक अतीत से है।
(घ) एकल पाटी-प्रभुत्व से देश में लोकतान्त्रिक आदर्शों के अभाव की झलक मिलती है।
उत्तर:
(क) – सही
(ख) – गलत
(ग) – गलत
(घ) – गलत

Bihar Board Political Science प्रश्न 4.
अगर पहले आम चुनाव के बाद भारतीय जनसंघ अथवा भारतीय कम्युनिष्ट पार्टी की सरकार बनी होती तो किन मामलों में इस सरकार ने अलग नीति अपनाई होती? इन दोनों दलों द्वारा अपनाई गई नीतियों के बीच तीन अन्तरों का उल्लेख करें।
उत्तर:
अगर पहले आम चुनाव के बाद भारतीय जनसंघ अथवा भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी की सरकार बनी होती तो इन सरकारों ने किसान मजदूरों, केन्द्र व प्रान्तों के सम्बन्धों के बारे में, उद्योगों के बारे में व विदेश की नीति के बारे में अलग नीतियाँ बनाई होती।

भारतीय जनसंघ व भारतीय कम्युनिष्ट पार्टियों की नीतियों में निम्न तीन अन्तर प्रमुख हैं –

  1. भारतीय कम्युनिष्ट पार्टी की सामाजिक आर्थिक नीतियाँ किसान व मजदूरों के हितों की पक्षधर हैं। जबकि भारतीय जनसंघ पार्टी की नीतियाँ व्यापारियों व उद्योगपतियों के हितों की पक्षधर मानी जाती है।
  2. भारतीय कम्युनिष्ट पार्टी धर्म निरपेक्ष का समर्थन करती है। जबकि भारतीय जनसंघ पार्टी हिंदूवाद का समर्थन करती है।
  3. भारतीय जनसंघ पार्टी कश्मीर के अनुच्छेद 370 को हटाने का पक्षधर है जबकि भारतीय कम्युनिष्ट दल जम्मू कश्मीर को 370 के तहत विशेषदर्जा देने के पक्ष में है।

Political Science Class 12 Bihar Board प्रश्न 5.
कांग्रेस किन अर्थों में एक विचारधारात्मक गठबन्धन थी? कांग्रेस में मौजूद विभिन्न विचाराधारात्मक उपस्थितियों का उल्लेख करें।
उत्तर:
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का जन्म 1885 को हुआ। उस समय यह केवल एक राजनीतिक दल ही नहीं था बल्कि यह आन्दोलन था उसमें प्रत्येक वर्ग जाति, क्षेत्र, भाषा व हित समूह के लोग शामिल थे जो वर्ग व समूह कांग्रेस से किन्हीं मुद्दों पर मतभेद रखते थे वे भी कुछ क्षेत्रों में कांग्रेस के साथ कंधे से कन्धे मिलाकर चलते थे। इस प्रकार कांग्रेस एक पथदर्शक थी। प्रारम्भ में यद्यपि कांग्रेस का नेतृत्व उच्च वर्ग व वकील पेशे तक के लोगों तक सीमित था परन्तु जैसे जैसे कांग्रेस का जनाधिकार बढ़ा कांग्रेस का नेतृत्व भी विस्तृत हुआ अब इसमें खेती किसान की बुनियाद वाले तथा गाँव-गिराव की तरफ रूझान रखने वाले नेता भी उभरे।

आजादी के समय कांग्रेस एक सतरंगे सामाजिक गठबन्धन के रूप में राष्ट्रीय स्तर पर छाया हुई थी। वैज्ञानिक स्तर पर भी साम्यवादी दल, समाजवादी दल, स्वतन्त्र दल, भी कांग्रेस के साथ कार्यरत थे। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री स्वयं समाजवादी व साम्यवादी चिन्तन के नजदीक थे। गांधीजी को भी अराजकतावादी व साम्यवादी कहा गया। सुभाषचन्द्र भी एक साम्यवादी विचारधारा के थे उन्होंने फारवर्ड ब्लॉक पार्टी बनायी। इस अर्थ में कांग्रेस एक विचारात्मक गठबन्धन थी। कांग्रेस ने अपने अंदर क्रान्तिकारी, शान्तिवाद, मनुदारवादी, उग्रवादी, अर्थात् नर्मपंथी, दक्षिणपंथी, वामपंथी हर धारा के लोग समूह में थे। इस प्रकार कांग्रेस एक ऐसा समुद्र था जिसमें अनेक नदियों का संगम था। कांग्रेस में विलय व समायोजन की संस्कृति थी।

Bihar Board Class 12 Political Science Syllabus प्रश्न 6.
क्या एकल पार्टी प्रभुत्व की प्रणाली का भारतीय राजनीति के लोकतान्त्रिक चरित्र पर खराब असर हुआ?
उत्तर:
एक लम्बे समय तक भारतीय राजनीति में एक राजनीतिक दल अर्थात् कांग्रेस का प्रभुत्व रहा जिसका कारण प्रमुख रूप से यह था कि अन्य कोई दूसरा दल कांग्रेस के समान रूप में उभर कर नहीं आया। दूसरा कारण यह भी था कि कांग्रेस के पास राष्ट्रीय आन्दोलन की विरासत साथ थी व पंडित जवाहरलाल नेहरू, महात्मा गाँधी व सरदार पटेल, लाल बहादुर शास्त्री जैसे लोगों का नेतृत्व रहा जिन्होंने देश, को मजबूत किया बल्कि समाज को भी एक नई दिशा दी। 1952 से लेकर 1967 तक 1971 से लेकर 1977 तक 1980 से लेकर 1989 तक 1991 से 1996 तक कांग्रेस का प्रभाव रहा है अर्थात् प्रभुत्व रहा है।

भारतीय राजनीति में कांग्रेस के एकल दल के रूप में प्रभुत्व के भारतीय राजनीति पर निश्चित रूप से कुछ नकारात्मक प्रभाव अवश्य पड़े हैं जिनमें से प्रमुख रूप से निम्न हैं –

  1. राजनीतिक दलों में आन्तरिक प्रजातन्त्र का अभाव।
  2. केन्द्रवाद का विकास
  3. संविधान के प्रावधानों, (जैसे अनुच्छेद 356 का प्रयोग 356 का प्रयोग) का प्रयोग
  4. राज्यपाल के पद की गरिमा में, कभी
  5. विरोधी दलों का अभाव
  6. केन्द्र व प्रान्तों में टकराव की राजनीति
  7. मुख्यमंत्री के पद की गरिमा में गिरावट
  8. क्षेत्रीय दलों का उदय
  9. क्षेत्रवाद का उदय
  10. केन्द्र व प्रान्तों के सम्बन्धों की पुनः व्याख्या की माँग।

Ek Dal Ke Prabhutv Ka Daur Question Answer Bihar Board प्रश्न 7.
समाजवादी दलों और कम्युनिष्ट पार्टी के बीच के तीन अन्तर बताएँ। इसी तरह भारतीय जनसंघ व स्वतन्त्र पार्टी के बीच के तीन अंतरों का उल्लेख करें।
उत्तर:
समाजवादी दलों व कम्युनिष्ट पार्टी एक दूसरे के काफी करीब ही थे यूँ भी कह सकते हैं कि समाजवाद एक रास्ता है। व साम्यवाद एक मंजिल है परन्तु फिर भी इनमें कई बुनियादी अन्तर है जो कि निम्न हैं –

  1. समाजवाद एक सामाजिक आर्थिक विचारधारा है जबकि साम्यवाद सामाजिक, आर्थिक व राजनीतिक भी है।
  2. समाजवाद सामाजिक आर्थिक उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए राज्य को बनाए रखना चाहता है बल्कि राज्य को सामाजिक आर्थिक परिवर्तन की जिम्मेवारी सौपना चाहता है जबकि साम्यवाद राज्य को समाप्त करने के पक्ष में है।
  3. संवैधानिक व शान्तिपूर्ण तरीकों से सामाजिक व आर्थिक परिवर्तन के पक्ष में है जबकि साम्यवादी हिंसक क्रान्ति से व्यवस्था परिवर्तन करना चाहते हैं।

भारतीय जनसंघ व स्वतंत्र पार्टी में अन्तर:
भारतीय जनसंघ वे स्वतंत्र पार्टी में कुछ समानताएँ होते हुए भी कुछ असमानताएँ हैं जिनमें से प्रमुख निम्न हैं –

  1. जनसंघ एक हिंदूवादी राजनीतिक दल है जो हिंदूत्व का प्रचार कर भारत को एक हिंदू राज्य बनाने की पक्षधर है जबकि स्वतंत्र पार्टी एक धर्म निरपेक्ष दल है।
  2. जनसंघ समाजवादी चिन्तन व राज्य की अधिक भूमिका समर्थन करती है जबकि स्वतंत्र दल मनुष्य की स्वतंत्रता की पक्षधर है व राज्य के कम से कम हस्तक्षेप के पक्ष में है।
  3. भारतीय जनसंघ गुटनिरपेक्षता की नीति का समर्थन करती है, जबकि स्वतंत्र पार्टी भारत की गुटनिरपेक्षता की नीति का विरोध करता था।

प्रश्न 8.
भारत और मैक्सिको दोनों में एक खास समय तक एक पार्टी का प्रभुत्व रहा। बताएँ कि मैक्सिको में स्थापित एक पार्टी का प्रभुत्व कैसे भारत के एक पार्टी के प्रभुत्व से अलग था?
उत्तर:
इंस्टीट्यूशनल रिवोल्यूशनरी पार्टी का मैक्सिकों में लगभग साठ वर्षों तक शासन रहा। मूलरूप से इस दल में राजनेता और सैनिक नेता, मजदूर और किसान संगठन तथा अनेक राजनीतिक दलों सहित कई प्रकार के हितों के संगठन में शामिल थे। इस पार्टी की प्रत्येक चुनाव में जीत निश्चित की जाती थी। अन्य दल केवल नाम मात्र के लिए ही चुनाव में शामिल होते थे ताकि शासक दल (पी.आर.आई.) को वैधता मिल जाए। चुनाव में नियम इस प्रकार से तय किए जाते थे कि पी.आर.आई दल की जीत निश्चित हो। प्रत्येक प्रकार के हेरा-फेरी शासक दल के आदेश व निर्देश से की जाती थी। इस प्रकार गलत तरीकों से मैक्सिको में पी.आर.आई. दल का शासन लम्बा अर्थात् 60 वर्षों से भी अधिक तक चला।

अगर हम मैक्सिको की तुलना भारत में कांग्रेस के प्रभुत्व से तुलना करते हैं तो हम दोनों में कई प्रकार के अन्तर पाते हैं जिनमें निम्न प्रमुख हैं –

  1. भारत में कांग्रेस का प्रभुत्व एक साथ नहीं रहा। जबकि मैक्सिको में पी.आर.आई. का शासन लगातार 60 वर्षों तक चला।
  2. भारत में प्रत्येक बार स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव होते रहे तथा सभी के लिए प्रयोग होने वाले नियमों के द्वारा होते थे परन्तु मैक्सिको में चुनावों में हेरा-फेरी होती रही व नियमों को शासक दल की जीत निश्चित करने के लिए फेरबदल की जाती थी।
  3. भारत में प्रजातंत्रीय संस्कृति व प्रजातंत्रीय प्रणाली के तहत कांग्रेस का प्रभुत्व रहा जबकि मैक्सिको में शासक दल की तानाशाही के कारण इसका प्रभुत्व रहा।

प्रश्न 9.
भारत का एक राजनीतिक नक्शा लीजिए। जिसमें राज्यों की सीमाएँ दिखाई गई हों और उसमें निम्नलिखित को चिह्नित करें।
(क) ऐसे दो राज्य जहाँ 1952-67 के दौरान कांग्रेस सत्ता में नहीं थी।
(ख) दो ऐसे राज्य जहाँ इस पूरी अवधि में कांग्रेस सत्ता में रही।
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Political Science Solutions chapter 2 एक दल के प्रभुत्व का दौर Part - 2 img 3

प्रश्न 10.
निम्नलिखित अवतरण को पढ़कर इसके आधार पर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए।
कांग्रेस के संगठनकर्ता पटेल कांग्रेस को दूसरे राजनीतिक समूह से निसंग रखकर उसे एक सर्वांगसम तथा अनुशासित राजनीतिक पार्टी बनाना चाहते थे। वे चाहते थे कि कांग्रेस सबको समेटकर चलने वाला स्वभाव छोड़े और अनुशासित कॉडर से युक्त एक संगुफित पार्टी के रूप में उभरे। ‘यथार्थवादी’ होने के कारण पटेल व्यापकता की जगह अनुशासन को ज्यादा तरजीह देते थे। अगर “आंदोलन को चलाते चले जाने” के बारे में गाँधी के ख्याल हद से ज्यादा रोमानी थे तो कांग्रेस को किसी एक विचारधारा पर चलने वाली अनुशासित तथा धुरंधर राजनीतिक पार्टी के रूप में बदलने की पटेल धारणा भी उसी तरह कांग्रेस की उस समन्वयवादी भूमिका को पकड़ पाने में चूक गई जिसे कांग्रेस को आने वाले दशकों में निभाना था।

(क) लेखक क्यों सोच रहा है कि कांग्रेस को एक सर्वांगसम तथा अनुशासित पार्टी नहीं होना चाहिए?
(ख) शुरुआती सालों में कांग्रेस द्वारा निभाई गई समन्वयवादी भूमिका के कुछ उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
1. लेखक सरदार पटेल के विचारों के सन्दर्भ में लिख रहे हैं कि भारत में लौह पुरुष सरदार पटेल कांग्रेस को किसी अन्य रूप में देखना चाहते थे। सरदार पटेल चाहते थे कि कांग्रेस एक व्यापक समूह न बने बल्कि साम्यवादी विचारधारा वाली साम्यवादी दल व जनसंघ जैसी एक निश्चित विचारधारा वाली केडर वाली व अनुशासित दल बनें। शायद ये कांग्रेस को एक राजनीतिक दल के बजाय एक आन्दोलन के रूप में देखना चाहते थे।

2. कंग्रेस की समन्वयवादी भूमिका के अनेक उदाहरण हैं जैसे कांग्रेस समाज के प्रत्येक वर्ग जैसे किसान, मजदूर, व्यापारी वकील आदि को लेकर चली अर्थात् इन सभी वर्गों से कंग्रेस को समर्थन मिला। दूसरे कांग्रेस को अनुसूचित जाति, जनजाति, ब्राह्मण, राजपूत व पिछड़ा वर्ग सभी का समर्थन मिला। इसी प्रकार प्रत्येक विचारधारा जैसे वामपन्थी व दक्षिण पन्थी विचारधारा के लोग भी कांग्रेस में शामिल थे।

Bihar Board Class 12 Political Science एक दल के प्रभुत्व का दौर Additional Important Questions and Answers

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
दलीय प्रभुत्व से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
दलीय प्रभुत्व का सम्बन्ध किसी राजनीतिक व्यवस्था की उस स्थिति से है जब किसी एक दल का प्रभाव पूरी सामाजिक व्यवस्था, प्रशासनिक व्यवस्था व राजनीतिक व्यवस्था पर होता है। चुनावी राजनीति में भी अन्य दल उसके सामने कमजोर होते हैं। एक दल के प्रभुत्व के कारण अन्य कोई दल इस स्थिति में नहीं आ पाता कि वह किसी एक विशेष दल के बराबर मतदाताओं को अपनी ओर प्रत्यक्ष रूप से अथवा अप्रत्यक्ष रूप से आकर्षित कर सकें एक दल का प्रभुत्व प्रजातन्त्रीय व्यवस्था में भी सम्भव है जैसे की भारत में कांग्रेस का प्रभुत्व इसी प्रकार तानाशाही में भी एक दल का प्रभुत्व सम्भव है जैसा कि साम्यवादी देशों में व मैक्सिको में।

प्रश्न 2.
भारत मे एक दलीय प्रभुत्व का युग से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
भारत में बहुदलीय प्रणाली है अर्थात् भारत में अनेक राजनीतिक दल हैं रिपोर्ट बताती है कि भारत में लगभग 1800 राजनीतिक दल हैं। जिनमें से 6 राष्ट्रीय दल हैं व 45 क्षेत्रीय दल हैं। एक दल के प्रभुत्व के युग को प्रायः 1885 से लेकर 1967 के समय को माना जाता है – क्योंकि 1885 से लेकर 1947 तक राष्ट्रीय आन्दोलन में कांग्रेस का ही प्रभुत्व रहा व 1952 में हुए प्रथम आम चुनाव से लेकर 1962 तक के सभी चुनावों में कांग्रेस को लोकसभा में सर्वाधिक सीटें प्राप्त हुई व केन्द्र व प्रान्तों में कांग्रेस का ही शासन रहा। 1967 में जाकर इस स्थिति में परिवर्तन आया जब कांग्रेस को लोकसभा में केवल साधारण बहुमत प्राप्त हुआ व कई राज्यों में कांग्रेस की सरकार नहीं बन पायी।

प्रश्न 3.
कुछ उन राजनीतिक दलों के नाम बताइये जो कांग्रेस के विरोध में विकसित हुए।
उत्तर:
कांग्रेस के विरोध में जो राजनीतिक दल विकसित हुए उनमें से मुख्य थे भारतीय जनसंघ पार्टी, भारतीय कम्युनिष्ट पार्टी, मुस्लिम लीग, सोसालिस्ट पार्टी व स्वतंत्र पार्टी।

प्रश्न 4.
प्रजातंत्र से आप क्या समझते हैं? प्रजातंत्र की आवश्यक शर्ते समझाइए।
उत्तर:
प्रजातंत्र सरकार का वह रूप है जिसमें अन्तिम शक्ति जनता के पास होती है। यह वह सरकार है जिसमें जनता प्रत्यक्ष रूप से अथवा अप्रत्यक्ष रूप से प्रशासनिक प्रक्रिया व निर्णय लेने की प्रक्रिया में भाग लेते हैं। प्रजातंत्र एक व्यापक शब्द है जिसमें सामाजिक, नैतिक आर्थिक पक्षों में व्यापक अर्थ है। वास्तव में प्रजातंत्र राजनीतिक प्रणाली के साथ-साथ एक दृष्टिकोण है। प्रजातन्त्र की सफलता के लिए कुछ आवश्यक शर्ते हैं। जैसे नागरिक शिक्षित होने चाहिए, जागरूक होने चाहिए, स्वतंत्र न्याय पालिका होनी चाहिए व स्वतंत्र प्रेस होनी चाहिए । सामाजिक व आर्थिक समानता भी प्रजातंत्र के लिए आवश्यक शर्त है।

प्रश्न 5.
भारतीय प्रजातंत्र की प्रमुख चुनौतियाँ समझाइए।
उत्तर:
भारत ने आजादी प्राप्त करने के बाद प्रजातन्त्रीय प्रणाली को अपनाया। अनेक लोगों का विचार था कि भारत में प्रजातंत्र निम्न परिस्थितियों के कारण सफल नहीं होगा –

  1. अनपढ़ता
  2. बेरोजगारी
  3. जातिवाद व साम्प्रदायिकवाद
  4. क्षेत्रीय असन्तुलन
  5. राज्य का व्यापक क्षत्र अर्थात् राज्य का बड़ा आकार
  6. क्षेत्रवाद
  7. उपनिवेशवादी व सामान्तवादी अतीत
  8. आर्थिक पिछड़ापन
  9. राजनीतिक ट्रेनिंग का अभाव

प्रश्न 6.
चुनाव आयोग का कार्य समझाइए।
उत्तर:
भारत में चुनावी प्रक्रिया को सम्पन्न करने के लिए भारतीय संविधान में एक सदस्ययी चुनाव आयोग के गठन की व्यवस्था की गई है जिसका प्रमुख कार्य विभिन्न स्तर पर स्वतन्त्र रूप से व शान्तिपूर्ण तरीके से चुनाव सम्पन्न कराना है। इस समय चुनाव आयोग तीन सदस्ययी है। जिसमें एक मुख्य चुनाव आयुक्त है व दो अन्य चुनाव आयुक्त है। सुमेरसैन प्रथम चुनाव आयुक्त था। चुनाव आयोग का गठन 1950 में किया गया था। प्रथम आम चुनाव भारत में 1952 में हुआ था।

प्रश्न 7.
भारतीय प्रजातंत्र की प्रमुख विशेषताएँ समझाइए।
उत्तर:
यद्यपि भारत को आजादी के बाद एक साम्यवादी व उपनिवेशवादी सामाजिक आर्थिक व्यवस्था विरासत में प्राप्त हुई फिर भी भारत में प्रजातंत्रीय प्रणाली को अपनाया जिसकी निम्न प्रमुख विशेषताएँ हैं –

  1. गणतंत्रात्मक सरकार
  2. संसदीय सरकार
  3. कार्यपालिका की संसद के प्रति जवाब देही
  4. संविधान की सर्वोच्चता
  5. न्यायपालिका की स्वतंत्रता
  6. निश्चित समय पर स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव
  7. मन्त्रियों की व्यक्तिगत व सामूहिक जिम्मेवारी

प्रश्न 8.
व्यस्क मताधिकार से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
आजादी से पहले भारत में केवल सीमित मताधिकार था अर्थात् कुछ विशेष आधारों जैसे जाति शिक्षा स्तर व व्यक्तिगत सम्बन्धों के आधार पर ही मताधिकार प्राप्त होता है। परन्तु भारत के संविधान बनाने वाले भारतीय नागरिकों को व्यस्क मताधिकार दिया जिसका अर्थ है कि प्रत्येक व्यस्क नागरिक को मताधिकार प्राप्त होगा चाहे वह किसी भी जाति, धर्म, सामाजिक स्तर, आर्थिक स्तर व भाषा व लिंग व रंग का हो। किसी भी आधार पर मताधिकार मामले में भेदभाव नहीं किया जाएगा। प्रारम्भ में 21 वर्ष के व्यक्ति को वयस्क माना जाता था परन्तु अब संविधान संशोधन के बाद यह उम्र 18 वर्ष कर दी गई। वयस्क मताधिकार नागरिकों के सर्वांगिक विकास के लिए व प्रजातंत्र के सिद्धान्तों के लिए अत्यन्त आवश्यक है।

प्रश्न 9.
आजादी के बाद के प्रारम्भिक वर्षों के चुनावों में कांग्रेस की अत्यधिक सफलता के कारण समझाइए।
उत्तर:
1952 में भारत में प्रथम आम चुनाव हुए जिसमें कांग्रेस को भारी सफलता मिली। कांग्रेस की इस सफलता का सिलसिला 1957 व 1962 के चुनावों में भी चलता रहा इसके निम्न प्रमुख कारण थे।

  1. भारत की आजादी का गौरव भी कांग्रेस को प्राप्त था।
  2. राष्ट्रीय आन्दोलन की विरासत भी कांग्रेस के साथ थी।
  3. कांग्रेस में पंडित जवाहरलाल जैसे चमत्कारिक व्यक्तित्व के नेता थे।
  4. कांग्रेस के अलावा कोई अन्य प्रभावकारी राजनीतिक दल नहीं था। प्रश्न 10. 1967 के चुनाव में कांग्रेस के प्रभुत्व की गिरावट के प्रमुख क्या कारण थे।

उत्तर:
1967 के आम चुनाव में प्रथम बार कांग्रेस के प्रभाव में कमी आयी क्योंकि लोकसभा के चुनाव में भी कांग्रेस की काफी सीटें घटी व कई राज्यों में भी कांग्रेस सरकार नहीं बना सकी है। कांग्रेस के प्रभुत्व में कमी के प्रमुख कारण थे –

  1. चमत्कारिक नेतृत्व का अभाव
  2. राष्ट्रीय आन्दोलन के समय की राजनीतिक संस्कृति का अभाव
  3. क्षेत्रवाद का उदय
  4. अनेक राज्यों में क्षेत्रीय दलों का उदय व उनकी चुनावी सफलता
  5. गठबन्धन की राजनीति उदय

प्रश्न 11.
साम्यवादी पार्टी का उदय भारत में किस प्रकार हुआ?
उत्तर:
सोवियत संघ में प्रारम्भ हुए साम्यवाद का पूरे विश्व पर प्रभाव पड़ा। भारत में साम्यवादी पार्टी का गठन 1921 में ही हो गया था। परन्तु साम्यवादी विचारधारा को भारत में जड़े पकड़ने में काफी समय लगा। भारत को साम्यवादी आन्दोलन सोवियत संघ में आन्दोलन से प्राप्त प्रेरणा का परिणाम है। 1952 व 1957 के चुनावों तक भारत में साम्यवादी पार्टी को ज्यादा सफलता नहीं मिली परन्तु 1967 के हुए चुनावों में साम्यवादी दल को केन्द्र व कुछ राज्यों में सफलता मिली। 1957 में सर्वप्रथम केरल में ई.एम.एस. नम्बूदरीपाद के नेतृत्व में साम्यवादी दल की सरकार बनी। 1957 के बाद भारत के कई अन्य महत्वपूर्ण राज्यों में इसके प्रभाव में वृद्धि हुई जैसे पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, पंजाब, हरियाणा व बिहार आदि।

प्रश्न 12.
भारत में समाजवादी पार्टी के उदय को समझाइए।
उत्तर:
भारत में समाजवादी आन्दोलन विश्व में विकसित व प्रचलित विशेषकर यूरोप में विकसित प्रक्रिया का ही हिस्सा है। आजादी से पहले ही समाजवादी विचारधारा का प्रभाव राष्ट्रीय आन्दोलन के समय ही पड़ने लगा था। आजादी के समय कांग्रेस में भी अनेक नेता समाजवादी विचारधारा से सम्बन्धित थे। कांग्रेस में ही कांग्रेस सोशलिष्ट पाटी का 1934 में गठन किया गया। 1948 में सोशलिष्ट पार्टी का गठन किया गया यद्यपि आजादी में बाद की चुनावी राजनीति समाजवादी पाटी को ज्यादा सफलता नहीं मिली। आज वास्तविक समाजवादी चिन्तन पर कोई राजनीति दल नहीं है।

प्रश्न 13.
समाजवादी आन्दोलन के कुछ प्रमुख नेताओं व चिन्तकों के नाम बताइए।
उत्तर:
समाजवाद के बारे में ऐसा कहा जाता है कि यह एक ऐसा टोप है जिसका अधिक प्रयोग होने से आकार बिगड़ गया है। यह कथन सही है। भारत में ही नहीं विश्व के अनेक देशों में समाजवाद एक लोकप्रिय विचारधारा रही है जिससे अनेक चिन्तक जुड़े रहे परन्तु व्यवहार में इसे सफलता नहीं मिली। भारत के प्रमुख समाजवादी चिन्तकों के नाम निम्न हैं –

  1. आचार्य पटवर्धन
  2. आचार्य नरेन्द्र देव
  3. जय प्रकाश नारायण
  4. राजनारायण
  5. अशोक मेहता
  6. राम मनोहर लोहिया

प्रश्न 14.
उन प्रमुख राजनीतिक दलों के नाम बताइए जिनकी जड़े समाजवादी आन्दोलन के साथ जुड़ी हुई हैं।
उत्तर:
समाजवादी आन्दोलन से 1950 के दशक अनेक राजनीतिक दल प्रभावित हुए। यहाँ तक कि कांग्रेस ने भी 1955 के अपने अवधि अधिवेशन में प्रस्ताव पारित कर समाजवाद को अपनाया था। समाजवादी विचारधारा से जुड़ी प्रमुख राजनीतिक दल निम्न है –

  1. राष्ट्रीय जनता दल
  2. समाजवादी पार्टी
  3. जनता दल (संयुक्त)
  4. जनता दल (सेक्यूलर)
  5. समाजवादी जनता पार्टी

प्रश्न 15.
भारतीय जनसंघ पाटी की उत्पत्ति समझाइए।
उत्तर:
भारतीय जनसंघ पार्टी का गठन सन् 1951 में किया गया था। इसके संस्थापक अध्यक्ष श्री श्यामा प्रसाद मुखर्जी थे। इसकी जड़ें व वैचारिक प्रभाव आर.एस.एस. हिंदू महासभा का है। वैचारिक तौर पर भारतीय जनसंघ पार्टी कांग्रेस व साम्यवादी दलों से अलग है। भारतीय जनसंघ पाटी की प्रथमिकताएँ निम्न हैं –

  1. एक शब्द
  2. एक संस्कृति
  3. एक भाषा
  4. एक धर्म

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
भारत के संविधान के निर्माताओं ने संसदीय सरकार को क्यों अपनाया?
उत्तर:
15 अगस्त, 1947 को भारत ने आजादी प्राप्त करने के बाद अपना संविधान बनाया जिसके लिए 1946 में ही एक संविधान सभा का गठन किया गया था। लम्बे विचार विमर्श की प्रक्रिया में संविधान बनाने में लम्बा समय अर्थात् 2 वर्ष 11 माह व 18 दिन का समय लगा जो 26 नवम्बर 1949 को पूरा हुआ व 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ। भारतीय संविधान में संसदीय प्रजातन्त्र को अपनाया गया। भारत में संसदात्मक प्रजातन्त्र को अपनाने से दुनिया के अनेक क्षेत्रों में इस बात पर संदेह व्यक्त किया गया कि भारत में जल्द ही फिर राजनीतिक अनिश्चितता आ जाएगी क्योंकि भारत की परिस्थिति प्रजातन्त्रीय सरकार के अनुकूल नहीं है।

भारत में 70% लोग ग्रामों में रहते हैं 30% गरीबी रेखा के नीचे रहते हैं। यहाँ पर बड़े पैमाने पर लोग गरीब बेरोजगार व अशिक्षित हैं। परन्तु भारत के संविधान के बनाने वालों भारत के लोगों को जिम्मेवार व शक्तिशाली बनाने के लिए ही संसदात्मक सरकार को चुना ताकि वे अपने प्रतिनिधि चुन सके जो उनके प्रति जिम्मेवार हो तथा जो उनके बीच के ही सदस्य हो भारतीयों को विकसित करने व उनमें एक नया विश्वास पैदा करने के लिए संसदात्मक सरकार को अपनाया गया।

प्रश्न 2.
भारतीय प्रजातंत्र के सम्मुख कौन-कौन-सी प्रमुख चुनौतियाँ थी।
उत्तर:
भारतीय संविधान के निर्माताओं ने भारतीय समाज की कमजोरियों व शक्तियों को समझ कर अच्छी तरह से सोच विचार करने के बाद ही संसदीय प्रजातन्त्र को अपनाने का निर्णय लिया उन परिस्थितियों में निश्चित रूप से भारतीय प्रजातंत्र की सफलता में निम्न चुनौतियाँ थी –

  1. गरीबी
  2. राजनीतिक शिक्षा की कमी
  3. अनपढ़ता
  4. क्षेत्रीय असन्तुलन
  5. साम्प्रदायिकता
  6. साम्यवाद
  7. आर्थिक स्रोतों के विकास का अभाव

प्रश्न 3.
1967 के चुनाव में कांग्रेस के प्रभुत्व में गिरावट के प्रमुख कारण समझाइए।
उत्तर:
जैसा कि हम जानते हैं कि कांग्रेस का राष्ट्रीय आन्दोलन के समय में भी आजादी के बाद भी प्रभुत्व रहा। राष्ट्रीय आन्दोलन तो कांग्रेस के नेतृत्व में ही लड़ा गया। ऐसा कहा जाता है कि राष्ट्रीय आन्दोलन का इतिहास कांग्रेस का इतिहास है। आजादी के बाद भी कांग्रेस का चुनावी राजनीति में प्रभुत्व रहा। इसके कुछ निश्चित कारण भी थे। 1952 में प्रथम चुनाव हुआ इसमें कांग्रेस को भारी सफलता मिली। इसी प्रकार से 1957 व 1962 के चुनावों में भी कांग्रेस का प्रभुत्व केन्द्र व प्रान्त दोनों में बना रहा।

परन्तु 1967 के चुनाव में कांग्रेस के प्रभुत्व में केन्द्र के स्तर पर भी व प्रान्तों के स्तर पर भी गिरावट आयी जिसके निश्चित रूप से कुछ स्पष्ट कारण थे। एक प्रमुख कारण यह था कि हमारी चुनावी प्रक्रिया में जिस विधि का प्रयोग किया जाता है उसमें जिस पार्टी को वोट ज्यादा प्राप्त होते हैं उसकी सीटें भी ज्यादा आती हैं उन पार्टी के अनुपात में जो चुनाव में हिस्सा लेती हैं। 1952, 1957 व 1962 के चुनावों में यही हुआ लेकिन 1967 के चुनाव में विरोधी दलों की वोट नहीं बटी जिससे कांग्रेस की वोट तो वही रही परन्तु उसकी सीटों की संख्या घट गई। इस प्रकार से 1967 में कांग्रेस का प्रभुत्व कम लगा।

प्रश्न 4.
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रभुत्व का स्वरूप समझाइए।
उत्तर:
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रभुत्व में स्वरूप की दिन विशेषताएं हैं –

  1. कांग्रेस के प्रभुत्व का आधार भारत में प्रजातंत्रीय संस्कृति था।
  2. कांग्रेस का प्रभाव पूरे भारत में था तथा समाज के सभी वर्गों में था।
  3. कांग्रेस दल आम जनता का एक ऐसा दल था जिस पर विशिष्ट वर्गों का भी नियन्त्रण रहा।
  4. कांग्रेस एक ऐसा समूह है जिसमें विभिन्न हित समूह व विचार धाराओं का विलय व मिश्रण पाया जाता है।
  5. कांग्रेस विशेष प्रकार का सामाजिक राजनीतिक व वैचारिक गठबन्धन है।
  6. निर्णय लेने की प्रक्रिया आम सहमति व समायोजन पर आधारित थी।
  7. कांग्रेस में चमत्कारिक व्यक्तित्व के नेता थे।

प्रश्न 5.
भारत के प्रथम आम चुनावों में चुनाव आयोग को किन समस्याओं का सामना करना पड़ा।
उत्तर:
जिस समय देश आजाद हुआ उस समय का वातावरण अत्यन्त तनावपूर्ण व अनिश्चितताओं से भरा हुआ था। कुछ वर्ष पहले ही साम्प्रदायिक उन्माद के कारण भारत का विभाजन हुआ था। भारत की जनता को व्यस्क मताधिकार तो दे दिया गया परन्तु इसके प्रयोग का ज्ञान बहुत कम लोगों को था। आर्थिक पिछड़ापन भी व्याप्त था। उस वातावरण में चुनाव आयोग को स्वतन्त्र व निष्पक्ष चुनाव कराने में अनेक परेशानियाँ आयी जिनमें निम्न प्रमुख थी –

  1. चुनाव क्षेत्र की सीमाओं को निर्धारित करने थे।
  2. योग्य मतदाताओं की मतसूचियाँ तैयार करना भी एक बड़ी चुनौती थी। क्योंकि उचित रिकार्ड का अभाव था।
  3. 1952 के चुनाव में लगभग 17 करोड़ मतदाता थे जिनसे प्रत्यक्ष रूप से मतदान कराना एक बड़ा कार्य था। शायद यह विश्व का इस प्रकार का पहला चुनाव था जिसमें इतने मतदाता थे।
  4. इस चुनाव में 17 करोड़ मतदाताओं के द्वारा 489 लोकसभा के सदस्यों व 3200 विधान सभा सदस्यों का चुनाव मापा जाना था।
  5. 17 करोड़ मतदाताओं में से केवल 17% शिक्षित थे।
  6. चुनावी प्रक्रिया के बारे में पूरी जानकारी रखने वाले चुनावी कर्मचारी बहुत कम थे। अतः यह भी एक बड़ी समस्या थी।

प्रश्न 6.
भारतीय राजनीति में कांग्रेस के प्रभुत्व को समझाइए।
उत्तर:
कांग्रेस का भारतीय राजनीति में प्रभुत्व एक वास्तविकता है। राष्ट्रीय आन्दोलन के समय में कांग्रेस ने ही आन्दोलन का नेतृत्व किया व 1947 से लेकर आज तक भी भारतीय राजनीति कांग्रेस का प्रभुत्व कायम है यद्यपि इसके प्रभाव में विभिन्न कारणों से कमी आयी है। जैसे 1977 से लेकर 1980 तक 1989 से लेकर 1991 तक व 1996 से लेकर 2000 तक। इस समय भी कांग्रेस यू.पी.ए. का सबसे बड़ा दल थे। व इसके नेतृत्व में केन्द्र की सरकार 2013 तक चली थी जिसके प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह जी हैं। कांग्रेस के प्रभुत्व का प्रमुख कारण यह है कि इसको भारत के अतीत की विरासत के साथ देखा जाता है। तथा इसके प्रारम्भिक काल में उन नेताओं का नेतृत्व रहा जिनके हाथों में राष्ट्रीय आन्दोलन की बागडोर रही थी। कांग्रेस का प्रभुत्व आज भी कायम है।

प्रश्न 7.
भारत में साम्यवादी दल की सफलता समझाइए।
उत्तर:
भारत में साम्यवादी विचारधारा का प्रभाव सोवियत संघ में मार्क्सवादी आन्दोलन व वहाँ की कम्युनिष्ट पार्टी के प्रभाव में देखा जा सकता है। भारत में कम्युनिष्ट पार्टी का गठन 1920 में किया गया। यद्यपि साम्यवादी दल एक राष्ट्रवादी राजनीतिक दल था जो राष्ट्रीय आन्दोलन में भागीदार था परन्तु भारत की कम्युनिष्ट पार्टी की विचारधारा व कार्यशैली कांग्रेस से मिलती थी। भारत की आजादी के बाद भी साम्यवादी दल का प्रभाव भारतीय राजनीति पर बना रहा इसकी विचारधारा कार्यक्रम कांग्रेस से अलग थी।

इसकी प्राथमिकता किसानों मजदूरों व अल्पसंख्यकों के हितों के प्रति थी। केरल व पश्चिमी बंगाल में कम्युनिष्ट पार्टी का विशेष प्रभाव रहा। केरल व त्रिपुरा में इस दल की सरकारें सफलतापूर्वक कार्य कर रही हैं। 1964 में कम्युनिष्ट पार्टी में विभाजन हुआ। CPI (M) पार्टी चीन की कम्युनिष्ट पार्टी के प्रभाव में आ गयी। प्रथम चुनावों में अर्थात् 1952 में साम्यवादी पार्टी को कांग्रेस के बाद दूसरा स्थान प्राप्त हुआ। (आज भी भारत के अनेक राज्यों में कम्युनिष्ट पार्टी का प्रभाव है विशेषकर पंजाब, बिहार, हरियाणा व आन्ध्र प्रदेश।

प्रश्न 8.
भारत में समाजवादी आन्दोलन का विकास समझाइए।
उत्तर:
1950 के दौरान भारत में समाजवादी आन्दोलन का विकास हुआ। दुनिया भर में फैली समाजवादी आन्दोलन से भारत भी प्रभावित हुए बिना न रह सका क्योंकि भारत की सामाजिक व आर्थिक परिस्थितियाँ समाजवादी व्यवस्था नियम के अनुकूल थी। भारतीय संविधान का उद्देश्य भी समाजवादी सामाजिक व आर्थिक व्यवस्था का निर्माण करना था। जिसको राज्य की नीति के निर्देशक के अध्याय में व्यक्त किया गया है। कांग्रेस ने अपने अन्दर 1934 में कांग्रेस सोशलिष्ट पार्टी बनाए कांग्रेस ने भवन आबादी अधिवेशन में समाजवाद के सिद्धान्तों को अपनाया। 1948 में कांग्रेस के युवा नेताओं ने अलग समाजवादी पार्टी का गठन किया। भारत में समाजवादी आन्दोलन से जुड़े प्रमुख नेताओं में, जयप्रकाश नारायण राम मनोहर लोहिया, अशोक मेहता व आचार्य नरेन्द्र के नाम शामिल हैं।

प्रश्न 9.
भारत में समाजवादी आन्दोलन की सफलता व असफलताओं पर प्रकाश डालिए।
उत्तर:
भारत में समाजवादी आन्दोलन को बड़े ही जोश व उम्मीद से प्रारम्भ किया गया क्योंकि भारत की सामाजिक व आर्थिक समस्याओं का हल समाजवादी व्यवस्था में ही देखा गया राम मनोहर लोहिया, आचार्य नरेन्द्र देव व बाबू जय प्रकाश नारायण (जे.पी.) ने भारत में समाजवाद की नींव डाली जिसको भारत के अनेक राज्यों में सोशलिष्ट पार्टी के रूप से राजनीतिक दलों के माध्यम से लोकप्रिय बनाया गया। भारतीय संविधान सभा भी इसके प्रभाव से मुक्त नहीं थी व भारतीय संविधान के चौथे भाग में दिए गए राज्य की नीति के निर्देशक तत्वों के अध्याय में समाजवादी सिद्धान्तों को जगह दी अर्थात् सरकारों को यह निर्देश दिया गया कि अपनी सामाजिक व आर्थिक नीतियाँ व कार्यक्रम समाजवादी विचारधारा के आधार पर बनाए।

कांग्रेस जो आजादी से पहले भी व बाद में भी भारत का एक प्रमुख राजनीतिक दल रहा है, जो समाजवादी चिन्तन के प्रभाव में रहा है अनेक कांग्रेस नेता समाजवादी विचारधारा के समर्थक रहे। भारत में समाजवादी विचारधारा के प्रभाव में ही मिश्रित अर्थव्यवस्था कायम है परन्तु राजनीतिक प्रभाव में अर्थात् चुनावी राजनीति में समाजवादी विचारधारा के समर्थकों को ज्यादा सफलता प्राप्त नहीं हुई व ये दल बार-बार बनते व टूटते रहे हैं। समाजवादी विचारधारा भारत की समाजिक आर्थिक समस्याओं को भी हल करने में असफल रही।

प्रश्न 10.
भारतीय चुनावी व्यवस्था में कांग्रेस के प्रभुत्व के प्रमुख कारण क्या रहे ?
उत्तर:
भारत में प्रथम चुनाव 1952 में हुआ 1952 के बाद 1957 व 1962 तक के बाद 1957 व 1962 तक के चुनावों में कांग्रेस का प्रभुत्व बना रहा हालांकि 1967 के चुनाव में प्रथम बार कांग्रेस का प्रभाव कम हुआ क्योंकि केन्द्र में भी सरकार बनाने के लिए इसे केवल साधारण ही प्राप्त हुआ व कई राज्यों में इसकी सरकार नहीं बन पायी। इसके निम्न प्रमुख कारण थे। ये केवल पहले तीन आम चुनावों में कांग्रेस का अत्यधिक प्रभाव रहा।

  1. राष्ट्रीय आन्दोलन के वातावरण का प्रभाव
  2. चमत्कारिक नेतृत्व का प्रभाव
  3. कांग्रेस का जन आन्दोलन स्वरूप
  4. विरोधी दलों का अभाव

प्रश्न 11.
मैक्सिको व भारत में प्रचलित एक दलीय प्रभुत्व के अन्तर को समझाइए।
उत्तर:
भारत में राजनीतिक दल के रूप में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का गठन 1885 को बोम्बे में हुआ। राष्ट्रीय आन्दोलन का नेतृत्व कांग्रेस ने ही किया 1947 में देश आजाद हुआ व 1952 में भारत में प्रथम आम चुनाव हुआ। 1952 से लेकर आज तक कांग्रेस का प्रभुत्व किसी ना किसी रूप में कायम है 1952 से लेकर आज तक केवल एक दो बाद (1977 व 1996) को छोड़कर कांग्रेस एक सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है। मैक्सिको भी एक ऐसा लेटिन अमेरिकन देश है जिसमें एक दल का प्रभुत्व रहा है।

इस दल का नाम है नेशनल रिवोल्यूशनरी पार्टी जिसका जन्म 1929 में हुआ पिछले 60 वर्षों से मैक्सिको की राजनीति पर नेशनल रिवोल्यूशनरी पार्टी का ही प्रभुत्व है। भारत में कांग्रेस के प्रभुत्व व मैक्सिकों में नेशनल रिवोलूशनरी पाटी के प्रभुत्व में एक प्रमुख अन्तर यह है कि भारत में यह प्रभुत्व प्रजातन्त्रीय प्रक्रिया मूल्यों व प्रणाली के अन्तर्गत है जबकि मैक्सिको में यह प्रभुत्व तानाशाही संस्कृति, मूल्यों व प्रणाली के तहत है। वहाँ पर चुनाव प्रणाली पूर्ण रूप से सरकार द्वारा नियन्त्रित है। जबकि भारत में चुनाव प्रणाली पूर्ण रूप से स्वतन्त्र है। मैक्सिको के चुनाव में नेशनल रिवोल्यूशनरी पार्टी सदैव जीतती है जबकि भारत में कांग्रेस को हार भी देखनी पड़ी है।

प्रश्न 12.
भारतीय चुनाव आयोग का गठन व कार्य समझाइए।
उत्तर:
भारतीय संविधान में स्वतन्त्र व शान्तिपूर्ण तरीके से विभिन्न स्तरों पर चुनाव सम्पन्न कराने के लिए एक स्वतन्त्र व निष्पक्ष चुनाव आयोग के गठन की व्यवस्था है। जिसमें एक मुख्य चुनाव आयुक्त व दो चुनाव आयुक्त होते हैं। निश्चित रूप से चुनाव आयोग का कठिन कार्य है। मुख्य रूप से वह निम्न कार्य करती है –

  1. चुनावों की तैयारी करना
  2. चुनावों की घोषणा करना
  3. मतसूचियाँ तैयार करना
  4. E.V.M. तैयार करना
  5. मत पत्र तैयार करना
  6. चुनाव से जुड़े कर्मचारियों व अधिकारियों को प्रशिक्षण देना
  7. परिणाम घोषित करना

प्रश्न 13.
भारत में कांग्रेस के अलावा अन्य दलों का विकास समझाइए।
उत्तर:
राष्ट्रीय आन्दोलन के दौरान ही कांग्रेस के अलावा कुछ अन्य राजनीतिक दलों का विकास होना प्रारम्भ हो गया था यद्यपि उस समय सभी राजनीतिक दलों का उद्देश्य राष्ट्रीय स्वतंत्रता प्राप्त करना था। भले ही उनके तरीके अलग अलग थे परन्तु मंजिल सबकी एक थी। 1906 में मुस्लिम संगठन का गठन किया गया। 1920 में साम्यवादी दल का गठन किया गया। 1923 में स्वराज्य दल का गठन किया गया। इसके बाद अन्य राजनीतिक समूहों व दबाव समूहों के रूप में उभरे जो बाद में राजनीतिक दल बन गए इनमें मुख्य रूप से हिंदू महासभा जिसके उद्देश्य के अनुरूप 1951 में भारतीय जनसंघ का गठन हुआ।

इसी प्रकार समाजवादी विचारधारा के आधार पर समाजवादी पार्टियाँ बनी। किसानों व महिलाओं व मजदूरों तथा व्यापारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले दबाव समूहों का भी राजनीतिक दलों के विकास में योगदान रहा। आजादी के बाद कांग्रेस के अलावा साम्यवादी दल, समाजवादी दल, मुस्लिम लीग अर्थात् साम्प्रदायिक दल व कांग्रेस से अलग हुए लोगों के द्वारा विभिन्न आधारों पर बनाए गए राजनीतिक दलों का अस्तित्व रहा। 1980 के दशक के बाद भारत में अनेक क्षेत्रीय दलों का विकास हुआ। इस समय भारत में 900 राजनीतिक दल जिसमें केवल 6 राष्ट्रीय दल है।

प्रश्न 14.
स्वतंत्र पार्टी का उदय समझाइए।
उत्तर:
स्वतंत्र पार्टी का जन्म 1959 में हुआ इसका नेतृत्व सी. राजगोपालाचार्य, के.एम.मुन्शी, एस.जी.रंगा और मीनुमसानी ने किया। यह पाटी अपने विशेष कार्यक्रमों के आधार पर अन्य राजनीतिक दलों से अलग थी। स्वतंत्र पाटी व्यक्तिवादी विचारधारा का समर्थन करती थी जिसके आधार पर आर्थिक क्षेत्र में सरकार को कम से कम हस्तक्षेप करना चाहिए। यह राज्य द्वारा की गई केन्द्रीयकृत नियोजन राष्ट्रीयकरण व सार्वजनिक क्षेत्र के विकास का विरोध करती थी। इस दल ने निजी क्षेत्र को अधिक स्वतंत्रता देने की वकालत की। यह दल सोवियत संघ के साथ कम व संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ अधिक सम्बन्धों का पक्षधर था। स्वतंत्र पाटी का समर्थन आधार उच्चवर्ग, पूँजीपति, बड़े किसान आदि थे।

प्रश्न 15.
भारत में 1980 के बाद उत्पन्न हुए राजनीतिक दलों का स्वरूप समझाइए।
उत्तर:
बहुदलीय प्रणाली भारतीय राजनीतिक प्रणाली की प्रमुख विशेषता रही है। यह एक ऐसी बहुदलीय व्यवस्था रही है जिसमें एक ही राजनीतिक दल अर्थात् कांग्रेस का प्रभुत्व रहा है। यद्यपि अनेक विरोधी दलों का अस्तित्व रहा है लेकिन मजबूत व स्वस्थ विरोधी दलों का अभाव रहा अर्थात् विरोधी दल विभाजित रहे। 1980 तक के वर्षों में मुख्य राजनीतिक दलों का स्वरूप राष्ट्रीय रहा है जैसे साम्यवादी दल, जनसंघ व कुछ प्रमुख समाजवादी राजनीतिक दल प्रमुख राष्ट्रीय स्तर के राजनीतिक दल रहा है जो केवल किसी विशेष क्षेत्र तक सीमित नहीं थे।

बल्कि बड़े क्षेत्रों में इनका प्रभाव व्याप्त था। परन्तु 1980 बाद विभिन्न कारणें से विभिन्न आधारों पर क्षेत्रीय दलों का विकास प्रारम्भ हो गया। इन दलों का विकास मुख्य रूप से क्षेत्र, भाषा व क्षेत्रीय असन्तुलन की राजनीति के आधार पर हुआ। इन क्षेत्रीय दलों को जल्द ही चुनावी राजनीति में भी सफलता मिलने लगी। परिणाम स्वरूप 1996 के बाद से केन्द्रीय स्तर पर कांग्रेस के प्रभुत्व के तौर पर मिली जुली राजनीति के आधार पर केन्द्र में भी इनका प्रभुत्व हो गया। सरकार एन.डी.ए. की रही हो या यू.पी.ए. की सरकार रही हो इनसे क्षेत्रीय दलों का ही बोलबाला रहा है।

प्रश्न 16.
भारतीय दलीय प्रणाली की प्रमुख समस्याएँ समझाइए।
उत्तर:
भारतीय दलीय प्रणाली की निम्न प्रमुख समस्याएँ है –

  1. आन्तरिक प्रजातन्त्र का अभाव
  2. अनुशासन हीनता
  3. गुटबाजी
  4. निश्चित विचारधारा का अभाव
  5. अवसर वादिता
  6. विघटित विरोधी दल
  7. केन्द्र की राजनीति पर क्षेत्रीय दलों का प्रभुत्व
  8. राजनीतिक अस्थिरता
  9. राजनीतिक अनिश्चितता
  10. चमत्कारिक व आदर्श नेताओं का अभाव
  11. जाति के आधार पर राजनीतिक दल
  12. साम्प्रदायिकता के आधार पर राजनीतिक दल

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के भारतीय राजनीति में प्रभुत्व के कारण व प्रभाव समझाइए।
उत्तर:
1885 में कांग्रेस के गठन के बाद से ही कांग्रेस का राष्ट्रीय आन्दोलन पर भी व स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रीय राजनीति पर प्रभुत्व रहा जो 1952 में सम्पन्न हुए प्रथम चुनाव से लेकर 2004 में हुए चुनावों तक देखा जा सकता है यह अलग बात है कि कांग्रेस को चुनावी राजनीति में असफलताओं का सामना करना पड़ा जिसका कारण क्षेत्रीय दलों का विकास होना है। परन्तु यह सत्य अवश्य है कि कांग्रेस का भारतीय राजनीति पर प्रभुत्व अवश्य कायम है जिसके प्रमुख कारण निम्न है –

  1. कांग्रेस को राष्ट्रवाद के प्रतीक के रूप में देखा जाता है।
  2. कांग्रेस को राष्ट्रीय आन्दोलन की विरासत प्राप्त हुई।
  3. कांग्रेस का जन आधार रहा अर्थात् कांग्रेस का देश के प्रत्येक क्षेत्र व प्रत्येक वर्ग में प्रभाव कायम है।
  4. कांग्रेस के पास चमत्कारिक नेतृत्व रहा।
  5. नेहरू परिवार का कांग्रेस पर प्रभाव।
  6. प्रत्येक राष्ट्रवादी अवसरों जैसे 15 अगस्त व 26 जनवरी को कांग्रेस के इतिहास को ही राष्ट्रीय आन्दोलन की यादों के माध्यम से दोहराया जाता है।
  7. कांग्रेस के कुछ वर्ग जैसे अल्पसंख्यक, अनुसूचित जाति, जन जाति व महिलाएँ सदैव लगातार समर्थक रहे हैं।

कांग्रेस के भारतीय राजनीतिक पर लगातार प्रभुत्व का निम्न प्रभाव रहा है –

  1. कांग्रेस एक सामाजिक गठबन्धन है क्योंकि कांग्रेस को विभिन्न वर्गों का समर्थन प्राप्त है। अत: इसने सम्पूर्ण वर्ग को सामाजिक व राजनीतिक रूप से प्रभावित किया है।
  2. कांग्रेस एक वैचारिक गठबन्धन है क्योंकि इसमें सामाजिक तौर पर समाजवादी, साम्यवादी, व दक्षिणपन्थी विचारधाराओं में लोग शामिल रहे हैं।
  3. कांग्रेस ने भारतीय संस्कृति जैसे सहनशीलता, धर्मनिर्पेक्षता व गुटनिर्पक्षता को बढ़ाया है।
  4. कांग्रेस ने भारतीय राजनीति में समायोजन व आम सहमति की राजनीति को बढ़ाया है।
  5. इसने राजनीतिक दलों में आन्तरिक प्रजातन्त्र को बढ़ाया।
  6. इसने भारत की विभिन्नता में एकता के स्वरूप को मजबूत किया है।

प्रश्न 2.
1967 के भारतीय राजनीति में कांग्रेस के प्रभुत्व में गिरावट के कारणों को समझाइए।
उत्तर:
राष्ट्रीय आन्दोलन की विरासतों का भारतीय राजनीति में विशेषतौर से राजनैतिक व्यवहार पर 1962 के चुनाव तक रहा व बाद में यह प्रभाव धीरे-धीरे कम होने लगा जिसका प्रभाव 1967 के चुनाव में दिखने लगा जब 1967 के चुनाव में कांग्रेस को केवल इतनी ही सीटें मिली कि साधारण बहुमत से सरकार बन सके। अतः कांग्रेस के प्रभुत्व में गिरावट आ गई। कांग्रेस के प्रभुत्व की गिरावट के निम्न प्रमुख कारण माने जाते हैं।

  1. 1964 में पंडित जवाहर लाल नेहरू की मृत्यु के बाद कांग्रेस में चमत्कारिक व्यक्तित्व का अभाव।
  2. 1964 में कई अन्य राजनीतिक दलों जैसे साम्यवादी दल भारतीय जन संघ, समाजवादी दल व मुस्लिम लीग के प्रभावों में बढ़ोत्तरी हुई।
  3. भारत में क्षेत्रवाद का विकास होने लगा जिसके आधार पर कई राज्यों में अनेक क्षेत्रीय दलों का विकास होने लगा।
  4. कांग्रेस के वोट बैंक का अन्य राजनीतिक दलों के पास खिसक जाने से भी कांग्रेस की सीटों की संख्या में कमी आ गई।
  5. केन्द्र में विरोधी दलों के खिलाफ कांग्रेस की सरकार के द्वारा संविधान के कुछ प्रावधानों के दुरूपयोग के कारण कांग्रेस के खिलाफ लोगों में नकारात्मक भावना बढ़ गई।
  6. राज्यों में मिली जुली सरकारों की राजनीति का आरम्भ होना।
  7. अनेक राज्यों में गैर कांग्रेसी सरकारों का बनना व उनका सफलता के साथ चलना।
  8. कांग्रेस विरोधी राजनीति का प्रचार।
  9. कांग्रेस में इसकी परम्परागत वोट बैंक द्वारा किए गए विश्वास में गिरावट।
  10. कांग्रेस में नेतृत्व का संकट।
  11. 1975 से 1977 तक आपात कालीन का खराब अनुभव।
  12. कांग्रेस की पुरानी संस्कृति में गिरावट।
  13. कांग्रेस में 1969 व 1978 में विभाजन।
  14. गैर-कानूनी वोट का एक होना। उपरोक्त कारणों से 1967 के बाद से कांग्रेस के प्रभुत्व में कमी आई है।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न एवं उनके उत्तर

I. निम्नलिखित विकल्पों में से सही का चुनाव कीजिए।

प्रश्न 1.
राष्ट्रीय आन्दोलन की विरासत किस राजनीतिक दल को मिली?
(अ) कांग्रेस पार्टी
(ब) साम्यवादी पार्टी
(स) समाजवादी पार्टी
(द) भारतीय जनसंघ
उत्तर:
(अ) कांग्रेस पार्टी

प्रश्न 2.
निम्न में उस देश का नाम बताइए जहाँ एक दल का प्रभुत्व नहीं है।
(अ) मैक्सिको
(ब) चीन
(स) क्यूबा
(द) संयुक्त राज्य अमेरिका
उत्तर:
(द) संयुक्त राज्य अमेरिका

प्रश्न 3.
निम्न में से किस राज्य में सबसे पहले गैर कांग्रेसी सरकार बनी।
(अ) तमिलनाडु
(ब) केरल
(स) उत्तर प्रदेश
(द) पश्चिमी बंगाल
उत्तर:
(ब) केरल

प्रश्न 4.
किस वर्ष के केन्द्र में पहली बार गैर कांग्रेसी सरकार बनी।
(अ) 1971
(ब) 1975
(स) 1977
(द) 1989
उत्तर:
(स) 1977

II. मिलान वाले प्रश्न एवं उनके उत्तर

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions chapter 2 एक दल के प्रभुत्व का दौर Part - 2 img 4
उत्तर:
(1) – द
(2) – स
(3) – य
(4) – अ
(5) – ब

Bihar Board Class 8 Sanskrit Solutions Chapter 8 नीति श्लोका:

Bihar Board Class 8 Sanskrit Book Solutions Amrita Bhag 3 Chapter 8 नीति श्लोका: Text Book Questions and Answers, Summary.

BSEB Bihar Board Class 8 Sanskrit Solutions Chapter 8 नीति श्लोका:

Bihar Board Class 8 Sanskrit नीति श्लोका: Text Book Questions and Answers

1. कस्य दोषः कुले नास्ति व्याधिना के न पीडिताः।
व्यसनं केन न प्राप्तं कस्य सौख्यं निरन्तरम् ॥ (3.1)

अर्थ – किसके कुल में दोष नहीं है। कौन रोग से पीड़ित नहीं होता है। व्यसन (आदत) किसको प्राप्त नहीं है। किसकी दोस्ती सदैव रहती है।

2. आचारः कुलमाख्याति देशमाख्याति भाषणम् ।
सम्भ्रमः स्नेहमाख्याति वपुराख्याति भोजनम्॥ (3.2)

अर्थ – आचार (चाल-चलन) से कुल की जानकारी होती है। भाषण (भाषा) से देश (स्थान) की जानकारी होती है। श्रद्धा से स्नेह की जानकारी होती है। शरीर से भोजन की जानकारी होती है।

3. अधमा धनमिच्छन्ति धनं मानं च मध्यमाः ।
उत्तमा मानमिच्छन्ति मानो हि महतां धनम् ॥ (8.1)

अर्थ – नीच लोग धन की इच्छा करते हैं । मध्यम प्रकार के लोग धन और मान दोनों चाहते हैं तथा उत्तम लोग केवल मान चाहते हैं क्योंकि मान ही महान व्यक्तियों का सबसे बड़ा धन है।

4. विद्वान् प्रशस्यते लोके विद्वान सर्वत्र गौरवम ।
विद्यया लभते सर्व विद्या सर्वत्र पूज्यते ॥ (8.20)

अर्थ – विद्वान संसार में प्रशंसा पाते हैं। विद्वानों को सब जगह महत्त्वपूर्ण स्थान मिलता है। विद्या के द्वारा सब कुछ पाया जा सकता है। विद्या का सब जगह पूजा होती है।

5. दृष्टिपूतं न्यसेत्पादं वस्त्रपूतं पिबेजलम् ।
शास्त्रपूतं वदेद्वाक्यं मनः पूतं समाचरेत् ॥ (10.2)

अर्थ – दृष्टि से पवित्र कर पैर रखना चाहिए (आँख से देखकर पैर बढ़ाना चाहिए) पानी वस्त्र से छानकर पीना चाहिए । शास्त्र से पवित्र कर
(शास्त्र सम्मत) बात बोलना चाहिए और मन से पवित्र कर (सोच-समझकर) आचरण (काम) करना चाहिए ।

6. अनित्यानि शरीराणि विभवो नैव शाश्वतः।
नित्यं सन्निहितो मृत्युः कर्त्तव्यो धर्मसंग्रहः ॥ (12.12)
अर्थ – शरीर अनित्य (अस्थायी) है । धन-सम्पत्ति भी स्थायी नहीं है। मृत्यु स्थायी और निकट है। इसलिए धर्म संग्रह(धर्माचरण) अवश्य करना चाहिए।

7. जलबिन्द्रनिपातेन क्रमशः पूर्यते घटः ।
स हेलेः सर्वविद्यानांस्य च धनस्य च ॥ (12.22)

अर्थ – जेसे जलबून्दों को संग्रह करने से क्रमश: घड़ा भर जाता है। वही बात है सभी विधाओं, सभी धर्मों और सब प्रकार के धन संग्रह करने में ।

8. यथा धेनुसहस्रेषु वत्सो गच्छति मातरम् ।
तथा यच्च कृतं कर्म कर्तारमनुगच्छति ॥ (13.15)

अर्थ – जैसे हजारों गायों के बीच में बछड़ा (गाय का बच्चा) छोड़ दिया जाए तो वह अपने माता के पास पहुँच जाता है । उसी प्रकार मनुष्य जो काम करता है वह किया हुआ काम कर्ता (करने वाले) के पीछे-पीछे चलता है। अर्थात् कर्म फल अवश्य मिलता है।

शब्दार्थ

कस्य = किसका/की/के । कुले = वंश में, खानदान में । व्याधिना = रोग से । केन = किससे, किसके द्वारा : सौखा = मित्रता, दोस्ती । आचारः = चाल-चलन । कुलमाख्याति (कुलम् + आख्याति) = वंश को बताता है। सम्भ्रमः = आदर, श्रद्धा, व्याकुलता । वपुः = शरीर । अधमाः = नीच लोग । महताम् = महान् व्यक्तियों का/की/के । प्रशस्यते = प्रशसित होता है । लोके = संसार में । गौरवम् = महत्त्वपूर्ण । पूज्यते = पूजी जाती है। अनित्यानि = अस्थायी, अस्थिर । विभवो (विभवः) = धन-सम्पत्ति, ऐश्वर्य । शाश्वतः = स्थायी, सदा रहने वाला । सन्निहितो (सन्निहितः) = समीप । कर्त्तव्यो (कर्त्तव्यः) = करने योग्य, करना चाहिए । धर्मसंग्रहः = धर्म का संचय,

धार्मिक कार्य । पूर्यते = पूरा होता है, भरता है । हेतु = कारण । सर्वविद्यानाम् = सभी विद्याओं का/की/के । धेनुसहस्रेषु = हजारों गायों में । वत्सो (वत्सः) = छिड़ा। मातरम् = माता को, माँ के पास । कृतम् = किया गया। कर्तारमनुगच्छति (कर्तारम् + अनुगच्छति) = कर्ता के पीछे जाता है। दृष्टिपूतम् = आँखों से पवित्र अर्थात् अच्छी तरह देखा गया । न्यसेत् = रखना चाहिए । पादम् = पैर । वस्त्रपूतम् = कपड़े से पवित्र किया हुआ अर्थात् छना हुआ। पिबेज्जलम् (पिबेत् + जलम्) = जल पीना चाहिए । शास्त्रपूतम् = शास्त्रों द्वारा पवित्र किया गया अर्थात् शास्त्रसम्मत । मनःपूतम् = मन से पावन किया गया अर्थात् मन से सोचा गया । समाचरेत् = आचरण करना चाहिए।

व्याकरणम् 

नास्ति = न + अस्ति (दीर्घ सन्धि) । वपुराख्याति = वपुः + आख्याति (विसर्ग सन्धि) । पिबेज्जलम् = पिबेत् + जलम् (व्यंजन सन्धि) । वदेद्वाक्यम् = वदेत् + वाक्यम् (व्यञ्जन सन्धि) । नैव = न + एव (वृद्धि संधि) । यच्च = यत् + च (व्यञ्जन सन्धि) । कुलमाख्याति = कुलम् + आख्याति । देशमाख्याति = देशम् + आख्याति । स्नेहमाख्याति = स्नेहम् + आख्याति । धनमिच्छन्ति = धनम् + इच्छन्ति । कर्तारमनुगच्छति = कर्तारम् + अनुगच्छति ।

प्रकृति-प्रत्यय-विभागः

नीति श्लोक In Sanskrit Class 8 Bihar Board

अभ्यास

मौखिक

नीति श्लोक In Sanskrit Class 8 Bihar Board प्रश्न 1.
पाठे दत्तानां पद्यानां सस्वरवाचनं कुरुत। ..
(पाठ में दिये गये श्लोकों को आवाज के साथ पढ़ें)।

Bihar Board Class 8 Sanskrit Solution प्रश्न 2.
अधोलिखितानां पदानां अर्थं वदत् :
आख्याति, वपुः, इच्छन्ति, महताम्, अनित्यम्, निपातेन, अनुगच्छति, वत्सः ।
उत्तरम्-
आख्याति = बताता है । वपुः = शरीर । इच्छन्ति = इच्छा करते हैं। महताम् = महान व्यक्तियों का । अनित्यम् = अस्थाई । निपातेन = संग्रह करने से । अनुगच्छति = पीछे चलता है । वत्सः = बछड़ा।

Bihar Board Class 8 Sanskrit Book Solution प्रश्न 3.
निम्नलिखितानां पदानां सन्धि-विच्छेदं सन्धि वा कुरुत नैव, वपुराख्याति, पिबेज्जलम् वदेद्वाक्यम्, यत् + च, न्यसेत् + पादम्।
उत्तरम्-
नैव = न + एव । वपुराख्याति = वपुः + आख्याति । वदेद्वाक्यम् = वदेत् + वाक्यम् । यत् + च = यच्च । न्यसेत् + पादम् = न्यसेत्पादम् ।

लिखित 

नीति श्लोक अर्थ सहित Class 8 Bihar Board प्रश्न 4.
एकपदेन उत्तरत:

(क) विद्वान् कुत्र प्रशस्यते ?
उत्तरम्-
विद्वान् लोके प्रशस्यते ।

(ख) के धनम् इच्छन्ति ?
उत्तरम्-
अधमाः धनं इच्छन्ति ।

(ग) महतां धनं किमस्ति?
उत्तरम्-
महतां धनं मानम् अस्ति ।

(घ) धेनु सहस्रेषु वत्सः कुत्र गच्छति ?
उत्तरम्-
धेनुसहस्रेषु वत्सः मातरम् गच्छति।

(ङ) वस्त्रपूतं किं पिबेत् ?
उत्तरम्-
वस्त्रपूतं जलं पिबेत।

Bihar Board Solution Class 8 Sanskrit प्रश्न 5.
अधोलिखितेषु पदेषु प्रयुक्तां विभक्ति वचनं च लिखत :
पदानि – विभक्तिः – वचनम्
यथा-
लोके – सप्तमी – एकवचनम्
उत्तरम् –
पदानि – विभक्तिः – वचनम्

  1. निपातेन – तृतीया – एकवचनम्
  2. धनस्य – षष्ठी – एकवचनम्
  3. महताम् – षष्ठी – बहुवचनम्
  4. व्याधिना – तृतीया – एकवचनम्
  5. कुले – सप्तमी – एकवचनम्
  6. मातरम् – द्वितीया – एकवचनम्
  7. मानः – प्रथमा – एकवचनम्

Sanskrit Class 8 Bihar Board प्रश्न 6.
अधोलिखितानि पदानि प्रयुज्य वाक्यानि रचयत :

(विद्वान्, आख्याति, व्यसनम्, पूज्यते, घटः, वत्सः, लभते)
उत्तरम्-

  1. विद्वान् – विद्वान् सर्वत्र पूज्यते ।
  2. आख्याति – कुलम् आचार: आख्यति ।
  3. व्यसनम् – व्यसनम् केन न प्राप्तम् ।
  4. पूज्यते – विद्या सर्वत्र पूज्यते ।
  5. घटः ‘घटः जलबिन्दु निपातेन पूर्यते ।
  6. वत्सः – वत्सः मातरम् अनुगच्छति ।
  7. लभते – विद्याया सर्वं लभते ।

Class 8 Sanskrit Bihar Board प्रश्न 7.
उचित कथनानां समक्षम् ‘आम्’ अनुचित कथनानां समक्षं ‘न’ इति लिखत :

यथा आचारः कुलं न आख्याति (न)
उत्तरम्-

  1. विद्या सर्वत्र पूज्यते । – (आम्)
  2. दृष्टिपूतं पादं न न्यसेत् । – (न)
  3. सर्वे व्याधिना पीडिताः भवन्ति । – (आम्)
  4. अधमाः मानम् इच्छन्ति । – (न)
  5. मध्यमाः केवलं धनम् इच्छन्ति । – (न)
  6. शरीरम् अनित्यम् भवति । – (आम्)

Bihar Board 8th Class Sanskrit Solution प्रश्न 8.
अधोलिखितानि पदानि निर्देशानुसारं परिवर्तयत:
यथा –
दोषः (षष्ठी एकवचन ) दोषस्य ।

(क) विद्या (द्वितीया द्विवचन)
उत्तरम्-
विद्ये

(ख) विद्वान् (तृतीया द्विवचन)
उत्तरम्-
विद्वदभ्यां

(ग) जलम् (सप्तमी बहुवचन)
उत्तरम्-
जलेषु

(घ) भोजनम् (चतुर्थी एकवचन)
उत्तरम्-
भोजनाय

(ङ) माता (पंचमी बहुवचन)
उत्तरम्-
मातृभ्यः ।

Bihar Board Class 8th Sanskrit प्रश्न 9.
अधोलिखितानां पदानां विलोम पदानि लिखत :

(दोषः, सौख्यम, उत्थानम्, विद्या, मानम्, नित्यम्, अधमः)
उत्तरम्-

  1. दोषः = गुण ।
  2. सौख्यम् = असौख्यम् ।
  3. उत्थानम् = पतनम् ।
  4. विद्या = अविद्या ।
  5. मानम् = अपमानम् ।
  6. नित्यम् = अनित्यम् ।
  7. अधमः = उत्तमः।

प्रश्न 10.
लंङ्लकारे परिवर्तनं कुरुत :

लट्लकारः – ललकारः

यथा-
गजः धावति – गजः अधावत् ।
उत्तरम्-

  1. वत्सः दुग्धं पिबति – वत्सः दुग्धं अपिबत् ।
  2. शरीरं नित्यं न अस्ति – शरीरं नित्यं न आसीत् ।
  3. दुग्धं श्वेतं भवति – दुग्धं श्वेतं अभवत् ।
  4. सः विद्यालये पठति – सः विद्यालये अपठत् ।
  5. ते गृहं गच्छन्ति – ते गृहं अगच्छन् ।
  6. बालकौ हसतः – बालको अहसताम् ।
  7. त्वं किं वदसि – त्वं किं अवदः।

प्रश्न 11.
मञ्जूषातः पदं चित्वा रिक्तस्थानानि पूरयत :

(अधमः, उत्तमः, मध्यमः, आचारः, कर्तव्यः, घटः, अनुगच्छति)
उत्तरम्-

  1. उत्तमः मानम् इच्छति ।
  2. अधमः धनं इच्छति ।
  3. जलबिन्दु निपातेन घटः पूर्यते ।
  4. त्वया धर्मसंग्रहः कर्त्तव्यः।
  5. कृतं कर्म कर्तारम् अनुगच्छति। ।
  6. मध्यमः धनं मानं च इच्छति ।।
  7. आचार: कुलम् आख्याति ।

प्रश्न 12.
वचनपरिवर्तनं कुरुतः

उत्तरम्
एकवचन – द्विवचन – बहुवचन

  1. गच्छति – गच्छतः – गच्छन्ति
  2. अभवत् – अभवताम् – अभवंन्
  3. अस्ति – स्तः – सन्ति
  4. धनस्य – धनयोः – धनेभ्यः
  5. विद्या – विद्ये – विद्याः
  6. धनाय – धनाभ्यां – धनानाम्

प्रश्न 13.
समानार्थकानि पदानि मेलयत :
उत्तरम् –

  1. विद्वान् = विज्ञः ।
  2. वपुः = शरीरम् ।
  3. हेतुः = कारणम् ।
  4. घटः = कुम्भः ।
  5. धनम् = वित्तम् ।
  6. जलम् = तोयम् ।
  7. गृहम् = सदनम् ।
  8. गजः = हस्ती।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 1 मानव भूगोल – प्रकृति एवं विषय क्षेत्र

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 1 मानव भूगोल – प्रकृति एवं विषय क्षेत्र Textbook Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 1 मानव भूगोल – प्रकृति एवं विषय क्षेत्र

Bihar Board Class 12 Geography मानव भूगोल – प्रकृति एवं विषय क्षेत्र Textbook Questions and Answers

(क) नीचे दिए गए चार विकल्पों में से सही उत्तर चुनिए:

मानव भूगोल प्रकृति एवं विषय क्षेत्र प्रश्न उत्तर Bihar Board Class 12 प्रश्न 1.
निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा एक भूगोल का वर्णन नहीं करता:
(क) समाकलनात्मक अनुशासन
(ख) मानव और पर्यावरण के बीच अंतर-संबंधों का अध्ययन
(ग) द्वैधता पर आश्रित
(घ) प्रौद्योगिकी के विकास के फलस्वरूप आधुनिक समय में प्रासंगिक नहीं
उत्तर:
(घ) प्रौद्योगिकी के विकास के फलस्वरूप आधुनिक समय में प्रासंगिक नहीं

मानव भूगोल प्रकृति एवं विषय क्षेत्र के प्रश्न उत्तर Bihar Board Class 12 प्रश्न 2.
निम्नलिखित में से कौन-सा एक भौगोलिक सूचना का स्रोत नहीं है:
(क) यात्रियों के विवरण
(ख) प्राचीन मानचित्र
(ग) चंद्रमा से चट्टानी पदार्थों के नमूने
(घ) प्राचीन महाकाव्य
उत्तर:
(घ) प्राचीन महाकाव्य

Manav Bhugol Prakriti Avn Vishay Kshetra Ka Question Answer प्रश्न 3.
निम्नलिखित में से कौन-सा एक लोगों और पर्यावरण के बीच अन्योय-क्रिया का सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण कारक है –
(क) मानव बुद्धिमता
(ख) प्रौद्योगिकी
(ग) लोगों के अनुभव
(घ) मानवीय भाईचारा
उत्तर:
(ख) मानवीय भाईचारा

Bihar Board 12th Geography Book  प्रश्न 4.
निम्नलिखित में से कौन-सा एक मानव भूगोल का उपगमन नहीं है:
(क) क्षेत्रीय विभिन्नता
(ख) मात्रात्मक क्रांति
(ग) स्थानिक संगठन
(घ) अन्वेषण और वर्णन
उत्तर:
(ख) मात्रात्मक क्रांति

(ख) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए:

मानव भूगोल के विषय क्षेत्र पर एक टिप्पणी लिखिए Bihar Board Class 12 प्रश्न 1.
मानव भूगोल को परिभाषित कीजिए।
उत्तर:
मानव भूगोल मानव समाजों और धरातल के बीच संबंधों का संश्लेषित अध्ययन है। या मानव भूगोल ‘हमारी पृथ्वी को नियंत्रित करने वाले भौतिक नियमों तथा इस पर रहने वाले जीवों के मध्य संबंधों के अधिक संश्लेषित ज्ञान से उत्पन्न संकल्पना है।

Bihar Board 12th Geography Book Pdf Download प्रश्न 2.
मानव भूगोल के कुछ उपक्षेत्रों के नाम बताइए।
उत्तर:

  1. व्यवहारवादी भूगोल
  2. सामाजिक कल्याण का भूगोल
  3. अवकाश का भूगोल
  4. सांस्कृतिक भूगोल
  5. लिंग भूगोल
  6. ऐतिहासिक भूगोल एवं
  7. चिकित्सा भूगोल

मानव भूगोल प्रकृति एवं विषय क्षेत्र Notes Bihar Board प्रश्न 3.
मानव भूगोल किस प्रकार अन्य सामाजिक विज्ञानों से संबंधित है।
उत्तर:
मानव भूगोल का सामाजिक विज्ञान-सामाजिक विज्ञान, मनोविज्ञान, कल्याण अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, मानव विज्ञान, महिला अध्ययन, इतिहास, महामारी विज्ञान, नगरीय अध्ययन और नियोजन, राजनीति विज्ञान, सैन्य विज्ञान, जनांकिकी, नगर/ग्रामीण नियोजन, अर्थशास्त्र, संसाधन अर्थशास्त्र, कृषि विज्ञान, औद्योगिक अर्थशास्त्र व्यावसायिक अर्थशास्त्र, वाणिज्य, पर्यटन और यात्रा प्रबंधन तथा अंतर्राष्ट्रीय व्यापार आदि सामाजिक विज्ञानों से गहरा संबंध है।

(ग) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए:

मानवतावादी विचारों के क्या अभिलक्षण थे Bihar Board Class 12 प्रश्न 1.
मानव के प्राकृतीकरण की व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
मानव इस सुंदर ब्रह्मांड का अंग बनकर अपने आपको बहुत सौभाग्यशाली समझता है। प्रौद्योगिकी किसी समाज के सांस्कृतिक विकास के स्तर की सूचक होती है। मानव प्रकृति के नियमों को अच्छे ढंग से समझने के बाद ही प्रौद्योगिकी का विकास कर पाया। उदाहरण के लिए, घर्षण और ऊष्मा की संकल्पनाओं ने अग्नि की खोज में हमारी सहायता की। इसी प्रकार डी. एन. ए. और आनुवांशिकी के रहस्यों की समझ ने हमें अनेक बीमारियों पर विजय पाने के योग्य बनाया। अधिक तीव्र गति से चलने वाले यान विकसित करने के लिए हम वायु गति के नियमों का प्रयोग करते हैं। प्रकृति का ज्ञान प्रौद्योगिकी को विकसित करने के लिए महत्त्वपूर्ण है और प्रौद्योगिकी मनुष्य पर पर्यावरण की बंदिशों को कम करती है। मनुष्य प्राकृतिक संसाधनों पर प्रत्यक्ष रूप से निर्भर है। ऐसे समाजों के लिए भौतिक पर्यावरण ‘माता-प्रकृति’ का रूप धारण करता है।

Manav Bhugol Prakriti Avn Vishay Kshetra Notes Bihar Board प्रश्न 2.
मानव भूगोल के विषय क्षेत्र पर एक टिप्पणी लिखिए।
उत्तर:
मानव भूगोल, मानव जीवन के सभी तत्वों तथा अंतराल, जिसके अंतर्गत वे घटित होते हैं के मध्य संबंध की व्याख्या करने का प्रयत्न करती है। इस प्रकार मानव भूगोल की प्रकृति अत्यधिक अंतर-विषयक है। पृथ्वी तल पर पाए जाने वाले मानवीय तत्वों को समझने व उनकी व्याख्या करने के लिए मानव भूगोल सामाजिक विज्ञानों के सहयोगी विषयों जैसे सामाजिक विज्ञान, मनोविज्ञान, कल्याण अर्थशास्त्र, समाज शास्त्र, मानव विज्ञान, इतिहास, महामारी विज्ञान, नगरीय अध्ययन और नियोजन, राजनीति विज्ञान, सैन्य विज्ञान, जनांकिकी, नगर/ग्रामीण नियोजन, अर्थशास्त्र, संसाधन अर्थशास्त्र, कृषि विज्ञान, औद्योगिकी अर्थशास्त्र, व्यावसायिक अर्थशास्त्र, वाणिज्य, पर्यटन और यात्रा प्रबंधन तथा अंतर्राष्ट्रीय व्यापार आदि के साथ घनिष्ठ अंतरापृष्ठ विकसित करती है।

Bihar Board Class 12 Geography मानव भूगोल – प्रकृति एवं विषय क्षेत्र  Additional Important Questions and Answers

अति लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

मानव भूगोल के 3 क्षेत्रों के नाम लिखिए Bihar Board Class 12 प्रश्न 1.
भूगोल की दो मुख्य शाखाओं के नाम बताइये।
उत्तर-:
भूगोल की दो मुख्य शाखाएँ हैं –

  1. क्रमबद्ध भूगोल और।
  2. प्रादेशिक भूगोल।

प्रश्न 2.
मानव भूगोल की परिभाषा बताइये।
उत्तर:
मानव भूगोल वह विज्ञान है जिसमें हम मनुष्य तथा वातावरण के पारस्परिक संबंधों का क्षेत्रीय आधार पर अध्ययन करते हैं।

प्रश्न 3.
एक अध्ययन विषय के रूप में मानव भूगोल का उद्भव कब हुआ?
उत्तर:
लगभग पंद्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध से लेकर अठारहवीं शताब्दी तक की अवधि को खोज का युग कहा जाता है। इस युग में मानचित्र निर्माण की विधियों का गुणात्मक विकास हुआ। इसी के साथ-साथ विश्व के विभिन्न भागों में खोज यात्राओं के द्वारा विस्तृत सूचनाएँ एकत्रित की गई।

प्रश्न 4.
एल्सवर्थ हंटिग्टन ने मानव भूगोल को किस प्रकार परिभाषित किया है?
उत्तर:
एल्सवर्थ हंटिग्टन के अनुसान, मानव और पर्यावरण के संबंध गतिशील हैं, न कि स्थिर। मानव और प्रकृति की भूमिकाएँ सक्रिय एवं निष्क्रिय दोनों ही होती हैं। मानव निरंतर ही क्रिया एवं प्रतिक्रिया में संलग्न रहता है। मानव के विकास की कहानी, स्थान एवं समय दोनों ही संदर्भो में मनुष्य के अपने भौगोलिक वातावरण के साथ अनुकूलन की प्रक्रिया है।

प्रश्न 5.
बर्नार्ड वेरेनियस ने अपनी पुस्तक ज्यॉग्राफिया जनरेलिस (सामान्य भूगोल) को किन दो भागों में विभाजित किया है? व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
बर्नार्ड, वेरेनियस ने अपनी पुस्तक ज्याँग्राफिया जनरेलिस को दो भागों में विभक्त किया है –

  1. सामान्य और
  2. विशिष्ट सामान्य भूगोल में संपूर्ण पृथ्वी को एक इकाई मानकर इसके लक्षणों का विवेचन किया गया है। इस पुस्तक के द्वितीय भाग विशिष्ट भूगोल में अलग-अलग प्रदेशों की बनावट का वर्णन किया गया है।

प्रश्न 6.
वेरेनियस ने अपने प्रादेशिक भूगोल नामक ग्रंथ की विषय-वस्तु को कौन-कौन से तीन उपभागों में प्रस्तुत किया है?
उत्तर:

  1. खगोलीय लक्षण
  2. स्थलीय लक्षण और
  3. मानवीय लक्षण

प्रश्न 7.
उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध (1859) में चार्ल्स डारविन की कौन-सी पुस्तक प्रकाशित हुई, जिससे प्रेरणा लेकर ‘मानव भूगोल’ का विकास हुआ?
उत्तर:
जीवों का विकास।

प्रश्न 8.
कल्याणपूरक विचारधारा का जन्म किन कारणों से हुआ तथा इस विचारधारा को किन-किन विद्वानों ने प्रचारित किया?
उत्तर:
विश्व के विभिन्न प्रदेशों, देशों के भीतर तथा पूँजीवाद के प्रभाव से विभिन्न सामाजिक समूहों के भीतर बढ़ती असमानता के कारण मानव भूगोल में कल्याणपूरक विचारधारा का जन्म हुआ। निर्धनता, विकास में प्रादेशिक असमानता, नगरीय झुग्गी-झोंपड़ियों और अभावों जैसे विषय भौगोलिक अध्ययन के केन्द्र बन गये। डी. एम. स्मिथ और डेविड हार्वे जैसे कुछ प्रसिद्ध विद्वानों ने इस विचारधारा का प्रचार किया।

प्रश्न 9.
अमेरिकी भूगोलवेत्ताओं फिंच एवं ट्रिवार्था ने मानव भूगोल की विषय-वस्तु को किन दो भागों में बाँटा है?
उत्तर:

  1. भौतिक या प्राकृतिक पर्यावरण और
  2. सांस्कृतिक या मानव-निर्मित पर्यावरण।

प्रश्न 10.
विगत चार दशकों में मानव भूगोल में नई विचारधाराओं का तेजी से विकास हुआ है। इसका क्या प्रमुख कारण रहा है?
उत्तर:
पिछले चार दशकों में मानव भूगोल में नई विचारधाराओं के तेजी से विकास होने का मुख्य कारण, ‘मानव भूगोल में मानवीय परिघटनाओं के प्रतिरूपों के वर्णन के स्थान पर इन प्रतिरूपों के पीछे कार्यरत प्रक्रियाओं को समझना है। इस प्रक्रिया में मानव भूगोल अब अधिक मानवीय हो गया है।

प्रश्न 11.
ट्रॉन्डहाईम के शहर में सर्दियों का क्या अर्थ है?
उत्तर:
प्रचंड पवनें और भारी हिम। महीनों तक आकाश अदीप्त रहता है।

प्रश्न 12.
1970 के दशक में मानवतावादी, आमूलवादी और व्यवहारवादी विचारधाराओं का जन्म हुआ। इन विचारधाराओं के कारण मानव भूगोल कितना प्रासंगिक बना?
उत्तर:
मात्रात्मक क्रांति से उत्पन्न असंतुष्टि और अमानवीय रूप से भूगोल के अध्ययन के चलते मानव भूगोल में 1970 के दशक में तीन नई विचारधाराओं का जन्म हुआ। इन विचारधाराओं के अभ्युदय से मानव भूगोल सामाजिक-राजनीतिक यथार्थ के प्रति अधिक प्रासंगिक बना।

प्रश्न 13.
पॉल विडाल द्वारा व्यक्त की गई मानव भूगोल के संदर्भ में परिभाषा बताइए।
उत्तर:
हमारी पृथ्वी को नियंत्रित करने वाले भौतिक नियमों तथा इस पर रहने वाले जीवों के मध्य संबंधों के अधिक संश्लेषित ज्ञान से उत्पन्न संकल्पना है।
म ए गोल्डेन सीरिज पासपोर्ट टू (उच्च माध्यमिक) भूगोल, वर्ग-1295

प्रश्न 14.
जर्मन भूगोलवेत्ता राज्य/देश का वर्णन किस रूप में करते हैं?
उत्तर:
जीवित जीव के रूप में करते हैं।

प्रश्न 15.
सड़कों, रेलमार्गों और जलमार्गों के जाल का प्रायः किस रूप में वर्णन किया जाता है?
उत्तर:
परिसंचरण की धमनियों के रूप में वर्णन किया जाता है।

प्रश्न 16.
पर्यावरण की तीन विचारधाराओं के नाम लिखो।
उत्तर:
पर्यावरण निश्चयवाद, संभववाद और नव-निश्चयवाद।

प्रश्न 17.
किस भूगोलवेत्ता ने ‘मानव भूगोल के सिद्धांत’ नामक पुस्तक लिखी?
उत्तर:
एल्सर्वोथ हटिंगटन।

प्रश्न 18.
नव-निश्चयवाद के प्रमुख समर्थक कौन थे?
उत्तर:
ग्रिफिथ टेलर।

प्रश्न 19.
भूगोलवेत्ता ग्रिफिथ टेलर ने क्या नयी संकल्पना प्रस्तुत की थी?
उत्तर:
उन्होंने दो विचारों पर्यावरणीय निश्चयवाद और संभववाद को एक नया नाम ‘नव-निश्चयवाद अथवा रूको और जाओ’ दिया।

प्रश्न 20.
क्या आप उन तत्त्वों की सूची बना सकते हैं, जिनकी रचना मानव ने भौतिक पर्यावरण द्वारा प्रदत्त मंच पर अपने कार्य-कलापों के द्वारा की है?
उत्तर:
गृह, गाँव, नगर, सड़कों व रेलों का जाल, उद्योग, खेत, पत्तन, दैनिक उपयोग में अपने वाली वस्तुएँ तथा भौतिक संस्कृति के अन्य सभी तत्त्व भौतिक पर्यावरण द्वारा प्रदत् संसाधनों का उपयोग करते हुए मानव द्वारा निर्मित किए गए हैं।

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
मानव भूगोल की विषय-वस्तु, सभी सामाजिक विज्ञानों का एकीकरण करती है। इस विषय पर संक्षिप्त में टिप्पणी लिखिए।
उत्तर:
मानव भूगोल की विषय-वस्तु, सभी सामाजिक विज्ञानों का एकीकरण करती है, क्योंकि यह उन विज्ञानों का क्षेत्रीय एवं क्रमबद्धता का दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है, जिनका उनमें अभाव होता है। इसके साथ ही मानव भूगोल अपनी विषय सामग्री के विश्लेषण के लिए अन्य सामाजिक विज्ञानों से संबंध स्थापित करता है। इस प्रक्रिया में मानव भूगोल अन्य सामाजिक विज्ञानों से सहायता प्राप्त करता है और उन्हें सहायता प्रदान भी करता है। उदाहरणतया, वह जनसंख्या के अध्ययन के लिए जनसांख्यिकी, आर्थिक भूगोल के लिए अर्थशास्त्र, कृषि भूगोल के लिए कृषि विज्ञान, नगरीय भूगोल के लिए नगरीय समाज विज्ञान, राजनीतिक भूगोल के लिए विज्ञान, सामाजिक भूगोल के लिए समाज शास्त्र तथा इतिहास पर निर्भर रहता है। बदले में मानव भूगोल इन विज्ञानों को क्षेत्रीय एवं क्रमबद्धता के दृष्टिकोण से अवगत कराता है।

प्रश्न 2.
प्रसिद्ध भूगोलवेत्ता जीन बूंश के मानव भूगोल की प्रकृति एवं क्षेत्र के विषय में क्या विचार थे? संक्षिप्त में उत्तर दीजिए।
उत्तर:
प्रसिद्ध भूगोलवेत्ता जीन बुंश के अनुसार ‘जिस प्रकार अर्थशास्त्र का संबंध कीमतों से, भू-गर्भशास्त्र का संबंध शैलों से, वनस्पति-विज्ञान का संबंध पौधों से, मानवाचार-विज्ञान का संबंध जातियों से तथा इतिहास का संबंध समय से है, उसी प्रकार भूगोल का केन्द्र बिंदु ‘स्थान’ है जिसमें ‘कहाँ’ और ‘क्यों’ जैसे महत्त्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास किया जाता है।

भूगोल की प्रमुख शाखा के रूप में मानव तथा पर्यावरण के पारस्परिक संबंधों का अध्ययन मानव भूगोल के अध्ययन का केन्द्र-बिंदु है, अर्थात् मानव भूगोल में पर्यावरण से संबंधित मानव समाज के अध्ययन पर विशेष बल दिया जाता है। वास्तव में, मानव भूगोल का कार्यक्षेत्र बहुत ही विस्तृत है। उसके अंतर्गत मानव प्रजातियों, विश्व के विभिन्न भागों में जनसंख्या का वितरण, घनत्व, विकास, वृद्धि, जनसांख्यिकीय के लक्षण, जन-स्थानान्तरण आदि के संबंध में ज्ञान प्राप्त किया जाता है। इसके साथ ही मानव समूहों की आर्थिक क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है।

मानव भूगोल में ग्रामीण बस्तियों के प्रकार एवं प्रतिमान और नगरीय बस्तियों के स्थल, विकास और कार्य तथा नगरों के कार्यात्मक वर्गीकरण का भी अध्ययन किया जाता है। इसमें उद्योग-धंधे, परिवहन एवं संचार व्यवस्था तथा व्यापार आदि आर्थिक क्रियाओं का विकास तथा उसके क्षेत्रीय वितरण का भी अध्ययन किया जाता है।

प्रश्न 3.
मानव भूगोल के उपक्षेत्र सांस्कृतिक भूगोल के विषय में संक्षिप्त टिप्पणी कीजिए।
उत्तर:
मानव भूगोल की इस शाखा में मानव के सांस्कृतिक पहलुओं का अध्ययन किया जाता है। मानव का आवास, भोजन, सुरक्षा, रहन-सहन, भाषा, धर्म, रीति-रिवाज तथा पहनावा आदि इसके सांस्कृतिक पहलू हैं। मानव के ये सांस्कृतिक पहलू समय और स्थान के साथ बदलते रहते हैं।

कुछ भूगोलवेत्ता इसे सामाजिक भूगोल भी कहते हैं जे. एम. हॉउस्टन के अनुसार सामाजिक भूगोल को जनसंख्या के अध्ययनों सहित ग्राम्य एवं नगरीय बस्तियों के अध्ययन के रूप में परिभाषित किया जाता है।’ सामाजिक भूगोल में मानव को एकांकी रूप में न लेते हुए मानव समूहों और पर्यावरण के संबंधों की व्याख्या की जाती है।

प्रश्न 4.
मानव भूगोल वास्तविक रूप में उदार शिक्षा का उद्देश्य पूरा करता है। इस विषय पर संक्षिप्त में प्रकाश डालिये।
उत्तर:
विश्व के विभिन्न भागों में मानवीय आवास को प्रभावित करने वाले तत्त्वों का मूल्यांकन करने में मानव भूगोल महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। समाजों, संस्कृतियों तथा मानव द्वारा निर्मित भू-पटलों में विरोधाभास का स्पष्टीकरण भी मानव भूगोल द्वारा ही किया जाता है। इससे आर्थिक, राजनैतिक तथा सामाजिक ढाँचे को समझने में सहायता मिलती है। मानव हमें आज के अशांत, तनावग्रस्त एवं प्रतिस्पर्धात्मक विश्व में सामाजिक वास्तविकता से अवगत कराता है और यथा संभव आधुनिक विश्व में मानवीय समस्याओं का हल ढूंढने में हमारी सहायता करता है। संक्षेप में, मानव भूगोल हमें उत्कृष्ट जानकारी उपलब्ध कराता है और अच्छे नागरिक बनने में हमारी सहायता करता है।

प्रश्न 5.
मानव भूगोल के उपक्षेत्र आर्थिक भूगोल के विषय में संक्षिप्त टिप्पणी कीजिए।
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 1 मानव भूगोल - प्रकृति एवं विषय क्षेत्र img 1

चित्र: मानव भूगोल के अध्ययन क्षेत्र के पाँच मुख्य अंग।

  1. किसी प्रदेश की जनसंख्या तथा उसकी क्षमता।
  2. उस प्रदेश के प्राकृतिक वातावरण द्वारा प्रदान किए गये संसाधन।
  3. उस जनसंख्या द्वारा प्राकृतिक संसाधनों का प्रयोग करने से बना सांस्कृतिक प्रतिरूप।
  4. प्राकृतिक तथा सांस्कृतिक वातावरणों के पारस्परिक कार्यों के द्वारा मानव वातावरण समायोजन का रूप, जिसे हम क्षेत्र संगठन का रूप भी कहते हैं।
  5. उपरोक्त वातावरण समायोजन कालिक अनुक्रमण।

प्रश्न 6.
मानव भूगोल के उपक्षेत्र आर्थिक भूगोल के विषय में संक्षिप्त टिप्पणी कीजिए।
उत्तर:
आर्थिक भूगोल, मानव भूगोल की महत्त्वपूर्ण शाखा है। इसमें मनुष्य की आर्थिक क्रियाओं के वितरण और प्राकृतिक परिस्थितियों के साथ उनके संबंधों का अध्ययन किया जाता है। डॉ. एन. जी. पाउण्डस के अनुसार ‘आर्थिक भूगोल भू-पृष्ठ पर मानव की उत्पादन क्रियाओं के वितरण का अध्ययन करता है। मनुष्य की आर्थिक क्रियाओं में उत्पादन, वितरण, उपभोग तथा विनिमय आदि क्रियाएँ सम्मिलित हैं।

प्रश्न 7.
द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात् एक अध्ययन विषय के रूप में भूगोल में आये नवीन परिवर्तन पर टिप्पणी कीजिए।
उत्तर:
द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात् शैक्षिक जगत समेत अनेक क्षेत्रों में तेजी से विकास हुआ। भूगोल विषय भी इस विकास से अछूता नहीं रहा। सामान्य रूप से भूगोल और विशेष रूप से मानव भूगोल ने मानव समाज की समकालीन समस्याओं और मुद्दों के समाधान प्रस्तुत किये। इस अवधि में मानव कल्याण से संबंधित नई समस्याएँ जैसे गरीबी, सामाजिक व प्रादेशिक असमानता, समाज कल्याण तथा सशक्तिकरण आदि को समझने में पारंपरिक विधियाँ असमर्थ थीं। फलस्वरूप समय-समय पर नई विधियाँ अपनाई गई। उदाहरण के लिये, पचास के दशक के मध्य में प्रत्यक्षवाद के रूप में नई विचारधारा का जन्म हुआ।

इसमें मात्रात्मक विधियों के उपयोग में बल दिया गया। तदन्तर प्रत्यक्षवाद के विरोध स्वरूप मनोविज्ञान से ली गई संकल्पना पर आधारित व्यवहारगत विचारधारा का उदय हुआ, जिसमें मानव की ज्ञान शक्ति पर विशेष बल दिया गया। विश्व के विभिन्न प्रदेशों तथा देशों के भीतर तथा पूँजीवाद के प्रभाव से विभिन्न समूहों के भीतर बढ़ती असमानता के कारण मानव भूगोल में कल्याणपरक विचारधारा का जन्म हुआ। निर्धनता, विकास में प्रादेशिक असमानता, नगरीय झुग्गी-झोंपड़ियों और अभावों जैसे विषय भौगोलिक अध्ययन का केन्द्र बन गये। इनके अतिरिक्त मानवतावाद नामक विचारधारा का भी भूगोल में जन्म हुआ। यह विचारधारा मानव पर केंद्रित है। जिसमें मानव-जागृति, मानव-साधन, मानव चेतना और मानव की सृजनात्मक एवं क्रियाशील भूमिका पर बल दिया गया। अतः द्वितीय विश्व युद्ध के बाद मानव भूगोल में अनेक नई विचारधाराओं का तेजी से विकास हुआ।

प्रश्न 8.
भूगोल की भांति मानव भूगोल में भी एक-दूसरे से निकट रूप से संबंधित कौन-कौन से तीन कार्यों को सम्पन्न किया जाता है?
उत्तर:
1. पृथ्वी तल पर मानव:
निर्मित तत्त्वों का स्थानिक तथा स्थिति-संबंधी विश्लेषण करना। इसका संबंध संख्याओं, विशेषताओं, क्रिया कलाप और वितरण से होता है। इन विशेषताओं को प्रभावशाली ढंग से मानचित्र द्वारा प्रदर्शित करते हैं। कारक जिनसे निश्चित क्षेत्रीय प्रतिरूप बनते हैं उनका वर्णन किया जाता है। अधिक महत्त्वपूर्ण तथा उच्च दक्षता या साम्यवाले वैकल्पिक क्षेत्रीय प्रतिरूपों को प्रस्तावित किया जाता है। यहाँ क्षेत्रों के बीच स्थानिक विभिन्नता को बल दिया जाता है। तत्त्वों के बीच के संबंधों को दो प्रकार से देखा जा सकता है, जैसे-मनुष्य का प्रादेशिक क्षेत्र पर प्रभाव और पर्यावरण का मनुष्य पर प्रभाव।

2. पारिस्थितिक विश्लेषण:
यहाँ पर एक भौगोलिक प्रदेश के भीतर मानव और पर्यावरण संबंधों के अध्ययन को प्रमुखता दी जाती है।

3. प्रादेशिक संश्लेषण:
में स्थानिक एवं पारिस्थितिक उपागमों को एक साथ मिला दिया जाता है। प्रदेशों की पहचान कर ली जाती है। यहाँ अध्ययन का उद्देश्य आन्तरिक आकारि की सहलग्नता और बाह्य पारिस्थितिक सहसंबंधों की जानकारी प्राप्त करना होता है।

प्रश्न 9.
जनसंख्या भूगोल और ऐतिहासिक भूगोल का मानव भूगोल के साथ कैसे घनिष्ठ संबंध है? संक्षिप्त में विवेचना कीजिए।
उत्तर:
जनसंख्या भूगोल में विश्व या इसके किसी भाग में कुल संख्या, जनसंख्या का वितरण, घनत्व जन्म एवं मृत्यु दर, जनसंख्या में वृद्धि दर, आयु, लिंग अनुपात, साक्षरता आदि का अध्ययन किया जाता है। ऐतिहासिक भूगोल किसी क्षेत्र में एक समय से दूसरे समय में होने वाले भौगोलिक परिवर्तनों के अध्ययन को ऐतिहासिक भूगोल कहते हैं। हार्टशॉर्न के अनुसार ‘ऐतिहासिक भूगोल भूतकाल का भूगोल है।

प्रश्न 10.
कृषि भूगोल और राजनैतिक भूगोल का मानव भूगोल के साथ क्या संबंध है।
उत्तर:
यह मानव भूगोल का ऐसा उपक्षेत्र है जिसमें कृषि संबंधी सभी तत्त्वों का अध्ययन किया जाता है। इसमें फसलों के उत्पादन एवं वितरण तथा पशु-पालन एवं पशु-उत्पाद सम्मिलित हैं। कृषि से मनुष्य की मूलभूत आवश्यकता भोजन की आपूर्ति होती है, इसलिए मानव भूगोल का यह उपक्षेत्र सबसे महत्त्वपूर्ण है। राजनैतिक भूगोल राज्यों की सीमाओं, स्थानीय प्रशासन, प्रादेशिक नियोजन आदि से संबंधित है। यह मानवीय समूहों की राजनैतिक स्थितियों, समस्याओं व क्रियाओं में भूगोल के महत्त्व को मूल्यांकित करता है। वॉन बल्केनवर्ग के अनुसार ‘राजनैतिक भूगोल राज्यों का भूगोल है, और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों की भौगोलिक व्याख्या प्रस्तुत करता है।

प्रश्न 11.
प्रकृति का मानवीकरण क्या है?
उत्तर:
समय के साथ मानव अपने पर्यावरण और प्राकृतिक बलों को समझने लगते हैं। अपने सामाजिक और सांस्कृतिक विकास के साथ मानव बेहतर और अधिक सक्षम प्रौद्योगिकी का विकास करता है। वह अभाव की अवस्था से स्वतंत्रता की अवस्था की ओर अग्रसर होता है। पर्यावरण से प्राप्त संसाधनों के द्वारा वे संभावनाओं को जन्म देता है। मानवीय क्रियाओं की छाप सर्वत्र है, उच्च भूमियों पर स्वास्थ्य विश्राम-स्थल, विशाल नगरीय प्रसार, खेत, फलोद्यान, मैदानों व तरंगित पहाड़ियों में चरागाहों, तटों पर पतन और महासागरीय तल पर समुद्री मार्ग तथा अंतरिक्ष में उपग्रह इत्यादि। प्रकृति अवसर प्रदान करती है और मानव उनका उपयोग करता है तथा धीरे-धीरे प्रकृति का मानवीकरण हो जाता है।

प्रश्न 12.
मानव भूगोल का क्या महत्त्व है?
उत्तर:
पृथ्वी पर मानवीय लक्षणों के अध्ययन को मानव भूगोल कहते हैं। गाँव, शहर, नहरें, सड़क, रेल, कृषि, उद्योग आदि सभी मनुष्य द्वारा बनाए गए हैं और मानवीय संस्कृति का नेतृत्व करते हैं। मानव जीवन पर प्रकृति का बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है।

प्रश्न 13.
नवनिश्चयवाद संकल्पना की व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
नवनिश्चयवाद संकल्पना का तात्पर्य उन सीमाओं से है, जो पर्यावरण की हानि न करती हों, संभावनाओं को उत्पन्न किया जा सकता है तथा अंधाधुंध रफ्तार दुर्घटनाओं से मुक्त नहीं होती है। विकसित अर्थव्यवस्था के द्वारा चली गई मुक्त चाल के परिणमस्वरूप हरित-गृह प्रभाव, ओजोन परत अवक्षय, भूमंडलीय तापन, पीछे हटती हिमनदियाँ, निम्नीकृत भूमियाँ हैं। यह संकल्पना ढंग से एक संतुलन बनाने का प्रयास करती है जो संभावनाओं के बीच अपरिहार्य चयन द्वैतवाद को निष्फल करती है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
एक अलग अध्ययन क्षेत्र के रूप में विकसित होने के बाद से मानव भूगोल के विकास की विवेचना कीजिए।
उत्तर:
मानव भूगोल, क्रमबद्ध भूगोल की ही एक शाखा है जिसमें मानव और प्रकृति के बीच सतत् परिवर्तनशील पारस्परिक क्रिया से उत्पन्न सांस्कृतिक लक्षणों की स्थिति एवं वितरण की विशेषताओं का अध्ययन किया जाता है। मानव भूगोल की विस्तृत जानकारी प्राप्त करने से पहले इसकी प्रकृति एवं अध्ययन क्षेत्र को समझना उपयोगी होगा। एक अध्ययन विषय के रूप में मानव भूगोल का उद्भव-लगभग पंद्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध से लेकर अठारहवीं शताब्दी तक की अवधि की खोज की गई सूचनाओं की भूगोलविदों ने वैज्ञानिक तरीकों से जाँच की तथा उन्हें वर्गीकृत और व्यवस्थित किया। ऐसे वैज्ञानिक विश्लेषण का एक अच्छा उदाहरण बर्नार्ड वेरेनियस की पुस्तक सामान्य भूगोल (ज्यॉग्राफिया जनरेलिस) है। वेरेनियस ने अपने प्रादेशिक भूगोल नामक ग्रंथ में इसकी विषय-वस्तु को तीन उपभागों में प्रस्तुत किया-खगोलीय लक्षण, स्थलीय लक्षण और मानवीय लक्षण।

उन्नीसवीं शताब्दी में वैज्ञानिक विधियों के तीव्र विकास की अवस्था में भूगोल के विषय क्षेत्र को सीमित करने का प्रयास किया गया। इस अवधि में उच्चावच के लक्षणों के अध्ययन पर विशेष बल दिया गया। संभवतः अधिक तीव्रता से बदलते सांस्कृतिक लक्षणों की तुलना में पृथ्वी के अपेक्षाकृत स्थिर लक्षणों का वर्णन करना सरल था। उच्चावच के लक्षणों का अनेक प्रकार से मापन तथा परीक्षण किया गया। इसी कार्य के फलस्वरूप भूगोल की एक विशिष्ट शाखा का विकास हुआ जिसे भू-आकृति विज्ञान कहा गया। भौतिक लक्षणों के अध्ययन को आवश्यकता से अधिक महत्त्व देने वाली इस विचारधारा के प्रतिक्रिया स्वरूप कुछ विद्वानों ने मानव तथा प्राकृतिक पर्यावरण के बीच के संबंधों की जाँच शुरू कर दी। इसके परिणामस्वरूप ‘मानव भूगोल’ शाखा का उद्भव हुआ।

उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध (1859) में चार्ल्स डार्विन की पुस्तक ‘जीवों का विकास’ प्रकाशित हुई। इसी से प्रेरणा लेकर भौगोलिक अध्ययन की विशिष्ट शाखा के रूप में ‘मानव भूगोल’ का विकास हुआ। फ्रेडरिक रैटजेल की पुस्तक ‘एंथ्रोपोज्योग्राफी’ को भूगोल विषय में मानव को प्रतिष्ठित करने वाला प्रथम वास्तविक ग्रंथ कहा जाता है। रैटजेल को आधुनिक मानव भूगोल का जनक भी कहते हैं। उसके अनुसार, मानव भूगोल मानव समाजों तथा पृथ्वी-तल के बीच संबंधों का संश्लिष्ट अध्ययन है। फ्रांसीसी विद्वान वाइडल डी ला ब्लाश ने अपनी प्रतिष्ठित पुस्तक (मानव भूगोल के सिद्धांत) में बताया है कि ‘मानव भूगोल’ एवं मनुष्य के बीच पारस्परिक संबंधों का एक नया विचार देता है जिसमें पृथ्वी को नियंत्रित करने वाले भौतिक नियमों तथा पृथ्वी पर निवास करने वाले जीवों के पारस्परिक संबंधों का संयुक्त ज्ञान समाविष्ट होता है।

एल्सवर्थ हंटिग्टन ने मानव भूगोल को ‘भौगोलिक पर्यावरण तथा मानव-प्रक्रियाओं के पारस्परिक संबंधों के अध्ययन’ को परिभाषित करते हुए कहा कि मानव और पर्यावरण से संबंध गतिशील है, न कि स्थिर। जीन बूंश प्रसिद्ध फ्रांसिसी भूगोलविद् ने कहा कि मानवीय घटनाएँ कभी स्थिर नहीं रहतीं। अतः हमें इन सभी का विकास के रूप में अध्ययन करना चाहिए।

विभिन्न विद्वानों द्वारा समय:
समय पर मानव भूगोल को परिभाषित किया गया है। प्रारम्भिक विद्वानों जैसे अरस्तु, बकल, हम्बोल्ट और रिटर ने इतिहास पर भूमि के प्रभाव को प्रमुखता दी। बाद में रैटजेल तथा सेम्पल के मानव क्रिया-कलापों पर पड़ने वाले प्रभावों की जाँच पर अधिक बल दिया। ब्लाश ने पारिस्थितिकी एवं स्थलीय एकता को मानव भूगोल के दो सिद्धांतों के रूप में देखा। हंटिग्टन ने समाज, संस्कृति और इतिहास पर जलवायु के प्रभाव को प्रमुखता प्रदान की। इस प्रकार, उपरोक्त विवेचनों से यह कहा जा सकता है कि इन सभी कार्यों ने ‘मानव समाज तथा पर्यावरण के बीच संबंधों के अध्ययन को ही प्रमुखता दी।

प्रश्न 2.
मानव भूगोल की विषय-वस्तु के विषय में वर्णन कीजिए।
उत्तर:
मानव भूगोल की विषय-वस्तु-मानव भूगोल एक अति विस्तृत विषय है। इसका उद्भव कुछ देशों में सामाजिक विज्ञानों से हुआ है जो मनुष्य के दिक् एवं स्थान के संबंधों का अध्ययन करते हैं। अमेरिकी भूगोलवेत्ताओं फिंच एवं ट्रिवार्था ने मानव भूगोल की विषय-वस्तु को दो बड़े भागों में बाँटा-भौतिक या प्राकृतिक पर्यावरण और सांस्कृतिक या मानव-निर्मित पर्यावरण।

भौतिक या प्राकृतिक पर्यावरण के अंतर्गत भौतिक लक्षण जैसे जलवायु, धरातलीय उच्चावच एवं अपवाह प्रणाली तथा प्राकृतिक संसाधन जैसे मिट्टी, खनिज, जल एवं वन आते हैं। सांस्कृतिक पर्यावरण के अन्तर्गत पृथ्वी पर मानव निर्मित लक्षण जैसे-जनसंख्या और मानव बस्तियाँ एवं कृषि, विनिर्माण उद्योग, परिवहन आदि को सम्मिलित किया जाता है। एल्सवर्थ हंटिग्टन (1956) के अनुसार ‘मानव भूगोल भौतिक दशाओं तथा भौतिक पर्यावरण के साथ मानव की अनुक्रियाओं से संबंधित है।

ऊपर वर्णित आवश्यक तथ्यों के अतिरिक्त मानव भूगोल निम्नलिखित मानवीय-पर्यावरण के पक्षों के अध्ययन से भी संबंधित है उद्देश्य आंतरिक आकार की सहलग्नता और बाह्य पारिस्थितिक सह संबंधों की जानकारी प्राप्त करना होता है।

इस संबंध की गवेष्णा विभिन्न स्थानिक मापकों पर की जाती है, जो वृहत् स्तर जैसे, विश्व के मुख्य प्रदेश को लेकर मध्यम स्तर और सूक्ष्म स्तर जैसे-व्यक्ति या समूह और उनके निकटवर्ती भू-भाग तक हो सकती है। इसमें मानव को विश्लेषण का आधार बनाया जाता है: वे कहाँ हैं? वे वहीं पर क्यों हैं? क्या वे आपस में एक जैसे हैं? वे क्षेत्र में कैसे अंतक्रिया करते हैं और वे अपने प्राकृतिक परिवेश में किस प्रकार के सांस्कृतिक भू-दृश्य की रचना कर रहे हैं? ऐसे विभिन्न प्रश्नों के उत्तर एक भूगोलवेत्ता द्वारा अपनाये जाने वाले आधारभूत तरीकों से ही प्राप्त करना होता है: कौन कहाँ है, और कैसे एवं क्यों वह वहाँ है? यही नहीं, हम यह भी जानना चाहते हैं कि हमारे लिए, हमारी संतानों के लिए और भावी पीढ़ी के लिए इसका अर्थ क्या है?

मानव भूगोल के अध्ययन की विधियाँ:
मानव भूगोल की मुख्य विषय-वस्तु मानव और पर्यावरण के संबंध हैं। इनकी अनेक प्रकार से विवेचना की गई है। उत्तर डार्विन काल में इस संबंध के परीक्षण के लिए बहुत से नये तरीके अपनाए गए हैं। समय के साथ-साथ मानव भूगोल की विषय-वस्तु को पढ़ने के तरीके भी बदलते रहे हैं। ये परिवर्तन केवल मानव भूगोल में ही अकेले नहीं हुए हैं। बल्कि सम्पूर्ण भूगोल जगत में होने वाले परिवर्तनों के साथ ही घटित हुए हैं। इन प्रवृत्तियों की विवेचना नीचे की जा रही है।

प्रश्न 3.
अंतर बताइये:
(क) नियतिवाद और संभववाद
(ख) प्रत्यक्षवाद और मानवतावाद

उत्तर:
(क) नियतिवाद और संभववाद में अंतर
Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 1 मानव भूगोल - प्रकृति एवं विषय क्षेत्र img 2

(ख) प्रत्यक्षवाद और मानवतावाद में अंतर
Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 1 मानव भूगोल - प्रकृति एवं विषय क्षेत्र img 3

प्रश्न 4.
मानव भूगोल के अध्ययन की विधि के संदर्भ में नियतिवाद अथवा निश्चयवाद प्रवृति की विवेचना कीजिए।
उत्तर:
निश्चयवाद विचारधारा के अनुसार मनुष्य के प्रत्येक क्रिया कलाप को पर्यावरण से नियंत्रित माना जाता है। इस प्रकार किसी सामाजिक समूह, समाज या राष्ट्र का इतिहास, संस्कृति जीवन-शैली और विकास की अवस्था मुख्य रूप से पर्यावरण के भौतिक कारकों के द्वारा नियंत्रित होती है। धरातलीय स्वरूप, जलवायु, वनस्पति और जीव-जन्तु पर्यावरण के भौतिक कारक हैं। नियतिवादी सामान्यतः मानव को एक निष्क्रिय कारक समझते हैं, जो पर्यावरणीय कारकों से प्रभावित होता है।

ये कारक मानव के आचरण, निर्णय-क्षमता तथा जीवन पद्धति को भी निश्चित करते हैं। हिपोक्रेटस, अरस्तु, हेरोडोटस, स्ट्रेबो आदि रोमन और यूनानी विद्वानों ने सर्वप्रथम मानव पर प्राकृतिक दशाओं के प्रभाव की विवेचना की थी। इन्होंने विभिन्न जाति समूहों के शारीरिक लक्षणों और उनकी संस्कृति पर भौतिक कारकों के प्रभाव का विशेष रूप से अध्ययन किया था। भौगोलिक साहित्य में नियतिवाद का संकल्पना, अल-मसूदी, अल-इदरिसी और इब्न-खल्दून, कांट, हम्बोल्ट, रिटर और रैटजेल जैसे विद्वानों के साहित्य से 20वीं शताब्दी के प्रारंभिक दशक तक आगे बढ़ती रही। इस विचारधारा का विस्तृत विकास, विशेषतः संयुक्त राज्य अमेरिका में, इ.सी. सेम्पुल तथा एल्सवर्थ हंटिग्टन के लेखों से हुआ, जो इसके बड़े समर्थक थे।

नियतिवादी-दर्शन की मूल रूप से दो आधारों पर आलोचना की गई –
1. यह स्पष्ट हो चुका है कि निश्चित दशाओं और परिस्थितियों में समान भौतिक पर्यावरण समान अनुक्रियायें उत्पन्न नहीं करता। भूमध्यसागरीय प्रदेश में स्थित यूनान और रोम में एक जैसी सभ्यताओं का विकास हुआ, वैसी सभ्यताएँ आस्ट्रेलिया, चिली, दक्षिणी अफ्रीका और कैलीफोर्निया के भूमध्य-सागरीय जलवायु वाले प्रदेशों में नहीं विकसित हुई।

2. यद्यपि पर्यावरण मानव को प्रभावित करता है, लेकिन मनुष्य भी पर्यावरण को प्रभावित करते हैं। इस प्रकार नियतिवाद का सिद्धांत कारण और प्रभाव संबंध के सिद्धांत इसकी विवेचना करने में बहुत सक्षम नहीं है।

इस प्रकार नियतिवाद से उत्पन्न यह विचार कि ‘मनुष्य प्रकृति का दास है’ अस्वीकृत कर दिया गया और दूसरे भूगोलवेत्ताओं ने इस बात पर बल देना आरंभ किया कि मनुष्य प्रकृति के तत्त्वों को चुनने के लिए स्वतंत्र होना चाहिए। जब प्रकृति की तुलना में मनुष्य को महत्त्वपूर्ण स्थान प्रदान किया जाए, और जब मानव को अकर्मक या निष्क्रिय से सक्रिय शक्ति के रूप में देखा जाए तो यह धारणा संभववाद कहलाती है।

प्रश्न 5.
मानव भूगोल के विषय में विस्तृत अध्ययन करने के पश्चात् आप किस निर्णय पर पहुँचे?
उत्तर:
मानव भूगोल के विषय में विस्तृत अध्ययन करने के पश्चात् हम इस निर्णय पर पहुँचते हैं कि मानव भूगोल के अध्ययन क्षेत्र की पाँच मुख्य शाखाएँ हैं –

  1. किसी प्रदेश की जनसंख्या तथा उसकी क्षमता।
  2. उस प्रदेश के प्राकृतिक प्रतिरूप।
  3. उस जनसंख्या द्वारा प्राकृतिक संसाधनों के प्रयोग करने से बना सांस्कृतिक वातावरण।
  4. प्राकृतिक तथा सांस्कृतिक वातावरणों के पारस्परिक कार्यों के द्वारा मानव-वातावरण-समायोजन का रूप।
  5. उपरोक्त मानव वातावरण-समायोजन का कालिक अनुक्रमण।

मानव भूगोल के निम्नलिखित उपक्षेत्र है:

(क) आर्थिक भूगोल।
(ख) सांस्कृतिक भूगोल।
(ग) जनसंख्या भूगोल।
(घ) ऐतिहासिक भूगोल।
(ड़) राजनैतिक भूगोल।
(च) कृषि भूगोल ।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 1 मानव भूगोल - प्रकृति एवं विषय क्षेत्र img 4

चित्र: मानव भूगोल का अन्य समाज शास्त्रों से संबंध

मानवतावाद (Humanism) भी मानव भूगोल की एक और विचारधारा है, जिसमें मानव-जागृति, मानव-साधन, मानव-चेतना और मानव की सृजनात्मकता के संदर्भ में मनुष्य की केन्द्रीय एवं क्रियाशील भूमिका पर बल दिया जाता है। दूसरे शब्दों में यह विचारधारा स्वयं मनुष्य पर केन्द्रित है।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
मानव भूगोल में क्षेत्रीय विभेदन की शुरूआत का दशक कौन-सा था?
(A) 1950
(B) 1930
(C) 2000
(D) 1850
उत्तर:
(B) 1930

प्रश्न 2.
मानवतावाद किसकी एक और विचारधारा है
(A) समाज शास्त्र
(B) सामाजिक विज्ञान
(C) मानव भूगोल
(D) अर्थशास्त्र
उत्तर:
(C) मानव भूगोल

प्रश्न 3.
व्यवहारिक भूगोल, राजनीतिक भूगोल, आर्थिक भूगोल अथवा सामाजिक भूगोल कौन से भूगोल के उपक्षेत्र कहलाते हैं
(A) सामान्य भूगोल
(B) विशिष्ट भूगोल
(C) मानव भूगोल
(D) जीव विज्ञान
उत्तर:
(C) मानव भूगोल

प्रश्न 4.
मानवतावादी, आमूलवादी और व्यवहारवादी विचारधाराओं का उदय कब हुआ?
(A) 1970 के दशक में
(B) 1980 के दशक में
(C) 1990 के दशक में
(D) 1930 के दशक में
उत्तर:
(A) 1970 के दशक में

प्रश्न 5.
भूगोल में उत्तर-आधुनिकवाद विचार का दौर कब आया?
(A) 1990
(B) 1970
(C) 1960
(D) 1950
उत्तर:
(A) 1990

प्रश्न 6.
मानव भूगोल का उपक्षेत्र चिकित्सा भूगोल किस विषय से संबंधित है?
(A) मानव विज्ञान
(B) महामारी विज्ञान
(C) मनोविज्ञान
(D) कल्याण अर्थशास्त्र
उत्तर:
(B) महामारी विज्ञान

प्रश्न 7.
सैम्य भूगोल का उपक्षेत्र किस विज्ञान से संबंधित है?
(A) सैन्य विज्ञान
(B) राजनीतिक विज्ञान
(C) जनांकिकी विज्ञान
(D) सामाजिक विज्ञान
उत्तर:
(A) सैन्य विज्ञान

प्रश्न 8.
मानव भूगोल के क्षेत्र आर्थिक भूगोल का निम्न से एक उपक्षेत्र कौन-सा है?
(A) व्यवहारवादी भूगोल
(B) निर्वाचन भूगोल
(C) संसाधन भूगोल
(D) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(C) संसाधन भूगोल

प्रश्न 9.
मानव भूगोल अस्थिर पृथ्वी और क्रियाशील मानव के बीच परिवर्तनशील संबंधों का अध्ययन है।’ ये मत किसने व्यक्त किया था?
(A) रैट जेल
(B) एलन सी. सेंपल
(C) पॉल विडाल
(D) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(B) एलन सी. सेंपल

प्रश्न 10.
उपनिवेश युग का उपागम क्या था?
(A) प्रादेशिक विश्लेषण
(B) अन्वेषण और विवरण
(C) स्थानिक संगठन
(D) भूगोल में उत्तर आधुनिकवाद
उत्तर:
(B) अन्वेषण और विवरण

Bihar Board 12th English 100 Marks Objective Answers Poem 9 Snake

Bihar Board 12th English Objective Questions and Answers 

Bihar Board 12th English 100 Marks Objective Answers Poem 9 Snake

Snake Questions And Answers Bihar Board 12th English  Question 1.
‘SNAKE’ is written by-
(A) W.H. Auden
(B) T.S. Eliot
(C) D.H. Lawrence
(D) John Donne
Answer:
(C) D.H. Lawrence

Snake Question Answer Bihar Board 12th English Question 2.
David H. Lawrence was born in-
(A) 1868
(B) 1858
(C) 1885
(D) 1895
Answer:
(C) 1885

Snake Poem Questions And Answers Bihar Board 12th English Question 3.
David H. Lawrence died in-
(A) 1920
(B) 1910
(C) 1940
(D) 1930
Answer:
(D) 1930

Snake By Dh Lawrence Bihar Board 12th English Question 4.
The speaker confesses that he-
(A) Hated the snake
(B) Liked the snake
(C) Feared the snake
(D) Killed the snake
Answer:
(B) Liked the snake

Snake Poem By Dh Lawrence Question And Answers Bihar Board 12th English Question 5.
The snake looked at the speaker-
(A) Roughly
(B) Vaguely
(C) Calmly
(D) Fiercely
Answer:
(B) Vaguely

Snake Dh Lawrence Questions Bihar Board 12th English Question 6.
In Sicily, black snakes are considered-
(A) Venomous
(B) Innocent
(C) Playful
(D) Gloomy
Answer:
(B) Innocent

Snake Poem Pdf Bihar Board 12th English Question 7.
The colour of the snake in the poem is-
(A) Yellow-black
(B) Golden
(C) Black
(D) Blue
Answer:
(C) Black

The Snake Looked At The Poet Bihar Board 12th English Question 8.
The speaker met the snake near the-
(A) Lake
(B) River
(C) Water-trough
(D) House
Answer:
(C) Water-trough

The Poem Snake Bihar Board 12th English Question 9.
The phrase ‘a king of exile’ in the poem ‘Snake’ stands for—
(A) the rat
(B) the elephant
(C) the snake
(D) the lion
Answer:
(C) the snake

Poem Snake Bihar Board 12th English Question 10.
After hitting the snake with a log the speaker of the Poem ‘Snake’ wants to —
(A) enjoy
(B) expiate
(C) celebrate
(D) None of these
Answer:
(B) expiate

Question 11.
The snake came to the poet’s water-through on a dav.
(A) hot
(B) cold
(C) rainy
(D) None of these
Answer:
(A) hot

Question 12.
In …………….. according to the poem ‘Snake’ black snakes are considered innocent.
(A) England
(B) Sicily
(C) France
(D) Italy
Answer:
(B) Sicily

Question 13.
The speaker in the poem ‘Snake’ hits the snake with—
(A) a nunter
(B) a log
(C) a rod
(D) None of these
Answer:
(B) a log

Question 14.
The speaker of the poem ‘Snake’ compares the snake with the sea – albatross of –
(A) The Ancient Mariner
(B) ‘Eve of St. Agnes’
(C) ‘The Scholar Gipsy
(D) ‘Lycidas’
Answer:
(A) The Ancient Mariner

Question 15.
Who w as composed the poem ‘Snake’?
(A) D.H. Lawrence
(B) T.S. Eliot
(C) W.B. Yeats
(D) W.H. Auden

Question 16.
D.H. Lawrence was—
(A) a fiction writer
(B) a poet
(C) a short story-writer
(D) All of these

Question 17.
In the poem ‘Snake’ Lawrence denounces the artificialities of ………….. life.
(A) ancient
(B) medieval
(C) modern
(D) None of these
Answer:
(C) modern

Question 18.
Who is the speaker in the poem, ‘Snake’?
(A) Donne
(B) Whitman
(C) Keats
(D) D.H. Lawrence
Answer:
(D) D.H. Lawrence

Question 19.
D.H. Lawrence has written the poem –
(A) My Grand Mother’s House
(B) Snake
(C) An Epitaph
(D) The Soldier
Answer:
(B) Snake

Question 20.
A snake appears on a trough of the ……………. to sip water.
(A) doctor
(B) teacher
(C) poet
(D) None of these
Answer:
(C) poet

Question 21.
A ……………. came to D.H. Lawrence’s water trough.
(A) snake
(B) cow
(C) goat
(D) cat
Answer:
(A) snake

Question 22.
The poet had gone to the water trough to drink
(A) tea
(B) coffee
(C) water
(D) milk
Answer:
(C) water

Question 23.
The poet compares the snake to a ………… bird, albatross.
(A) river
(B) sea
(C) pond
(D) well
Answer:
(B) sea

Question 24.
The snake seemed like a in ……………. exile.
(A) saint
(B) fakir
(C) queen
(D) king
Answer:
(D) king

Question 25.
A ……………. is mentioned in the poem ‘Snake’.
(A) mango tree
(B) peepal tree
(C) carbotree
(D) None of these
Answer:
(C) carbotree

Question 26.
The poet was wearing …………….
(A) pant
(B) pyjama
(C) underwear
(D) None of these
Answer:
(B) pyjama

Question 27.
The snake met the poet near his water
(A) bucket
(B) well
(C) trough
(D) pond
Answer:
(C) trough

Question 28.
The speaker had a desire to talk to
(A) cat
(B) rat
(C) scorpion
(D) snake
Answer:
(D) snake

Question 29.
The snake tooked at the poet
(A) happily
(B) confusingly
(C) sadly
(D) vaguely
Answer:
(D) vaguely

Question 30.
‘The voice of my education said to me He must be killed; these line are taken from—
(A) The Soldier
(B) Fire-Hymn
(C) Snake
(D) An Epitaph
Answer:
(C) Snake

Question 31.
‘He lifted his head from his drinking, as cattle do’ is written by—
(A) T.S. Eliot
(B) D.H. Lawrence
(C) Rupert Brooke
(D) John Keats
Answer:
(B) D.H. Lawrence

Question 32.
The colour of the snake is-
(A) Yellow
(B) Green
(C) Black
(D) Blue
Answer:
(C) Black

Question 33.
The speaker confesses that he-
(A) Hit the snake
(B) Liked the snake
(C) Feared the snake
(D) Disliked the snake
Answer:
(B) Liked the snake

Question 34.
‘SNAKE’is written by-
(A) W.H. Auden
(B) T.S. Eliot
(C) D.H. Lawrence
(D) John Donne
Answer:
(C) D.H. Lawrence

Question 35.
In Sicily, black snakes are considered-
(A) Venomous
(B) Innocent
(C) Playful
(D) food
Answer:
(A) Venomous

Question 36.
David H. Lawrence was born in-
(A) 1888
(B) 1858
(C) 1885
(D) 1855
Answer:
(C) 1885

Question 37.
David H. Lawrence died in-
(A) 1925
(B) 1915
(C) 1945
(D) 1930
Answer:
(D) 1930

Question 38.
The snake looked at the speaker-
(A) Sharply
(B) Vaguely
(C) Calmly
(D) Fiercely
Answer:
(B) Vaguely

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Chapter 2 कूर्मशशककथा

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Amrita Bhag 2 Chapter 2 कूर्मशशककथा Text Book Questions and Answers, Summary.

BSEB Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Chapter 2 कूर्मशशककथा

Bihar Board Class 7 Sanskrit कूर्मशशककथा Text Book Questions and Answers

अभ्यासः

मौखिकः

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solution प्रश्न (1)
निम्नलिखितानां पदानाम् अर्थं वदत –
(अरण्ये, कूर्मः, शशकः, परस्परम्, मन्थरगतिः, दीर्घकालम्, शनै:-शनैः, निरन्तरम्, एकदा )
उत्तराणि-

  1. अरण्ये – वन में
  2. कूर्मः – कछुआ
  3. शशक: – खरगोश
  4. परस्परम् – आपस में
  5. मन्थरगतिः – धीमी गति वाला
  6. दीर्घकालम् – बहुत समय तक
  7. शनैः शनैः – धीरे-धीरे
  8. निरन्तरम् – लगातार
  9. एकदा – एकबार

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Chapter 2 कूर्मशशककथा

Bihar Board Class 7 Sanskrit Book Solution प्रश्न (2)
इमानि पदानि पठत –

  1. अभवत् – अभवताम् – अभवन्
  2. अपठत् – अपठताम् – अपठन्
  3. गच्छेताम् – गच्छेयुः – गच्छेयुः
  4. वदेत् – वदेताम् – वदयुः –

नोट :-छात्र स्वयं पढ़ें ।

लिखितः

Bihar Board Class 7 Sanskrit प्रश्न (3)
निम्नलिखितानां प्रश्नानाम् उत्तम एकवाक्येन लिखत –

  1. कस्मिन् अरण्ये एकः कूर्मः निवसति स्म ?
  2. शशक: कस्य मित्रम् आसीत् ?
  3. परस्परम् आलापेन तयोः मित्रता कीदृशी जाता ?
  4. कः विजयी अभवत् ?
  5. कः शनैः शनैः चलति ?
  6. तीव्रया गत्या क: चलति ?
  7. कुर्मः कीदृशः आसीत् ?

उत्तराणि-

  1. चम्पारण्ये एकः कूर्म: निवसति स्म ?
  2. शशक; कूर्मस्य मित्रम् आसीत् ?
  3. परस्परम् आलापेन तयोः मित्रता दृढ़ा जाता ?
  4. कूर्मः विजयी अभवत् ?
  5. कूर्मः शनैः शनैः चलति ?
  6. तीव्रया गत्या शशकः चलति ?
  7. कूर्मः नियमपालकः सदापरिश्रमी च आसीत् ?

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Chapter 2 कूर्मशशककथा

Bihar Board Solution Class 7 Sanskrit प्रश्न (4)
मञ्जूषायाः उचितपदानि चित्वा वाक्यानि पूरयत

(दृढा, कूर्मः, कार्य, परिश्रमी, लज्जितः)

  1. चम्पारणे सरोवरे कः ……………. निवसति स्म ।
  2. परस्परम् आलापेन तयोः मित्रता …………. जाता ।
  3. कूर्म; नियमस्य पालक: सदा ………च आसीत् ।
  4. शशक: …………. जातः । ।
  5. निरन्तरं श्रमेण असम्भवम् अपि ………… सम्भवति ।

उत्तराणि-

  1. कूर्मः
  2. दृढ़ा
  3. परिश्रमी
  4. लज्जितः
  5. कार्य ।

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Chapter 2 कूर्मशशककथा

Class 7 Sanskrit Bihar Board प्रश्न (5)
सुमेलनं कुरुत –

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solution

उत्तराणि-

  1. – (iv)
  2. – (v)
  3. – (i)
  4. – (ii)
  5. – (vi)
  6. – (iii)

Class 7 Sanskrit Chapter 2 Bihar Board प्रश्न (6)
निम्नलिखितानां पदानां बहुवचनं लिखत –
उत्तराणि –

  1. गच्छति – गच्छन्ति
  2. करोति – कुर्वन्ति
  3. पठति – पठन्ति
  4. पश्यामि – पश्यामः
  5. गमिष्यामि – गमिस्यांव:
  6. चलसि – चलथ
  7. सम्भवति – सम्भवन्ति

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Chapter 2 कूर्मशशककथा

Sanskrit Class 7 Chapter 2 Bihar Board प्रश्न (7)
क्त / क्त्वा प्रत्ययप्रयोगेण रिक्तस्थानानि पूरयत –
उत्तराणि –
Bihar Board Class 7 Sanskrit Book Solution

Shashakah In Sanskrit Bihar Board प्रश्न (8)
संस्कृत अनुवादं कुरुत –

  1. मैं साइकिल से (द्विचक्रिकया) घर जाता हूँ।
  2. हम दोनों धीरे-धीरे (शनैः-शनैः) उद्यान में टहलते हैं । (अट् = टहलना)
  3. हमलोग संस्कृत लिखते हैं ।
  4. खरगोश तेज दौड़ता है ।
  5. कछुआ धीरे-धीरे चलता है।
  6. भारत में छह ऋतुएँ होती हैं।
  7. वसन्त ऋतुओं का राजा है ।

उत्तराणि-

  1. अहं द्विचक्रिकया गृहं गच्छामि ।
  2. वयं शनैः शनैः उद्याने अटावः ।
  3. वयं संस्कृतं लिखामः ।
  4. शशक : तीव्र धावति ।
  5. कुर्मः शनैः शनैः गच्छति ।
  6. भारते षड् ऋतवः भवन्ति ।
  7. ऋतूणाम् राजा वसन्तः अस्ति ।

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Chapter 2 कूर्मशशककथा

Class 7 Sanskrit Chapter 2 Question Answer Bihar Board प्रश्न (9)
अधोलिखितानां पदानां प्रयोगेण वाक्यानि रचयत –

(एकत्र, उपान्ते, तत्र, विरम्य, प्रापयामि)

  1. उत्तराणि-एकत्र-वयं एकत्र तिष्ठामः ।।
  2. उपान्ते-वनस्य उपान्तं नदी बहति ।
  3. तत्र-तत्र बालकः खेलति ।।
  4. विरम्य-मार्गे विरम्य सः

Ch 2 Sanskrit Class 7 Bihar Board प्रश्न (10)
पदानि योजयित्वा लिखत –

उत्तराणि –

  1. अहम् + एव = अहमेव
  2. असम्भवम् + अपि = असम्भवमपि
  3. पूर्वम् + एव = पूर्वमेव
  4. सत्यम् + उक्तम् = सत्यमुक्तम्
  5. अहम् + अस्मि = अहमस्मि

Sanskrit Chapter 2 Class 7 Bihar Board प्रश्न (11)
अधोलिखितवाक्येषु ‘सत्यम्’ ‘असत्यम्’ वा लिखत
उत्तराणि –

  1. सरोवरे शशकः निवसति 1 (असत्यम्)
  2. परस्परम् आलापेन तयोः मित्रता जाता । (सत्यम्)
  3. कूर्मः मार्गे विरम्य चलितः । (असत्यम्)
  4. शशक: तीव्रया गत्या अचलत् । (सत्यम्)
  5. शशकः निरन्तरं श्रमेण विजयी अभवत्। (असत्यम्)

Bihar Board Class 7 Sanskrit कूर्मशशककथा Summary

[इस पाठ में एक कछुए और एक खरहे की कथा है । दोनों मित्र थे तथा एक वन में सरोवर के निकट रहते थे । उनमें एक अन्य सरोवर के पास पहँचने की प्रतिस्पर्धा हई। खरहा तो अपनी तेज गति के अहंकार में कछ दर चलकर आराम करने लगा किंतु कछुआ धीमी गति से निरन्तर चलता रहा । उसने प्रतिस्पर्धा जीत ली । इस पाठ से शिक्षा मिलती है कि नियमित रूप से परिश्रम किया जाय तो मंद बुद्धि वाला भी जीवन में बहुत आगे निकल सकता है।

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Chapter 2 कूर्मशशककथा

चम्पारण्ये सरोवरे …………….अहमेव तत्र प्रथम प्राप्स्यामि ।

शब्दार्थ – अरण्ये – जंगल में । सरोवरे – तालाब में । कूर्मः = कछुआ। निवसति स्म – रहता था /रहती थी । शशकः – खरगोश, खरहा । अभवत् = हुआ । तौ = वे दोनों । स्थित्वा + रह कर । कथयतः – (दोनों ने) कहा। परस्परम् = आपस में । आलापेन = बातचीत के द्वारा । जाता – हुई । एकदा एक बार । कृतवन्तौ – किया (द्वि०व०) । यत् = कि । उपान्ते = (दूसरे) छोर / किनारे पर । गन्तव्यम् – जाना चाहिए । आवयोः = हमदोनों के । कः = कौन । तत्र – वहाँ । गच्छेत् – पहुँचे, जाए । अकथयत् – कहा । अहमेव (अहम् एव) – मैं ही। अहसत = हँसा । त – तो । शनैः-शनैः – धीरे-धीरे । कथम् – कैसे । गमिष्यसि – जाओगे। प्राप्स्यामि = प्राप्त करूंगा, पहुँचूँगा ।

सरलार्थ-चम्पारण्य में तालाब में एक कछुआ रहता था । उसकी मित्रता खरगोश से हो गई । वे दोनों सदा एक साथ रहकर अनेक प्रकार की कथाएँ कहते थे । आपस में बातचीत के द्वारा दोनों में गाढ़ी मित्रता हो गई । एक-बार उन दोनों ने विचार किया कि वन के दूसरे किनारे जाना चाहिए । हम दोनों में कौन पहले पहुँचता है ? कछुआ बोला- मैं ही वहाँ पहले जाऊँगा। खरगोश हँस दिया- तुम तो धीरे-धीरे चलते हो । कैसे पहले वहाँ जाओगे ? मैं ही पहले वहाँ पहुँचूँगा ।

कूर्मः नियमस्य पालकः सदा …………… निरन्तरं कार्येण विजयी अभवत् ।

शब्दार्थ – पालकः – पालन करने वाला । निरन्तरम् – लगातार । चलितः = चल पड़ा । अवस्थितः = रुका हुआ/पहुँचा हुआ । श्रमेण – परिश्रम से सम्भवति – संभव होता है । मन्थरगतिः = धीमी चाल वाला। क्व = कहाँ । कार्येण = काम से। सरलार्थ-कछुआ नियम का पालन करने वाला और परिश्रमी था । वह धीरे-धीरे किन्तु लगातार चल पड़ा । खरगोश देर तक रास्ते में विश्रामकर पुनः ‘ तीव्र गति से चला । जब वह जंगल के किनारे पहुँचा तो उसने देखा की कछुआ पहले ही पहुंचा हुआ है। खरगोश लज्जित हो गया । सत्य ही कहा गया हैनिरन्तर परिश्रम से असंभव कार्य भी संभव हो जाता है । कहाँ कछुआ की धीमी चाल और कहाँ खरगोश की तीव्र गति । किन्तु लगातार कार्य से कछुआ विजयी हुआ।

व्याकरणम्

सन्धि-विच्छेदः

  • चम्पारणये = चम्पा + अरण्ये (दीर्घ सन्धि)
  • उपान्ते – उप + अन्ते (दीर्घ सन्धि)
  • चासीत् – च + आसीत् (दीर्घ सन्धि)

Bihar Board Class 7 Sanskrit Solutions Chapter 2 कूर्मशशककथा

प्रकृति-प्रत्यय-विभागः

Class 7th Sanskrit Chapter 2 Bihar Board

Bihar Board 12th English 100 Marks Objective Answers Poem 7 Macavity : The Mystery Cat

Bihar Board 12th English Objective Questions and Answers 

Bihar Board 12th English 100 Marks Objective Answers Poem 7 Macavity : The Mystery Cat

Macavity The Mystery Cat Objective Questions Bihar Board 12th  Question 1.
‘Macavity : The Mystery Cat’ is written by-
(A) D.H. Lawrence
(B) Walter De La Mare
(C) T.S. Eliot
(D) Kamala Das
Answer:
(C) T.S. Eliot

Macavity: The Mystery Cat Objective Questions Bihar Board 12th Question 2.
T.S. Eliot was born in-
(A) 1888
(B) 1885
(C) 1876
(D) 1891
Answer:
(A) 1888

Macavity The Mystery Cat Questions And Answers Bihar Board 12th Question 3.
T.S. Eliot died in-
(A) 1915
(B) 1965
(C) 1955
(D) 1935
Answer:
(B) 1965

Macavity The Mystery Cat Is Written By Bihar Board 12th Question 4.
Macavity is-
(A) Fat
(B) Short
(C) Tall and thin
(D) Dome shaped
Answer:
(C) Tall and thin

Macavity The Mystery Cat Question Answer Bihar Board 12th Question 5.
Macavity an defy or disobey or challenge-
(A) His master
(B) The food
(C) The law
(D) The dog
Answer:
(C) The law

Bihar Board 12th English Objective Question 12th Question 6.
Macavity is-
(A) A soldier
(B) A dog
(C) A cat
(D) A boy
Answer:
(C) A cat

12th English Objective Questions And Answers Pdf 2020 Question 7.
T.S. Eliot got Nobel Prize for literature in-
(A) 1938
(B) 1948
(C) 1936
(D) 1946
Answer:
(B) 1948

Cat English Questions With Answers Pdf Bihar Board 12th Question 8.
Macavity : The Mystery Cat is a-
(A) Drama
(B) Satire
(C) Light poem
(D) Literary poem
Answer:
(C) Light poem

Macavity The Mystery Cat Question Answer Class 12 Bihar Board Question 9.
Macavitv’s powers of leviation would make a stare.
(A) saint
(B) devil
(C) fakir
(D) None of these
Answer:
(C) fakir

Macavity The Mystery Cat By Ts Eliot Bihar Board 12th Question 10.
Macavity is outwardly—
(A) miserable
(B) healthy
(C) appealing
(D) respectable
Answer:
(D) respectable

Question 11.
Macavity’s foot-prints are not found in any ……….. of Scotland yard.
(A) file
(B) book
(C) copy
(D) None of these
Answer:
(A) file

Question 12.
According to Eliot, Macavity is the ……….. of Crime.
(A) Hitler
(B) Napoleon
(C) Alexander
(D) None of these
Answer:
(B) Napoleon

Question 13.
Who has composed the poem, ‘Macavity : The Mystery Cat’? ‘
(A) T.S. Eliot
(B) W.B. Yeats
(C) W.H. Auden
(D) None of these
Answer:
(A) T.S. Eliot

Question 14.
Eliot was awarded the Nobel Prize for literature in —
(A) 1947
(B) 1948
(C) 1949
(D) 1950
Answer:
(B) 1948

Question 15.
Eliot belonged to ……….. century.
(A) 18th
(B) 19th
(C) 20th
(D) None of these
Answer:
(C) 20th

Question 16.
Eliot was a—
(A) poet
(B) verse dramatist
(C) critic
(D) All of these
Answer:
(D) All of these

Question 17.
‘Macavity: the Mystery Cat’ is a ……….. poem.
(A) humprous
(B) didactic
(C) symbolic
(D) None of these
Answer:
(A) humprous

Question 18.
Macavity is the ……….. of Scotland Yard.
(A) despair
(B) bafflement
(C) frustration
(D) None of these
Answer:
(B) bafflement

Question 19.
T.S. Eliot has written the poem—
(A) Fire-Hymn
(B) Snake
(C) Macavity : The Mystery Cat
(D) The Soldier
Answer:
(C) Macavity : The Mystery Cat

Question 20.
……….. is a master of criminal.
(A) Macavitv
(B) Monkey
(C) Racavity
(D) None of these
Answer:
(B) Monkey

Question 21.
Macavity is called
(A) The Hidden Paw
(B) The Mysterious Paw
(C) the exposed paw
(D) The naughty paw
Answer:
(A) The Hidden Paw

Question 22.
Macavity is the settlement of—
(A) Bcotyard
(B) Mcotyard
(C) Scotyard
(D) None of these
Answer:
(C) Scotyard

Question 23.
…………. is tall and thin,
(A) Nacavity
(B) Macavity
(C) Lacavity
(D) Sacavity
Answer:
(B) Macavity

Question 24.
Macavity is a —
(A) dog
(B) Rat
(C) tiger
(D) Cat
Answer:
(D) Cat

Question 25.
Mungojerrie and Griddlebone are also— [2018A, I.A.]
(A) dogs
(B) Monkeys
(C) birds
(D) Cats
Answer:
(D) Cats

Question 26.
Macavity is an — [2018A, I.A.]
(A) outlaw
(B) Criminals
(C) looter
(D) diplomat
Answer:
(A) outlaw

Question 27.
Macavity is full of –
(A) happiness
(B) Sadness
(C) selfishness
(D) Decitfullness

Question 28.
Macavity disappears from the place of theft before the reach ………….. there.
(A) Owner
(B) Police
(C) Charles
(D) None of these
Answer:
(B) Police

Question 29.
‘He’s is broken every human law’ is taken from—
(A) The Soldier
(B) Fire-Hymn
(C) An Epitaph
(D) Macavity : The Mystery cat
Answer:
(D) Macavity : The Mystery cat

Question 30.
‘And when the foreign office find a Treaty’s gone astray’ is written by—
(A) Walt Whitman
(B) Rupert Brooke
(C) T.S. Eliot
(D) Kamala Das
Answer:
(C) T.S. Eliot

Question 31.
Macavity can defy or challenge-
(A) Anyone
(B) The food
(C) The law
(D) The dog
Answer:
(C) The law

Question 32.
‘Macavity: The Mystery Cat’ is written by-
(A) D. H. Lawrence
(B) Walter de la Mare
(C) T.S. Eliot
(D) Kamala das
Answer:
(C) T.S. Eliot

Question 33.
T.S. Eliot died in-
(A) 1955
(B) 1965
(C) 1955
(D) 1935
Answer:
(B) 1965

Question 34.
Macavity is-
(A) Fat and tall
(B) Short
(C) Tall and thin
(D) Dome Shaped
Answer:
(C) Tall and thin

Question 35.
T.S. Eliot was born in-
(A) 1888
(B) 1855
(C) 1877
(D) 1895
Answer:
(A) 1888

Question 36.
Macavity is-
(A) A spy
(B) A dog
(C) A Cat
(D) A boy
Answer:
(C) A Cat

Question 37.
T.S. Eliot Nobel Prize Literature is-
(A) 1938
(B) 1948
(C) 1932
(D) 1946
Answer:
(B) 1948

Question 38.
Macavitv : The Mystery Cat is a-
(A) Drama
(B) Satire
(C) Light poem
(D) Literarary poem
Answer:
(C) Light poem

Bihar Board Class 7 Hindi Solutions Chapter 18 हुएनत्सांग की भारत यात्रा

Bihar Board Class 7 Hindi Book Solutions Kislay Bhag 2 Chapter 18 हुएनत्सांग की भारत यात्रा Text Book Questions and Answers and Summary.

BSEB Bihar Board Class 7 Hindi Solutions Chapter 18 हुएनत्सांग की भारत यात्रा

Bihar Board Class 7 Hindi हुएनत्सांग की भारत यात्रा Text Book Questions and Answers

पाठ से –

ह्वेनसांग ने भारत के बारे में क्या लिखा Bihar Board प्रश्न 1.
हुएनत्सांग भारत क्यों आना चाहते थे?
उत्तर:
भगवान बुद्ध की जन्म नगरी के दर्शनार्थ तथा नालन्दा में रहकर ज्ञान प्राप्त करने के उद्देश्य से भारत आना चाहते थे।

Class 7 Hindi Chapter 18 Bihar Board प्रश्न 2.
भारत आने में हुएनत्सांग को किन-किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा?
उत्तर:
भारत यात्रा में ह्वेनसांग को बड़ी-बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा । ह्वेनसांग को भारत आने के लिए सरकार से अनुमति नहीं मिली। गुप्त रारने से चलकर यात्रा की। इसके लिए उन्होंने चीन के प्रसिद्ध बौद्ध भिक्षुकों से सलाह और सहायता भी प्राप्त किया। तेज नदी, पर्वत, रेगिस्तान आदि कठिनाइयों को पार कर वे भारत आ ही गये।

Bihar Board Solution Class 7 Hindi प्रश्न 3.
हुएनत्सांग और शीलभद्र के मिलन का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
जिस समय ह्वेनसांग भारत आये थे उस समय नालंदा विश्वविद्यालय एवं वहाँ के प्रधानाचार्य शीलभद्र की ख्याति विश्व प्रसिद्ध थी। जब शीलभद्र से मिलने हेनसांग नालंदा पहुँचे तो मिलने से पूर्व 20 भिक्षुओं ने ह्वेनसांग को विभिन्न प्रकार की जानकारी दी। उसके बाद शीलभद्र के सामने उनको लाया गया ह्वेनसांग शीलभद्र के सामने घुटने बल बैठकर सबसे पहले शीलभद्र के चरणों का चुम्बन किया और भूमि पर सिर रख दिया। इसके बाद शीलभद्र के सम्मुख खड़ा होकर नम्रतापूर्वक बोला, “मैंने आपके निर्देशन में शिक्षा ग्रहण करने के लिए चीन से यहाँ तक की यात्रा की । मैं प्रार्थना करता हूँ कि आप मुझे अपना शिष्य बनाएँ।

शीलभद्र की आँखें भर आई और उन्होंने कहा-

“हमारा गुरु-शिष्य का संबंध देव निर्धारित है। मैं काफी समय से बीमार था, मेरी बीमारी इतनी दुखदायी थी कि मैंने जीवन लीला समाप्त करने की इच्छा प्रकट की। तब मैं एक रात सोया था। मैंने स्वप्न में देखा कि तीन देव आये हैं। उनमें एक का रंग स्वर्ण दूसरे का स्वच्छ और तीसरे का रजत जैसा’ था। उन्होंने मुझे कहा कि मैं मरने की इच्छा वापस ले और जीने की इच्छा प्रकट करूं क्योंकि चीन देश से एक भिक्षु यहाँ धर्म ज्ञान प्राप्त करने के लिए -आ रहा है और वह तुम्हारा शिष्य बनकर शिक्षा ग्रहण करना चाहता है। इसलिए तुम उसे भली प्रकार से शिक्षित करना।”

Bihar Board Class 7 Hindi Book Solution प्रश्न 4.
नालंदा का वर्णन हुएनसांग ने किन शब्दों में किया है ?
उत्तर:
नालंदा का वर्णन करते हुए हुएनसांग ने लिखा है किनालंदा के मठ के चारों ओर ईंटों की दीवारें थीं। एक द्वार महाविद्यालय के रास्ते में खुलता था। वहाँ आठ बड़े कक्ष थे। सभी भवन कलात्मक और बुर्जी से सज्जित थे। वेधशालाएँ सुबह के कुहासे में छिप जाती थीं और ऊपरी कमरे बादलों में खोए से प्रतीत होते थे। मठ के खिड़कियों से झाँकने से लगता था कि हवा के साथ मिलकर बादल अठखेलियाँ कर नई-नई आकृतियाँ बनाते थे। वृक्ष के पत्तों पर सूरज और चाँद की रश्मियाँ झिलमिलाती थीं। तालाबों के स्वच्छ पानी पर नील कमल खिलते थे तथा रक्ताभ कनक पुष्प झूमते थे। पड़ोस के आम कुंजों के आम की बौर (मंजर) से भीनी-भीनी खुशबू वायु में तैरती रहती थी।

बाहरी सभी आंगनों में चार मंजिलें कक्ष पुजारियों के लिए थे। ये अजगर – की छवि के बने थे। लाल-मूगिया खम्भों पर बेल-बूटे उकरे थे। जगह-जगह रोशनदान बने थे। फर्श इतनी चमकदार ईंटों की बनी थी कि उसमें हजारों तरह की छटाएँ प्रकाशित हो रही थीं जिससे वह स्थान अत्यन्त रमणीय लगता था।

वहाँ का राजा पुजारियों का सम्मान करता था। लगभग सौ गाँवों के लगान को इस संस्थान में धर्मार्थ दान दिया करता था ।

पाठ से आगे –

Bihar Board Class 7 Hindi Chapter 1 Bihar Board प्रश्न 1.
निम्नलिखित अंश “हुएनत्सांग” के किस पक्ष को दर्शाता
“जब तक मैं बद्ध के देश में नहीं पहुँच जाता. मैं कभी चीन की तरफ मुड़कर भी नहीं देखूगा । ऐसा करने में यदि रास्ते में मेरी मृत्यु हो जाय तो उसकी चिन्ता नहीं।”
उत्तर:
उपरोक्त अंश ह्वेनसांग की दृढनिश्चय एवं भगवान बुद्ध के प्रति श्रद्धा पक्ष को दर्शाता है।

Bihar Board Class 7 Hindi Book प्रश्न 2.
आप अपने आस-पास के धार्मिक, ऐतिहासिक स्थल पर जाइए और उसकी विशेषताओं का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
हमारे आस-पास में एक ऐतिहासिक एवं धार्मिक स्थल के रूप में जयमंगलागढ़ है। इतिहासकारों के अनुसार यह स्थान राजा जयमंगल सिंह का किला था। . यह किला चारों ओर से गहरी और चौड़ी खाई से घिरा हुआ है जो आज कांवर झील के नाम से जाना जाता है।

गढ़ की सुरक्षा हेतु झील के बाहर ऊँचे-ऊँचे टीला बनाये गये थे जो आज भी देता टीला के नाम से जाना जाता है।

झील में जगह-जगह कमल के फूल खिले हैं। झील विभिन्न प्रकार के पक्षियों का अभयारण्य है। झील में नौका विहार का आनन्द पर्यटक उठाते हैं। वहाँ तक पहुँचने के लिए पक्की सड़क बनाई गई है।

गढ़ के बीच में एक चीन भव्य मंदिर है जिसमें वहाँ के लोगों के ‘आराध्य देवी “माँ जयमंगला’ की अद्भुत मूर्ति स्थापित है। मूर्ति मंदिर के गर्भ में स्थापित है। मंदिर भारतीय वास्तुकला का एक नमूना है।

भारत सरकार उस स्थान की खुदाई करवायी जिसमें अनेक प्रकार वस्तुएँ प्राप्त हुई जो प्राचीन शिल्प कला की विशेषता को दर्शाती हैं।

व्याकरण –

Hindi Class 7 Bihar Board Solution प्रश्न 1.
कारक और उनके साथ लगने वाले चिह्न (विभक्ति) इस प्रकार हैं –
Hindi Class 7 Bihar Board Solution
उपरोक्त विभक्तियों का प्रयोग करते हुए एक-एक वाक्य बनाइए।
उत्तर:
(i) कर्ता (ने) मैंने देखा।
कर्ता (०)–राम रावण को मारा।

(ii) कर्म – (को) मदन श्याम को पीटा ।
कर्म (०) मदन घर गया।

(iii) करण (से)-वह डण्डा से चलता है।
करण (द्वारा, के द्वारा)-राम रावण को बाण के द्वारा मारा।
राम द्वारा रावण मारा गया।

(iv) सम्प्रदान (को)-मैंने भिखारी को वस्त्र दिया।
सम्प्रदान (के लिए)-पिता. पुत्र के लिए फल लाया ।

(v) आपादान (से)-मदन छत से गिर गया।

(vi) सम्बन्ध (का, के, की) रमेश की गाय चर रही है। .
रमेश का भाई यहाँ पढ़ता है।
रमेश के पिता यहाँ पढ़ाते हैं।

(vii) अधिकरण (में, पे, पर)—वह स्कूल में पढ़ता है। –
(पे) तेरे दर पे आया हैं।
(पर) वृक्ष पर कौवा बोलता है।
सम्बोधन (हे, अरे, रे) हे ! श्याम यहाँ आओ। अरे! भाई तुम कहाँ हो।

कुछ करने को –

Class 7 Hindi Book Bihar Board प्रश्न 1.
गया और नालन्दा की तरह बिहार के कुछ प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थलों की सूची बनाइए।
उत्तर:
गुरु गोविन्द सिंह जन्म स्थान (पटना)
शेरशाह का मकबारा (सासाराम) भगवान महावीर का जन्म स्थल (वैशाली).
भगवती सीता का जन्म स्थान (जनकपुर)
वीर कर्ण का किला (मुंगेर) ।
राजगीर, पावापुरी, जयमंगलागढ़
नवलगढ़, सोनपुर इत्यादि ।

Bihar Board Class 7 Hindi Book Pdf प्रश्न 2.
शिक्षक और अभिभावक से पता लगाइए कि बिहार में कहाँ-कहाँ मेले लगते हैं और वे क्यों प्रसिद्ध हैं।
उत्तर:
बिहार में मेले गया, राजगीर, सोनपुर में लगते हैं।

गया का मेला पितृपक्ष (अश्विन मास) में लगता है। यहाँ लोग पितरों को पिण्डदान करते हैं।

राजगीर मेला अत्यन्त प्राचीन मेला है। यहाँ आकर लोग सप्तपर्णी गुफा के गर्म जल में स्नान करते हैं। इसके साथ-साथ राजगीर में अनेक बौद्ध मठ _ (मंदिर) दर्शनीय हैं। स्वर्ण भंडार (जरासंघ का खजाना) भी दर्शनीय है।

सोनपुर मेला पशु-मेला के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ भगवान विष्णु और शिव की संयुक्त मूर्ति हरिहरनाथ का पूजन धार्मिक विचार के पुण्यदायक माना जाता है। यहाँ छोरों भगवान विष्णु ने आकर गज को बचाया था और ग्राह का अन्त किया था।

इसके अतिरिक्त बिहार में अनेकों मेले लगते हैं।

हुएनत्सांग की भारत यात्रा Summary in Hindi

सारांश – हुएनत्सांग (वेनसांग) चीन से 630 ई. में भारत आये थे।

उसने एक रात स्वप्न देखा कि–सोना-चाँदी और जवाहरातों जैसा चमकता हुआ गुमेरू पर्वत विशाल समुद्र से घिरा है। वह सुमेरू पर चढ़ना चाहा लेकिन सुमेरू तक पहुँचने के लिए कोई नौका आदि साधन नहीं थे। वह तैरना आरम्भ करता है उसी समय उसके पैरों के नीचे पाषाण-कमल उदित हुआ। जब वह एक पाषाण-कमल पर पैर रखा तो आगे दूसरा दिखने लगा। इस प्रकार वह समुरू तक पहुंच गया। जब वह उसकी चोटी पर चढ़ने का प्रयास करने लगे तो एक तेज बवंडर ने उनको उठाकर पर्वत की सबसे ऊंची चोटी पर पहुंचा दिया। हेनसांग बहुत खुश हुए। एका-एक नींद खुल गई। उन्होंने स्वज को शुभ मानकर भगवान बुद्ध की जन्मभूमि भारत की यात्रा करने की ठान ली। उस समय किसी भी चीनवासियों को विदेश जाने की अनुमति नहीं थी। हेनसांग ने इसके लिए लिएंग-चाऊ के एक भिक्षु से मदद मांगी। उन्होंने ह्वेनसांग के मार्गदर्शन के लिए अपने दो शिष्यों को दिया। तीनों लुक-छिपकर “हुए क्वा चौ” पहुंचे।

वहाँ जब इन्होंने भारत जाने के रास्ता के बारे में पता लगाया तो मालुम हुआ कि यहाँ से 17 मील की दूरी पर हु-लु नदी बहती है जिसे पार करना मुश्किल है। वेनसांग ने सोचा जरूर कोई रास्ता होगा। उत्तर था जहाँ नदी उथली (ऊंची होगी वहाँ से पार किया जा सकता था। पुनः मालूम हुआ कि आगे नदी के बाद मौ-हौ-येन नामक रेगिस्तान है जिसमें कुछ नहीं उगता है। रेगिस्तान में बाहर जाने वाले यात्रियों पर ध्यान रखने के लिए ऊँचे-ऊँचे टावर लगा हुआ है जो बाहर जाने वालों की सूचना चीन सरकार को देती है। लेकिन इसके बाद भी हेनसांग ने पीछे मुड़ने के पक्ष में नहीं थे। उन्होंने निर्णय कर लिया था कि भले मृत्यु हो जाय । हम आगे बढ़ेंगे। आखिर वे भारत पहुँच हो गये।

आठ नौ दिनों तक “बोध गया” में ठहरे। उसने लिखा है कि गया में लगभग एक हजार ब्राह्मण परिवार थे जिनको ऋषियों के संतान मानकर लोग पूजते थे। ये सभी राजा के प्रजा में सम्मिलित नहीं थे। जब ह्वेनसांग गया में थे, नालंदा मंठ से चार भिक्षुक उनको नालंदा ले जाने के लिए आये। वेनसांग नालन्दा जाकर नालंदा के प्रसिद्ध विद्वान शीलभद्र से योगशास्त्र के बारे में जानना चाहते थे।

नालंदा के बारे में ह्वेनसांग ने लिखा है-नालंदा चारों ओर से ईंटों की दीवार से घिरा था। एक द्वार महाविद्यालय में जाता था। वहाँ आठ बड़े-बड़े कक्ष थे। जो कलात्मक और बुजों (गुम्बदों) से सज्जित थे। यहाँ की वेधशालाएँ प्रात: कुहासे से छिपे तथा ऊपर के मंजिलें बादलों में खोये प्रतीत होते थे। हेनसांग मठ की सुन्दरता से बहुत प्रभावित हुए थे और उसका वर्णन भी बड़े ही रोचक ढंग से उन्होंने किया है।

शीलभद्र के पास पहुँचकर ह्वेनसांग विनम्र हो शीलभद्र को अपना गुरु बनाने का आग्रह किया । ह्वेनसांग की प्रार्थना सुन शीलभद्र की आँखें भर गयीं क्योंकि कुछ दिनों से शीलभद्र बीमार थे। बीमारी इतनी दुखदायी थी कि शीलभद अपना पण ही त्यागना चाह रहे थे तो एक रात शीलभद्र को स्वप्न में तीन देवता आकर शीलभद्र से बोले-शीलभद्र मरने की इच्छा छोड़ दो क्योंकि चीन देश से एक भिक्षु यहाँ धर्म ज्ञान प्राप्त करने के लिए आने वाले हैं जो तुम्हारा शिष्य बनकर ज्ञान प्राप्त करना चाहता है। अतः तुम उसे भलीभांति ज्ञान देकर शिक्षित करना।

ह्वेनसांग कई वर्षों तक अध्ययन कर ज्ञान प्राप्त किया। उन्होंने अपने . पुस्तक में लिखा है- नालंदा के भिक्षु बहुत विद्वान थे। वहाँ सुबह से शाम तक अध्ययन-अध्यापन का कार्य होते रहता था।

नालंदा में शास्त्रार्थ भी होता था जो कोई विद्वान वहाँ के विद्वानों के साथ शास्त्र चर्चा करना चाहते थे उनकी परीक्षा ली जाती थी। जो विद्वान द्वार पर होने वाली जाँच परीक्षा में सफल होते थे। उनको ही शास्त्रार्थ में भाग लेने को मिलता था।

Bihar Board Class 9 Hindi Solutions पद्य Chapter 8 मेरा ईश्वर

Bihar Board Class 9 Hindi Book Solutions Godhuli Bhag 1 पद्य खण्ड Chapter 8 मेरा ईश्वर Text Book Questions and Answers, Summary, Notes.

BSEB Bihar Board Class 9 Hindi Solutions पद्य Chapter 8 मेरा ईश्वर

Bihar Board Class 9 Hindi मेरा ईश्वर Text Book Questions and Answers

Mera Ishwar Bihar Board Class 9 Hindi  प्रश्न 1.
मेरा ईश्वर मुझसे नाराज है। कवि ऐसा क्यों कहता है?
उत्तर-
‘मेरा ईश्वर’ लीलाधर जगूड़ी द्वारा रचित काव्य पाठ से ये पंक्तियाँ ली गई हैं। इन पंक्तियों में कवि ईश्वर का प्रतीक प्रयोग किया है। ईश्वर शब्द का मूल सांकेतिक अर्थ है-समाज में रहनेवाले प्रभुत्वशाली वर्ग से।

कवि आम आदमी की पीड़ा, वेदना, त्रासदी को स्वयं के रूप में व्यक्त करते हुए इसके लिए ईश्वर को दोषी या जिम्मेदार माना है। समाज का शोषक वर्ग आम आदमी को सुखी या प्रसन्न रूप में देखना नहीं चाहता। इस पंक्तियों में यही भाव : छिपा है। कवि स्वयं कहता है कि मैं दुख से मुक्ति के लिए संकल्पित मन से तैयार हो गया हूँ। अब मिहनत या कर्म के बल पर अपने भाग्य की रेखा को बदल डालूँगा। मेरे ईश्वर नाराज रहें, इसकी मुझे तनिक भी परवाह नहीं।

उपरोक्त पंक्तियों में ईश्वर भारतीय समाज के शोपक, संपन्न वर्ग का प्रतीक है जो अपनी मनमर्जी से आम आदमी को जीने-मरने के लिए विवश कर देता है। इन पंक्तियों का मूलभाव यह है कि भारतीय समाज में आज भी भाग्यवादी लोग हैं जो सबकुछ संपन्न वर्ग के रहमोकरम पर ही जीवन-यापन करते हैं। इस प्रकार ईश्वर पर तीखा प्रहार कवि ने किया है। वह अब ईश्वर की सत्ता को चुनौती देता है। अब वह उनके संबल पर या दया के बल पर जीना नहीं चाहता। इस प्रकार इन पंक्तियों ‘ में आम आदमी की वेदना व्यक्त हुई है।

अपनी कविताओं द्वारा कवि ने आम आदमी को संघर्षशील और कर्त्तव्यनिष्ठ बनने की सीख दी है।

Ishwar In Hindi Bihar Board Class 9 Hindi प्रश्न 2.
कवि ने क्यों दुखी न रहने की ठान ली है?
उत्तर-
प्रस्तुत पंक्तियां-“क्योंकि मैंने दुखी न रहने की ठान ली’ में कवि ने । दृढ़ संकलित होने के इरादा को प्रकट करता है। वह हृदय से चाहता हैं मैं ईश्वर के बल पर क्यों रहूँ? क्यों उसकी दया का पात्र बनूँ? क्यों उसी के सहारे जीने की कामना करूँ? मेरे भीतर का जो पौरुष है उसे ही क्यों न जगाऊँ? यहाँ कवि के भीतर आत्मबल का भाव जागरित होता है। वह अपने कर्म और श्रम पर विश्वास प्रकट करता है। दुख का जो कारण है-उसके निवारण के लिए वह स्वयं को सजग और सहेज करते हुए कर्मठता की ओर ध्यान आकृष्ट करता है।

यहाँ कवि स्वयं की पीडा दख को दर करने की जो बातें कहता है वह कवि की निजी पीड़ा या दुख नहीं है, वह जनता की णेड़ा है वह आम आदमी की पीड़ा है, कष्ट है, वेदना है। कवि उनके भीतर क स्व को जगाते हुए निज पैरों पर खड़े होने का संदेश देता है। उन्हें सोए हुए से जगाता है। उनके भीतर के पौरुष को जगाकर उनमें चेतनामय करना चाहता है।

इस प्रकार कवि मनुष्य के भीतर जो उसका निजी मनुष्य सोया हुआ है उसे जगाकर जीवन के मैदान में लड़ने के लिए ललकारता है। सोया हुआ आदमी लक्ष्य शिखर पर नहीं चढ़ पाता है। यह पंक्ति उद्बोधन का भी भाव जगाती है। आदमी के भीतर जो ऊर्जा है, श्रम है, हूनर है उसका सही इस्तेमाल होने पर दुख खुद भाग जाएगा।
सामाजिक प्रभु वर्गों के शोषण से तभी मुक्ति मिल सकती है जब मनुष्य मिहनत करने की ठान ले।

ईश्वर क्या कर सकते हैं Class 9 Bihar Board प्रश्न 3.
कवि ईश्वर के अस्तित्व पर क्यों प्रश्न चिन्ह खड़ा करता है?
उत्तर-
कवि ‘मेरा ईश्वर’ कविता में ईश्वर के अस्तित्व को नकारता है। वह कर्म पर विश्वास करता है। अगर मनुष्य दृढ़ संकल्प कर ले। जीवन में कुछ करने की ठान ले तो कछ भी असंभव नहीं। यहाँ मनष्य के भीतर आत्मबल होना चाहिए। उसके भीतर ‘स्व’ की चेतना की लौ जलनी चाहिए।

ईश्वर भी उसी की मदद करता है जो स्वयं अपनी मदद करता है। जो श्रमवीर है, कर्मवीर है, उन्हें किसी दूसरे के संबल पर जीने की क्या जरूरत? कवि कहता है कि मेरी परेशानी का आधार ईश्वर क्यों हो यानि हम अपनी परेशानियों के लिए। ईश्वर को क्यों दोप दें। यहाँ कर्म पर कवि जोर देता है। जीवन के पल-पल का अगर सही सदुपयोग हो तो दुख, कहाँ टिकेगा? अब मुझे दुख दूर कैसे हो? वैसा कारोबार यानि रोजगार को करना है। दुख न रहे, आदमी सुखी हो, इस पर ध्यान केन्द्रित करते हुए बुरी लत से छुटकारा पाना है।

दूसरे अर्थ में समाज के प्रभुत्वशाली या शोषक वर्ग के बल पर हम क्यों आश्रित रहें। हम दुख को दूर करने के लिए क्यों न कसमें खायें और जीवन में कुछ करने की जिद ठान लें। उनके बताए मार्ग या आश्रय में रहने पर दुख से छुटकारा असंभव है। अत: उपरोक्त पंक्तियों में ईश्वर के प्रतीकार्थ रूप में प्रभुत्ववर्ग की शोषण-दमन नीति का विरोध करते हुए जन-जन में, चेतना श्रम और संकल्प के प्रति दृढ़ भाव जगाते हुए दुख को दूर करने के लिए मिहनत करनी होगी।

Ishwar Question Bihar Board Class 9 प्रश्न 4.
कवि दुख को ही ईश्वर की नाराजगी का कारण वयों बताता है?
उत्तर-
यहाँ ‘मेरा ईश्वर’ कविता पाठ में कवि के भाव के दो अर्थ लगाए जा सकते हैं। एक तरफ कवि ईश्वर की नाराजगी के कारण ही जन-जन दुख और पीड़ा से पीड़ित है, ऐसा मानता है। यहाँ भाग्यवादी विचारधारा पर प्रकाश पड़ता है तथा ईश्वर यानि परमात्मा को ही दुख का कारण माना जा सकता है।

दूसरे अर्थ में ईश्वर माने समाज का प्रभुत्वशाली वर्ग जो समाज में दु:ख और – पीड़ा देने का कारक है, को माना जा सकता है। भारतीय समाज की बनावट ही ऐसी है कि जो संपन और सामंती भावना से ग्रसित वर्ग है वह आम आदमी की प्रगति में बाधक है। उसके कुचक्रों एवं षड्यंत्रों के विषय जाल में आम आदमी पीड़ित एवं शोषित है। इस प्रकार कवि की उपरोक्त पंक्तियों से परम ब्रह्म परमेश्वर को भी दुख के दाता के रूप में व्याख्यायित किया जा सकता है। ईश्वर जब नाराज होता है तब जन-जन की पीड़ा दुख में जीना पड़ता है। दूसरी ओर सामाजिक व्यवस्था के तहत सामंती सोच या संपन्न वर्ग की शोषण नीति से आम आदमी प्रभावित होता है और वह दुख के साये में जीने के लिए विवश हो जाता है। यहाँ हम दोनों अर्थ को ले सकते हैं। कवि अत्याधुनिक युग का चेतना संपन्न रचनांकन है, अतः उसकी दृष्टि २ सामाजिक व्यवस्था को ही आम आदमी की पीड़ा एवं दुख का कारण मानता है। भले ही वह ईश्वर का प्रतीक प्रयोग कर अपने भावों को मूर्त रूप दिया हो।

आशय स्पष्ट करें:

Hindi Poem For Class 9 Bihar Board प्रश्न 5.
(क) मेरे देवता मुझसे नाराज हैं
क्योंकि जो जरूरी नहीं है
मैंने त्यागने की कसम खा ली है।
उत्तर-
प्रस्तुत पंक्तियाँ ‘मेरा ईश्वर’ काव्य पाठ से ली गई हैं। इन पंक्तियों में कवि ने अपने हृदय के भाव को व्यक्त किया है। मेरे देवता मुझसे नाराज हैं, क्योंकि मैंने अपने जीवन में जो चीजें जरूरी नहीं है, उसे त्याग करने की कसमें खा ली हैं।
यहाँ कहने का मूल आशय है कि ईश्वर के भरोसे मैं जीना नहीं चाहता। दूसरे के आश्रय या संबल पर जीने से अच्छा स्वावलंबी बनकर जीने में है। यहाँ कवि ईश्वर की सत्ता को चुनौती देता है। वह उसके भरोसे जीना नहीं चाहता। कहने का भाव यह है कि कवि भाग्यवादी नहीं है, वह कर्मवादी है। वह श्रम बल पर विश्वास करता है। दूसरे अर्थ में भारतीय समाज की जो बनावट है उसमें प्रभुत्व वर्ग अपनी मर्जी के मुताबिक समाज को दिशा देने का काम करता है अत: आम आदमी उसी के सहारे या संबल पर जीता है। उसका ‘स्व’ रह नहीं पाता। अतः उसका जीवन कारुणिक एवं वेदनामय हो जाता है।

उपरोक्त पंक्तियों में कवि ने अपने क्रांतिकारी विचारों को प्रकट करते हुए ईश्वर के भरोसे जीना-मरना नहीं चाहता। वह जीवन की भाग्य रेखाओं को अपने कौशल से बदलना चाहता है। इसी कारण वह देवता को नाराज कर देता है। उनकी चिंता या परवाह नहीं करता। मनुष्य के जीवन में श्रम ही सब कुछ है। ईश्वर के -अस्तित्व को मानकर जीना पराधीन रूप में जीने के समान है यानि शोषण से मुक्त जीवन से मुक्त जीवन ही सर्वोत्तम है।

आशय स्पष्ट करें:

प्रश्न 5.
(ख) पर सुख भी तो कोई नहीं है मेरे पास
सिवा इसके की दुखी न रहने की ठान ली है।
उत्तर-
लीलाधर जगूडी द्वारा रचित ‘मेरा ईश्वर’ कविता पाठ से उपरोक्त पंक्तियाँ ली गई हैं। इन पंक्तियों में कवि ने अपने विचार को स्पष्ट शब्दों में प्रकट किया है। कवि कहता है कि मेरे पास यानि मेरे जीवन में दूसरे प्रकार का कोई सुख भी तो नहीं है। लेकिन सबसे बड़ी विशेषता यह है कि सुख के नहीं रहने पर भी मैंने दुखी न रहने की ठान ली है यानि संकल्प कर लिया है। अभावों के बीच भी मैं दुखी नहीं रहूँगा। मेरे भीतर का आत्मबल जग गया है उसके आगे सुख-दुख दोनों फीका है। आदमी भीतर से जब जग जाता है तब उसके सामने सांसारिक सुख-सुविधा कोई मायने नहीं रखता। यहाँ भी यही बात है।

कवि का मन आत्मतोष से भरा पूरा है। वह सांसारिक सुख-दुख से अपने को ऊपर रखते हुए चिंतन के उच्च धरातल पर अपने को रखता है। कवि की भावना प्रबल रूप में हमें दिखाई पड़ती है कि उसने दुखी न रहने के लिए संकल्प ले लिया है। कहने का आशय यह है कि कर्म पर उसे भरोसा है, भाग्य या ईश्वर या देवता के बल पर वह जीना नहीं चाहता। उसने दुख को दूर करने के लिए अपनी मिहनत, आत्मबल और पौरुष पर भरोसा किया है। इस प्रकार आत्म चेतना से संपन्न कवि जीवन के यथार्थ का सम्यक् चित्रण करता है। कष्ट से घबड़ाता नहीं बल्कि, उसे दूर करने के लिए संकल्पित मन से जीवन में कुछ करने की ठान लेता है।

आशय स्पष्ट करें:-

प्रश्न 5.
(ग) मेरी परेशानियाँ और मेरे दुख ही ईश्वर का आधार क्यों हों?
उत्तर-
‘मेरा ईश्वर’ काव्य पाठ से उपरोक्त पंक्तियाँ ली गई हैं। इस कविता के रचयिता लीलाधर जगूड़ी आधुनिक युग के चर्चित कवि हैं। कवि ने मानव जीवन में परेशानियों एवं दुख में मूल कारण को खोज रहा है। वह इसके लिए ईश्वर को क्यों आधार माना जाय, इस प्रकार की धारणा को प्रकट करता है।

आम आदमी चेतना शून्य होता है, उसे आत्मज्ञान या युगबोध का ज्ञान नहीं होता इसीलिए वह परेशानियों एवं दुख के कारण के लिए ईश्वर की नाराजगी को मानता है। जबकि कवि उसे नकाराता है। वह ईश्वर की सत्ता को चुनौती देता है। वह ईश्वर को इन बातों के लिए मूल कारण नहीं मानता। ईश्वर पर ही सब कुछ छोड़ कर भाग्य भरोसे बैठकर रहने से जीवन के दुख और परेशानियों का अंत नहीं होने वाला।

कवि सामाजिक व्यवस्था की खामियों पर भी सूक्ष्म भाव प्रकट करता है। उसके अनुसार समाज में भी ईश्वर या देवता के रूप में एक ऐसा प्रभुत्व वर्ग है जो अपने काले-कारनामों द्वारा आम आदमी को दुखी और परेशानियों में डाल देते हैं। इस प्रकार कवि अत्याधुनिक युग में बदलती सामाजिक व्यवस्थाओं एवं मानव मूल्यों के गिरते स्तर पर चिंतित है। वह इसके लिए आम आदमी के भीतर चेतना जगाने का काम अपनी कविताओं द्वारा कर रहा है। जबतक ईश्वर, देवता या प्रभुत्व वर्ग पर आमजन आश्रित रहेगा तबतक वह परेशानियों एवं दुखों से मुक्ति नहीं पा सकेगा। अगर उसे इन सबसे मुक्ति पाना है तो स्वयं को जगाना होगा। अपने आत्मबल के बल पर श्रम की महत्ता देनी होगी। प्रभुत्व वर्ग के झाँसे में नहीं आना होगा। उनके शिकंजे में नहीं फँसना होगा उनके हाथ की कठपुतली नहीं बनना होगा तभी परेशानियों एवं दुखों का अंत होगा और आम आदमी उससे निजात पा सकेगा।

प्रश्न 6.
कविता का केन्द्रीय भाव स्पष्ट करें।
उत्तर-
‘मेरा ईश्वर’ कविता जो युग बोध से युक्त कविता है आम आदमी के जीवन की समग्र स्थितियों पर प्रकाश डालती है।
लीलाधर जगूडी अत्याधुनिक काल के कवि हैं। कवि की कविता समसामयिकता को लेकर लिखी गयी है। कवि बदलते जीवन-मूल्यों से भलीभाँति परिचित है अतः उनकी कविताओं में जन चेतना को जगाने का भाव छिपा हुआ है। लीलाधर जगूड़ी जी की कविता में जीवन के कटुतिक्त अनुभव विद्यमान हैं। काव्य में जो विविधता आयी है उनका दर्शन होता है। भाषिक प्रयोगशीलता भी विद्यामन हैं। कवि अपनी कविताओं में एक विस्मयकारी लोक की रचना करता है।

प्रस्तुत कविता लीलाधर जगूड़ी के कविता संग्रह ईश्व की अध्यक्षता में से ली गई है। यह कविता भारतीय समाज के प्रभु वर्ग पर गहरी चोट करनी है। मनुष्य जो जैसे-तैसे इन प्रभु वर्गों के शिकंजे में फंस जाता है और सदा के लिए इनकी हाथ की कठपुतली बन जाता है, उसी से संबंधित यह कविता है।

कवि ने ईश्वर और देवता के माध्यम से भारतीय समाज के सामंती वर्ग के चरित्र का उद्घाटन किया है। आम आदमी की प्रसन्नता या सुख से यह वर्ग दुखी हो जाता है, नाराज हो जाता है। इस वर्ग को आम आदमी भगवान से भी बढ़कर समझता है। इनके रहमोकरम पर उनका जीना-मरना संभव है।

जब-जब आम आदमी जीवन में कुछ करने, कुछ बनने की ठानता है तब इस वर्ग के छाती पर साँप लोटने लगता है। वे नाराज हो जाते हैं।

कवि पुनः कहता है कि आदमी दुखी नहीं रहे इसके लिए कुछ न कुछ कारोबार तो करना ही होगा। सुख के मार्ग में जो अवरोधक तत्व हैं यानि बूरे व्यसन हैं उनसे तो छुटकारा पाना ही होगा। हम ईश्वर के भरोसे कब तक बैठे रहेंगे? कब तक वह हमारी दुख दूर करेगा? वह कबतक परेशानियों से मुक्ति दिलाएगा? उसके भरोसे बैठकर रहना तो निरीमूर्खता है। सारे दुखों परेशानियों की जड़ में मनुष्य की हीन भावना और भाग्यवादी बनना है। उसे ईश्वर की सत्ता को चुनौती देनी चाहिए और अपने आत्मबल के सहारे दुखों, कष्टों, से निजात पाना चाहिए।

पुनः कवि मूल भाव को प्रकट करते हुए कहता कि मेरे पास सुख नहीं है लेकिन दुख को दूर करने के लिए भी तो मैंने संकल्प ले लिया है। कसमें खा ली हैं। जब मानव जग जाता है तब प्रकृति भी उसकी मदद करती है। इस प्रकार ‘मेरा ईश्वर’ कविता का केन्द्रीय भाव आदमी के भीतर जो उसका ‘स्व’ है उसे जगाना है। उसके भीतर जो आत्महीनता है उसे दूर करना है। मनुष्य ही इस धरा पर अपना स्वयं भाग्य विधाता है। वह अपनी सूझ-बूझ से, अपनी मिहनत से, समाज की व्यवस्था और जीवन की दशा को नया स्वरूप दे सकता है।

ईश्वर की सत्ता को नकारते हुए मनुष्य अपने कर्म, श्रम और आत्मबल पर विश्वास करे। साथ ही दृढ़ संकल्पित होकर जीवन में कुछ करने, कुछ बनने की ठान ले तो जीवन में दुख और परेशानियाँ स्वतः दूर हो जाएंगी।
माथ ही प्रभुत्वशाली वर्ग भी सरल और सहज भाव से आम आदमी के विकास में सहयोगी बनेंगे। शर्त यही है कि आम आदमी सहज और क्रियाशील रहे।

प्रश्न 7.
कविता में सुख, दुख और ईश्वर के बीच क्या संबंध बताया गया है? –
उत्तर-
‘मेरा ईश्वर’ कविता एक सामाजिक भावधारा से जुड़ी हुई कविता है। लीलाधर जगूड़ी जी अत्याधुनिक काल के सशक्त कवि हैं। इनकी कविताओं में युग का सफल चित्रण हुआ है।

अपनी कविता में ‘ईश्वर’ का प्रयोग कवि ने प्रभुत्व-वर्ग की संस्कृति को दर्शाने के लिए किया है। आम आदमी ईश्वर की सत्ता को मानकर भाग्य के भरोसे बैठा रहता है वह क्रियाशील होकर जीवन क्षेत्र में नहीं उतरता। इसी कारण वह जीवन में दुखी रहता है। सुख की छाँह उसे नसीब नहीं होती।

कवि अपनी कविता में कहता है कि “मेरी परेशानियों और मेरे दुख ही ईश्वर का आधार क्यों हो” में ईश्वर के अस्तित्व पर प्रकाश डाला है। कवि की दृष्टि में दुख और परेशानियों का कारण ईश्वर नहीं है। वह कौन होता है जो हमें परेशानियों में डाले या दुख के साये में जीने के लिए विवश कर दे। इस कविता में ईश्वर दुख और कष्टों का कारण नहीं है। जब मनुष्य चेतस हो जाएगा, आत्म बल से पुष्ट हो जाएगा तो दुख और कष्ट से खुद निजात पा जाएगा। सुख का संबंध भी ईश्वर से नहीं है। सुखी रहने के लिए बुरी आदतों को त्यागना आवश्यक है।

इस प्रकार उक्त कविता में सुख, दुख और ईश्वर के त्रिकोण से कवि ने जीवन के यथार्थ को स्पष्ट करते हुए तीनों के बीच के संबंधों पर प्रकाश डाला है।

सुख की प्राप्ति बिना श्रम या संकल्पित हुए बिना संभव नहीं। ईश्वर या देवता दुख क्यों देंगे जब मनुष्य दुख से लड़ने के लिए तैयार हो जाए। यानि जबतक वह भाग्यवादी रहेगा दुख और परेशानियाँ साथ नहीं छोड़ेगी। जब वह स्वयं पर भरोसा कर कर्मवादी बनेगा तभी इन चीजों से छुटकारा पाएगा।

दूसरे संदर्भो में कवि समाज में व्याप्त अव्यवस्था और ईश्वर या देवता के रूप में अवस्थित प्रभुत्व वर्ग के क्रिया-कलापों से भी सुख-दुख और शोषक वर्ग के त्रिकोण के संबंधों की व्याख्या करता है। समाज में प्रभुत्व वर्ग अपने षड्यंत्रों के माध्यम से आम आदमी के जीवन में ऐसा जाल बुनते हैं कि उसमें फंसकर आम आदमी आजीवन उनके हाथों की कठपुतली बनकर दुख और परेशानियों के बीच जीता-मरता है। सुख उसे नसीब ही नहीं होता। इस प्रकार सुख-दुख और ईश्वर रूपी प्रभु वर्ग के त्रिकोण में आम आदमी का जीवन पीसता रहेगा, पेंडुलम की तरह डोलता रहेगा, जबतक वह चेतना संपन्न नहीं हो जाता अपने संकल्प को नहीं जगाता। कुछ करने, कुछ बनने की कसमें नहीं खा लेता। जीवन को कर्म और निष्ठा की कसौटी पर कसना होगा। तभी सुख की प्राप्ति होगी और ईश्वर और दुख से मुक्ति मिलेगी।

नीचे लिखे पद्यांशों को ध्यानपूर्व पढ़कर नीचे पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दें।

1. मेरा ईश्वर मुझसे नाराज है
क्योंकि मैंने दुःखी न रहने की ठान ली
मेरे देवता नाराज हैं
क्योंकि जो जरूरी नहीं है
मैंने त्यागने की कसम खा ली है।
(क) कवि और कविता के नाम लिखें।
(ख) मेरा ईश्वर मुझसे नाराज है। कवि के इस कथन को स्पष्ट करें।
(ग) कवि ने दुःखी न रहने की क्यों ठान ली है?
(घ) कवि के देवता उससे क्यों नाराज हैं?
(ङ) कवि ने क्या त्यागने की कसम खा ली है? स्पष्ट करें।
उत्तर-
(क) कवि-लीलाधर जगूडी, कविता-मेरा ईश्वर

(ख) कवि का कथन है कि उसका ईश्वर उससे नाराज है। कवि की दृष्टि में उसकी नाराजगी का कारण यह है कि मनुष्य रूप कवि (श्रमजीवी) अपने श्रम के बल पर अपनी खराब हालत को सुधारने के लिए पूर्ण सक्षम है। उसके लिए इसे अब ईश्वर पर (प्रभ या स्वामी) आश्रित नहीं होना है तथा प्रार्थना और निवेदन नहीं करना है। अब स्थिति ऐसी आ गई है कि ईश्वर अब यह समझ बैठा है कि कवि (मनुष्य) अब उसके हाथ की कठपुतली नहीं रह गया है और उसके अस्तित्व का विरोध कर रहा है। इसलिए ईश्वररूप और प्रभु इस पर नाराज है।

(ग) कवि यह समझता है कि दु:ख की स्थिति में पड़े रहने पर मनुष्य का कोई मूल्य नहीं रह जाता। दु:ख के कारण व्यक्ति अपने तमाम मूल्यों को खोने के लिए बेचारा होने की स्थिति में बाध्य हो जाता है। उस समय उसकी स्थिति उसे कठपुतली बनने पर बाध्य कर देती है। फलतः वह दु:खी रहना नहीं चाहता है तभी वह प्रभु या मालिक की गुलामी और दासता से मुक्त रहकर स्वाभिमान और आत्मगौरव का परिचय दे सकता है।

(घ) कविता में चर्चित देवता आज के प्रभुवर्ग के प्रतीक हैं। वे सर्वशक्तिमान तथा तथाकथित सभी गुणों से भूषित हैं। वे यह समझते हैं कि उनकी जो भी इच्छा है वह मान ली जाए। इसका नतीजा यह होता है कि वे अपने भाव, विचार एवं इच्छा को दूसरे पर थोपना चाहते हैं। इस संदर्भ में कवि का कथन है कि अब वह उनकी इच्छा को मानने क लिए बाध्य महीं है। कवि का कथन है कि अब वह उनकी इच्छा को मानने के लिए बाध्य नहीं है। कवि प्रभु की थोपी हुई इच्छा या आदेश को अब माने को बाध्य नहीं है। यही कारण है कि उसके देवता उससे अब नाराज हैं। पहले ऐसी स्थिति नहीं थी।

(ङ) कवि अपने प्रभु द्वारा थोपी गई इच्छा, आदेश, सलाह या बात मानना कोई जरूरी नहों समझता है। इस परिस्थिति में उसने प्रभु की उस अनावश्यक और व्यर्थ की बात और उसे मानते रहने की प्रवृत्ति को त्यागने की कसम खा ली है। कवि की यह सोच है कि जो जरूरी नहीं है, उसे त्यागने की कसम खा ही लेनी चाहिए।

2. न दुःखी रहने का कारोबार करना है
न सुखी रहने का व्यसन
मेरी परेशानियाँ और, मेरे दुःख ही
ईश र का आधार क्यों हों?
पर सुख भी तो कोई नहीं है मेरे पास
सिवा इसके की दुःखी न रहने की ठान ली है।
(क) कवि और कविता के नाम लिखें।
(ख) कवि दुःखी रहने का कारोबार क्यों नहीं करना चाहता है?
(ग) कवि सुखी रहने के व्यसन से भी मुक्त रहना चाहता है। क्यों?
(घ) कवि के अनुसार उसकी परेशानियों और उसके दुःख ही ईश्वर का आधार क्यों थे?
(ङ) प्रस्तुत पद्यांश का आशय अपने शब्दों में व्यक्त करें।
उत्तर-
(क) कवि-लीलाधर जगूड़ी, कविता-मेरा ईश्वर

(ख) कवि यह जानता है कि दु:ख इंसान को इंसान नहीं रहने देता। वह उसे परेशानियों में डाले रहता है। ऐसी स्थिति में मनुष्य (कवि) अपने मौलिक गुणों से विरत हो जाता है। उसके पास कोई नैतिक मूल्य बच नहीं पाता है। ऐसा मनुष्य प्रभुवर्ग के सामने गिर जाता है, झुक जाता है और दुःख से मुक्ति पाने के लिए गिड़गिड़ाने लगता है। कवि की दृष्टि में दु:ख की यह स्थिति दुःखद और अग्राह्य होती है। इसीलिए कवि दु:खी रहना नहीं चाहता।

(ग) दुःख की तरह सुख से भी कवि मुक्त और विरत रहना चाहता है। सुख को वह भौतिक सुखों की आसक्ति समझता है। वह जानता है कि व्यक्ति जब सुखी होता है तब उसमें झूठे अहम का भाव जग जाता है। उस सुख की स्थिति में मनुष्य मनुष्य नहीं रह जाता और वह एक आरोपित या झूठे मनुष्य के रूप में रह जाता है। यह स्थिति भी कवि की दृष्टि में ग्राह्य नहीं मानी जाती है। इसी कारण से वह सुखी रहने के व्यसन से भी मुक्त रहना चाहता है।

(घ) कवि के अनुसार मनुष्य की परेशानियाँ और उसके दुःख के कारण ही ईश्वर या प्रभु का अस्तित्व है। इंसान जब बहुत दु:खी होता है और परेशानियों के गहन जंगल में ठोकरें खाते रहने के लिए बाध्य हो जाता है, तभी वह ईश्वर या प्रभु या मालिक की शरण में जाता है। वह उनको याद करता है। उनकी प्रार्थना करता है और अपने कष्ट और दु:ख के हरण के लिए उनसे निवेदन करता है। इस रूप में कवि को लगता है कि ईश्वर की अवधारणा या अस्तित्व का मूल आधार मनुष्य की परेशानियाँ और उसके दुःख ही हैं।

(ङ) इस पद्यांश में कवि दुःख और सुख दोनों की अतिवादि स्थितियों से मुक्त रहने का अपना संकल्प व्यक्त करता है। उसकी अवधारणा है कि संसार में ईश्वर, प्रभु या मालिक का अस्तित्व मनुष्य की दु:खी रहने की स्थिति के ही कारण है। उसकी नजर में सुख इंसान को अहम के भाव से भर देता है। वह अपने मालिक या ईश्वर के अस्तित्व पर इस रूप में एक प्रश्न-चिन्ह लगा देता है। वह यह नहीं चाहता है कि कोई मनुष्य दुःख की दुर्दशा में पड़े और वह ईश्वर की शरण में जाकर प्रभुवर्ग के हाथों की कठपुतली बने।

Bihar Board Class 9 Disaster Management Solutions Chapter 13 समुदाय आधारित आपदा प्रबन्धन

Bihar Board Class 9 Social Science Solutions Disaster Management आपदा प्रबन्धन Chapter 13 समुदाय आधारित आपदा प्रबन्धन Text Book Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 9 Social Science Disaster Management Solutions Chapter 13 समुदाय आधारित आपदा प्रबन्धन

Bihar Board Class 9 Disaster Management समुदाय आधारित आपदा प्रबन्धन Text Book Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

बहुविकल्पीय प्रश्न :

कक्षा 9 आपदा प्रबंधन Bihar Board प्रश्न 1.
आपदा प्रबंधन के तीन प्रमुख अंगों में कौन एक निम्नलिखित में शामिल नहीं है ?
(क) पूर्वानुमान, चेतावनी एवं प्रशिक्षण
(ख) आपदा के समय प्रबंधन गतिविधियाँ ।
(ग) आपदा के बाद निश्चित रहना
(घ) आपदा के बाद प्रबंधन कार्य करना ।
उत्तर-
((ग) आपदा के बाद निश्चित रहना

आपदा प्रबंधन के प्रश्न उत्तर कक्षा 9 Bihar Board प्रश्न 2.
प्रत्येक ग्रीष्म ऋतु में कौन सी आपदा लगभग निश्चित है ?
(क) आगजनी
(ख) वायु दुर्घटना
(ग) रेल दुर्घटना
(घ) सड़क दुर्घटना
उत्तर-
(क) आगजनी

Bihar Board Class 9 History Book Solution प्रश्न 3.
सामुदायिक प्रबंधन के अंतर्गत निम्नलिखित में से कौन एक प्राथमिक क्रियाकलाप में शामिल नहीं है।
(क) निकटतम प्राथमिक चिकित्सा केन्द्र को सूचित करना।
(ख) प्रभावित लोगों को स्वच्छ जल और भोजन की उपलब्धता की गारंटी करना ।
(ग) आपदा की जानकारी प्रशासन तंत्र को नहीं देना।
(घ) आपतकालीन राहत शिविर की व्यवस्था करना।
उत्तर-
(ग) आपदा की जानकारी प्रशासन तंत्र को नहीं देना।

Bihar Board Solution Class 9 Social Science प्रश्न 4.
ग्रामीण आपदा प्रबंधन समिति के प्रमुख कार्य हैं ?
(क) प्राथमिक उपचार की व्यवस्था नहीं करना।
(ख) सभी को सुरक्षा देना।
(ग) राहत शिविर का चयन एवं राहत पहुँचाने का कार्य करना ।
(घ) स्वच्छता का ख्याल रखना ।
उत्तर-
(ख) सभी को सुरक्षा देना।

लघु उत्तरीय प्रश्न

Bihar Board 9th Class Geography Book प्रश्न 1.
अग्निशमन दस्ता आने के पूर्व समुदाय द्वारा कौन से प्रयास किये जाने चाहिए?
उत्तर-
अग्निशमन दस्ता आने के पूर्व समुदाय द्वारा निम्नलिखित प्रयास किया जाना चाहिए

  • आग से झुलसे हुए लोगों को एक जगह पंचायत भवन या विद्यालय में ले जाकर प्राथमिक उपचार करना चाहिए।
  • जले हुए भाग पर पानी डालना या चंदन का लेप लगाना चाहिए।
  • जले हुए भाग पर बर्फ का उपयोग करना चाहिए।
  • टेलीफोन या मोबाइल का प्रयोग करके अस्पताल से एम्बुलेन्स माँगना चाहिए।
  • घायल या अर्द्ध जल लोगों को अच्छे उपचार के लिए अस्पताल पहुँचना चाहिए।
  • जिस जगह पर आग लगी हो, वहाँ अधिक से अधिक पानी, बालू, गोबर तथा मिट्टी डालना चाहिए ।

Bihar Board 9th Class Social Science Book Pdf प्रश्न 2.
ग्रामीण स्तर पर आपदा प्रबंधन समिति के गठन में कौन-कौन से सदस्य शामिल होते हैं ?
उत्तर-
ग्रामीण स्तर पर आपदा प्रबंधन समिति के गठन में के नौ सदस्य होते हैं। ये निम्नांकित हैं-

  • विद्यालय के प्रधानाचार्य
  • गाँव के मुखिया
  • गाँव के सरपंच
  • गाँव के दो समर्पित लोग
  • प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का एक डॉक्टर
  • राष्ट्रीय सुरक्षा सेवा के सदस्य (N.S.S)
  • ग्राम सेवक
  • स्वयं सहायक समूह की दो महिलाएँ
  • नौ सदस्यों की सूची मानी गयी ।

Class 9 History Bihar Board प्रश्न 3.
आपदा प्रबंधन के लिए समुदाय में किन अच्छे गुणों का होना आवश्यक है ?
उत्तर-
आपदा प्रबंधन के लिए समुदाय के लोगों में निम्नलिखित गुणों का होना आवश्यक है

  • (i) समुदाय के सदस्य हमेशा समुदाय की भलाई सोचें ।
  • (ii) समुदाय द्वारा जब सामूहिक कार्य के लिए टीम का गठन हो तो उसमें परिश्रमी और साहसी लोग ही आपदा में शामिल हों ।
  • उसमें जात-पात और धर्म आधारित भेदभाव नहीं होना चाहिए।
  • समुदाय के हर व्यक्ति को सहज रखना चाहिए कि वे संभावित आपदा की जानकारी शीघ्र ही एक दूसरे को दें।
  • समुदाय के लोगों में उत्साह, साहस और आवश्यकतानुसार सख्ती के प्रयोग की क्षमता होनी चाहिए ।
  • हर व्यक्ति के बहुत से निजी कार्य होते हैं लेकिन सामुदायिक आपदा के सामने निजी कार्य के गुण समझते हुए इसके सामना करने हेतु आगे आना चाहिए।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

Social Science Class 9 Bihar Board प्रश्न 1.
आपदा प्रबंधन में समुदाय की केन्द्रीय भूमिका का वर्णन करें।
उत्तर-
कोई आपदा न तो सूचना देकर आती है न ही इसके कोप का मुक्तभोगी एक व्यक्ति होता है । आपदा आर्थिक भौर सामाजिक दृष्टि से असमान परिवारों में कोई भेद-भाव नहीं करती है । इससे निपटने के लिए समुचित तैयारी की आवश्यकता है और पारिवारिक भागीदारी भी आवश्यक है । इसका प्रभाव जानमाल पर तो पड़ता ही है मानसिक क्लेश भी होता है । इन आपदाओं से निपटने की जिम्मेवारी समाज की सामूहिक रूप से होती है। समाज के अनुभवी लोग आपदाओं का पूर्वानुमान या उनसे निपटने के सर्वोत्तम सुझाव दे सकते हैं । इस प्रकार प्रत्येक परिवार तक उसके लाभ पहुंचाने में समुदाय की केन्द्रीय भूमिका होती है।

Bihar Board Class 9 History प्रश्न 2.
ग्रामीण आपदा प्रबंधन समिति के कार्यों का विस्तृत वर्णन करें।
उत्तर-
ग्रामीण आपदा प्रबंधन समिति के निम्नलिखित कार्य हैं

  • पूर्वानुमान के आधार पर चेतावनी एवं सूचना देना यह प्रबंधन समिति जिला मुख्यालय से प्राप्त सूचनाओं को तत्काल लोगों तक पहुँचायेगी।
  • राहत शिविर का चयन और प्रभावित लोगों को राहत पहुचाने का कार्य इसी के साथ जिला प्रशासन को सूचित करना आगजनी है तो दमकल को सूचित कराना।
  • राहत कार्य-मुख्य रूप से लोगों को भोजन एवं पानी उपलब्ध करना।
  • प्राथमिक उपचार की व्यवस्था करना ।
  • सभी को सुरक्षा प्रदान करना-महिला, बच्चों पर विशेष रूप से ध्यान देना ।
  • स्वच्छता का ख्याल रखना-स्वच्छता रखने से विभिन्न प्रकार की बीमारी नही फैलती है।

Geography Class 9 Bihar Board प्रश्न 3.
आपदा प्रबंधन में समुदाय की भागीदारी को कैसे सुनिश्चित किया जा सकता है?
उत्तर-
आपदा प्रबंधन में समदाय की भागीदारी को निम्न प्रकार से सनिश्चित किया जा सकता है-

  • निकटतम विद्यालय में विद्यार्थियों के बीच यह घोषणा करना कि बाढ़ अथवा आँधी की संभावना है इसलिए घर में लोगों को सचेत कर देना ।
  • किसी आपदा के विषय में विद्यालय, मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर में जाकर घोषणा करना तथा आवश्यक निर्देश देना ।
  • समाज के वृद्ध, बच्चे, गर्भवती महिलाओं के लिए पहले से विस्थापन के प्रबंध करना और गाँव के विद्यालय में तैरने के जैकेट, नाव, डॉक्टर और कुशल लोगों की सूची तैयार करना जिससे आपदा के समय इनका विस्थापन आसानी से किया जा सके ।।
  • पंचायत भवन और गाँव के विद्यालय में तैरने के जैकेट. नाव. डॉक्टर और कुशल लोगों की सूची तैयार रखना वहीं ऐसे स्थान से संपर्क रखना जहाँ से आवश्यकता पड़ने पर उचित व्यवस्था हो सके ।
  • महामारी, दंगे और आग लगने पर परिवहन साधन की व्यवस्था रखना जिससे प्रभावित लोगों को शीघ्र अस्पताल पहुंचाया जा सके ।