Bihar Board Class 11 English Book Solutions Poem 2 The Marriage of True Minds

   

Bihar Board Solutions for Class 11 English aids you to prepare all the topics in it effectively. You need not worry about the accuracy of the Bihar Board Solutions for Class 11 Poem Chapter 2 The Marriage of True Minds Questions and Answers as they are given adhering to the latest exam pattern and syllabus guidelines. Enhance your subject knowledge by preparing from the Chapter wise Bihar Board Class 11th English Book Solutions and clarify your doubts on the corresponding topics.

Rainbow English Book Class 11 Solutions Poem 2 The Marriage of True Minds

Kick start your preparation by using our online resource Bihar Board Class 11 English Solutions. You can even download the Bihar Board Board Solutions for Class 11 Chapter 2 The Marriage of True Minds Questions and Answers in Prison free of cost through the direct links available on our page. Clear your queries and understand the concept behind them in a simple manner. Simply tap on the concept you wish to prepare in the chapter and go through it.

Bihar Board Class 11 English The Marriage of True Minds Textual Questions and Answers

[A] 1. Work in small groups and discuss these questions :

Marriage Of True Minds Meaning Bihar Board Question 1.
What is love ? Can there be different manifestations of love ?
Answer:
Love is an eternal boon which has no alternation. Love is true and permanent. There can be no different manifestations of love because love is true and eternal.

Marriage Of Two Minds Bihar Board Question 2.
You love different persons in your life : Your parents, brothers sisters, friends, wife etc. What is common about your love to each of them ?
Answer:
Love with family members, friends and neighbours is selfish love. It is common with all. I love them because they satisfy me in many ways. This is not a true love. Love has no selfishness.

The Marriage Of True Minds Bihar Board Question 3.
At times you feel drawn to opposite sex ? What is that which draw you to him/her : love or mere physical attraction ? How will you differentiate ?
Answer:
Sometimes physical attraction attracts some one. For the time being he/she looses his/her temper and wants to become one. But this love is not love. It is only bodily attraction which ruins after some time.

[B] Answer the following questions briefly :

The Marriage Of True Minds Summary Bihar Board Question 1.
What is meant by ‘the marriage of true minds ?
Answer:
‘Marriage of true minds’ means mixing up of two into one heartily for the life long. A true lover lives for his love and dies for his love. This type of love is called marriage of true minds.

The Marriage Of True Minds Meaning Bihar Board Question 2.
What is ‘an ever-fixed mark’ ?
Answer:
True love is permanent. No wordy attractions and activities have power to interfere in it. True love is eternal, so it is called ‘ever-fixed mark’.

To The Marriage Of True Minds Bihar Board Question 3.
What is meant by ‘Time’s fool’ ? Is love ‘Time’s fool ? Why or why not ?
Answer:
Time’s fool means a love for a short period. Real love is not time’s fool. Love is constant. It remains for life long.

Marriage Of The Minds Bihar Board Question 4.
What kind of love alters when it finds alterations ?
Answer:
Artificial love alters. It varies time to time. It has no existence. So when one sees or gets chance, shows affection and other time forgets. This kind of love is not love. It is only bodily satisfaction for the time being.

The Marriage Of True Minds Summary In Hindi Bihar Board Question 5.
Can external force change love ?
Answer:
No, external force has no power to change true love.

Class 11 English Poem 2 Question Answer Bihar Board Question 6.
How does Shakespeare depict permanent nature of love ?
Answer:
Shakespeare has compared love with the pole star which never changes its place and twinkles. Even in great disturbances it never shakes because it is eternal.

Question 7.
Why is love compared to a pole star ?
Answer:
A pole star is fixed at the same place always. It does not move from its permanent aboard. So like polestar love has also no alteration. True love lasts for ever. So love is compared with pole star.

Question 8.
Can you tag a price to love ? Why or why not ?
Answer:
Love is priceless. No can pay price for love. So it is never tagged as worldly materials.

Question 9.
Can time affect love ?
Answer:
No, time cannot affect love.

Question 10.
If you have to choose between worldly, pleasure and the goal of your life, what will you choose ? Why ? give two reasons. [Board Model 2009 (A)]
Answer:
(a) If I have to choose between wordly pleasure and the goal of my life I will choose the later. For, wordly pleasures will not last long. But if I mach my goal. I will attain permanent bliss. Besides, a man who indulges in worldly pleasure cannot achieve much in life. He will do nothing so that peeterity will remain by him.

Question 11.
Describe after Shakespeare the nature of true love. [Board Model 2009 (A)]
Answer:
True Love is described by Shakespeare remains unaffected by obstacles or impediments. It can with stand any tempestor trouble and be a true guide in all circumstances. It is even fixed and cannot be submitted. Even time can not fate true love.

[C] Long Answer Type Questions :

Question 1.
Attempt, after Shakespeare, a comprehensive definition of love.
Answer:
William Shakespeare in his poem “The Marriage of True Minds” has given a comprehensive definition of love. According to the poet, love means a union of two souls. To him, it is a marriage of true minds. Love is not love which changes when ever it disires to change. A love cannot be removed when a remover wants to remove it. Love does not allow hindrances and obstacles to come. So, a true lover lives for his love and dies for his love. This type of love is called marriage of true minds.

According to the poet, true love is permanent. True love is eternal. So, it is called ever-fixed mark. Real love is not for a short period. It remains for life long.

An artificial love may be changed, it has no existance. This kind of love is not love. A true love is compared to pole star. A pole star is fixed at the same place; It does not move from its permanent place. So like a pole star love has no alteration. Love is priceless. No one can pay price for love. Time can not affect love.

Question 2.
Describe, after Shakespeare, the nature of true love.
Answer:
William Shakespeare in his poem “The Marriage of True Minds” has very successfully described the nature of true love. True love is a sweet gift of nature. True love means mixing up of two true hearts and minds in one. It has got the relation with two souls. Physical attraction has no value in true love. It is nature’s greatest boon. A true lover never changes his attitude. He has no different manifestations of love. Even in great troubles a true love can not go back or forget his love. A true love is stable and permanent. It is just like a pole star which never changes its place. A true love is eternal. It is spiritual.

Question 3.
What in your opinion is love related to-spirit or physical lust ?
Answer:
In my opinion love is related to spirit. Love is spiritual not physical. It is a union of two soul’s or spirits, It has no relation with physical attraction. It is for a short time. It is not permanent. So love is eternal, permanent and for life long.

Question 4.
Narrate the gist of the poem in your own words.
Or, Give the main idea of the poem. “The Marriage of True Minds.”
Or, Summaries the poem “The Marriage of True Minds”.
Answer:
“The Marriage of True Minds” is a sonnet composed by William Shakespeare. In this poem the poet has described the nature of true love. To him, true love is sweet gift of nature. A real love means mixing up of two souls and minds in one. It is an eternal gift. Love is not mere physical attraction. There can not be different manifestations of love because love is true and enternal. A true lover loves for his love. This type of love is called marriage of true minds. True love is permanent. It is called ‘an ever fixed mark’. It is not for short period. It is constant. It remains for life long.

Artificial love alters when it finds alteration. This kind of love is not love. It is only bodily satisfaction for the time being. A true love is like a pole star that does not change its place. It is fixed at the same place. It lasts for ever. So love is compared to a pole star. Time also can not affect love.

Question 5.
Can time control love ? What can it do at its best ?
Answer:
Time can not control love. William Shakespeare in his poem, “The Marriage oi True Minds” has clearly described that time can not control love. In third stranza of the poem, the-poet has said—“Love’s not Time’s fool”. It means love is not for short period. Love cannot be changed in hour’s and weeks. It is permanent. It bears it out even to the edge of doom. Time can creates troubles, disturbances and obstacles. But love can stay beyond time. It can not be restricted by hours, weeks, months and years.

Question 6.
Comment on the treatment of the theme of Love and Time in the poem.
Answer:
The poem “Marriage of True Minds” has been composed by William Shakespeare. In this poem the poet has described the theme of love, and time. According to the poet love is the theme of his poem. The poem is a sonnet. The poet has described the nature, the definition, the importance and the duration of love throughout the poem. The whole theme of the poem revoles round the discretion of love.

To him love is a union of two souls. Love is spiritual not physical. It is permanent. It is external. It is for life long, it is not for short period. It can not be controlled by time. Physical attraction and outer disturbances can not harm love, So the poet has very successfully made clear the theme of Love and Time in his poem. “The Marriage of True Minds”.

Question 7.
How is the changelessness of love brought out in the first two quatrains ?
Answer:
In the first two stanzas of the poem “The Marriage of True Minds”, Willian Shakespeare has very successfully brought out the changelessness of love. The poet says that not one should be allowed to make hindrances to the marriage of true minds. To him, true love is the union of two pure souls and minds. According to the poet, the love that makes alterations is not love. Love is not the choice of the remover who removes (change) his love according to his convenience.

In the second stanza, the poet says that love is ‘an ever-fixed mark’. It means true love is permanent. Love is like a pole star. A pole star is fixed at a particular place. It does not move from its permanent place. So, like pole star love has also no alterations. True love lasts for ever. It can not be changed.

Question 8.
What does the speaker declare in the final couplet ? What makes him do so?
Answer:
The poet in the final (last) two lines wants to confirm what he has said about true love. He is confident that true love is eternal, unchangeable and permanent. It is a union of two hearts, not of two bodies. Love is spritual not physical.

The poet is so confident about his thought that he says that if my opinion about true love is wrong and if this is proved that ‘I am wrong it means I never wrote such poem and it is also true that no man has ever loved’ ’ It means if the poet is wrong, the story of true love, the dictum of true love is also wrong and no man in future will tell the story of true love nor no man will be ever loved.

Question 9.
How is love contrasted with Physical love ?
Answer:
According to the poet William Shakespeare, there is great contrast between spiritual love and physical love. Spiritual love is true love. It is the marriage of two souls. Spiritual love is eternal, It is permanent. It does not change with hours, weeks and months, Real love is not for short period. It is for life long. A true love is a sweet gift of nature. A real love is mixing up of two souls and minds in one. Love is an ever-fixed marks. It means true love is permanent. True love is like a pole-star. A pole star is fixed at a particular place. So, like pole-star spiritual love has also no alterations. It lasts for ever.

Unlike spiritual love, physical love is not permanent. According to the poet, the love that makes physical attractions is not real love. It is for short period. Physical love is over, the sooner physical satisfaction is fulfilled.

Question 10.
Pick out metaphors used in the poem and comment on their implied meaning.
Answer:
A metaphor is a figure speech that makes a comparison, usually implied not overtly stated, between two seemingly unlike things. In the poem “The Marriage of True Minds” the poet William Shakespeare has used metaphors. The very title of the poem” The marriage of True Minds” is a metaphor. The word ‘marriage’ is used metaphorically. Its implied meaning is ‘union’. True Minds’ is also used metaphorically. Its implied meaning is ‘true lovers’. The word “Tempests” is’also used metaphorically.Its implied meaning is ‘great disturbances’. The other metaphors are noted below :
Bihar Board Class 11 English Book Solutions Poem 2 The Marriage of True Minds 1

Question 11.
Discuss ‘The Marriage of True Minds’ as a sonnet
Answer:
A sonnet is a poem of 14 lines. It is either consisting of an octave followed by a sestet (Petrarchan sonnet) or three quatrains followed by a couplet with a special arrangement of rhymes. A sonnet consisting of three quatrains followed by a couplet is called Shakespearean sonnet. A sonnet is concentrated expression of some single though or feeding or situation. Subjectivity, spontaneity, sincerity, reflection, music and melody are some other important characteristics of a sonnet.

“The Marriage of True Minds” is a Shakespearean sonnet. The sonnet consists of three quatrains followed by a couplet with a special arrangement of rhymes. The first three stanza consists of four lines each. The last stanza consists of two lines.

The poem has expression of single though. The sonnet has described the definition and nature of love. The theme of the complete poem is one and that is the description of true love. In short, the poem “The Marriage of True Minds” has all the characteristics of a sonnet. Subjectivity, spontaneity .sincerity, reflection, music and melody are the main characteristics of this poem.

C. 3. Composition:

Question a.
Write a letter in about 150 words to your friend describing how your love for someone made you more determined to achieve something.
Answer:

Naya Tola
Patna
10 March, 2013

DearRakesh,

I am quite well here along with the member of my family and hope that you will be the same. Today I am going to disclose a secret through this letter.

You know that since school-days I wanted to be a college-teacher. You often asked me about my inspiration. Today I tell you that my father was my inspiration. He wanted me to be a college-teacher.

As I loved him too much, after his death my sole aim was to be a college- teacher one day. My love to him to fulfill his wish made me more determined to achieve my goal. I worked heart and soul to achieve my goal. Though my father’s death casually brought before me a lot of problems as to earn, to take care of a large family and to continue studies in crisis, yet my love to him worked as a guiding and an inspiring force. The more the problems came to me the more my love to my father increased and deepened and worked as an inspiring force. Thank God ! Ultimately I succeeded in achieving my goal.

With best wishes.

Yours affectionately
Anshu Singh

Question b.
Write a paragraph in about 100 words on ‘Love and Life’.
Answer:
Love and Life

It is an old saying that ‘Love is God and God is Love’. This saying has complete truth in it. Really without love life is nothing. As a child is bom, his family begins to love him. As he grows, the society begins to love him and so does he. As a youth, he loves his beloved. Later on as a husband, he begins to love his wife,children and his nation. This is a common thing. Besides it, a man loves other creatures and natural objects. The last stanza of Coleridge’s ‘The Rime of the Ancient Mariner’ is its fine example. To quote :

“He prayeth best, who loveth best
All things both great and small;
For the dear God who loveth us, .
He made and loveth all.”

Thus, we should love all the creatures of the earth. Without love life is hellish.

D. 1. Dictionary Use :

Question 1.
Look up a dictionary and write two meanings of each of the following words-the one in which it is used in the lesson and the other which is more common : marriage, admit, bark, edge
Answer:
marriage – (i) union (ii) a social custom in which a man and a woman unites together as a husband and wife
admit – (i) give leave to enter to (ii) acknowledge as true
bark – (i) ship (ii) skin of tree
edge – (i) day (ii) margin/border

D. 2. Word-meaning:

Question 1.
Match the words given in Column ‘A’ with their meanings given in Column ‘B’:
Bihar Board Class 11 English Book Solutions Poem 2 The Marriage of True Minds 2
Answer:
1. (e)
2. (h)
3. (c)
4. (d)
5. (a)
6. (f)
7. (g)
8. (b)

E. GRAMMAR:

Ex 1. Mark carefully the structure of the sentence given below and make five sentences of your own on the same pattern.
Let me put my car in the garage.
Answer:
Pattern : Let + Sub (‘I’ in objective case) + Possessive Adj.+ Noun+O.W.

  1. Let me write my notes today.
  2. Let me have my dinner in the hotel tonight.
  3. Let me do my duty now.
  4. Let me have my bathe in the rive today.
  5. Let me keep my documents in your bag.

Ex. 2. Read the following lines carefully :
It is the star to every Wand’ ring bark
Love’s not Time’s fool.

Mark the use of apostrophe to the missing letter ‘e’ in ‘wandering’ and ‘i’ in ‘Love is’. The latter is the example of contraction-of. auxiliary verb; e.g. ‘I’m’ for ‘I am’ etc. Note also the use of apostrophe in ‘Time’s fool’ to show possession or ownership.

Now find out examples of apostrophe in the poem and decide why apostrophe has been used in each of them.
Answer:
Besides ‘wand’ ring, ‘Love’s’ and ‘Time’s fool’, ‘Worth’s’ and ‘Sickle’scompass’ are examples of apostrophe. In ‘Worth’s’ it has been used as the example of the contracted form of auxiliary verb (worth is) and in ‘Sickle’s compass’ it has been used to show possession.

We believe the information shared regarding Bihar Board Solutions for Class 11 English Chapter 2 The Marriage of True Minds Questions and Answers as far as our knowledge is concerned is true and reliable. In case of any queries or suggestions do leave us your feedback and our team will guide you at the soonest possibility. Bookmark our site to avail latest updates on several state board Solutions at your fingertips.

Bihar Board Class 11 Political Science Solutions Chapter 7 राष्ट्रवाद

   

Bihar Board Class 11 Political Science Solutions Chapter 7 राष्ट्रवाद Textbook Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 11 Political Science Solutions Chapter 7 राष्ट्रवाद

Bihar Board Class 11 Political Science राष्ट्रवाद Textbook Questions and Answers

राष्ट्रवाद के प्रश्न उत्तर Bihar Board प्रश्न 1.
राष्ट्र किस प्रकार से बाकी सामूहिक सम्बद्धताओं से अलग है?
उत्तर:
मानव एक सामाजिक प्राणी है। ऐसा प्रकृति के कारण है। व्यक्ति अपना जीवन समूह में व्यतीत करता है। उसका ऐसा पहला समूह परिवार था, जब उसने अपना जीवन व्यतीत किया। परिवार से वह विभिन्न संघों और समाज के सम्पर्क में आया। संघ के पश्चात् राज्य और बाद में देश बना। राज्य सर्वाधिक अनुशासित और संगठित संस्था है। राज्य संगठित एवं अनुशासित है, क्योंकि इसके पास प्रभुसत्ता होती है, अर्थात् नागरिकों एवं विषयों के ऊपर राज्य एक उच्च शक्ति है। इन सभी समूहों में राष्ट्र का सामूहिक संगठन का आधार अन्य की तुलना में भिन्न होता है।

परिवार का आधार रक्त सम्बन्ध होता है। समाज का आधार लोगों का एक दूसरे पर आश्रित होना है और संघ का आधार निश्चित उद्देश्यों को प्राप्त करना है। ये सभी सामाजिक समूह लोगों के समूह हैं। राष्ट्र के संगठन का आधार राष्ट्रीयता होती है, जो समान जाति, समान इतिहास, समान संस्कृति, समान नैतिकता, समान विश्वास और समान भूगोल के लोगों का समूह होता है। राष्ट्रीयता देशभक्ति की भावना को जागृत करती है। विभिन्न तत्वों के समान राष्ट्रीयता के कारण उनके भावी स्वप्न भी समान होते हैं। इस प्रकार राष्ट्र अन्य सामाजिक समूहों से भिन्न होता है।

राष्ट्रवाद पाठ के प्रश्न उत्तर Bihar Board प्रश्न 2.
राष्ट्रीय आत्म-निर्णय के अधिकार से आप क्या समझते हैं? किस प्रकार यह: विचार राष्ट्र-राज्यों के निर्माण और उनको मिल रही चुनौती में परिणत होता है?
उत्तर:
आत्म-निर्णय का सिद्धान्त समाज की लोकतान्त्रिक और धर्मनिरपेक्षता पर आधारित है। आत्म-निर्णय के सिद्धान्त को प्रथम विश्व युद्ध के समय संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति ने प्रस्तुत किया था। आत्म-निर्णय के सिद्धान्त का तात्पर्य है कि प्रत्येक सामाजिक और सांस्कृतिक समूह या समान संस्कृति और भूगोल के लोगों.की पसन्द के कानून को चुनने का अधिकार होना चाहिए।

इसका यह भी मतलब है एक सामाजिक समूह को नियन्त्रण करने वाले कानून को सामाजिक समूहों के सामाजिक, सांस्कृतिक, भाषा सम्बन्धी क्षेत्रीय और भौगोलिक आकांक्षाओं को प्रकट करना चाहिए, जिसके लिए कानून बनाया जाता है। अधिकार के द्वारा राष्ट्र अपने आपको नियन्त्रित रखते हैं और अपने भावी विकास का निर्धारण करते हैं। इस प्रकार के आवश्यकताओं के निर्माण में राष्ट्र एक स्पष्ट राजनीतिक पहचान के रूप में अपने स्तर के अन्तर्राष्ट्रीय समुदाय के द्वारा अपनी पहचान और स्वीकृति चाहते हैं।

इस प्रकार की अधिकांश माँगें. लोगों द्वारा हुई हैं, जो एक विशिष्ट स्थान पर लम्बे समय से एक साथ रहते हैं और जिन्होंने समान पहचान का दृष्टिकोण विकसित किया है। इस अधिकार ने एक ओर लोगों के आत्मविश्वास को राज्य के कार्यों में बढ़ाया है और उनके विकास को सुनिश्चित किया था। परन्तु इसी समय इस अधिकार ने राज्य व्यवस्था के लिए चुनौतियों को पेश की है और उससे अलगाव की प्रवृत्तियाँ उत्पन्न हो रही हैं। इस प्रकार इस अधिकार ने जन-विरोधी स्थिति को उत्पन्न किया है। विशेष रूप से एकीकरण की स्थिति में मुश्किलें बढ़ जाती हैं।

संयुक्त सोवियत रूस का पतन 15 राष्ट्र राज्यों में आत्म निर्णय के अधिकार की स्वीकृति के कारण हुआ। चूँकि अधिकांश समाज बहुदलीय और विरोधी हैं। प्रत्येक राज्य अल्प राष्ट्रीयता की समस्या का समाना कर रहे हैं। उदाहरण के लिए इस सन्दर्भ में श्रीलंका का नाम लिया जा सकता है, जहाँ एल.टी.टी.ई. अलग राज्य की माँग कर रहा है। इसी प्रकार भारत में भी आतंकवादी गुटों की यही माँग है। यह राष्ट्र राज्य के रूप में जम्मू कश्मीर की है। इसका समाधान राष्ट्रीय हितों और स्थानीय, क्षेत्रीय और सामाजिक हितों के बीच समझौता और समर्थन है।

राष्ट्रवाद के प्रश्न उत्तर कक्षा 11 Bihar Board प्रश्न 3.
हम देख चुके हैं कि राष्ट्रवाद लोगों को जोड़ भी सकता है और तोड़ भी सकता है। उन्हें मुक्त कर सकता है और उनमें कटुता और संघर्ष भी पैदा कर सकता है। उदाहरणों के साथ उत्तर दीजिए।
उत्तर:
राष्ट्रीयता व्यक्ति की वहं भावना है, जो राष्ट्रीय हित, राष्ट्रीय महत्त्व, राष्ट्रीय सम्मान और त्याग की भावना से सम्बद्ध है। राष्ट्रीय भावना से एक व्यक्ति अपने निजी, क्षेत्रीय, भाविक और अन्य हित के कार्य राष्ट्र के लिए और उसके सम्मान में करता है। राष्ट्रवाद समान राष्ट्रीयता के लोगों में उत्पन्न किया जाता है अर्थात् यह समान संस्कृति, जाति, इतिहास, रहन-सहन और भूगोल के लोगों का समूह है। यह एक व्यक्ति के राष्ट्र के प्रति महत्त्व की जागरुकता का परिणाम है। वह राष्ट्रीय इतिहास और गौरव के प्रति भी चैतन्य रहता है। आज राष्ट्रवाद देशभक्ति से जुड़ा हुआ है अर्थात् इससे देश के लिए त्याग और प्रेम की भावना उत्पन्न होती है।

राष्ट्रवाद एक संवेगात्मक और मनोवैज्ञानिक अवधारणा है, जो भूमि, झंडा और गाने को गौरवान्वित अवधारणा है, राष्ट्रभूमि को ‘माँ’ के रूप में जाना जाता है अर्थात् यह मातृभूमि है और यह माना जाता है कि माँ द्वारा प्रदत्त यहाँ सब कुछ है। इस प्रकार मातृभूमि ही देश है। इतिहास ऐसे अनेक उदाहरणों से भरा पड़ा है, जिनसे पता चलता है कि एक राष्ट्र और उनके लोग औपनिवेशिक और साम्राज्यवादी ताकतों के शोषण से किस प्रकार मुक्त हुए।

19 वीं और 20 वीं शताब्दी में अनेक एशियाई और अफ्रीकी देश राष्ट्रवाद के फलस्वरूप ही आजाद हुए। सकारात्मक दृष्टिकोण से राष्ट्रवाद एक धर्म है। परन्तु जब यह चरमोत्कर्ष पर होता है, तो यह मानवता के लिए हानिकारक होता है। इसका चरमोत्कर्ष और नकारात्मक रूप को अति राष्ट्रवाद (challanism) कहा जाता है। अनेक दर्शन हैं, जिनका विकास चरमोत्कर्ष राष्ट्रवाद के आधार पर हुआ है। जर्मनी में नाजीवादी और इटली में फांसीवादी दर्शन का जन्म हुआ, जिनसे निम्नता और सर्वोच्चता की भावना का जन्म हुआ। फलस्वरूप कटुता, आतंकवाद और युद्धों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी।

राजनीतिक सिद्धांत पाठ 7 के प्रश्न उत्तर Bihar Board प्रश्न 4.
वंश, भाषा, धर्म या नस्ल में से कोई भी पूरे विश्व में राष्ट्रवाद के लिए सांझा कारण होने का दावा नहीं कर सकता। टिप्पणी कीजिए।
उत्तर:
राष्ट्रीयता की भावना के विकास में निम्नलिखित कारक उत्तरदायी हैं –
1. समान विश्वास:
राष्ट्रवाद की भावना उस समय उत्पन्न होती है, जब लोगों में एक होकर रहने की भावना हो और वे एकसाथ तभी रह सकते हैं, जब उनमें आपस में विश्वास हो। जब टीम में सामूहिकता की भावना होती है, तब उनके उद्देश्य और आकांक्षाएँ समान होती हैं।

2. समान इतिहास:
जब लोगों के सुख-दुःख, विजय-पराजय, लाभ-हानि, युद्ध-शान्ति, अहिंसा-हिंसा का इतिहास समान होता है, तब एकता की भावना का विकास होता है, जो राष्ट्रवाद के लिए आवश्यक है। जब लोग अपने स्वयं का इतिहास का निर्माण करते हैं, तो उनमें राष्ट्रवादी भावना बढ़ने लगती है।

वे ऐतिहासिक साक्ष्यों का प्रयोग राष्ट्रीयता के भावना को बढ़ाने के लिए करते हैं। भारत का एक सभ्यता के रूप में लम्बा और गौरवपूर्ण इतिहास है, जो भारत का देश के रूप में आधार है और भारत में राष्ट्रीयता को बढ़ाने का साधन है। पं. जवाहर लाल नेहरू ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ‘भारत एक खोज’ (Discovery of India) में भारतीय सभ्यता का गौरवपूर्ण इतिहास प्रस्तुत किया है।

3. समान भू-भाग:
समान भू-भाग एक अन्य महत्त्वपूर्ण कारक है, जो राष्ट्रवाद को बढ़ावा देता है। भू-भाग किसी देश की भूमि का हिस्सा होता है, जो संवेगी और आध्यात्मिक होता है, जो लोगों को एक साथ जोड़े रखता है और उनमें राष्ट्रीय भावना और राष्ट्रवाद का विकास करता है।

4. समान भावी आकांक्षाएँ:
समान भावी आकांक्षाएँ लोगों में एकता स्थापित करती हैं और राष्ट्रवाद की भावना उत्पन्न करती हैं। भविष्य के समान स्वप्न और सामूहिक सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक आकांक्षाएँ भविष्य में लोगों को एक रखती हैं। समान भावी आकांक्षाएँ देश के कार्य और राष्ट्रवाद के कार्य में सहयोग करती हैं। ये नागरिक के गुणों में वृद्धि करती हैं और इच्छा शक्ति को मजबूत करती हैं। उदाहरण के लिए पी.एल.ओ.।

5. समान संस्कृति:
राष्ट्रवाद लाने और बढ़ाने के लिए एक अन्य महत्त्वपूर्ण कारक समान संस्कृति है। समान संस्कृति में समान परम्पराओं, त्योहारों, इतिहास, भूगोल, भाषा आदि शामिल हैं, जो सामान्य हितों और उद्देश्यों को बढ़ावा देती हैं, जिससे राष्ट्रीयता की भावना का विकास होता है।

राष्ट्रवाद कक्षा 11 Bihar Board प्रश्न 5.
राष्ट्रवादी भावनाओं को प्रेरित करने वाले कारकों पर सोदाहरण रोशनी डालिए।
उत्तर:
लोकतन्त्र एक सरकारी व्यवस्था है, जो समानता, बहुलवाद, उदारवाद और धर्मनिरपेक्षता पर आधारित है। राष्ट्रवाद निश्चित रूप से एक सकारात्मक भावना है। परन्तु जब राष्ट्रवाद पराकाष्ठा पर पहुँच जाता है, तो यह नकारात्मक हो जाता है, तब यह समाज के लिए खतरनाक और हानिकारक हो जाता है।

चरमोत्कर्ष राष्ट्रवाद अनैच्छिक है, क्योंकि चरमोत्कर्ष राष्ट्रवादी व्यक्ति दूसरे लोगों के धर्म क्षेत्र, संस्कृति, भाषा आदि को हानि पहुँचाता है और इससे असहिष्णुता की भावना बढ़ती है। पराकाष्ठा की देशभक्ति एक नकारात्मक भावना है और किसी भी समाज के लिए अनैच्छिक और हानिकारक है। इससे दूसरे क्षेत्र, धर्म, संस्कृति और राष्ट्रीयता के लोगों में असहिष्णुता की भावना बढ़ती है। इसलिए ऐसे राष्ट्रवाद जो चरमोत्कर्ष पर और जो नकारात्मक हो, रोकने का उपाय होना चाहिए। निम्नलिखित मुख्य कारक हैं, जो अति राष्ट्रवाद को सीमित करते हैं –

1. लोकतन्त्रता:
लोकतन्त्र, समानता, न्याय, सहनशीलता और मानव मूल्यों पर आधारित होता है, जो किसी भी प्रकार के उग्रवाद पर रोक लगाता है। प्रजातन्त्र में उग्रवाद का कोई स्थान नहीं है। इस प्रकार लोकतन्त्र एक बड़ा कारक है, जो राष्ट्रवाद को सीमित करता है।

2. धर्मनिरपेक्षता:
धर्म निरपेक्षता एक अन्य महत्त्वपूर्ण कारक है, जो अनैच्छिक राष्ट्रवाद पर रोक लगाता है। धर्म निरपेक्षता विभिन्न धर्म, विश्वास और संस्कृति के लोगों को शान्ति का पाठ सिखाता है। यह सह-अस्तित्व पर भी जोर देता है।

3. बहुलवाद:
बहुलवाद वह विचारधारा है, जो विरोधी समाज को जोड़ता है। यह इस दृष्टि से भी महत्त्वपूर्ण है कि यह राष्ट्रवाद को सीमित करता है।

4. अन्तर्राष्ट्रीयवाद:
यह विचारधारा भी अति राष्ट्रवाद को रोकता है।

कक्षा 11 राष्ट्रवाद पाठ के प्रश्न उत्तर Bihar Board प्रश्न 6.
आपकी राय में राष्ट्रवाद की सीमाएँ क्या हैं?
उत्तर:
प्रशासकीय व विकास की दृष्टि का होना आवश्यक है। इसमें विभिन्न संस्कृतियाँ और समुदाय हों, जिसमें सभी अल्पसंख्यक अपने आपको सुरक्षित व गौरवान्वित महसूस करें। एक राष्ट्र की सीमाएँ प्रशासन व विकास की दृष्टि से तय होनी चाहिए। राष्ट्रवाद को मानवता पर हावी नहीं होने देना चाहिए। समूहों की पहचान देने में काफी सतर्कता बरती जाती है। लेकिन इन समूहों को राष्ट्र के रूप में स्वीकार करने से पहले यह देख लें कि वे समूह असहिष्णु तो नहीं हैं।

वे अमानवीय नहीं हैं और वे समूह दूसरे समूहों के साथ सहयोग करते हैं। एक राष्ट्र का अपना एक अतीत होता है, जो भविष्य को समेटे होता है। एक राष्ट्र की पहचान उसके भौगोलिक क्षेत्र, राजनीतिक आदर्श, राजनीतिक पहचान से जुड़ी हुई है। समूहों से अलग राष्ट्र अपना शासन अपने आप करने और भविष्य को तय करने का अधिकार चाहता है। लेकिन राष्ट्रीय आत्म-निर्णय का अधिकार ऐसे राज्यों के निर्माण की ओर ले जा सकता है, जो आर्थिक व राजनीतिक क्षमता में काफी छोटे हों और इससे उनकी समस्याएँ और बढ़ सकती हैं। इस प्रकार से हमें सहिष्णुता और विभिन्न रूपों के साथ सहानुभूति होनी चाहिए।

Bihar Board Class 11 Political Science राष्ट्रवाद Additional Important Questions and Answers

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

राजनीतिक सिद्धांत राष्ट्रवाद के प्रश्न उत्तर Bihar Board प्रश्न 1.
राष्ट्रीयता के दो तत्त्वों का उल्लेख कीजिए। (Explain the two elements of nationality)
उत्तर:
राष्ट्रीयता के दो महत्त्वपूर्ण तत्त्व निम्नलिखित हैं –

1. भौगोलिक एकता:
प्रत्येक व्यक्ति अपनी मातृभूमि के प्रति जुड़ा रहता है, जहाँ वह जन्म लेता है। जिस भूखण्ड पर अन्य व्यक्तियों के साथ-साथ वह रहता है उसको अपनी मातृभूमि से लगाव हो जाता है। इजरायल बनने से पूर्व यहूदी पूरी दुनिया में बिखरे हुए थे किन्तु उनके मन में इजराइल के प्रति लगाव था।

2. प्रजातीय शुद्धता:
एक ही प्रजाति के लोग एक राष्ट्रीयता को उत्पन्न करते हैं। परन्तु आजकल प्रवास एवं अन्तर्जातीय विवाह के कारण विशुद्ध प्रजाति का मिलना आसान नहीं है।

राष्ट्रवाद पाठ के प्रश्न उत्तर क्लास 11 Bihar Board प्रश्न 2.
आर्थिक पारस्परिक निर्भरता से क्या अभिप्राय है? (What do you mean by economic inter-dependent?)
उत्तर:
आर्थिक क्षेत्र में आज राष्ट्र-राज्यों की पारस्परिक निर्भरता बढ़ रही है। अर्थव्यवस्थाओं की बढ़ती हुई पारस्परिक निर्भरता ने अन्तर्राष्ट्रीय समुदाय के सम्मुख गम्भीर चुनौतियाँ पैदा की हैं। विश्व के अधिक भागों में बढ़ती गरीबी, अप्रयुक्त मानव संसाधन, पर्यावरण के खतरों के प्रति बढ़ती जागरुकता तथा मानव जाति के अस्तित्व की समस्या जैसे मामले इसमें प्रमुख हैं। आज विश्व आर्थिक रूप में एकजुट हो गया है। सुदृढ़ भूमण्डलीय मंच स्थापित करने का अब समय आ गया है।

Rashtravad Class 11 Question Answer Bihar Board प्रश्न 3.
भारत के आर्थिक एकीकरण ने किस प्रकार राष्ट्रवाद को प्रोत्साहित किया? (How did the economic integration influenced the nationalism)
उत्तर:
आर्थिक एकीकरण के कारण गाँवों का एकान्त जीवन समाप्त हो गया तथा ग्रामीण लोग शहरों में आने लगे। शहरों में कच्चा माल आने लगा। गाँव के शिल्पकार तथा अन्य लोर मजदूरी एवं रोजगार की तलाश में शहरों में आने लगे। शहरों की राष्ट्रीय चेतना गाँवों में पहुंचने लगी। इससे राष्ट्रवाद को प्रोत्साहन मिला।

Rashtravad Question Answer Class 11 Bihar Board प्रश्न 4.
निम्नलिखित के बारे में बताइए कि क्या वे राज्य हैं? यदि हाँ तो कैसे और नहीं तो कैसे? (Are the following state? Why?)
(क) भारत
(ख) संयुक्त राष्ट्र
(ग) बिहार
(घ) संयुक्त राज्य अमेरिका
उत्तर:
(क) हाँ, भारत एक राज्य है, क्योंकि यह सम्प्रभु है।
(ख) नहीं, संयुक्त राष्ट्र एक राज्य नहीं है, क्योंकि यह तो सम्प्रभु राज्यों का संघ है।
(ग) बिहार भी राज्य नहीं है। यह भारतीय संघ की एक इकाई है।
(घ) संयुक्त राज्य अमेरिका राज्य है, क्योंकि यह सम्प्रभु है।

राष्ट्रवाद पाठ के प्रश्न उत्तर कक्षा 11 Bihar Board प्रश्न 5.
राज्य के कोई दो तत्त्व लिखिए। (Describe any two elements of a State) अथवा, राज्य के चार आवश्यक तत्त्व कौन से हैं? (What are the 4 elements of a state?)
उत्तर:
राज्य के निम्नलिखित तत्त्व होते हैं –

  1. जनसंख्या
  2. निश्चित प्रदेश
  3. सरकार
  4. सम्प्रभुता

प्रश्न 6.
राज्य और समाज के अन्तर के किन्हीं दो बिन्दुओं को बताइए। (Give two points of the difference between state and society)
उत्तर:
राज्य और समाज के बीच अन्तर –

  1. राज्य व्यक्ति के केवल बाह्य आचरण को नियन्त्रित करता है। परन्तु समाज व्यक्ति के सभी प्रकार के सामाजिक सम्बन्धों को नियन्त्रित करता है।
  2. राज्य एक अनिवार्य संगठन है, जबकि समाज ऐच्छिक है। राज्य की सदस्यता अनिवार्य है। व्यक्ति किसी न किसी राज्य का सदस्य जीवनपर्यन्त रहता है। परन्तु समाज का सदस्य बनना व्यक्ति की इच्छा पर निर्भर है।

प्रश्न 7.
राष्ट्र राज्य का अर्थ बताइए। (Give the meaning of the nation-state)
उत्तर:
राष्ट्र राज्य एक ऐसा राज्य होता है, जो राष्ट्रीयता से बना है। जब व्यक्ति सामान्य धर्म सामान्य भाषा अथवा सामान्य विरासत में बँधा होता है, तो वह एक राष्ट्र होता है। यदि वे एक स्वतन्त्र राज्य का स्वरूप धारण कर लेते हैं, तो वे एक राष्ट्र-राज्य का निर्माण करते हैं। एशिया, अफ्रीका व लैटिन अमरीका में साम्राज्यवादी शक्तियों के विरुद्ध जारी राष्ट्रीय मुक्ति आन्दोलन के परिणामस्वरूप राष्ट्र-राज्य अस्तित्व में आए।

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
राष्ट्र-राज्य से क्या अभिप्राय है? इनके विकास में सहायक तत्त्वों का विवेचन कीजिए। (What do you mean by Nation-State? Discuss the helping elements of its development)
उत्तर:
राष्ट्र-राज्य:
राष्ट्र का स्वरूप शताब्दियों तक विकसित हुआ। राष्ट्र-राज्यों ने क्षेत्र राज्यों का स्थान ले लिया है। राष्ट्र-राज्य आपस में संघर्ष तथा सहयोग के द्वारा बँधे रहते हैं। राष्ट्र-राज्य प्रणाली राजनीतिक जीवन का एक ऐसा नमूना है, जिसमें जनता अलग-अलग सम्प्रभु राज्यों के रूप में संगठित होती है। राष्ट्र-राज्य का क्षेत्र उसमें निवास करने वाली जनसंख्या का है, किसी अन्य का नहीं। उस राज्य को राष्ट्र-राज्य नहीं कहा जा सकता, जो किसी अन्य राज्य की परिसीमा का उल्लंघन करके राष्ट्र-राज्य बनने का प्रयत्न करे।

राष्ट्र राज्य का विकास-आधुनिक राष्ट्र:
राज्य जिन्होंने इंग्लैण्ड, फ्रांस व अमरीका आदि में हुई औद्योगिक क्रान्तियों की विजय के पश्चात् सामंतशाही का स्थान लिया, नए पूँजीवादी वर्ग के राजनैतिक संगठन हैं। बीसवीं शताब्दी में एशिया, अफ्रीका व लैटिन अमरीका में साम्राज्यवादी शक्तियों के विरुद्ध जारी राष्ट्रीय मुक्ति आन्दोलनों के परिणामस्वरूप राष्ट्र-राज्य अस्तित्व में आए।

राष्ट्र-राज्य प्रणाली को प्रोत्साहित करने वाले सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण तत्त्व इस प्रकार हैं –

  1. रोमन साम्राज्य व पवित्र रोमन साम्राज्य का विखण्डन तथा सामंतवाद का अन्त।
  2. भूक्षेत्र, जनसंख्या, प्रभुसत्ता व कानून पर आधारित राष्ट्र-राज्यों का उदय।
  3. मेकियावेली, वोदां, ग्रोशियश, हाब्स, अल्यूशियस तथा अन्य विचारकों का सैद्धान्तिक व बौद्धिक योगदान।

प्रश्न 2.
ऐसे किन्हीं पाँच कारकों की व्याख्या कीजिए, जिन्होंने भारत में राष्ट्रवाद को विदेशी आधिपत्य के विरुद्ध चुनौती के रूप में प्रोत्साहित किया? (Explain any five factors which influenced the challenges against foreign rule)
उत्तर:
भारत में राष्ट्रवाद को बढ़ावा देने वाले पाँच कारक –
1. विदेशी प्रभुत्व के परिणाम:
भारत में राष्ट्रवाद के उदय में सर्वप्रथम विदेशी पभुत्व ने योगदान दिया। स्वयं ब्रिटिश शासन की परिस्थितयों ने भारतीय जनता में राष्ट्रीय भावना विकसित करने में सहायता दी।

2. देश का प्रशासकीय और आर्थिक एकीकरण:
19 वीं और 20 वीं शताब्दी में भारत का एकीकरण हो चुका था और वह एक राष्ट्र के रूप में उभर चुका था। इसलिए भारतीय जनता में राष्ट्रीय भावनाओं का विकास आसानी से हुआ।

3. पश्चिमी विचार और शिक्षा:
उन्नीसवीं सदी में आधुनिक पाश्चात्य शिक्षा और विचारधाराओं के प्रसाद के फलस्वरूप बड़ी संख्या में भारतीयों ने एक आधुनिक बुद्धिसंगत, धर्मनिरपेक्ष, जनतान्त्रिक तथा राष्ट्रवादी राजनीतिक दृष्टिकोण अपनाया।

4. प्रेस तथा साहित्य की भूमिका:
वह प्रमुख साधन प्रेस था, जिसके द्वारा राष्ट्रवादी भारतीयों ने देश-भक्ती की भावनाओं का, आधुनिक, आर्थिक-सामाजिक, राजनीतिक विचारों का प्रचार किया तथा एक अखिल भारतीय चेतना जगाई।

5. सामाजिक व धार्मिक सुधार आन्दोलन:
19 वीं शताब्दी में भारत में सामाजिक व धार्मिक कुरीतियों के विरुद्ध जो अनेक सुधार आन्दोलन चलाये थे, उन्होंने भारतीय जनता में राष्ट्रीयता की भावना उत्पन्न करने में बड़ा योगदान दिया। इन आन्दोलनों ने लोगों को विदेशी शासन के कुप्रभावों और अंग्रेजों द्वारा किए जा रहे आर्थिक शोषण से भी अवगत कराया।

प्रश्न 3.
राज्य तथा संघ में कोई तीन अन्तर बताइए। (Explain any three points of difference between state and association)
उत्तर:
संघ वह संगठन होता है, जिसका निर्माण मनुष्यों के द्वारा किसी विशेष लक्ष्य की प्राप्ति के लिए किया जाता है। राज्य और संघ में निम्नलिखित अन्तर पाये जाते हैं –

1. सदस्यता का भेद (Membership):
राज्य की सदस्यता प्रत्येक व्यक्ति के लिए अनिवार्य होती है। जन्म से लेकर मृत्यु तक व्यक्ति किसी न किसी राज्य का सदस्य होता है किन्तु संघ की सदस्यता ऐच्छिक होती है। एक व्यक्ति एक समय में केवल एक ही राज्य का सदस्य हो सकता है। परन्तु वह एक समय पर अनेक संघों का सदस्य हो सकता है।

2. प्रदेश का भेद (Territory):
राज्य प्रादेशिक रूप में संगठित संघ होता है और इसका. क्षेत्र पूर्णतया निश्चित होता है। परन्तु संघ का कोई निश्चित क्षेत्र नहीं होता। रेड-क्रास सोसायटी एक ऐसा संघ है, जिसका क्षेत्र अन्तर्राष्ट्रीय है। दूसरी ओर अत्यन्त सीमित क्षेत्र वाले छोटे-छोटे संघ भी होते हैं।

3. अवधि का भेद (Tenure):
राज्य एक स्थायी संघ होता है। परन्तु संघ अधिकांशतः अल्पकालीन होते हैं।

प्रश्न 4.
राज्य और समाज में अन्तर समझाइए। (Explain the difference between state and society)
उत्तर:

  1. राज्य समाज का एक भाग है। समाज व्यक्तियों के सामाजिक सम्बन्धों का जाल होता है, जबकि राज्य व्यक्तियों का एक राजनीतिक संगठन है।
  2. समाज व्यक्ति के सभी प्रकार के सामाजिक आचरण को नियन्त्रित करता है। परन्तु राज्य व्यक्ति के केवल बाहरी सम्बन्धों को ही नियन्त्रित करता है।
  3. राज्य एक अनिवार्य संगठन है, जबकि समाज ऐच्छिक है।
  4. राज्य एक प्रादेशिक संगठन है, जबकि समाज किसी प्रकार की भौगोलिक सीमाओं में बँधा हुआ नहीं होता। वह स्थानीय, राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय हो सकता है।
  5. राज्य एक कृत्रिम संगठन है। परन्तु समाज की प्रकृति स्वाभाविक होती है।
  6. राज्य के निर्धारित विधान होते हैं, जिन्हें कानून कहा जाता है। कानून के उल्लंघन पर राज्य दण्ड देता है। समाज के अपने कायदे कानून होते हैं, जिनके उल्लंघन पर सामाजिक निर्वासन का प्रावधान होता है। इसका अर्थ है कि तब व्यक्ति को समाज से बाहर कर दिया जाता है।

प्रश्न 5.
राष्ट्रवाद के प्रमुख तत्त्वों की संक्षेप में विवेचना कीजिए। (Write short note on the main elements of Nationalism)
उत्तर:
राष्ट्रवाद के तीन मुख्य तत्त्व हैं –

  1. सम्प्रभुता
  2. क्षेत्रीय अखण्डता
  3. राज्यों की वैधानिक समानता

1. सम्प्रभुता (Sovereignty):
सम्प्रभुता का अर्थ है कि आधुनिक राष्ट्र राज्य पूर्ण रूप से स्वतन्त्र हैं। सम्प्रभु राज्य ही परस्पर दूसरे राज्यों के साथ सन्धि बनाने का अधिकार रखते हैं। सम्प्रभुता विहीन राजनीतिक इकाई को इस प्रकार संधि करने का अधिकार नहीं होता। वे अन्तर्राष्ट्रीय संगठनों का सदस्य भी नहीं बन सकते।

2. क्षेत्रीय अखण्डता (Territorial Integrity):
सम्प्रभु राज्यों को अपने भू-क्षेत्र के अन्तर्गत सर्वोच्च असीमित सत्ता प्राप्त होती है। इस पर कोई बाहरी नियन्त्रण नहीं होता। सम्प्रभुता विहीन राजनैतिक इकाई का अन्य राज्यों में कोई स्थान नहीं है। राष्ट्र-राज्य प्रणाली की यह विशेषता प्रथम विशेषता का तार्किक परिणाम है। राज्यों की सीमाओं की रक्षा हर दशा में होनी ही चाहिए।

3. राज्यों की वैधानिक समानता (Legal Equality):
सभी राष्ट्र-राज्य अन्तर्राष्ट्रीय बिरादरी के समान सदस्य हैं चाहे उनके आकार, जनसंख्या, आर्थिक संसाधन, दैनिक क्षमता आदि कितने भी असमान हों। यहाँ यह बात स्मरणीय है कि सभी स्वतन्त्र राज्यों की समानता का यह सिद्धान्त लगभग उसी समय अपनाया गया जब राष्ट्र-गान अस्तित्व में आया। 18 वीं शताब्दी के अनेक लेखकों ने भी राज्यों के समानता के सिद्धान्त का समर्थन किया।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
राज्य तथा समाज में क्या अन्तर है? दोनों किन बिन्दुओं पर परस्पर निर्भर करते हैं?
उत्तर:
राज्य और समाज के विषय में कभी-कभी कुछ लोग भ्रमित हो जाते हैं और दोनों को एक समझने लगते हैं। वास्तव में दोनों में अन्तर है। अरस्तु ने राज्य तथा समाज के बीच भेद किया था, किन्तु एक तानाशाह के लिए दोनों में से कोई भेद नहीं होता। भौगोलिक दृष्टि में दोनों (राज्य तथा समाज) प्रायः एक ही भू-भाग में स्थित होते हैं, किन्तु दोनों की उत्पत्ति, उद्देश्यों और कार्य प्रणाली में अन्तर होता है। राज्य समाज में निम्नलिखित अन्तर होता है –

1. उत्पत्ति का भेद (Origin):
व्यक्तियों के बीच पाये जाने वाले सम्बन्धों को सामूहिक रूप से समाज कहा जाता है। ये सम्बन्ध संगठित अथवा असंगठित होते हैं। परन्तु राज्य का निर्माण राजनीतिक रूप से संगठित सम्बन्धों के आधार पर ही होता है। समाज राज्य से प्राचीन है। राज्य का अस्तित्व एक समाज में ही सम्भव है।

2. प्रदेश का अन्तर (Territory):
समाज के लिए निश्चित प्रदेश आवश्यक नहीं होता। परन्तु राज्य के लिए आवश्यक है। इसके बिना राज्य की कल्पना नहीं की जा सकती। परन्तु समाज के लिए निश्चित क्षेत्र या प्रदेश होना आवश्यक नहीं है। यह स्थानीय भी हो सकता है और अन्तर्राष्ट्रीय भी।

3. लक्ष्य का भेद (Aims):
लक्ष्य की दृष्टि से समाज व्यापक लक्ष्यों वाला तथा राज्य अपेक्षाकृत संकुचित लक्ष्यों वाला संगठन है। राज्य का अस्तित्व एक महान किन्तु एक ही लक्ष्य के लिए संगठित है। समाज का अस्तित्व अनेक लक्ष्यों के लिए है, जिसमें कुछ महान तथा कुछ साधारण होते हैं।

4. सम्प्रभुता का भेद (Sovereignty):
राज्य एक प्रभुत्व सम्पन्न संस्था है, जबकि समाज केवल नैतिक बल के आधार पर ही अपने आदेशों का पालन करा सकता है।

5. कार्यक्षेत्र का भेद (Scope):
कार्य क्षेत्र की दृष्टि से भी राज्य समाज की तुलना में बहुत सीमित है। सामाजिक जीवन के अनेक ऐसे पहलू हैं, जिनका न तो राज्य से कोई सम्बन्ध है और न ही जिनमें राज्य सफलतापूर्वक हस्तक्षेप कर सकता है। राज्य व्यक्तियों के केवल बाहरी कार्यों से ही सम्बन्ध रखता है और मानव जीवन के सहयोग, सहानुभूति, सेवा और प्रेम जैसे गुणों से उसका कोई सम्बन्ध नहीं होता किन्तु समाज मानव जीवन के प्रत्येक पहलू (आन्तरिक एवं बाहरी सभी प्रकार) से सम्बन्ध रखता है।

राज्य और समाज की परस्पर निर्भरता (Inter dependence of State and Society):
राज्य और समाज में उपरोक्त भेद होते हुए भी परस्पर आन्तरिक आत्मनिर्भता होती है। सामाजिक संरचना को ध्यान में रखकर ही राज्य द्वारा कानूनों का निर्माण किया जाता है। सामाजिक एवं राजकीय नियमों के आधार पर ही सामाजिक आचरण को नियमित रखना सम्भव होता है। समाज और राज्य एक दूसरे पर निर्भर है। बार्कर का कहना है कि यदि ऐसा न होता तो राज्य की स्थापना ही नहीं हो सकती थी।

प्रश्न 2.
राष्ट्र की परिभाषा दीजिए। इसके मुख्य तत्त्वों का वर्णन कीजिए। (Define Nation What are its main elements)
उत्तर:
राष्ट्र (Nation) शब्द की व्युत्पत्ति लैटिन भाषा के ‘नेट्स’ (Natus) शब्द से हुई जिसका अर्थ होता है ‘पैदा हुआ’। इसका तात्पर्य यह है कि राष्ट्र उन व्यक्तियों से बना है, जो किसी एक विशेष प्रजाति में पैदा हुए लोगों से बना है। परन्तु आज के युग में प्रजातियों के प्रवासीकरण तथा अन्तर्जातीय विवाहों के कारण कोई विशुद्ध प्रजाति नहीं बची है। रामजे मूर के अनुसार, “राष्ट्र व्यक्ति के शरीर की भाँति होता है, जिसमें हर अंग सौहार्द्रपूर्ण, ढंग से एक दूसरे के साथ जुड़े होते हैं तथा शरीर को मजबूत बनाते हैं। इसी प्रकार राष्ट्र में रहने वाले व्यक्ति भी यदि आपसी सौहार्द्र तथा सहभागिता का त्याग कर दें, तो राष्ट्र का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा।”

राष्ट्र का निर्माण राज्य और राष्ट्रीयता से होता है। बर्गेस के अनुसार, “राष्ट्र जातीय एकता के सूत्र में बंधी हुई वह जनता है, जो किसी अखण्ड भौतिक प्रदेश पर निवास करती हो।” जातीय एकता से उनका अभिप्राय ऐसी आबादी से है, जिसकी एक सामान्य भाषा और साहित्य, सामान्य परम्परा और इतिहास, सामान्य रीति-रिवाज तथा उचित और अनुचित की सामान्य चेतना हो। वास्तव में राष्ट्र ऐसे लोगों का समूह है, जो घनिष्ठता, अभिन्नता और प्रतिष्ठा की दृष्टि से संगठित है और एक मातृभूमि से सम्बन्धित है। हेज (Hayes) ने कहा है, “राष्ट्रीयता राजनीतिक एकता तथा सत्ताधारी स्वतन्त्रता को प्राप्त करके राष्ट्र बन जाती है।”

राष्ट्र के मुख्य तत्त्व:

1. प्रजातीय शुद्धता (Racial Purity):
प्रजातीय शुद्धता का अर्थ है कि एक ही समुदाय के सदस्यों की शुद्धता हो। आजकल प्रवास एवं अन्तर्जातीय विवाहों के कारण कहीं भी प्रजातीय शुद्धता प्राप्त करना आसान नहीं है।

2. भाषा समुदाय (Linguistic Association):
सामान्यतः किसी भी राष्ट्र के नागरिकों की एक आम भाषा होती है, क्योंकि इसी के माध्यम से वे अपने विचार तथा संस्कृति का परस्पर आदान-प्रदान करते हैं।

3. भौगोलिक संलग्नता (Geographical Attachment):
प्रत्येक व्यक्ति अपनी मातृभूमि से जुड़ा रहता है। इजराइल बनने से पूर्व यहूदी पूरी दुनिया में बिखरे हुए थे, किन्तु उनके मन में इजराइल के प्रति ही लगाव था।

4. धार्मिक समुदाय (Religious Association):
पहले राष्ट्र के निर्माण में धार्मिक भावनाओं की मुख्य भूमिका हुआ करती थी। उदाहरण के लिए प्रोटेस्टेंट का विरोध करने पर ब्रिटेन तथा स्पेन के बीच युद्ध छिड़ गया था। परन्तु आजकल धर्मनिरपेक्ष राष्ट्रों के निर्माण का बोलबाला है अर्थात् एक ही राष्ट्र में कई-कई धर्म को मानने वाले लोग रहते हैं। वे एक सशक्त राष्ट्रीयता से बंधे रहते हैं। भारत में धर्मों के विषय में विविधता में एकता पायी जाती है।

5. सामान्य राजनीतिक आकांक्षाएँ (Political Ambitious):
सामान्य राजनीतिक आकांक्षाएँ भी इसका एक तत्त्व माना जाता है। 1971 ई. के पेरिस शान्ति सम्मेलन में इसी आधार पर Self Determination के सिद्धान्त को स्वीकार किया गया।

6. आर्थिक हितों की समरूपता (Economic Interest):
राष्ट्र निर्माण में अन्य महत्त्वपूर्ण तत्त्व होता है आर्थिक हितों की समरूपता। मिल के अनुसार, “किसी भी राष्ट्र की पहचान उसकी राजनीतिक पूर्वापरता, अपना राष्ट्रीय इतिहास तथा किसी प्राचीन ऐतिहासिक घटना पर एक सामूहिक प्रतिक्रिया तथा इससे जुड़ी स्मृतियों के आधार पर निर्मित होती है।”

प्रश्न 3.
तीसरी दुनिया के देशों में राष्ट्रवाद का उदय किस प्रकार हुआ? (How did the Nationalism rise in third world countries?)
उत्तर:
बीसवीं शताब्दी में एशिया व अफ्रीका में साम्राज्यवाद के पतन के बाद भारत, चीन, बर्मा, मिस्र, नाइजीरिया, घाना, फिजी, वियतनाम, इण्डोनेशिया, लीबिया,, सीरिया तथा अन्य राज्य अस्तित्व में आए। कई मामलों में इन राज्यों की रचना राष्ट्रीय मुक्ति संघर्षों के परिणामस्वरूप हुई। इन राष्ट्रों को सम्पूर्ण प्रभूता लम्बे संघर्षों के बाद स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद मिली।

साम्राज्वादी देशों ने इन राज्यों का खूब शोषण कर अपने को अमीर बना लिया। 19 वीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध व बीसवीं शताब्दी के दौरान इन उपनिवेशों में शिक्षित शहरी वर्ग के नेतृत्व में राष्ट्रीय मुक्ति आन्दोलन का सूत्रपात हुआ तथा ये स्वतंत्र हुए और राष्ट्रीय सम्प्रभु राज्यों के रूप में उभरे। इस प्रकार द्वितीय विश्वयुद्ध के पश्चात् संसार के मानचित्र में अनेक नए राज्य दिखाई पड़े। वर्तमान में इन नवस्वतन्त्र राज्यों को तीसरी दुनिया के देशों के रूप में जाना जाता है क्योंकि ये अमरीकी अथवा सोवियत गुट में से किसी में शामिल नहीं हुए। उन्होनें स्वतंत्र विदेश नीति का अनुसरण किया। इन देशों को अविकसित अथवा विकासशील देश कहा जाता है।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित पर टिप्पणी लिखिए –
(Write short note on)
(क) राष्ट्र
(ख) राज्य
(ग) संघ
(घ) सरकार

  1. Nations
  2. State
  3. Association
  4. Government

उत्तर:
(क) राष्ट्र (Nation):
राष्ट्र तथा राष्ट्रीयता जिनको अंग्रेजीी में Nation तथा Nationality कहते हैं लैटिन भाषा के एक ही सामान्य शब्द ‘नेट्स’ (Natus) से निकले हैं, जिसका अर्थ ‘जन्म’ अथवा ‘जाति’ है। गार्नर के अनुसार, “राष्ट्रीयता का विकास सजातीय सामाजिक समुदाय के लोगों के सांस्कृतिक तथा मनोवैज्ञानिक रूप से आपसी विचारों के आदान-प्रदान हेतु संगठित होने के कारण हुआ है।”

रामजे मूर (Ramsey Muir) के अनुसार, “राष्ट्र व्यक्ति के शरीर की भाँति होता है, जिसमें हर अंग सौहार्द्रपूर्ण ढंग से एक दूसरे के साथ जुड़े होते हैं तथा शरीर को मजबूत बनाते हैं। इसी प्रकार राष्ट्र में रहने वाले व्यक्ति भी यदि आपसी सौहार्द तथा सहभागिता का त्याग कर दें, तो उसका अस्तित्व समाप्त हो जाएगा।” बर्गेस के अनुसार, “राष्ट्र जातीय एकता के सूत्र में बंधी हुई वह जनता है, जो किसी अखण्ड भौतिक प्रदेश पर निवास करती हो।” जिमन ने लिखा है, “राष्ट्र ऐसे लोगों का समूह है, जो घनिष्ठता, अभिन्नता और प्रतिष्ठा की दृष्टि से संगठित है और एक मातृभूमि से सम्बन्धित है।”

(ख) राज्य (State):
डॉ. गार्नर के अनुसार, “राज्य एक थोड़े या अधिक संख्या वाले संगठन का नाम है, जो कि स्थायी रूप से पृथ्वी के निश्चित भाग में रहता हो। वह बाहरी नियन्त्रण से सम्पूर्ण स्वतन्त्र या लगभग स्वतन्त्र हो और उसकी एक संगठित सरकार हो, जिसकी आज्ञा का पालन अधिकतर जनता स्वभाव से करती हो।”

गिलक्राइस्ट ने लिखा है, “राज्य उसे कहते हैं, जहाँ कुछ लोग एक निश्चित प्रदेश में एक सरकार के अधीन संगठित होते हैं। यह सरकार आन्तरिक मामलों में अपनी जनता की प्रभुसत्ता को प्रकट करती है और बाहरी मामलों में अन्य सरकारों से स्वतन्त्र होती है।” मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। वह समाज में ही रहना चाहता है। एक निश्चित सीमा में बिना किसी नियन्त्रण के गठित सरकार के अधीन संगठित लोगों के समुदाय को राज्य कहा जाता है।

(ग) संघ (Association):
मेकाइवर के अनुसार संघ व्यक्तियों या सदस्यों के ऐसे समूह को कहा जाता है, जो एक सामान्य लक्ष्य के लिए संगठित है। एक प्रकार के विशेष उद्देश्य रखने वाले व्यक्ति एक दूसरे के समीप आते हैं और समूह बनाकर अर्थात् संगठित होकर इन उद्देश्यों की पूर्ति के लिए कार्य करते हैं। यद्यपि राज्य भी मानव आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए गठित एक संगठन होता है। परन्तु राज्य में चार तत्त्व होते हैं-जनसंख्या, भू-भाग, सरकार और सम्प्रभुता जबकि संघ को निश्चित भू-भाग की आवश्यकता नहीं होती। इसकी सदस्यता ऐच्छिक होती है। राज्य की तरह संघ सम्प्रभु नहीं होते।

(घ) सरकार (Government):
बहुत से लोग राज्य तथा सरकार को एक ही अर्थ में प्रयुक्त करते हैं। लुई चौदहवाँ (फ्रांस का सम्राट) कहा करता था, “मैं ही राज्य हूँ।” परन्तु सरकार तो राजा का एक तत्त्व है। सरकार सार्वजनिक नीतियों को निर्धारित करने वाली तथा सार्वजनिक हितों को लागू करने वाली एक एजेन्सी अथवा तन्त्र है। सरकार वास्तव में राज्य सत्ता की प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति है। राज्य में सरकारें बदलती रहती है। परन्तु राज्य स्थायी तौर पर बना रहता है। सरकार के तीन अंग होते हैं –

  1. कार्यपालिका
  2. विधायिका
  3. न्यायपालिका

प्रश्न 5.
राज्य किसे कहते हैं? राज्य के प्रमुख तत्त्वों की संक्षेप में व्याख्या कीजिए। (What is state Explain the main elements of a state)
उत्तर:
एक निश्चित सीमा में बिना किसी बाहरी नियन्त्रण के गठित सरकार के अधीन संगठित लोगों के समुदाय को राज्य कहा जाता है। मानव स्वभाव से एक सामाजिक प्राणी है। लास्की ने कहा है कि राज्य एक भूमिगत समाज है, जो शासक और शासितों में बँटा रहता है।

अरस्तू ने कहा था कि राज्य का जन्म जीवन की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ है और आज भी आदर्श जीवन की प्राप्ति के लिए इसका अस्तित्व बना हुआ है। गार्नर के अनुसार, “राज्य बहुसंख्यक व्यक्तियों का ऐसा समुदाय है, जो किसी प्रदेश के निश्चित भाग में स्थायी रूप से रहता हो, बाहरी शक्ति के नियन्त्रण से पूर्ण रूप से या आंशिक रूप से ही स्वतन्त्र हो और जिसमें ऐसी सरकार विद्यमान हो, जिसके आदेश का पालन नागरिकों के विशाल समुदाय द्वारा स्वभावतः किया जाता है।” राज्य के तत्त्व-राज्य के निम्नलिखित चार अनिवार्य तत्व होते हैं –

1. जनसंख्या (Population):
राज्य को बनाने के लिए जनसंख्या आवश्यक है। हम किसी निर्जन प्रदेश को राज्य नहीं कह सकते। किसी राज्य की जनसंख्या कितनी हो यह नहीं कहा जा सकता है। प्लूटो ने राज्य की जनसंख्या 5000 तथा रूसो ने 10,000 निश्चित की थी। परन्तु आजकल विशाल राज्य है, जिनकी जनसंख्या करोड़ों में है। भारत और चीन की जनसंख्या एक अरब से भी अधिक है। अरस्तु का यह कथन था कि राज्य की जनसंख्या इतनी हो, जिससे कि वह आत्मनिर्भर रह सके। आज भारत की अनेक समस्याओं का कारण उसकी अधिक जनसंख्या है।

2. भू-भाग (Territory):
प्रत्येक राज्य का अपना एक निश्चित भू-भाग होता है। इस निश्चित भू-भाग से प्रेम करने के कारण देशभक्ति का उदय होता है। राष्ट्रीय आन्दोलन के समय अनेक वीरों ने अपनी मातृभूमि के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया है। निश्चित भू-भाग राज्य के लिए इस कारण अनिवार्य है कि राज्य की एकता और अखंडता को बनाए रखने के लिए दूसरे राज्यों द्वारा किए जाने वाले हस्तक्षेपों को रोका जा सके। निश्चित भू-भाग के अन्तर्गत भूमि, जल तथा वायु तीनों ही क्षेत्र आते हैं। राज्य का अधिकार अपने भू-क्षेत्र, समुद्री क्षेत्र तथा आकाश आदि सभी पर होता है। राज्य का भू-भाग रूस के समान विशाल तथा सेन्ट मरीना जितना छोटा भी हो सकता है।

3. सरकार (Government):
राज्य का एक प्रमुख तत्त्व सरकार भी है। जनता जब तक समुचित ढंग से संगठित नहीं होती, तो राज्य नहीं बन सकता। सरकार एक निर्धारित भू-भाग में रहने वाले लोगों के सामूहिक उद्देश्यों की तरफ भी ध्यान देती है। सरकारें नीति निर्धारण और उनको क्रियान्वित करने का कार्य करती है। सरकार की अनुपस्थिति में गृह युद्ध होने की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। सरकार के विभिन्न रूप होते हैं। लोकतन्त्र, कुलीन तन्त्र तथा अधिनायक तन्त्र की सरकारें हो सकती है। इसके आलावा संसदात्मक तथा अध्यक्षात्मक सरकारें हो सकती हैं।

4. सम्प्रभुता (Sovereignty):
सम्प्रभुता भी राज्य का एक अनिवार्य तथा महत्त्वपूर्ण तत्त्व है। किसी निश्चित भू-भाग में रहने वाली जनसंख्या को एक सरकार के अधीन नियन्त्रित हो जाने मात्र से ही उसे राज्य का दर्जा प्राप्त नहीं हो जाता, क्योंकि इसके लिए सम्प्रभुता का होना भी आवश्यक है। सम्प्रभुता दो प्रकार की होती है –

  • एक आन्तरिक सम्प्रभुता और
  • बाह्य सम्प्रभुता।

आन्तरिक सम्प्रभुता का अर्थ है राज्य का अपनी सीमा के भीतर एकाधिकार। इसमें किसी दूसरे राज्य का हस्तक्षेप नहीं होता। उसकी इस स्वतन्त्रता में किसी बाहरी सत्ता का हस्तक्षेप नहीं होता। 1947 ई. से पूर्व भारत में अन्य सभी तत्त्व मौजूद थे, किन्तु उसे राज्य का दर्जा प्राप्त नहीं था, क्योंकि तब तक भारत सम्प्रभुता सम्पन्न नहीं था।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
उग्र राष्ट्रवाद किसका समर्थन करता है?
(क) सैनिकवाद
(ख) विश्वशान्ति
(ग) अहिंसा
(घ) आतंकवाद
उत्तर:
(ग) अहिंसा

प्रश्न 2.
अनुच्छेद 19 द्वारा प्रदत्त अधिकार –
(क) भारत में निवास करने वाले सभी व्यक्तियों में उपलब्ध है।
(ख) भारत में नागरिकों को ही उपलब्ध है।
(ग) विदेशियों को भी उपलब्ध है।
(घ) इनमें से किसी को भी उपलब्ध नहीं है।
उत्तर:
(ख) भारत में नागरिकों को ही उपलब्ध है।

Bihar Board Class 11th Psychology Solutions मनोविज्ञान

Bihar Board Class 11th Psychology Solutions मनोविज्ञान

   

Top academic experts at BiharBoardSolutions.com have designed BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11 Psychology Book Solutions PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium are part of Bihar Board Class 11th Solutions based on the latest NCERT syllabus.

Here we have updated the detailed SCERT Bihar Board 11th Class Psychology Book Solutions of BTBC Book Class 11 Psychology Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Psychology Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material to help students in understanding the concepts behind each question in a simpler and detailed way.

BSEB Bihar Board Class 11th Psychology Book Solutions मनोविज्ञान

We hope that BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11th Intermediate Psychology Book Solutions PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium of BTBC Book Class 11 Psychology Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Psychology Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material will help students can prepare all the concepts covered in the syllabus.

If you face any issues concerning SCERT Bihar Board Class 11th Psychology Text Book Solutions, you can ask in the comment section below, we will surely help you out.

Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

   

Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना Textbook Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

Bihar Board Class 11 Geography पृथ्वी की आंतरिक संरचना Text Book Questions and Answers

 

(क) बहुवैकल्पिक प्रश्न एवं उनके उत्तर

पृथ्वी की आंतरिक संरचना के प्रश्न उत्तर Bihar Board Class 11 प्रश्न 1.
निम्नलिखित में से कौन भूगर्भ की जानकारी का प्रत्यक्ष साधनहै ………………
(क) भूकम्पीय तरंगें’
(ख) गुरुत्वाकर्षण बल
(ग) ज्वालामुखी
(घ) पृथ्वी का चुम्बकत्व
उत्तर:
(क) भूकम्पीय तरंगें’

पृथ्वी की आंतरिक संरचना पाठ के प्रश्न उत्तर Bihar Board Class 11 प्रश्न 2.
दक्कन देष की शैल समूह किस प्रकार के ज्वालामुखी उद्गार का परिणाम है ……………….
(क) शील्ड
(ख) मित्र
(ग) प्रवाह
(घ) कुण्ड
उत्तर:
(ग) प्रवाह

पृथ्वी की आंतरिक संरचना के प्रश्न Bihar Board Class 11 प्रश्न 3.
निम्नलिखित में से कौन सा स्थलमण्डल को वर्णित करता है?
(क) ऊपरी व निचले मैटल
(ख) भूपटल व कोड
(ग) भूपटल व ऊपरी मैटल
(घ) मैटल व क्रोड
उत्तर:
(ग) भूपटल व ऊपरी मैटल

पृथ्वी की आंतरिक संरचना के प्रश्न उत्तर कक्षा 11 प्रश्न 4.
निम्न में भूकम्प तरंगें चट्टानों में संकुचन व फैलाव लाती हैं ……………….
(क) ‘P’ तरंगे
(ग) धरातलीय तरंगे
(प) उपर्युक्त में से कोई नहीं
उत्तर:
(क) ‘P’ तरंगे

पृथ्वी की आंतरिक संरचना कक्षा 11 प्रश्न 5.
पृथ्वी की क्रोड पर कौन से दो पदार्थ पाये जाते हैं।
(क) निकिल व ताँबा
(ख) तांबा व लोहा
(ग) निकिल व लोहा
(घ) लोहा व चूना
उत्तर:
(ग) निकिल व लोहा

पृथ्वी की आंतरिक संरचना Bihar Board Class 11 प्रश्न 6.
निम्नलिखित में कौन-सा सक्रीय ज्वालामुखी है?
(क) स्ट्रांबोली
(ख) विसूवियस
(ग) बैरन आप
(घ) पोपा
उत्तर:
(क) स्ट्रांबोली

पृथ्वी की आंतरिक संरचना का सचित्र वर्णन करें Bihar Board Class 11 प्रश्न 7.
निम्नलिखित में से किस शहर में दिन का अवधि सर्वाधिक है?
(क) मुंबई
(ख) चेन्नई
(ग) श्रीनगर
(घ) दिल्ली
उत्तर:
(ग) श्रीनगर

पृथ्वी की आंतरिक संरचना का सचित्र वर्णन करो Bihar Board Class 11 प्रश्न 8.
निम्नलिखित में से किस राज्य की जनसंख्या सर्वाधिक है?
(क) पं० बंगाल
(ख) बिहार
(ग) उत्तर प्रदेश
(घ) आन्ध्र प्रदेश
उत्तर:
(ग) उत्तर प्रदेश

(ख) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए।

पृथ्वी का आंतरिक संरचना का सचित्र वर्णन करें Bihar Board Class 11 प्रश्न 1.
भूगर्भीय तरंगें (Body Waves) क्या हैं?
उत्तर:
भू-गर्मिक तरंगे उद्गम केन्द्र कर्जा विमोचन के दौरान पैदा होती है और पृथ्वी के अंदरुनी भाग से होकर सभी दिशाओं में आगे बढ़ती है। इसलिए इन्हें भू-गर्मिक तरंगे कहा जाता है।

पृथ्वी की आंतरिक संरचना का सचित्र वर्णन Bihar Board Class 11 प्रश्न 2.
भूगर्भ की जानकारी के लिए प्रत्यक्ष साधनों के नाम बाताइए।
उत्तर:
पृथ्वी की आंतरिक संरचना के विषय में हमारी अधिकतर जानकारी परोक्ष रूप से प्राप्त अनुमानों पर आधारित है। इस जानकारी का कुछ भाग प्रत्यक्ष प्रेक्षणों पर आधारित है। पृथ्वी में सबसे असानी से उपलब्ध प्रत्यक्ष साधन ठोस पदार्थ धरातलीय चट्टानें हैं।

Prithvi Ki Aantrik Sanrachna Bihar Board Class 11 प्रश्न 3.
भूकंपीय तरंगे छाया क्षेत्र कैसे बनाती हैं?
उत्तर:
जहाँ कोई भी भूकंपीय तरंग अभिलेखित नहीं होती। ऐसे क्षेत्र को भूकंपीय छायाक्षेत्र (Shadow Zone) कहा जाता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि भूकंप अधिकेन्द्र से 105° और 145 के बीच का क्षेत्र (जहाँ कोई भी भूकंपीय तरंग अभिलेखित नहीं होती) दोनों प्रकार की तरंगों के लिए आया क्षेत्र दूसरे भूकंप के छाया क्षेत्र से भिन होता है।
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

Prithvi Ki Aantrik Sanrachna Ka Varnan Bihar Board Class 11 प्रश्न 4.
भूकपीय गतिविधियों के अतिरिक्त भूगर्भ की जानकारी संबंधी अप्रत्यक्ष साधनों का संक्षेप में वर्णन करें।
उत्तर:
खनन क्रिया से हमें पता चलता है कि पृथ्वी के धरातल में गहराई बढ़ने के साथ-साथ तापमान एवं दबाव में वृद्धि होती है। यह भी पता चलता है कि गहराई के बढ़ने के साथ-साथ पदार्थ का घनत्व भी बढ़ता है। दूसरा अप्रत्यक्ष प्रोत उल्काएँ हैं, जो कभी-कभी धरती तक पहुँचती हैं। उल्काएँ जैसे ही पदार्थ के बने ठोस पिंड हैं, जिनसे हमारा ग्रह (पृथ्वी) बना है। अन्य अप्रत्यक्ष स्रोतों में गुरुत्वाकर्षण, चुम्बकीय क्षेत्र भूकंप क्रियाएँ शामिल हैं।

(ग) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए

पृथ्वी की आंतरिक संरचना का चित्र वर्णन करें Bihar Board Class 11 प्रश्न 1.
भूकंपीय तरंगों के संचरण का उन चट्टानों पर प्रभाव बताएं जिनसे होकर यह तरंगे गुजरती हैं?
उत्तर:
भिन्न-भिन्न प्रकार की भूकंपीय तरंगों के संचरित होने की प्रणाली भिन्न-भिन्न होती है। जैसे ही ये संचरित होती हैं तो चट्टानों में कंपन पैदा होती है। ‘P’ तरंगों से कंपन की दिशा तरंगों की दिशा के समानांतर ही होती है। यह संचरण गति की दिशा में भी पदार्थ पर दबाव डालती है। इसके (दबाय) के फलस्वरूप पदार्थ के घनत्व में भिन्नता आती है और चट्टानों में संकुचन के फैलाव की प्रक्रिया पैदा होती है। अन्य तीन तरह की तरंगें संचरण गति के समकोण दिशा में कंपन पैदा करती है। ‘S’ तरंगें उर्ध्वाधर तल में, तरंगों की दिशा के समकोण पर कंपन पैदा करती हैं। अत: ये जिस पदार्थ से गुजरती है उसमें उभार व गर्त बनाती हैं। धरातलीय तरंगे सबसे अधिक विनाशकारी समझी जाती हैं।
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

पृथ्वी की आतंरिक संरचना का सचित्र वर्णन करें Bihar Board Class 11 प्रश्न 2.
अंतर्वेधी आकृतियों से आप क्या समझते हैं? विभिन अंतर्वेधी आकृतियों का संक्षेप में वर्णन करें।
उत्तर:
ज्वालामुखी उद्गार से जो लावा निकलता है, उसके ठंडा होने से आग्नेय चट्टानें बनती हैं। लाया का यह जमाव या तो धरातल पर पहुँचकर होता है या धरातल के आधार पर आग्नेय चट्टानों का वर्गीकरण किया जाता है-)पातालीय (Plutonic) चट्टों (जब) लावा धरातल के नीचे ठंडा होकर जम जाता है)। जब लाया भूपटल के भीतर ही ठंडा हो जाता है तो कई आकृतियाँ बनती हैं। ये आकृतियाँ अंतर्वधौ आकृतियाँ (Intrusive forms) कहलाती हैं।

Bihar Board Class 11 Geography पृथ्वी की उत्पत्ति एवं विकास Additional Important Questions and Answers

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

पृथ्वी की आंतरिक संरचना का चित्र हिंदी में Bihar Board Class 11 प्रश्न 1.
पृथ्वी की संरचना की जानकारी के प्रत्यक्ष साधन बताएं।
उत्तर:

  1. खाने
  2. कुएं
  3. छिद्र

प्रश्न 2.
पृथ्वी के आन्तरिक भाग में तापमान वृद्धि की औसत दर क्या है?
उत्तर:
1°C प्रति 32 मिटर ।

प्रश्न 3.
पृथ्वी की संरचना की जानकारी प्रदान करने वाले परोक्ष साधन कौन-कौन रे हैं?
उत्तर:

  1. तापमान
  2. दबाव
  3. परतों का घनत्व
  4. भूकम्पीय तरंगें
  5. उल्काएँ

प्रश्न 4.
पृथ्वी की तीन परतों के नाम लिखें।
उत्तर:

  1. सियाल
  2. सीमा
  3. नाइफ

प्रश्न 5.
धात्विक क्रोड के दो प्रमुख पदार्थ बताएँ।
उत्तर:

  1. निकिल
  2. लोहा

प्रश्न 6.
भूकम्पीय तरंगों के प्रकार बताएँ।
उत्तर:

  1. प्राथमिक तरंगे
  2. माध्यमिक तरंगे
  3. परातलीय तरंगे

प्रश्न 7.
पच्ची के अध्यान्तर का घनत्व कितना है?
उत्तर:
13

प्रश्न 8.
अभ्यान्तर का घनत्व सबसे अधिक क्यों है?
उत्तर:
अभ्यान्तर में निकिल तथा लोई के कारण।

प्रश्न 9.
Volcano माला शब्द यूनानी भाषा के किस शब्द से बना है?
उत्तर:
यूनानी शब्द ‘Vulcan’ का अर्थ-पाताल देवता है।

प्रश्न 10.
पृण्व के अन्दर पिघले पदार्थ को क्या कहते हैं?
उत्तर:
मैग्मा।

प्रश्न 11.
जब मैग्मा पृथ्वी के धरातल से बाहर आ जाता है तो उसे क्या कहते हैं?
उत्तर:
लावा।

प्रश्न 12.
चालामुखी के मुख्य भाग लिखें।
उत्तर:

  1. हिंद्र
  2. ज्वालामुखी नली
  3. केटर।

प्रश्न 13.
ज्यालामुख विस्फोट के दो प्रकार लिखें।
उत्तर:

  1. केन्द्रीय विस्फोट
  2. दगरीय विस्कोट

प्रश्न 14.
सबसे धीमी गति वाली तरंगे कौन-सी है?
उत्तर:
घरातलीय तरंगे।

प्रश्न 15.
पृथ्वी का औसत घनत्व कितना है?
उत्तर:
5.53

प्रश्न 16.
पृथ्वी के केन्द्रीय परत को क्या कहते है?
उत्तर:
अध्यान्तर या क्रोड या गुरुमण्डल।

प्रश्न 17.
निफे (Nife) शब्द किन दो शब्दों के संयोग से बना है।
उत्तर:
निफे शब्द निकिला तथा फैरस (Ni+ Fe) के संयोग से बना है।

प्रश्न 18.
सीमा (Sima) किन दो शब्दों के संयोग से बना है?
उत्तर:
सीमा शब्द सिलिका तथा मैग्नीशियम (Si+Mg) के संयोग से बना है।

प्रश्न 19.
सियाल (Sial) किन दो शब्दों के संयोग से बना है?
उत्तर:
सियाल शब्द सिलिका तथा एल्यूमीनियम (Si+AI) के संयोग से बना है।

प्रश्न 20.
किन प्रमाणों से पता चलता है कि पृथ्वी के आन्तरिक भाग का तापमान अधिक है।
उत्तर:

  1. ज्वालामुखी
  2. गर्म जल के झरने
  3. स्वानों से।

प्रश्न 21.
कौन-सी तरंगें केवल ठोस माध्यम से ही गुजर सकती हैं?
उत्तर:
अनप्रस्थ तरंगे।

प्रश्न 22.
कितनी गहराई के पश्चात् ‘S’ तांगे लुप्त हो जाती है?
उत्तर:
2900 km.

प्रश्न 23.
भूकम्पीय तरंगों के अध्ययन करने वाले यन्त्र का नाम है?
उत्तर:
सीस्मोग्राफ (Seismography)

प्रश्न 24.
चालामुखी शंकु किसे कहते हैं?
उत्तर:
ज्वालामुखी के मुख से निकले पदार्थ मुख के आस-पास जमा हो जाते हैं, पोरे-धीरे ये शंकु का रूप धारण कर लेते हैं। इन ज्वालामुखी शंकु कहते हैं।

प्रश्न 25.
क्रेटर किसे कहते हैं।
उत्तर:
ज्वालामुखी के केन्द्र में कटोरे के समान था कौपाकार गर्न को केटर हैं।

प्रश्न 26.
काल्डेरा किसे कहते हैं?
उत्तर:
विशाल क्रेटर को काल्डेरा कहते हैं।

प्रश्न 27.
भूकम्प किसे कहते हैं?
उत्तर:
पृथ्वी का अचानक हिलना।

प्रश्न 28.
भूकम्प आने के तीन कारण लिखो।
उत्तर:

  1. ज्वालामुखी विस्फोट
  2. विवर्तनिक कारण
  3. लचक शक्ति

प्रश्न 29.
तीन महत्वपूर्ण भूकम्पों के नाम लिखो जो वर्तमान समय में हुए हों।
उत्तर:

  1. 19050 में कांगड़ा भूकम्प
  2. 1923 10 में टोकिया भूकम्प
  3. 2001 ई० में गुजरात के भूज का भूकम्प

प्रश्न 30.
उद्गम केन्द्र किसे कहते हैं?
उत्तर:
पृथ्वी के अन्दर जहाँ भूकम्प डापन होता है, उसे उद्गम केन्द्र कहते है।

प्रश्न 31.
अधिकेन्द्र से क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
भूकम्प केन्द्र के ठीक ऊपर धरातल पर स्थिर बिन्दु या स्थान को अधिकेन्द्र कहते हैं।

प्रश्न 32.
विश्व के अधिकतर ज्वालामुखी किस पेटी में पाये जाते हैं?
उत्तर:
प्रशान्त महासागरीय पेटी।

प्रश्न 33.
तीन पेटियों के नाम बताएँ जहाँ पर ज्वालामुखी पाये जाते हैं?
उत्तर:

  1. प्रशान्त महासागरीय पेटी
  2. मध्य महाद्वीपीय पेटी
  3. अफ्रीका का दरार घाटी क्षेत्र।

प्रश्न 34.
किस ज्वालामुखी को कस सागर का प्रकाश स्तम्भ’ के नाम से जाना जाता है?
उत्तर:
स्ट्रॉम्बोली।

प्रश्न 35.
विश्व में सबसे बड़ा सक्रिय ज्वालामुखी कौन-सा है?
उत्तर:
माओनालोआ (हवाई द्वीप)।

प्रश्न 36.
भारत में सक्रिय ज्वालामुखी का नाम बताएं।
उत्तर:
अण्डमान द्वीप के निकट बैरल डीप।

प्रश्न 37.
ज्वालामुखी के तीन प्रकार कौन-कौन से हैं?
उत्तर:

  1. सक्रिय ज्वालामुखी
  2. प्रसुप्त ज्वालामुखी
  3. मृत ज्वालामुखी।

प्रश्न 38.
गहराई के साथ तापमान किस दर पर बढ़ता है?
उत्तर:
32 मीटर के लिए 1°C.

प्रश्न 39.
ज्वालामुखी विस्फोट के तीन कारण बताएं।
उत्तर:

  1. भूगर्भ में उच्च ताप
  2. भाप तथा गैसें
  3. दरारे (घंशन)

प्रश्न 40.
अधिकेन्द्र से क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
अधिकेन्द्र (Epicentre) – भूकम्प केन्द्र के ठोक अपर पावल पर स्थित बिन्दु या स्थान को अधिकेन्द्र कहते हैं। भूकम्प के झटके सब से पहले इस स्थान पर लगते हैं। भूकम्प द्वारा धरातल पर सबसे अधिक कम्पन पर होता है तथा इस केन्द्र के आस-पास सबसे अधिक तवाही होती है।

प्रश्न 41.
उद्मन केन्द्र किसे कहते हैं ? इसकी गहराई कितनी होती है?
उत्तर:
उद्गम केन्द्र (Focus) – पृथ्वी के अन्दर जहाँ भूकम्प उत्पन्न होता है उसे उद्गम केन्द्र कहते हैं। इस केन्द्र से भूकम्पीय तरंगें चारो ओर निकलती हैं। साधारणतया भूकम्पों की गहराई 50-100 कि० मी० तक होती है। पातालीय भूकम्प की गहराई 700 कि० मी० तक होती है।

प्रश्न 42.
भूकम्प की माप किस पैमाने पर की जाती है?
उत्तर:
भूकम्पों की माप-भूकम्पीय घटनाओं का मापन भूकम्पीय तीव्रता के आधार पर अथवा आघात की तीव्रता के आधार पर किया जाता है। भूकम्पीय तीव्रता को मापनी [रिक्टर स्केल’ Richter Scale] के नाम से जाना जाता है। भूकम्पीय तीव्रता भूकम्प के दौरान ऊर्जा विमोचन से सम्बन्धित है। इस मापानी के अनुसार भूकम्प की तीव्रता 0 से 10 तक होती है। तीव्रता गहनता (Intensity Scale) हानि की तीव्रता’ मापनी इटली के भूकम्प वैज्ञानिक मरकैली (Mercalli) के नाम पर है। यह मापनी झटकों से हुई प्रत्यक्ष हानि द्वारा निर्धारित की गई है। इसका गहनता का विस्तार 1 से 12 तक है।

प्रश्न 43.
हम कैसे जानते हैं कि अभ्यंतर तरल अवस्था में हैं ?
उत्तर:
विभिन्न तरंगों का वेग तथा मार्ग भूकम्पमापी यन्त्र द्वारा मापा जाता है। ये तरंगो विभिन्न परतों से टकराने के कारण परावर्तित होती रहती हैं। यह देखा गया है कि अनुप्रस्थ तरंगें द्रव माध्यम से होकर गुजर नहीं सकतीं। ये तरंगें पृथ्वी के अभ्यान्तर (Core) में अनुपस्थित होती हैं। इसलिए यह अनुमान लगाया जाता है कि अभ्यान्तर में पदार्थ द्रव स्थिति में होते हैं।

प्रश्न 44.
पृथ्वी के आन्तरिक भाग में उच्च ताप के क्या कारण हैं?
उत्तर:

  1. रसायनिक प्रक्रियाएँ
  2. रेडियो-धर्मी
  3. पदार्थ
  4. आन्तरिक शक्तियाँ
  5. उच्च मूल ताप।

प्रश्न 45.
किन प्रमाणों से पता चलता है कि पृथ्वी के आन्तरिक भागों का तापमान अधिक है? आन्तरिक भागों में तापमान वृद्धि की दर क्या है?
उत्तर:
पृथ्वी के भीतरी भागों में गहराई के साथ-साथ तापमान में वृद्धि होती है। यहाँ वृद्धि दर I°C प्रति 32 मीटर है। निम्नलिखित प्रमाणों से पृथ्वी के आन्तरिक भागों में अधिक तापमान का पता चलता है –

  1. ज्वालामुखी विस्फोट
  2. गर्म जल के झरने
  3. खानों से
  4. गाईजर से
  5. गहरे कुँओं से।

प्रश्न 46.
पृथ्वी की संरचना की जानकारी के प्रत्यक्ष साधनों के नाम लिखो।
उत्तर:
प्रत्यक्ष साधन (Direct Sources) –

  • खाने
  • कुएँ
  • छिद्र

अप्रत्यक्ष साधन (Indirect Sources) –

  • तापमान
  • दबाव
  • पतरों का घनत्व
  • भूकम्पीय तरंगे
  • उल्काएँ
  • गुरुत्वाकर्षण

प्रश्न 47.
पृथ्वी के धरातल का विन्यास किन प्रक्रियाओं का परिणाम है ?
उत्तर:
पृथ्वी पर भू-आकृतियों का विकास बहिर्जात एवं अन्तर्जात क्रियाओं का परिणाम है। दोनों प्रक्रियाएँ निरन्तर कार्य करती हैं तथा भू-आकृतियों को जन्म देती है।

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
गुरुमण्डल से क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
गुरुमण्डल (Barysphere) – पृथ्वी के केन्द्रीय भाग या आन्तरिक क्रोड को गरुमण्डल कहते हैं । इसकी औसत गहराई 4980 से 6400 मी० है । यह अत्यधिक भार युक्त खनिज पदार्थों से बना हुआ है। इसका औसत घनत्व 13 से अधिक है। इसमें लोहा तथा निकिल पदार्थों की अधिकता है। इस भाग को अभ्यान्तर (Core) भी कहा जाता है।

प्रश्न 2.
ज्वालामुखी किसे कहते हैं? ज्वालामुखी के विभिन्न भाग बताएँ।
उत्तर:
ज्वालामुखी (Volcano) – ज्वालामुखी क्रिया एक अन्तर्जात क्रिया है जो भू-गर्भ से सम्बन्धित है । ज्वालामुखी धरातल पर एक गहरा प्राकृतिक छिद्र है जिसके भू-गर्भ से गर्म गैसें, लावा, तरल व ठोस पदार्थ बाहर निकलते हैं। सबसे पहले एक छिद्र की रचना होती है जिसे ज्वालामुखी (Volcano) कहते हैं। इस छिद्र से निकलने वाले लावा पदार्थों के चारों ओर फैलने तथा ठण्डा होकर ठोस होने से एक उच्च भूमि का निर्माण होता है जिसे ज्वालामुखी पर्वत कहते हैं। एक लम्बे समय में कई बार निकासन, शीलतन तथा ठोसीकरण की क्रिया से ज्वालामुखी का निर्माण होता है।

ज्वालामुखी के भाग (Partsofa Volcano) –

  • ज्वालामुखी निकास – एक छेद जिस से लावा का निष्कासन होता है ज्वालामुखी निकास होता है, निकास कहलाता है।’
  • विवर – ज्वालामुखी निकास के चारों ओर एक तश्तरीनुमा गर्त को विवर कहते हैं।
  • कैल्डेरा – विस्फोट से बने खड़ी दीवारों वाले कंड को कैलडेरा कहते हैं।

प्रश्न 3.
तीन प्रकार के ज्वालामुखी कौन-कौन से हैं?
उत्तर:

  1. ज्वालामुखी के प्रकार (Types of Volcanoes) – संसार में अनेक प्रकार के ज्वालामुखी मिलते हैं। ज्वालामुखी विस्फोर्ट के आधार पर यह तीन प्रकार के होते हैं।
  2. सक्रिय ज्वालामुखी (Active Volcanoes) – यह वे ज्वालामुखी हैं जिनमें से लावा हमेशा निकलता रहता है। संसार में लगभग पांच सौ सक्रिय ज्वालामखी हैं। हवाई द्वीप समूह का मोनालुआ ज्वालामुखी विश्व का सबसे सक्रिय ज्वालमुखी है अन्य उदाहरण में भारत का बैरन द्वीप।
  3. प्रसुप्त ज्वालामुखी (Dormant Volcanoes) – यह वे ज्वालामुखी हैं जो लम्बे समय तक शान्त रहने के पश्चात् अचानक सक्रिय हो जाते हैं। जैसे इटली’ का विसुवियत ज्वालामुखी ।
  4. विलुप्त ज्वालामुखी (Extinct Voleanoes) – यह वे ज्वालामुखी है जो पूर्ण रूप से ठण्डे है, जैसे जर्मनी का ऐफिल पर्वत ।

प्रश्न 4.
उल्काएँ पृथ्वी की आन्तरिक बनावट के विषय में जानकारी देने में किस प्रकार
उत्तर:
कभी-कभी जलते हुए पदार्थ आकाश से पृथ्वी की ओर गिरते दिखाई देते हैं। इन्हें उल्का (Meteorites) कहते हैं । यह सौर मण्डल का एक भाग है । इनके अध्ययन से पता चलता है कि इनके निर्माण में लोहा निकलि की प्रधानता है। पृथ्वी की रचना उल्काओं से मिलती-जुलती है तथा पृथ्वी का आंतरिक क्रोड भी भारी पदार्थों (लोहा + निकिल) से बना हुआ है।

प्रश्न 5.
भूकम्पीय तरंगों के मुख्य प्रकार बताएँ कौन-सी तरंगे धीमी गति वाली हैं तथा कौन-सी तरंगे तेज गति वाली हैं?
उत्तर:
भूकम्पीय तरंगें तीन प्रकार की हैं –

  • प्राथमिक या अनुदैर्ध्य तरंगे।
  • गौण या अनुप्रस्थ तरंगें।
  • धरातलीय या लम्बी तरंगें।

धरातलीय तरंगे सबसे धीमी गति से चलती हैं। प्राथमिक तरंगे सबसे तेज गति से चलती हैं।

प्रश्न 6.
गुरुत्वाकर्षण तथा चुम्बकीय क्षेत्र किस प्रकार भूकम्प सम्बन्धी सूचना देते हैं?
उत्तर:
अन्य अप्रत्यक्ष स्रोतों में गुरुत्वाकर्षण, चुम्बकीय क्षेत्र व भूकम्प सम्बन्धी क्रियाएँ शामिल हैं। पृथ्वी के धरातल पर भी विभिन्न अक्षांशों पर गुरुत्वाकर्षण बल एक समान नहीं होता। है। यह (गुरुत्वाकर्षण बल) ध्रुवों पर अधिक एवं भूमध्यरेखा पर कम होता है। पृथ्वी के केन्द्र से दूरी के कारण गुरुत्वाकर्षण बल ध्रुवों पर कम और भूमध्य रेखा पर अधिक होता है। गुरुत्व का मान पदार्थ के द्रव्यमान के अनुसार भी बदलता है।

पृथ्वी के भीतर पदार्थों का असमान वितरण भी इस भिन्नता को प्रभावित करता है अलग-अलग स्थानों पर गुरुत्वाकर्षण की भिन्नता अनेक अन्य कारकों से भी प्रभावित होती है। इस भिन्नता को गुरुत्व विसंगति (Gravity anomaly) कहा जाता है। गुरुत्व विसंगति हमें भूपर्पटी में पदार्थों के द्रव्यमान के वितरण की जानकारी देती है। चुम्बकीय सर्वेक्षण भी भूपर्टटी में चुम्बीय पदार्थ के वितरण की जानकारी देते हैं। भूकम्पीय गतिविधियाँ भी पृथ्वी की आन्तरिक जानकारी का एक महत्त्वपूर्ण स्रोत हैं।

प्रश्न 7.
सिस्मोग्राफ किसे कहते हैं इसका प्रयोग किस उद्देश्य के लिए किया जाता है?
उत्तर:
सिस्मोग्राफ (Seismographd) – एक यन्त्र है जिसके द्वारा भूकम्पीय तरंगें तथा तीव्रता मापी जाती है। इस यन्त्र में लगी एक सूई द्वारा पेपर पर भूकम्प का उद्गम (Focus) भूकम्पीय तरंगें की गति मार्ग तथा तीव्रता का ज्ञान होता है।

प्रश्न 8.
पृथ्वी की तीन मौलिक परतों के नाम गहराई, विस्तार तथा घनत्व बताएँ।
उत्तर:
पृथ्व का निर्माण करने वाली तीन मूल परतें हैं जिनका रचना भिन्न घनत्व वाले पदार्थों

  1. भृ – पृष्ठ (Crust)
  2. मैण्टल (Mantle)
  3. क्रोड (Core)

Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

प्रश्न 9.
निफे (Nife) से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर:
यह पृथ्वी की सबसे निचली तथा केन्द्रीय परत है। सबसे भारी परत है जिसका घनत्व 13 है। इसमें निकिल तथा फेरस (लोहा) धातुएँ अधिक हैं। इसलिए इसे (Nife = Nickle + Ferrous) कहा जाता है। इस परत की मोटाई 3500 km. है।

प्रश्न 10.
सीमा (Sima) से क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
सियारा से निचली परत को सीमा कहा जाता है । इस परत से सिलिका तथा मग्नीशिम धातुएँ अधिक मात्रा में मिलती हैं। इसलिए इस परत को सीमा (Sima= Silica+magnesium) कहा जाता है। इस परत की मोटाई 2800 km है। इसका औसत घनत्व 4.75 है। महासागरीय तल इसी परत से बना हुआ है।

प्रश्न 11.
सियाल (Sail) से क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
यह पृथ्वी का सबसे ऊपरी परत है। इसमें सिलिका तथा एल्यूमीनियम के अंश अधिक मात्रा में है। इन दोनों धातुओं के संयोग के कारण इस परत को सियाल (Sail = Silica Aluminimum) कहते हैं। इस परत की औसत गहराई 60 km है। इस परत का घनत्व 2.75 है। इस परत से महाद्वीपों का निर्माण हुआ है।

प्रश्न 12.
दुर्बलता मण्डल क्या है?
उत्तर:
दुर्बलता मण्डल (Asthenosphere) ऊपरी मैंटल परत का एक भाग है। यह 650 कि० मी० गहरा है। यह परत ठोस तथा लचीला गुन रखती है। इस परत का अनुमान प्रसिद्ध भूकम्प वैज्ञानिक गुट्नबर्ग ने लगाया था। यहाँ भूकंपीय लहरों की गति कम होती Asthenosphere का अर्थ है दुर्बलता।

प्रश्न 13.
अनुदैर्ध्य तथा अनुप्रस्थ तरंगों में अन्तर स्पष्ट करें।
उत्तर:
अनुदैर्ध्य तथा अनुप्रस्थ तरंगों में अन्तर
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

प्रश्न 14.
भूकम्पों के विभिन्न प्रकार बताएँ?
उत्तर:
उत्पत्ति के आधार पर भूकम्प निम्नलिखित प्रकार के हैं

  1. विवर्तनिक भूकम्प – सामान्यतः विवर्तनिक (Tectonic) भूकम्प ही अधिक आते हैं। ये भूकम्प भ्रंश तल के किनारे चट्टानों के सरक जाने के कारण उत्पन्न होते हैं।
  2. ज्वालामुखी भूकम्प – एक विशिष्ट वर्ग के विवर्तनिक भूकम्प को ही ज्वालामुखीजन्य (Volcanic) भूकम्प समझा जाता है। ये भूकम्प अधिकांशतः सक्रिय ज्वालामुखी क्षेत्रों तक ही सीमित रहते हैं।
  3. नियत भूकम्प – खनन क्षेत्रों में कभी-कभी अत्यधिक खनन कार्य से भूमिगत खानों की छत ढह जाती है। जिससे हलके झटके महसूस किये जाते हैं। इन्हें नियात (Collapse) भूकम्प कहा जाता है।
  4. विस्फोट भूकम्प – कभी-कभी परमाणु व रसायनिक विस्फोट से भी भूमि में कम्पन होती है। इस तरह के झटकों को विस्फोट (Explosion) भूकम्प कहते हैं।
  5. बाँध जनित भूकम्प – जो भूकम्प बड़े बाँध वाले क्षेत्रों में आते हैं, उन्हें बाँध जनित (Reservior induced) भूकम्प कहा जाता है।

प्रश्न 15.
प्रशान्त महासागरीय पेटी को ‘अग्नि वलय’ क्यों कहा जाता है?
उत्तर:
प्रशान्त महासागर के चारों ओर तटीय भागों में बहुत से सक्रिय ज्वालामुखी पाए जाते हैं। संसार क कुल 552 सक्रिय ज्वालामुखियों में से 403 ज्वालामुखी इस क्षेत्र में स्थित हैं। ये ज्वालामुखी प्रशान्त महासागर के चारों ओर एक वृत्त की भांति स्थित हैं। इनसे समय-समय पर उद्गार उत्पन्न होता रहता है। इस क्षेत्र के वृत्ताकार तथा सक्रिय ज्वालामुखियों के कारण इसे अग्नि वल (Ringe of Fire) भी कहा जाता है।

प्रश्न 16.
सुनामी किसे कहते हैं ? इनके विनाशकारी प्रभाव का एक उदाहरण दो ।
उतर:
सुनामी (Tsunami)-कई बार भूकम्प के कारण सागरीय लहरें बहुत ऊँची उठ जाती हैं। जापान में इन्हें सुनामी कहते है। यह तूफानी लहरें तटीय प्रदेशों में जान-मान की हानि करती हैं। सन् 1883 में क्राकटोआ विस्फोट से जो भूकम्प आया जिससे 15 मीटर ऊँची लहरें उठी तथा पश्चिमी जावा में 3600 व्यक्तियों की मृत्यु हो गई। 26 दिसम्बर, 2004 को इण्डोनेशिया के निकट केन्द्रित भूकम्प से हिन्दमहासागर में 30 मीटर ऊँची सुनामी लहरें जिससे लगभग 3 लाख व्यक्तियों की जानें गई। इण्डोनेशिया थाइलैंड, अण्डमान द्वीप तमिलनाडु तट तथा श्रीलंका के तटीय भागों में प्रलय समान तबाही हुई।

प्रश्न 17.
मैग्मा तथा लावा में अन्तर स्पष्ट करें।
उत्तर:
मैग्मा तथा लावा में अन्तर –
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

प्रश्न 18.
सक्रिय ज्वालामुखी तथा प्रसुप्त ज्वालामुखी में अन्तर बताएँ।
उत्तर:
सक्रिय ज्वालामुखी तथा प्रसुप्त ज्वालामुखी में अन्तर –
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

प्रश्न 19.
भू-पृष्ठ तथा अभ्यान्तर में अन्तर स्पष्ट करें।
उत्तर:
भू-पृष्ठ और अभ्यान्तर में अन्तर –
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

प्रश्न 20.
प्रसुप्त तथा मृत ज्वालामुखी में अन्तर स्पष्ट करें।
उत्तर:
प्रसुप्त तथा मृत ज्वालामुखी में अन्तर –
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
भूकम्पीय तरंगें कौन-कौन सी हैं? इनकी विशेषताओं का वर्णन करो। ये पृथ्वी की आन्तरिक संरचना की विभिन्नताओं की जानकारी कैसे देती हैं?
उत्तर:
पृथ्वी की आन्तरिक संरचना की जानकारी का सबसे महत्त्वपूर्ण स्रोत भूकम्पीय तरंगे हैं। भूकम्प के कारण पृथ्वी के धरातल के ऊपर तथा नीचे तरंगे उत्पन्न होती हैं। इन्हें भूकम्पीय तरंगें कहते हैं।
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना
ये तरंगे पृथ्वी के भीतर जिस स्थान से उत्पन्न होती है उसे उद्गम केन्द्र (Focus) कहते हैं। इस केन्द्र के ऊपर धरातल पर स्थित स्थान को अभिकेन्द्र (Epicentre) कहते हैं। जहां भूकम्पमापी यन्त्र (Seismography) द्वारा इन तरंगों का आलेखन किया जाता है । भूकम्पीय तरंगे तीन प्रकार की होती हैं –

1. अनुदैर्ध्य तरंगें (Longitudinal Waves) – ये ध्वनि तरंगें (Sound Waves) की भान्ति होती है। ये तरल गैस ठोस तीनों माध्यमों से गुजर सकती हैं। ये तरंगे आगे-पीछे एक-समान गति से चलती हैं। इन्हें प्राथमिक तरंगे (Primary waves) या केवल P-waves भी कहा जाता है।
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना
2. अनुप्रस्थ तरंगे (Transverse Waves) – ये तरंगे दोलन की दिशा पर समकोण बनाती हुई चलती हैं। इनकी गति धीमी होती हैं। ये तरंगें केवल ठोस माध्यम से ही गुजर सकती हैं। इन्हें साधरणत: माध्यमिक तरंगे (Secondary waves) या (S-waves) भी कहा जाता है।

3. धरातलीय तरंगें (Surface Waves) – ये तरंगें धरातल पर अधिक प्रभावकारी होती हैं। गहराई के साथ-साथ इनकी तीव्रता कम हो जाती है। ये एक लम्बे समय में पृथ्वी के भीतरी भागों तक पहुँच पाती हैं। ये तरंगें ठोस, तरल एवं गैसीय माध्यमों की सीमाओं से गुजरती हैं। इन्हें रैले तरंगें (Rayliegh waves) या (R-waves) भी कहा जाता है।
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 3 पृथ्वी की आंतरिक संरचना
इन भूकम्पीय तरंगों के वेग तथा संचरण मार्ग द्वारा पृथ्वी के आन्तरिक भागों में विभिन्न परतों के भौतिक गुणों का पता चलता है। इन तरंगों के वेग से विभिन्न परतों के घनत्व का पता चलता है। इन तरंगों के अध्ययन से निम्नलिखित तत्त्वों का पता चलता है –

  • भू-पृष्ठ विभिन्न प्रकार की चट्टानों का बना हुआ है।
  • पृथ्वी तीन परतों में विभाजित किया जा सकता है, जैसे-भू-पृष्ठ, मैण्टल तथा क्रोड।
  • भू-पृष्ठ, सबसे हल्की पस्त है जिसका औसत घनत्व 2.7 है।
  • क्रोड सबसे भारी परत है जिसका घनत्व 17.2 है।
  • 2900 किलोमीटर की गहराई तक तरंगों की निरन्तर गति से पता चलता है कि यह क्षेत्र ठोस पदार्थों से बना है।
  • पृथ्वी के अभ्यान्तर की मोटाई 3500 किमी है।
  • विभिन्न परतों में अन्तराल पाए जाते हैं जिनके कारण भूकम्पीय तरंगें अपना मार्ग बदल देती हैं।
  • क्रोड में अनुप्रस्थ तरंगों का न होना इस बात का सूचक है कि क्रोड के पदार्थ द्रव स्थिति में हैं।

प्रश्न 2.
भूकम्प किसे कहते हैं ? यह कैसे उत्पन्न होता है?
उत्तर:
भूकम्प (Earthquake) – भूपृष्ठ के किसी भी भाग के अचानक हिल जाने को भूकम्प कहते हैं । (Anearthquake isa sudden movement on the crust of the earth) इस प्रकार भूकम्प धरातल का कम्पन तथा दोलन है जिसके द्वारा चट्टानें ऊपर नीचे सरकती हैं। यह एक आकस्मिक एवं अस्थायी गति है। भूकम्प अपने केन्द्र से चारों ओर तरंगों के माध्यमों से आगे बढ़ता है।

भूकम्प के कारण – प्राचीन काल में लोग भूकम्प को भगवान् का कोप मानते थे, परन्तु वैज्ञानिकों के अनुसार भूकम्प के निम्नलिखित कारण हैं:
1. ज्वालामुखी उद्गार (Volcanic Fruption) – ज्वालामुखी विस्फोट में शक्ति होती है जिससे निकट स्थान के समीपवर्ती क्षेत्र काँप उठते हैं । सन् 1883 में क्राकटोआ विस्फोट से

2. दूर-दूर तक भूकम्प अनुभव किए गए।
विवर्तनिक कारण (TectonicCauses) – पृथ्वी की भौतरी हलचलों के कारण धरातल पर चट्टानों में मोड़ तथा दरारें पड़ जाती हैं। दरारों के सहारे हलचल होती है और भूकम्प आते हैं।

3. पृथ्वी का सिकुड़ना (Contraction of Earth) – तापमान कम होने से पृथ्वी सिकुड़ती है तथा चट्टानों में हलचल के कारण भूकम्प आते हैं।

4. लचक शक्ति (Elasticity of Rocks) – जब किसी चट्टान पर दबाव पड़ता तो वह चट्टान उस दबाव को वापस धकेलती है।

प्रश्न 3.
पृथ्वी की आंतरिक संरचना की विवेचना कीजिए।
उत्तर:
पृथ्वी की आंतरिक संरचना – आस्ट्रिया भू-वैज्ञानिक स्बेस (Suess) के अनुसार महादेशों की तलछटी चट्टानों के नीचे पृथ्वी की तीन मुख्य परतें हैं-ऊपरी परत, मध्यवर्ती परत और केन्द्रीय पिंक जिनको उन्होंने क्रमशः सियाल, सीमा तथा नीफे कहा है।

1. ऊपरी परत – महादेशों की तलछटी चट्टानों के ठीक नीचे एक ऐसी चट्टानों की परत है जो ग्रेनाइट से बहुत मिलती-जुलती है । इस परत का नाम स्वेस ने सियल दिया है कि क्योंकि इस परत की चट्टानों के ही मुख्य तत्त्व सिलिकन तथा एल्युमिनियम है। इस परत का घनत्व 2.75 से 2.90 तक है। Sial का अर्थ है – Sial = Silicon + Aluminium है, इस परत की औसत गहराई 60 संख्या है।

2. मध्यवर्ती परत – सियाल के नीचे भारी चट्टानों की एक मोटी परत है। इसमें आग्नेय चट्टानों जैसे बेसाल्ट और ग्रैबो की प्रधानता है। इस परत का नाम सीमा (Sima) है क्योंकि इसके दो मुख्य तत्त्व सिलिकन तथा मैग्नेशियम है। इस परत का घनत्व 2.90 से 4.75 तक है।

केन्द्रीय पिण्ड – पृथ्वी की तीसरी परत भूगर्भ का केन्द्रीय भाग है। इसमें मुख्यतः निकेल तथा लोहा जैसे भारी धातुओं का बाहुल्य है। इस परत का नाम निफे (Nife) दिया गया है। जिसका औसत घनत्व 12 से कुछ कम होता है। और Nife का अर्थ Nife = Nickle + Ferrous है जिसकी मुटाई 3500 Km. लगभग है।

Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 9 सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान

   

Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 9 सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान Textbook Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 9 सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान

Bihar Board Class 11 Geography सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान Text Book Questions and Answers

 

(क) बहुवैकल्पिक प्रश्न एवं उनके उत्तर

सौर विकिरण ऊष्मा संतुलन एवं तापमान Bihar Board प्रश्न 1.
निम्न में से किस अक्षांश पर 21 जून की दोपहर में सूर्य की किरणें सीधी पड़ती हैं?
(क) विषुवत वृत पर
(ख) 23.5° उ०
(ग) 66.5° द०
(घ) 66.5° उ०
उत्तर:
(ख) 23.5° उ०

सौर विकिरण ऊष्मा संतुलन एवं तापमान के प्रश्न-उत्तर Bihar Board प्रश्न 2.
निम्न में से किन शहरों में दिन ज्यादा लंबा होता है?
(क) तिरुवनंतपुरम्
(ख) हैदराबाद
(ग) चंडीगढ़
(घ) नागपुर
उत्तर:
(घ) नागपुर (क)

सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान प्रश्न उत्तर Bihar Board प्रश्न 3.
निम्नलिखित में से किस प्रक्रिया द्वारा वायुमण्डल मुख्यतः गर्म होता है?
(क) लघु तरंगदैर्ध्य वाले सौर विकिरण से
(ख) लंबी तरंगदैर्ध्य वाले स्थलीय विकिरण से
(ग) परावर्तित सौर विकिरण से
(घ) प्रकीर्णित सौर विकिरण से
उत्तर:
(ख) लंबी तरंगदैर्ध्य वाले स्थलीय विकिरण से

Surya Vikiran Ko Samjhaie Bihar Board प्रश्न 4.
निम्न पदों को उसके उचित विवरण के साथ मिलाएँ –
Surya Vikiran Ko Samjhaie Bihar Board
उत्तर:
(i) (ग)
(ii) (घ)
(iii) (ख)
(iv) (क)

प्रश्न 5.
पृथ्वी के विषुवत् क्षेत्रों की अपेक्षा उत्तरी गोलार्द्ध के उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों का तापमान अधिकतम होता है, इसका मुख्य कारण है, क्या है ?
(क) विषुवतीय क्षेत्रों की अपेक्षा उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में कम बादल होती है।
(ख) उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में गर्मी के दिनों की लंबाई विषुवतीय क्षेत्रों से ज्यादा होती है।
(ग) उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में ‘ग्रीनहाउस प्रभाव’ विषुवतीय क्षेत्रो की अपेक्षा ज्यादा होती है।
(घ) उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्र विषुवतीय क्षेत्रों की अपेक्षा महासागरीय क्षेत्र के ज्यादा करीब है।
उत्तर:
(घ) उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्र विषुवतीय क्षेत्रों की अपेक्षा महासागरीय क्षेत्र के ज्यादा करीब है।

(ख) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए

प्रश्न 1.
पृथ्वी पर तापमान का असमान वितरण किस जलवायु और मौसम को प्रभावित करता है?
उत्तर:
पृथ्वी की सतह पर तापमान के असमान वितरण से कहीं तो जलवायु बहुत ही गर्म है, कहीं पर बहुत ठंडी है, कहीं पर बहुत शुष्क है तो कहीं पर बहुत नमी वाली है। जलवायु का सीधा प्रभाव वनस्पतियों, जीवो, जन्तुओं और मौसम पर पड़ता है, पृथ्वी की जलवायु कहीं पर बहुत ठंडी है तो कहीं पर बहुत गर्म है और कहीं पर बहुत आई है।

प्रश्न 2.
वे कौन-से कारक हैं जो पृथ्वी पर तापमान के वितरण को प्रभावित करते हैं।
उत्तर:
पृथ्वी पर तापमान के वितरण को छह प्रमुख कारण प्रभावित करते हैं –

  1. अक्षांश रेखा से दूरी
  2. समुद्र तल से ऊँचाई
  3. समुद्र से दूरी
  4. वायु संहित का परिसंचरण
  5. कोष्ण तथा ठण्डी महासागरीय धाराओं की उपस्थिति
  6. स्थानीय कारक

प्रश्न 2.
भारत में मई में तापमान सर्वाधिक होता है, लेकिन उत्तर अयनांत के बाद तापमान अधिकतम नहीं होता। क्यों?
उत्तर:
हम जानते हैं कि पृथ्वी पर सूर्यताप के कारणों के प्रमुख कारक अक्षांशीय विस्तार एवं सूर्य के अपने अक्ष पर 23\(\frac { 1 }{ 2 }\) का झुकाव है। मई के महीने में सूर्य की किरणें उत्तरी गोलार्द्ध में सीधी कर्क रेखा पर पड़ती है। जिसके कारण पृथ्वी का तापमान बढ़ता है। परंतु उत्तर आयनांत के कारण सूर्य की किरणों का नति कोष कम होता है। इस कारण सूर्य की तिरछी किरणें पृथ्वी के ज्यादा भाग पर पड़ती हैं जिसके फलस्वरूप तापमान अधिकतम नहीं होता।

प्रश्न 3.
साइबेरिया के मैदान में वार्षिक तापांतर सर्वाधिक होता है क्यों?
उत्तर:
क्योंकि, समताप रेखाएँ प्रायः अक्षांश के समानांतर होती हैं। कोष्ण महासागरीय धाराएँ गल्फ स्ट्रीम तथा उत्तरी अंधमहासागरीय ड्रिफ्ट की उपस्थिति से उत्तरी अंधमहासागर अधिक गर्म होता है तथा समताप रेखाएँ उत्तर की तरफ मुड़ जाती है। यह साइबेरिया के मैदान पर ज्यादा स्पष्ट होता है। 60°E देशांतर के साथ-साथ 80° उत्तरी एवं 50° उत्तरी दोनों ही अक्षांशों पर जनवरी का मध्य तापमान 20° सेल्यिस पाया जाता है।

प्रश्न 4.
सूर्यताप क्या है? इसे प्रभावित करने वाले कारकों का वर्णन करें।
उत्तर:
सूर्य से पृथ्वी तक पहुंचने वाली विकिरण ऊर्जा से पृथ्वी पर पहुंचती है। सूर्यताप को प्रभावित करने वाले कारक इस प्रकार है

  • सूर्य की किरणों को झुकाव।
  • सूर्यताप पर वायुमंडल का प्रभाव।
  • स्थल एवं जल का प्रभाव।
  • दिन की लम्बाई अथवा धूप की अवधि।
  • सूर्य से पृथ्वी की दूरी।

सूर्य किरणों की झुकाव यदि तिरछी हुई तो उसका फैलाव अधिक होगा और सूर्यताप कम प्राप्त होता । लेकिन जब सूर्य की किरणें लम्बवत पड़ेगी तो कम क्षेत्र गर्म होगा । परिणामतः भूमध्य रेखा पर अधिकतम तथा धूवों पर न्यूनतम सूर्य ताप प्राप्त होता है। वायुमंडल में मेघ, आर्द्रता, धूल-कण आदि परिवर्तनशील दशाएँ सूर्य से आनेवाली सूर्यताप को अवशोषित, परावर्तित तथा प्रकीर्णिन करती है जिससे सूर्यताप में परिवर्तन आ जाता है। स्थलीय धरातल शीघ्रता से गर्म होते हैं जबकि जलीय धरातल धीरे-धीरे कम होते हैं। इसलिए स्थल पर तापांतर काफी अधिक होती है जबकि जल पर यह अंतर साधारण होता है।

गृष्म ऋतु में दिन की लम्बाई अधिक होती है और सूर्यताप अधिक प्राप्त होता है जबकि शीत ऋतु में दिन छोटे होने से सूर्यताप कम प्राप्त होते हैं। भूमध्य रेखा पर वर्ष भर सूर्यताप एक समान होता है जबकि ध्रुवों पर ऐसी बात नहीं होती क्योंकि वहाँ छ: महीने का दिन और छ: महीने का रात होता है। सूर्य पृथ्वी के नजदीक हो तो अधिक और दूर हो तो कम सूर्यताप प्राप्त होता है।

प्रश्न 5.
महासागरों के तापमान को प्रभावित करनेवाले किन्हीं तीन कारकों का परीक्षण करें।
उत्तर:
महासागरीय जल के तापमान को प्रभावित करने वाले कारकों में तीन प्रमख हैं जो निम्नलिखित हैं –

  1. अक्षांश – महासागरीय जल का तापमान भूमध्य रेखा पर अधिकतम तथा ध्रुवों पर न्युनतम होता है।
  2. प्रचलित पवनें – ये हवायें अपने साथ समुद्र तल के जल को बहा ले जाती है, जिसकी पूर्ति हेतु समुद्र के निचले भाग से ठण्डा जल उपर आ जाता है। इस प्रकार जिस ओर से वायु चलती है वहाँ समुद्र जल का तापमान कम तथा जिस ओर वायु चलती है वहाँ तापमान अधिक होता है।
  3. लवणता – समुद्रीजल के तापमान पर लवणता का भी प्रभाव पड़ता है। अधिक लवणता वाला जल अधिक उष्मा ग्रहण कर सकता है। अत: उसका तापमान भी अधिक होता है।

(ग) निम्नलिखिल प्रश्नों के उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए

प्रश्न 1.
अक्षांश और पृथ्वी के अक्ष का झुकाव किस प्रकार पृथ्वी की सतह पर प्राप्त होने वाली विकिरण की मात्रा को प्रभावित करते हैं?
उत्तर:
अक्षांश (Latitude) – किसी भी अक्षांश पर तापमान सूर्य की किरणों के कोण पर निर्भर करता है। भूमध्य रेखा से ध्रुवों की तरफ जाते हुए तापमान लगातार कम होता जाता है। भूमध्य रेखा पर सारा वर्ष सूर्य की किरणें लम्बवत पड़ती हैं तथा इन प्रदेशों में उच्च तापमान पाए जाते हैं। ध्रुवों की ओर तिरछी किरणें के कारण कम तापमान पाए जाते हैं।

पृथ्वी गोलाकार (geoid) है। सूर्य की किरणें वायुमण्डल के ऊपरी भाग पर तिरछी पड़ती हैं जिसके कारण पृथ्वी सौर ऊर्जा के बहुत कम अंश को ही प्राप्त कर पाती है। पृथ्वी औसत रूप से वायुमण्डल की ऊपरी सतह पर 0.5 कैलोरी प्रति वर्ग सेन्टीमीटर। प्रति मिनट ऊर्जा प्राप्त करती है। वायुमण्डल की ऊपरी सतह पर प्राप्त होने वाली ऊर्जा में प्रतिवर्ष थोड़ा परिवर्तन होता है। यह परिवर्तन पृथ्वी और सूर्य के बीच की दूरी में अंतर के कारण होता है। सूर्य के चारों ओर परिक्रमण के दौरान पृथ्वी 4 जुलाई को सबसे दूर अर्थात् 15 करोड़ 20 लाख किलोमीटर दूर होती है।

पृथ्वी की इस स्थिति को अपसौर (aphelion) कहा जाता है। 3 जनवरी को पृथ्वी सूर्य के सबसे निकट अर्थात् 14 करोड़ 70 लाख किमी दूर होती है । पृथ्वी की इस स्थिति को ‘उपसौर’ (Perihelion) कहा जाता है। इसलिए पृथ्वी द्वारा प्राप्त वार्षिक सूर्यताप (Insolation) 3 जनवरी की अपेक्षा 4 जुलाई को अधिक होता है फिर भी सूर्यातप की भिन्नता का यह प्रभाव दूसरे कारकों, जैसे स्थल एवं समुद्र का वितरण तथा वायुमण्डल परिसंचरण के द्वारा कम हो जाता है। यही कारण है कि सूर्याताप की यह भिन्नता पृथ्वी की सतह पर होने वाले प्रतिदिन के मौसम परिवर्तन पर अधिक प्रभाव नहीं डाल पाती है।

प्रश्न 2.
पृथ्वी और वायुमण्डल किस पकार ताप को संतुलित करते हैं? इसकी व्याख्या करें?
उत्तर:
पृथ्वी विद्युत परिपथ में एक ट्रांसफार्मर का कार्य करती है। यह एक तरफ से कर्जा प्राप्त करती है तथा दूसरी तरफ से प्रेक्षित कर देती है। सूर्य पृथ्वी को गर्म करता है और पृथ्वी वायुमण्डल को गर्म करती है। प्रकृति संपूर्ण पृथ्वी पर संतुलन बनाए रखने के लिए ऐसी क्रियाविधि को जन्म देती है जिससे ऊष्मा का स्थानांतरण ऊष्णकटिबंध से उच्च अक्षांशों की ओर वायुमण्डलीय परिसंचरण तथा महासागरीय धाराओं द्वारा सम्पन्न होता है। मान लो वायुमण्डल की ऊपरी सतह पर प्राप्त होने वाला ताप 100 इकाई है। इसमें से केवल 51 इकाई ताप ही पृथ्वी पर पहुंचता है।

49 इकाई ताप वायुमण्डल तथा अंतरिक्ष में परावर्तित हो जाता है। 35 इकाई ताप तो पृथ्वी के धरातल पर पहुंचने से पहले ही अंतरिक्ष में परावर्तित हो जाता है। इसमें से 6 इकाई अंतरिक्ष में प्रकीर्णन द्वारा, 27 इकाई ताप मेघों द्वारा परावर्तित होता है तथा 2 इकाई पृथ्वी द्वारा परावर्तित हो जाता है। सौर विकिरण की इस परावर्तित मात्रा को पृथ्वी का एल्बिडो कहते हैं। शेष 65 इाकईयों में से 14 इाकई ताप वायुमण्डल द्वारा अवशोषित होता है।

इस प्रकार पृथ्वी पर 100 इकाईयों में से 14 इकाई ताप वायुमण्डल द्वारा अवशोषित होता है। इस प्रकार पृथ्वी पर 100 इकाईयों में से 51 इकाई ताप ही पहुंच पाता है। पृथ्वी द्वारा अवशोषित 51 इकाइयाँ भौमिक विकिरण (Terrestrial Radiation) के रूप में लौट जाती है। इनमें से 17 इकाइयाँ तो सीधे अंतरिक्ष में लौट जाती हैं और 34 इकाइयाँ वायुमण्डल द्वारा अवशोषित होती हैं।

वायुमण्डल द्वारा अवशोषित 48 इकाइयाँ (14 इकाइयाँ सूर्याताप से तथा 34 इकाइयाँ भौमिक विकिरण से) पुन: अंतरिक्ष में लौट जाती हैं। इस प्रकार पृथ्वी और उसके वायमुण्डल को प्राप्त उसके वायुमण्डल को प्राप्त हुई उष्मा उनके द्वारा छोड़ी गई उष्मा के बराबर है। पृथ्वी तथा वायुमण्डल द्वारा प्राप्त ताप तथा उसके द्वारा ताप के हास के संतुलन को ऊष्मा संतुलन कहते हैं।

प्रश्न 3.
जनवरी में पृथ्वी के उत्तरी और दक्षिणी गोलार्द्ध के बीच तापमान के विश्वव्यापी वितरण की तुलना करें।
उत्तर:

  1. जनवरी में अधिकतम तापमान महाद्वीपों पर पाया जाता है। दक्षिणी अमेरिका, अफ्रीका तथा आस्ट्रेलिया के स्थल खंडों पर तापमान 30°C से अधिक होता है। उच्चतम ताप मकर रेखा के साथ-साथ पाया जाता है।
  2. जनवरी मास में न्यूनतम तापमान उत्तर:पूर्वी एशिया में पाया जाता है। साइबेरिया में वरखोयस्क में-32°C तक निम्नतम तापमान पाया जाता है।
  3. उत्तरी गोलार्द्ध में समताप रेखाएँ महासागरों पर ध्रुवों की ओर तथा महाद्वीपों पर भूमध्य रेखा की ओर झुकी होती है।
  4. दक्षिणी गोलार्द्ध में समताप रेखाएँ महासागरों पर भूमध्य रेखा की ओर तथा महाद्वीपों ध्रुवों की ओर झुकी होती हैं।
  5. दक्षिणी गोलार्द्ध में समताप रेखाएँ नियमित रूप तथा सूर्य-पश्चिम दिशा में अक्षांशों के समानान्तर पाई जाती है, क्योंकि यहाँ जल की अधिकता है, लेकिन उत्तरी गोलार्द्ध में
  6. रेखाएँ अनियमित होती हैं । दक्षिणी गोलार्द्ध में 30°C की समताप रेखा उत्तर:पश्चिमी एजेन्टीना, अफ्रीका के पूर्वी भाग, वोर्नियों तथा आस्ट्रेलिया से होकर गुजरती है।

(घ) परियोजना कार्य (Project Work)

प्रश्न 1.
अपने शहर के आस-पास की किसी वेधशाला का पता लगाएँ। वेधशाला की मौसम विज्ञान संबंधी सारणी में दिए गए तापमान को तालिकाबद्ध करें।
उत्तर:

  1. वेधशला की तुंगता अक्षांश और उस समय को जिसके लिए माध्य निकाला गया है, लिखें
  2. सारणी में तापमान के संबंध में दिए गये पदों को परिभाषित करें।
  3. एक महीने तक प्रतिदिन के तापमान के माध्य की गणना करें।
  4. ग्राफ द्वारा प्रतिदिन का अधिकतम माध्य तापमान, न्यूनतम माध्य तापमान तथा कुल माध्य तापमान दर्शायें।
  5. वार्षिक तापांतर की गणना करें।
  6. पता लगायें कि किन महीनों का माध्य तापमान सबसे अधिक और सबसे कम है।
  7. उन कारकों को लिखें, जो किसी स्थान को तापमान का निर्धारण करते हैं और जनवरी, मई, जुलाई और अक्टूबर में होने वाले तापमान के अंतर के कारणों को समझाएं।

उदाहरण :
वेधशाला : नई दिल्ली सफदरजंग
अक्षांश : 28°35°N
अवलोकन वर्ष : 1951 से 1980
समुद्री सतह के माध्यम से तुंगता : 216 मी
महीना : जनवरी, मई

प्रतिदिन के अधिकतम तापमान का।
माध्य (°C) : 21.1,39.6

प्रतिदिन के न्यूनतम तापमान का
माध्य (°C) : 73, 259
उच्चतम तापमान (°C) : 293, 472
न्यूनतम तापमान (°C) : 0.6, 175

एक महीने के प्रतिदिन का माध्य तापमान :
जनवरी \(\frac { 211 + 7.3 }{ 2 }\) = 14.2°C
मई \(\frac { 39.6 + 25.9 }{ 2 }\) = 32.25°C

वार्षिक तापांतर:
मई का अधिकतम माध्य ताप-जनवरी का माध्य तापमान
वार्षिक तापांतर = 32.75°C – 14.2C° = 18.55°C

विद्यार्थी शेष भाग स्वयं करें – वार्षिक ताप परिसर – वर्ष में सबसे गर्म तथा सबसे ठण्डे माह के औसत तापमानों के अंतर को वार्षिक ताप परिसर कहते हैं। उत्तरी गोलार्ड के मध्य तथा उच्च अक्षांशों में महाद्वीपों के आंतरिक भागों में वार्षिक ताप परिसा बहुत अधिक होता है। विश्व में सबसे अधिक वार्षिक ताप परिसर 68° से० साइबेरिया के वरखोयास्क नामक स्थान पर होता है। शीत ऋतु में यहाँ पर -50° से. तापमान हो जाता है जिस कारण इसे पृथ्वी का ‘शीत-ध्रुव’ कहा जाता है।

तापमान के वितरण को प्रभावित करने वाले कारक –

  • अक्षांश अथवा भूमध्य रेखा से दूरी
  • स्थल और जल की विषमता अथवा समुद्र तट से दूरी
  • उच्चावच एवं ऊँचाई अथवा समुद्र तल से ऊंचाई
  • महासागर धाराएँ
  • वनस्पति आवरण और
  • भू-तल का स्वभाव

Bihar Board Class 11 Geography सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान Additional Important Questions and Answers

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
अभिवहन किसे कहते हैं?
उत्तर:
वायु के क्षैतिज संचलन के माध्यम से ऊष्मा का स्थानान्तरण अभिवन कहलाता है। मध्य अक्षांशों में अधिकांश दैनिक मौसमी परिवर्तन केवल अभिवहन द्वारा उत्पन्न होते हैं।

प्रश्न 2.
संवहन किसे कहते हैं?
उत्तर:
ताप का उर्ध्वाधर मिश्रण या प्रक्षोभ संवहन कहलाता है। यह उष्मा स्थानान्तरण की एक विधि है। यह विधि वायुमण्डल की निचली परतों को गर्म करने के लिए महत्त्वपूर्ण है।

प्रश्न 3.
तापमान क्या है?
उत्तर:
किसी तंत्र में संवेदय या उपलब्ध ऊष्मा को तापमान कहते हैं। यह किसी वस्तु की उष्णता अथवा ठण्डक की माप है।

प्रश्न 4.
तापमान व्युत्क्रमण क्या होता है?
उत्तर:
तापमान ऊंचाई के साथ घटता जाता है, परन्तु जब स्थिति विपरीत हो जाती है, तब इसे तापमान व्युत्क्रमण कहते हैं।

प्रश्न 5.
वायु अपवाह से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर:
पहाड़ियों तथा पर्वतों पर रात में ठंडी हवा गुरुत्वाकर्षण बल के प्रभाव से लगभग जल की तरह कार्य करती है और ढाल के साथ ऊपर से नीचे उतरती है। यह घाटी में गर्म हवा के नीचे एकत्र हो जाती है। इसे वायु अफवाह कहते हैं। वायु अपवाह पाले से पौधों की रक्षा करती है।

प्रश्न 6.
सूर्य से विकरित ऊर्जा कहाँ से आती है?
उत्तर:
सूर्य से विकरित ऊर्जा इसके क्रोड में होने वाली आणविक प्रतिक्रियाओं से आती है, जहाँ तापमान 15,000,000°C के लगभग है।

प्रश्न 7.
लघु तरंगें क्या होती हैं ? ..
उत्तर:
पृथ्वी पर सूर्य से विकिरित ऊर्जा विद्युत चुम्बकीय तरंगों के रूप में प्रसारित होती है, जिन्हें लघु तरंगें कहते हैं। इन तरंगों का वेग लगभग 2,98,000 किमी प्रति सेकेण्ड है।।

प्रश्न 8.
‘सूर्यताप’ किसे कहते हैं?
उत्तर:
पृथ्वी पर आने वाले सूर्य विकिरण को सूर्यातप कहते हैं। सूर्यताप विषुवत् रेखा पर सर्वाधिक होता है तथा ध्रुव की ओर घटता जाता है।

प्रश्न 9.
पार्थिव विकिरण किसे कहते हैं?
उत्तर:
सूर्य अंतरिक्ष में लघु तरंग विकिरण का उत्सर्जन करता है, पृथ्वी दीर्घ तरंगों में ऊर्जा विकिरित करती है, इसे पार्थिव विकिरण कहते हैं।

प्रश्न 10.
प्रत्यक्ष विकिरण का क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
सूर्यताप की 100 इकाइयों में केवल 2 इकाइयाँ सीधे भू-पृष्ठ पर पहुँचती हैं। सौर कर्जा वायुमण्डल की ऊपरी सीमा पर पहुंचती है और धीरे-धीरे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से पृथ्वी के धरातल पर आती है और अवशोषित हो जाती है। इस कर्जा प्रवाह को प्रत्यक्ष विकिरण कहते हैं।

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
समताप रेखाएँ मौसम के अनुसार उत्तर और दक्षिण की ओर क्यों खिसकती है?
उत्तर:
समताप रेखाओं की स्थिति सूर्यताप की अधिकतम मात्रा के अनुसार होती है। सूर्य की लम्बवत् किरणें मौसम के अनुसार बदलती रहती है। जून में सूर्य कर्क रेखा पर लम्बवत् चमकता है जबकि दिसम्बर में मकर रेखा पर । परिणामस्वरूप ग्रीष्मकाल में सूर्यताप की अधिकतम मात्रा उत्तरी गोलार्द्ध में शीतकाल में दक्षिणी गोलार्द्ध में होती है। इसलिए समताप रेखाएँ ग्रीष्मकाल में कुछ उत्तर की ओर तथा शीतकाल में दक्षिणी की ओर खिसक जाती है।

समताप रेखाएँ स्थल पर अधिक खिसकती हैं। स्थल तथा जल में गर्म होने की मात्रा में एक असमानता पाई जाती है। स्थल भाग शीघ्र ही गर्म तथा शीघ्र ही ठंडे हो जाते हैं। परन्तु जल भाग देर से गर्म तथा देर से ठंडे होते है। स्थल भाग के तापमान में मौसमों के अनुसार अधिक अंतर पाए जाते हैं, परन्तु सागरों में तापमान में कम अंतर होता है। इसलिए स्थल भाग पर समताप रेखाएँ मौसमों के अनुसार खिसकती हैं।

प्रश्न 2.
दक्षिणी गोलार्द्ध की अपेक्षा उत्तरी गोलार्द्ध में समताप रेखाएँ अधिक अनियमित क्यों होती हैं?
उत्तर:
जल तथा स्थल के गर्म होने की दर में असमानता के कारण समताप रेखाएँ महासागर से महाद्वीप पर या महाद्वीप से महासागर पर आते समय कुछ मुड़ जाती हैं। ये उत्तर गोलार्द्ध में जुलाई में समताप रेखाएँ महासागरों पर से गुजरते समय भूमध्य रेखा की ओर तथा महाद्वीपों पर से गुजरते समय ध्रुवों की ओर मुड़ जाती हैं। दक्षिणी गोलाद्ध में इसकी विपरीत दिशा होती है। इसके दो कारण हैं

  1. जल तथा स्थल के गर्म होने की मात्रा में असमानता।
  2. जल तथा स्थल खण्डों का असमान वितरण ।

उत्तरी गोलार्द्ध में स्थल खण्ड का विस्तार अधिक है। इसलिए समताप रेखाएँ अनियमित हो सकती हैं। दक्षिणी गोलार्द्ध में महासागरों का अत्यधिक विस्तार है तथा समताप रेखाएँ लगभग सीधी तथा नियमित होती हैं।

प्रश्न 3.
सूर्यातप की मात्रा सूर्य की किरणों के आयतन कोण से किस प्रकार संबंधित हैं ?
उत्तर:
धरातल पर प्राप्त होने वाले सौर विकिरण को सूर्यातप कहते हैं। सूर्यातप की मात्रा सूर्य को किरणों के आयतन कोण पर निर्भर करती है।

  1. लम्ब किरणें तिरछी किरणों की अपेक्षा कम स्थान घेरती हैं। इस प्रकार प्रति इकाई क्षेत्र प्राप्त ताप अधिक होता है।
  2. लम्ब किरणों को तिरछी किरणों की अपेक्षा वायुमण्डल का थोड़ा भाग पार करना पड़ता है, इसलिए वायुमण्डल में मिली गैसे, जलवाष्प, द्वारा अवशेषण, परावर्तन तथा बिखराव से सूर्याताप की मात्रा कम नष्ट होती है।

प्रश्न 4.
वायुमण्डल सूर्यातप की अपेक्षा भौमिक विकिरण से अधिक कम क्यों होता है?
उत्तर:
सूर्य की किरणें सीधे रूप से वायुमण्डल को गर्म नहीं करती हैं। सूर्य से प्राप्त किरणें लघु तरंगों के रूप में वायुमण्डल से गुजरती हैं। वायमण्डल इन किरणों को अवशोषित नहीं कर पाता । ये किरणें भूतल को गर्म करती हैं। भूतल से विकिरण दीर्घ तरंगों के रूप में होता है। वायुमण्डल इन किरणों का भली प्रकार अवशोषण कर लेता हैं। इस भौमिक विकिरण से ही वायुमण्डल गर्म होता है। इसलिए वायुमण्डल नीचे से ऊपर की ओर गर्म होता है। सूर्य अंतरिक्ष में ऊर्जा का वितरण लघु तरंगों के रूप में करता है, जबकि पृथ्वी दीर्घ तरंगों को अंतरिक्ष में विकरित करती है।

प्रश्न 5.
सूर्य द्वारा विकिरित ऊर्जा का कितना भाग पृथ्वी द्वारा प्राप्त किया जाता है ?
उत्तर:
सौर ऊर्जा का लगभग 51 प्रतिशत भाग पृथ्वी पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से पहुँचता है। सूर्य पृथ्वी को गर्म करता है और पृथ्वी वायुमण्डल को गर्म करती हैं।

प्रश्न 6.
धरातल पर पड़ने वाली सूर्य किरणों का कोण किस प्रकार सर्यातप को प्रभावित करता है?
उत्तर:
पृथ्वी का अक्ष कक्ष तल 66° से 30° का कोण बनाते हुए झुका हुआ है। पृथ्वी के अक्ष के झुकाव के कारण भू-पृष्ठ पर पड़ने वाली सूर्य की किरणों के कोण में भिन्नता होती . है। जब उत्तरी गोलार्द्ध सूर्य की ओर झुका होता है, तब यह सर्वाधिक सूर्यातप प्राप्त करता है। 21 दिसम्बर को सूर्य मकर रेखा के ठीक ऊपर होता है और दक्षिणी गोलार्द्ध सर्वाधिक प्रकाश प्राप्त करता है। उष्णकटिबंधीय क्षेत्र सर्वाधिक सूर्यातप प्राप्त करते हैं। जैसे-जैसे विषुवत् रेखा की ओर बढ़ते हैं, सूर्यातप की गहनता कम होती जाती है, जिससे तापमान में गिरावट आती है।

प्रश्न 7.
समताप रेखाएँ क्या है ?
उत्तर:
समताप रेखाएँ काल्पनिक रेखाएँ हैं, जो समुद्र तल के अनुसार समान तापमान वाले स्थानों को मिलती हैं। समताप रेखाएँ सामान्यतः अक्षांश वृत्तों का अनुसरण करती हैं, क्योंकि वे तापमान विपर्यास का कारण है।

प्रश्न 8.
सूर्यातप और पार्थिव विकिरण में अंतर स्पष्ट करें।
उत्तर:
सूर्यातप और पार्थिव विकिरण में अंतर –
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 9 सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान

प्रश्न 9.
वायुमण्डल किस प्रकार गर्म होता है?
उत्तर:
पृथ्वी विद्युतज परिपथ में एक ट्रांसफार्मर का कार्य करती है। यह एक तरफ से ऊर्जा प्राप्त करती है तथा दूसरी तरफ से इसे प्रेक्षित कर देती है। सूर्य पृथ्वी को गर्म करता है और पृथ्वी वायुमण्डल को गर्म करती है। अवशोषित सौर ऊर्जा घरातलीय तापमान में वृद्धि करती है और बदले में स्थल एक ऊर्जा विकिरण (रेडियेटर) बन जाता है। सूर्य अंतरिक्ष में लघु तरंग विकिरण का उत्सर्जन करता है, पृथ्वी दीर्घ तरंगों में ऊर्जा विकिरित करती है। सौर ऊप वायुमण्डल की ऊपरी भाग सीमा तक पहुंचती है और वायुमण्डल को गर्म कर देती है।

प्रश्न 10.
अपवहन और संवहन में अंतर स्पष्ट करें।
उत्तर:
अपवहन और संवहन में अंतर –
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 9 सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान

प्रश्न 11.
सामान्य ह्रास दर और तापमान व्युत्क्रमण में अंतर स्पष्ट करें।
उत्तर:
सामान्य हास दर और तापमान व्युत्क्रमण में अंतर –
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 9 सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान

प्रश्न 12.
सूर्यातप और किसी स्थान के तापमान में क्या अंतर है?
उत्तर:
पृथ्वी पर पहुंचने वाले सौर विकिरण को सूर्यातप कहते हैं। यह ऊर्जा लघु तरंगें के रूप में 3 लाख किमी प्रति सकेण्ड की दर से पृथ्वी पर पहुँचती है। पृथ्वी पर सौर विकिरण का केवल 2 अरबवाँ भाग ही पहुँचता है। किसी स्थान के तापमान से अभिप्रायः उस स्थान पर धरातल से एक मीटर की वायु से ऊष्मा की मात्रा है। वह वायुमण्डल का तापमान है। वायु धरातल द्वारा छोड़ी गई ऊर्जा के विकिरण से गर्म होती है।

प्रश्न 13.
तापमान के क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर वितरण से क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
क्षैतिज वितरण-अक्षांशों के अनुसार तापमान घटता-बढ़ता रहता है। अक्षांशों के अनुसार तापमान के वितरण को क्षैतिज वितरण कहते हैं। यह वितरण समताप रेखाओं द्वारा प्रकट किया जाता है। ऊर्ध्वाधर वितरण-वायुमण्डल मुख्यतः नीचे से ऊपर की ओर गर्म होता है। इसलिए ऊँचाई के साथ तापमान कम होता है। तापमान कम होने पर 1°C प्रति 165 मीटर है। इसे सामान्य ह्रास दर कहते हैं।

प्रश्न 14.
विभिन्न अक्षांशों पर सूर्यातप की मात्रा भिन्न-भिन्न क्यों होती है?
उत्तर:
सूर्यातप की मात्रा सूर्य किरणों के आयतन कोण तथा दिन की अवधि पर निर्भर करती है। पृथ्वी की वार्षिक गति तथा पृथ्वी के अक्ष के झकाव के कारण भिन्न अक्षांशों पर सूर्य किरणों का कोण भिन्न-भिन्न होता है तथा दिन की अवधि भी समान नहीं होती। भूमध्य रेखा से ध्रुवों की ओर सूर्य की किरणों का तिरछापन बढ़ता जाता है तथा दिन की अवधि भी बढ़ती जाती है। इसलिए भिन्न-भिन्न अक्षांशों पर सूर्यातप की मात्रा में भिन्नता पाई जाती है। एक ही अक्षांश पर सूर्यातप की मात्रा अन्य स्थानों पर बराबर होती है।

प्रश्न 15.
दैनिक तथा वार्षिक तापांतर से क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
दैनिक तापांतर-किसी स्थान पर उस दिन के उच्चतम तथा न्यूनतम तापमान के अंतर को उस स्थान का दैनिक तापांतर कहते हैं। यह तटीय प्रदेशों में कम होता है। दैनिक तापांतर अन्दरुनी भागों तथा मरुस्थलीय प्रदेशों से अधिक होता है। वार्षिक तापांतर-किसी वर्ष के सबसे गर्म तथा सबसे ठंडे महीनों के औसत मासिक तापमान के अंतर को वार्षिक तापांतर कहते हैं। प्रायः जुलाई मास को सबसे गर्म तथा जनवरी मास को सबसे ठंडा मास लिया जाता है। सबसे अधिक वार्षिक तापांतर साइबेरिया में बरखोयास्क में 38°C होता है।

प्रश्न 16.
समताप रेखाओं की दिशा अधिकतर पूर्व-पश्चिम क्यों रहती है?
उत्तर:
किसी अक्षांश रेखा पर स्थित सभी स्थानों पर सूर्य की किरणों का कोण तथा दिन की लम्बाई बराबर होती है इसलिए इन स्थानों पर सूर्यताप की मात्रा समान होती है। इन स्थानों ‘का तापमान भी समान होता है । इस प्रकार समान तापमान वाले स्थानों को आपस में मिलाने वाली रेखा को समताप रेखा कहते हैं। इसी कारण समताप रेखाओं और अक्षांश रेखाओं में अनुरूपता पाई जाती है। समताप रेखाएँ अक्षांश रेखाओं का अनुकरण करते हुए पूर्व से पश्चिम दिशा में फैली होती हैं।

प्रश्न 17.
ऊष्मा बजट किसे कहते हैं ? सूर्यातप की वार्षिक मात्रा का वितरण बताओ।
उत्तर:
पृथ्वी पर औसत तापमान 35°C है। सूर्यातप एवं भौमिक विकिरण के कारण पृथ्वी के ताप में संतुलन रहता है, पृथ्वी जितनी मात्रा में सौर ऊर्जा प्राप्त करती है, उतनी ही मात्रा में ऊर्जा भौमिक विकिरण द्वारा अंतरिक्ष में लौट जाती है। इसे ऊष्मा बजट करते हैं।

सूर्यातप का वार्षिक वितरण –

  • ऊष्ण कटिबन्ध में सूर्यातप की मात्रा सबसे अधिक होती है।
  • 40° अक्षांश पर सूर्यातप की मात्रा कम होकर 75% रहती है।
  • 66\(\frac { 1° }{ 2 }\) – अक्षांश पर सूर्यातप की मात्रा 50° रहती है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
तापमान प्रतिलोप अथवा व्युत्क्रम पर विचार करें। इसके जलवायुविक आशय क्या-क्या हैं?
उत्तर:
तापमान प्रतिलोम – ऊँचाई के बढ़ने के साथ-साथ 1°C प्रति 165 मीटर की दर से तापमान कम होता है, परन्तु कई बार स्थायी या अस्थाई रूप से ऊंचाई के साथ-साथ रापमान में वृद्धि होती है। ऐसी स्थिति में जब ठंडी वायु धरातल के निकट और गर्म वायु इसके ऊपर हो तो इसे तापमान प्रतिलोम कहते हैं।

तापमान प्रतिलोम के लिए आदर्श दशाएँ –

  • लम्बी रातें – जाड़ों की लम्बी रातों में पृथ्वी से विकिरण अधिक होने से धरातल के निकट ठण्डी परतें पाई जाती हैं।
  • स्वच्छ आकाश – रात को स्वच्छ आकाश तथा ऊँचे मेघों के कारण भी विकिरण अधिक होता है।
  • शांत वायु – शांत वायु के कारण वायु में गति नहीं होती तथा घरातलीय सतह शीघ्र ही ठण्डी हो जाती हैं।
  • शीत – शुष्क वायु-शीत शुष्क वायु पृथ्वी का बहुत-सा ताप सोख कर इसे ठंडा कर देती है।
  • हिमाच्छादित प्रदेश-बर्फ से ढका धरातल नीचे की गर्मी को ऊपर जाने से रोकता है।

तापमान प्रतिलोम के प्रकार –
1. धरातलीय प्रतिलोम – यह तापमान प्रतिलोम वायुमण्डल की निचली परतों में होता है। शीतकाल की लम्बी रातों में शीत-शुष्क वायु तथा स्वच्छ आकाश के धरातल पर विकिरण क्रिया से सारी ऊष्मा समाप्त हो जाती है। धरातल के निकट वायु की परत ठंडी हो जाती है तथा ऊपरी परत गर्म रहती है। तापमान ऊंचाई के साथ घटने की जगह बढ़ने लगता है इस प्रकार का प्रतिलोम ध्रुवीय प्रदेशों, उच्च अक्षांशों में तथा हिम से ढके प्रदेशों में होता है।

2. गत्यात्मक प्रतिलोम – इस प्रतिलोम में शीतल वायु राशियाँ कम ऊंचाई पर गर्म वायु से मिलती हैं तो धरातल के निकट की वायु ठण्डी हो जाती है। यह एक अस्थाई अवस्था होती है जो प्राय: चक्रवातों के प्रदेश में पाई जाती है।

3. वायु अफवाह प्रतिलोम – जब ऊंचे प्रदेशों से शीत वायु के पुंज निचली घाटियों में खिसकर इकट्ठे हो जाते हैं तो घाटी की गर्म वायु ऊपर उठ जाती है। इस प्रतिलोम के कारण पर्वतीय ढलानों पर फलों के बगीचे घाटियों में न लगाकर ढलानों पर लगाए जाते हैं।

4. जलवायुविक महत्त्व – तापमान विलोम का जलवायुविक महत्त्व है। इस स्थिति में वायु में संवाहन तथा मिश्रण क्रिया का अभाव होता है। वायु की ऊपरी परते शुष्क रहती हैं। निचली परतों में कोहरा छा जाता है। स्तरी मेधों का निर्माण होता है, परन्तु ये प्रभाव अस्थायी रूप से पाए जाते हैं।

प्रश्न 2.
समताप रेखाओं से क्या अभिप्राय है? इसकी मुख्य विशेषताएँ बताइए।
उत्तर:
धरातल पर समान तापमान वाले स्थानों को जोड़ने वाली रेखा को समताप रेखा कहते हैं। किसी अक्षांश रेखा पर स्थित सभी स्थानों पर सूर्य की किरणों का कोण तथा दिन की लम्बाई बराबर होती है। इसलिए इन स्थानों पर सूर्यातप की मात्रा समान होती है। इन स्थानों का तापमान भी समान होता है। इस प्रकार समान तापमान वाले स्थानों को आपस में मिलाने वाली रेखा को समताप रेखा कहते हैं, इसी कारण समताप रेखाओं और अक्षांश रेखाओं में अनुरूपता पाई जाती है। समताप रेखाएँ अक्षांश रेखाओं का अनुकरण करते हुए पूर्व से पश्चिम दिशा में फैली होती है। समताप रेखाओं की स्थिति सूर्यातप की अधिकतम मात्रा के अनुसार होती है।

सूर्य की लम्बवत् किरणें मौसम के अनुसार बदलती रहती है। जून में सूर्य कर्क रेखा पर लम्बवत् चमकता है जबकि दिसम्बर में मकर रेखा पर । परिणामस्वरूप ग्रीष्मकाल में सूर्यातप की अधिकतम मात्रा उत्तरी गोलार्द्ध में शीतकाल में दक्षिणी गोलार्द्ध में होती है। इसलिए समताप रेखाएँ ग्रीष्मकाल में कुछ उत्तर की ओर तथा शीतकाल में कुछ दक्षिणी की ओर खिसक जाती हैं।

इस तापक्रम को समुद्र तल पर घटाकर दिखाया जाता है। इस प्रकार उंचाई के प्रभाव को दूर करने का प्रयत्न किया जाता है। यह कल्पना की सभी स्थान पर समुद्र तल स्थित है। यदि कोई स्थान 1650°C मीटर ऊंचा है और उसका वास्तविक तापमान 20°C है तो उस स्थान का समुद्र तल पर तापमान 20° + 10°C = 30°C होगा, क्योंकि प्रति 165 मीटर पर 1°C तापमान कम हो जाता है।

विशेषताएँ –

  • ये रेखाएँ पूर्व – पश्चिम दिशा में फैली हुई होती हैं।
  • ये उत्तरी गोलार्द्ध की अपेक्षा दक्षिणी गोलाई में सीधी हो जाती हैं, क्योंकि यहाँ स्थल भाग की कमी है।
  • ये रेखाएँ ग्रीष्म ऋतु में समुद्रों पर भूमध्य रेखा की ओर, परन्तु शीत ऋतु में धूवों की ओर मुड़ जाती हैं।
  • जलवायु मानचित्रों में तापमान का वितरण समताप रेखा द्वारा दिखाया जाता है।
  • मताप रेखाओं का अंतराल अक्षांश रेखाओं पर तापमान में शीघ्र परिवर्तन तथा दरस्थ अंतराल क्रमिक परिवर्तन का सूचक हैं।

प्रश्न 3.
उच्या स्थानांतरण की मूल क्रियाविधि क्या है? वायुमण्डल के संदर्भ में इन क्रियाविधि के महत्व की चर्चा कीजिए।
उत्तर:
वायुमण्डल के कष्मा का स्थानांतरण कई प्रकार से होता है –

  • अभिवहन
  • संवहन

1. अभिवहन – यह वायु के क्षैतिज संचलन के माध्यम से ऊष्मा का स्थानांतरण है। वायु का क्षैतिज संचलन इसके उर्ध्वाधर संचलन की अपेक्षा अधिक महत्त्वपूर्ण हैं। मध्य अक्षांशों में अधिकांश दैनिक मौसमी परिवर्तन केवल अभिवहन द्वारा उत्पन्न होते हैं। उत्तरी भारत में गर्मियों
अलसा देने वाली गर्म हवा. जिसका स्थानीय नाम ‘ल’ है. अभिवहन प्रक्रिया का परिणाम है। इसी प्रकार शीतोष्ण क्षेत्रों में, सर्दियों में उष्णकटिबंधीय गर्म वायु का अभिवहन मौसम को सुहावना भना देता है। इस प्रकार भूपृष्ठ के समीप वायुमण्डल के तापमान में बड़े पैमाने पर उत्क्रमण अभिवहन प्रक्रिया द्वारा सम्पन्न किया जाता है।

2. संवहन – ऊर्जा का संवहनी परिवहन केवल क्षोभमण्डल तक सीमित है। वायुमण्डल की निचली परत में वायु या तो पार्थिव विकिरण अथवा चालन द्वारा गर्म होती है। ऊष्मा का प्रवाह गर्म से ठंडी वस्तु की ओर होता है और यह स्थानांतरण तब तक होता रहता है, जब तक दोनों वस्तुओं का तापमान समान न हो जाय । धातु सुचालक है, परन्तु वायु नहीं। चालन वायुमण्डल की निचली परतों को गर्म करने में महत्त्वपूर्ण है। ऊपर की ठण्डी हवा सघन तथा भारी होने के कारण रिक्त स्थान को भरने के लिए नीचे खिसक जाती है, जिससे एक ओर हवा निरन्तर गर्म होकर ऊपर उठती रहती है और दूसरी ओर ठण्डी हवा नीचे उतरकर इसका स्थान लेती रहती है। अत: वायु का परिसंचरण निम्न स्तर से उच्च स्तर की ओर ऊष्मा स्थानांतरण से जुड़ी हुई है।

प्रश्न 4.
तापमान के क्षैतिज विवरण को नियंत्रित करने वाले कारकों की चर्चा विशेष रूप से जुलाई और जनवरी की दशाओं के संदर्भ में कीजिए।
उत्तर:
पृथ्वी पर तापमान के वितरण का विश्लेषण शीत और ग्रीष्म ऋतुओं को समताप रेखा मानगि में की सहायता से किया जा सकता है। तापमान किसी पदार्थ में ताप की मात्रा का सूचक है। किसी स्थान पर छाया में भूतल से 4 फुट की ऊंची वायु की मापी हुई गर्मी को उस स्थान पर तापमान कहा जाता है। प्रत्येक स्थान पर तापमान समान नहीं पाया जाता है। पृथ्वी के धरातल पर तापमान का विवरण निम्नलिखित संघटकों द्वारा नियंत्रित होता है

1. भूमध्य रेखा से दूरी – किसी भी अक्षांश पर तापमान सूर्य की किरणों के कोण पर निर्भर है। भूमध्य रेखा से धूवों की ओर जाते हुए तापमान लगातार कम होता जाता है। भूमध्य रेखा पर सारा वर्ष सूर्य की किरणें लम्बवत् पड़ती हैं तथा इन प्रदेशों में उच्च तापमान पाए जाते हैं। ध्रुवों की ओर तिरछी किरणों के कारण कम तापमान पाए जाते हैं।

2. समुद्र तल से ऊंचाई – समुद्र तल से ऊंचाई के साथ तापमान घटता है। ताप के कम होने की दर IF प्रति 300 फुट या 0.6°C प्रति 100 मीटर है। वायुमण्डल धरातल द्वारा छोड़ी गई गर्मी से गर्म होता है। इसलिए निचली परतें पहले गर्म होती हैं तथा ऊपरी बाद में। ऊंचाई के साथ वायु का दाब सघनता, जलवाष्प तथा घूल के कणों की कमी होती है। इसलिए पर्वत मैदानों की अपेक्षा ठण्डे होते हैं।

3. समुद्र से दूरी – समुद्र के समीप के प्रदेशों में सम जलवायु होती है परन्तु समुद्र से दूर प्रदेशों में कठोर जलवायु मिलती है। जल स्थल की अपेक्षा धीरे-धीरे गर्म तथा ठंण्डा होता है। इसलिए तटीय प्रदेशों में जल समीर तथा स्थल समीर के कारण गर्मी तथा सर्दी दोनों ही अधिक नहीं होती।

4. प्रचलित पवनें – समुद्र की ओर से आने वाली पवनें जलवायु को नम तथा आर्द्र बनाती हैं परन्तु स्थल की ओर से आने वाली पवने स्थल के कारण किसी प्रदेश की जलवायु को कठोर तथा शुष्क बनाती हैं। समुद्र से आने वाली पश्चिमी पवनों के कारण शीत-ऋतु में इंग्लैंड का औसतन तापमान 20°F से 30°F ऊँचा रहता है।

5. समुद्री धाराएँ – समुद्री धाराओं का प्रभाव उन पवनों द्वारा होता है जो इन धाराओं के ऊपर से गुजरती हैं। गर्म धाराओं के ऊपर से गुजरने वाली पवनें तटीय प्रदेशों के तापक्रम को ऊँचा कर देती हैं तथा वर्षा में सहायक होती हैं। ठण्डी धाराओं के ऊपर से गुजरने वाली पवनों के प्रभाव से तटीय प्रदेश ठण्डे तथा शुष्क होते हैं।

6. पवनों की दिशा – किसी देश के पर्वतों की स्थिति तथा दिशा तापमान वर्षा पर प्रभाव डालती है। अरावली पर्वत मानसून पवनों के समानांतर स्थित होने के कारण इन्हें रोक नहीं पाता, जिससे राजस्थान शुष्क रहता है। यदि हिमालय पर्वत मानसून के आड़े स्थित न होता तो उत्तरी भारत तक मरुस्थल होता।

7. भू-तल का स्वभाव – मैदानों की चिकनी मिट्टी प्राय: बारीक होती है तथा शनैः शनैः गरम तथा ठंडी होती है, परन्तु रेत जल्दी ही गर्म तथा ठंडा हो जाती है। इसी कारण मरुस्थलों में दिन को अधिक गर्मी तथा रात को अधिक सर्दी होती हैं। तापमान का वितरण मानचित्रों पर समताप रेखाओं द्वारा दिखाया जाता है। यह वितरण वार्षिक होता है। ग्रीष्म ऋतु का तापमान जुलाई तथा शीत ऋतु का तापमान जनवरी के महीनों के मानचित्रों द्वारा प्रकट किया जाता है।

जनवरी में तापमान वितरण के लक्षण –

  • जनवरी में अधिकतम तापमान महाद्वीपों पर पाया जाता है। दक्षिणी अमेरिका, अफ्रीका, आस्ट्रेलिया के स्थल खण्डों पर तापमान 3°C से अधिक होता है। उच्चतम ताप मकर रेखा के साथ-साथ पाया जाता है।
  • जनवरी मास में न्यूनतम तापमान उत्तर:पूर्वी एशिया में पाया जाता है। साइबेरिया में वरखोयास्क में – 32°C तक निम्नतम तापमान पाया जाता है।
  • उत्तरी गोलार्द्ध में समताप रेखाएँ महासागरों पर ध्रुवों की ओर तथा महाद्वीपों पर भूमध्य रेखा की ओर झुकी होती हैं।
  • दक्षिणी गोलार्द्ध में समताप रेखाएँ महासागरों पर भूमध्य रेखा की ओर तथा महाद्वीपों पर ध्रुवों की ओर झुकी होती हैं।
  • दक्षिणी गोलार्द्ध में तापमान रेखाएँ नियमित रूप तथा पूर्व-पश्चिम दिशा में अक्षांशों के समानांतर पाई जाती है, क्योंकि यहाँ जल की अधिकता है परन्तु उत्तरी गोलार्द्ध में ये रेखाएँ अनियमित होती हैं। दक्षिणी गोलार्द्ध में 30°C की समताप रेखा उत्तर:पश्चिमी अर्जेंटीना, अफ्रीका के पूर्वी भाग, बेर्नियो तथा आस्ट्रेलिया से होकर गुजरती है।

जुलाई में ताप वितरण – जुलाई उत्तरी गोलार्द्ध में सबसे अधिक गर्म मास तथा दक्षिणी गोलार्ड में सबसे अधिक ठंडा मास होता है।

  • जुलाई में तापमान उत्तरी गोलार्द्ध में तथा मरुस्थलों पर पाया जाता है। निम्नतम तापमान भी उत्तरी गोलाई में ग्रीनलैंड के मध्य पाया जाता है।
  • समताप रेखाएँ समुद्र पार करते समय भूमध्य रेखा की ओर तथा स्थल-खण्ड को पार करते हुए ध्रुवों की ओर मुड़ जाती हैं।
  • समताप रेखाएँ उत्तरी गोलार्द्ध की अपेक्षा दक्षिणी गोलार्द्ध में अधिक नियमित होती हैं।

प्रश्न 5.
निम्नलिखित पर संक्षिप्त टिप्पणियाँ लिखें –

  1. स्थल एवं जल का विभेदी तापन
  2. ऊष्मा नट, तथा
  3. अक्षांशीय ऊष्मा संतुलन

उत्तर:
1. स्थल एवं जल का विभेदी तापन – स्थल, जल और बर्फ विभिन्न दरों से गर्म और ठंडे होते हैं। अत: एक ही अक्षांश पर स्थल और जल पर की हवा के तापमान में काफी भिन्नता होती है। महाद्वीपों तथा महासागरों के बीच तापमान का विपर्यास गर्मियों की अपेक्षा सर्दियों में अधिक होता है। स्थल शीघ्र ही गर्म और ठण्डे होते हैं, क्योंकि सौर विकिरण ठोस धरातल में अधिक गहराई तक प्रवेश नहीं कर सकता । इसके विपरीत, जल में यह काफी गहराई तक चला जाता है। इसके अतिरिक्त यदि स्थल और जल का तापमान एक विशेष अंक तक लेना हो, तो स्थल का तापमान बढ़ाने में जल की अपेक्षा तीन गुना अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होगी। इस विभेदी तापन के फलस्वरूप, महासागरों के ऊपर की हवा स्थल पर की हवा की अपेक्षा गर्मियों में अधिक ठण्डी और सर्दियों में अधिक गर्म रहती है।

2. ऊष्मा बजट – सूर्यातप के अवशोषण, परावर्तन और प्रकीर्णन से वायुमण्डल और पृथ्वी के बजट निर्धारित होते हैं। वायुमण्डल से गुजरने वाली सौर ऊर्जा की मात्रा सूर्य किरणों के कोण तथा वायुमण्डल की पारदर्शिता पर निर्भर है। पृथ्वी द्वारा अवशोषित सौर ऊर्जा दिन-प्रतिदिन ऊष्मा में परिणत होती रहती है। सूर्य अंतरिक्ष में ऊर्जा का विकिरण लघु तर के रूप में करता है, जबकि दीर्घ तरंगें या अवरक्त विकिरण को अंतरिक्ष में विकरित करती हैं। सौर ऊर्जा वायुमण्डल की ऊपरी सीमा पर पहुँचती है और धीरे-धीरे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से पृथ्वी के धरातल पर आती है और अवशोषित कर ली जाती है।

अनुमान है कि सूर्यातप की 100 इकाइयाँ मूल लघु तरंगों के रूप में परिवर्तित और प्रकीर्ण कर दी जाती हैं । इनमें से मेघों द्वारा 24 इकाइयाँ, धूल कणों द्वारा 7 इकाइयाँ तथा भू पृष्ठ द्वारा 4 इकाइयाँ हैं । प्रकीर्ण किरणों का कुछ भाग भूपृष्ठ पर पहुंच जाता है और उनके द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है। उन्हें सम्मिलित रूप से विसरित विकिरण कहा जाता है। सूर्यातप की 18 इकाइयाँ, ओजोन वायुमण्डल में जल, धूल और अन्य संघटक तथा मेघ द्वारा अवशोषित कर ली जाती हैं।

कुल मिलाकर सौर ऊर्जा की 47 इकाइयाँ पृथ्वी पर विकिरण के रूप में पहुंचती हैं, जबकि 18 इकाइयाँ वायुमण्डल द्वारा अवशोषित कर ली जाती हैं । बजट का संतुलन बनाए रखने के लिए 65 इकाइयाँ पृथ्वी द्वारा सीधे दीर्घ तरंगों के रूप में, अंतरिक्ष को पुनः विकिरित रूप में वायुमण्डल को वापस हो जाती है।
Bihar Board Class 11 Geography Solutions Chapter 9 सौर विकिरण, ऊष्मा संतुलन एवं तापमान

3. अक्षांशीय ऊष्मा संतुलन – पृथ्वी का वार्षिक औसत तापमान लगभग एक जैसा रहता है। लेकिन पृथ्वी पर आने वाले विकिरण तथा उससे बाहर आने वाले विकिरण के मध्य संतुलन एक समान नहीं है। यह पृथ्वी के अधिकांश अक्षांशों पर एक से दूसरे अक्षांश पर भिन्न रहता है। निम्न अक्षांशों में (40° उत्तर और 40° दक्षिण के मध्य) लघु तरंग विकिरण के रूप में प्राप्त ऊर्जा दीर्घ तरंगों द्वारा भूपृष्ठ से नष्ट होने वाली ऊष्मा की अपेक्षा दीर्घ तरंगों द्वारा नष्ट होने वाली ऊष्मा की मात्रा अधिक रहती है। ऊष्मा का स्थानांतरण मध्य अक्षांशों में अर्थात् 30° से 50° अक्षांशों की ओर वायुमण्डलीय परिसंचरण तथा महासागरीय धाराओं द्वारा सम्पन्न होता है।

Bihar Board Class 11th Books Solutions

Bihar Board Class 11th Books Solutions

   

Top academic experts at BiharBoardSolutions.com have designed BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11 Books Solutions for Intermediate Science Arts Commerce all subjects PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium are part of Bihar Board Solutions based on the latest NCERT syllabus.

Here we have updated the detailed SCERT Bihar Board 11th Class Books Solutions of BTBC Books Class 11 Solutions Answers Guide, Bihar Text Books Class 11 Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material to help students in understanding the concepts behind each question in a simpler and detailed way.

BSEB Bihar Board Class 11th Text Books Solutions

We hope that BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11th Intermediate Science Arts Commerce Books Solutions PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium of BTBC Books Class 11 Solutions Answers Guide, Bihar Text Books Class 11 Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material will help students can prepare all the concepts covered in the syllabus.

If you face any issues concerning SCERT Bihar Board Class 11th Text Books Solutions, you can ask in the comment section below, we will surely help you out.

Bihar Board Class 11th History Solutions इतिहास

Bihar Board Class 11th History Solutions इतिहास

   

Top academic experts at BiharBoardSolutions.com have designed BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11 History Book Solutions इतिहास PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium are part of Bihar Board Class 11th Solutions based on the latest NCERT syllabus.

Here we have updated the detailed SCERT Bihar Board 11th Class History Book Solutions Itihas of BTBC Book Class 11 History Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 History Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material to help students in understanding the concepts behind each question in a simpler and detailed way.

BSEB Bihar Board Class 11th History Book Solutions इतिहास

We hope that BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11th Intermediate History Book Solutions इतिहास PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium of BTBC Book Class 11 History Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 History Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material will help students can prepare all the concepts covered in the syllabus.

If you face any issues concerning SCERT Bihar Board Class 11th History Text Book Solutions Itihas, you can ask in the comment section below, we will surely help you out.

Bihar Board Class 11th Sociology Solutions

Bihar Board Class 11th Sociology Solutions

   

Top academic experts at BiharBoardSolutions.com have designed BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11 Sociology Book Solutions PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium are part of Bihar Board Class 11th Solutions based on the latest NCERT syllabus.

Here we have updated the detailed SCERT Bihar Board 11th Class Sociology Book Solutions of BTBC Book Class 11 Sociology Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Sociology Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material to help students in understanding the concepts behind each question in a simpler and detailed way.

BSEB Bihar Board Class 11th Sociology Book Solutions

Bihar Board Class 11th Sociology Part 1: Introducing Sociology (समाजशास्त्र परिचय)

Bihar Board Class 11th Sociology Part 2: Understanding Society (समाज का बोध)

We hope that BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11th Intermediate Sociology Book Solutions PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium of BTBC Book Class 11 Sociology Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Sociology Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material will help students can prepare all the concepts covered in the syllabus.

If you face any issues concerning SCERT Bihar Board Class 11th Sociology Text Book Solutions, you can ask in the comment section below, we will surely help you out.

Bihar Board Class 11th Philosophy Solutions दर्शनशास्र

Bihar Board Class 11th Philosophy Solutions दर्शनशास्र

   

Top academic experts at BiharBoardSolutions.com have designed BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11 Philosophy Book Solutions दर्शनशास्र PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium are part of Bihar Board Class 11th Solutions based on the latest NCERT syllabus.

Here we have updated the detailed SCERT Bihar Board 11th Class Philosophy Book Solutions Darshan Shastra of BTBC Book Class 11 Philosophy Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Philosophy Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material to help students in understanding the concepts behind each question in a simpler and detailed way.

BSEB Bihar Board Class 11th Philosophy Book Solutions दर्शनशास्र

We hope that BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11th Intermediate Philosophy Book Solutions दर्शनशास्र PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium of BTBC Book Class 11 Philosophy Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Philosophy Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material will help students can prepare all the concepts covered in the syllabus.

If you face any issues concerning SCERT Bihar Board Class 11th Philosophy Text Book Solutions Darshan Shastra, you can ask in the comment section below, we will surely help you out.

Bihar Board Class 11th Biology Solutions जीव विज्ञान

Bihar Board Class 11th Biology Solutions जीव विज्ञान

   

Top academic experts at BiharBoardSolutions.com have designed BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11 Biology Book Solutions जीव विज्ञान PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium are part of Bihar Board Class 11th Solutions based on the latest NCERT syllabus.

Here we have updated the detailed SCERT Bihar Board 11th Class Biology Book Solutions Jiv Vigyan of BTBC Book Class 11 Biology Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Biology Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material to help students in understanding the concepts behind each question in a simpler and detailed way.

BSEB Bihar Board Class 11th Biology Book Solutions जीव विज्ञान

We hope that BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11th Intermediate Biology Book Solutions जीव विज्ञान PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium of BTBC Book Class 11 Biology Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Biology Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material will help students can prepare all the concepts covered in the syllabus.

If you face any issues concerning SCERT Bihar Board Class 11th Biology Text Book Solutions Jiv Vigyan, you can ask in the comment section below, we will surely help you out.

Bihar Board Class 11th Economics Solutions अर्थशास्त्र

Bihar Board Class 11th Economics Solutions अर्थशास्त्र

   

Top academic experts at BiharBoardSolutions.com have designed BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11 Economics Book Solutions अर्थशास्त्र PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium are part of Bihar Board Class 11th Solutions based on the latest NCERT syllabus.

Here we have updated the detailed SCERT Bihar Board 11th Class Economics Book Solutions Arthashastra of BTBC Book Class 11 Economics Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Economics Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material to help students in understanding the concepts behind each question in a simpler and detailed way.

BSEB Bihar Board Class 11th Economics Book Solutions अर्थशास्त्र

Bihar Board Class 11th Economics: Indian Economic Development (भाग-1 भारतीय अर्थव्यवस्था का विकास)

Bihar Board Class 11th Economics: Statistics for Economics (भाग-2 अर्थशास्त्र में सांख्यिकी)

We hope that BSTBPC BSEB Bihar Board Class 11th Intermediate Economics Book Solutions अर्थशास्त्र PDF Free Download in Hindi Medium and English Medium of BTBC Book Class 11 Economics Solutions Answers Guide, Bihar Text Book Class 11 Economics Questions and Answers, Chapter Wise Notes Pdf, Model Question Papers, Study Material will help students can prepare all the concepts covered in the syllabus.

If you face any issues concerning SCERT Bihar Board Class 11th Economics Text Book Solutions Arthashastra, you can ask in the comment section below, we will surely help you out.