Bihar Board Class 9 English Book Solutions Chapter 7 Kathmandu

Get Updated Bihar Board Class 9th English Book Solutions in PDF Format and download them free of cost. Bihar Board Class 9 English Book Solutions Prose Chapter 7 Kathmandu Questions and Answers provided are as per the latest exam pattern and syllabus. Access the topics of Panorama English Book Class 9 Solutions Chapter 7 Kathmandu through the direct links available depending on the need. Clear all your queries on the Class 9 English Subject by using the Bihar Board Solutions for Chapter 7 Kathmandu existing.

Panorama English Book Class 9 Solutions Chapter 7 Kathmandu

If you are eager to know about the Bihar Board Solutions of Class 9 English Chapter 7 Kathmandu Questions and Answers you will find all of them here. You can identify the knowledge gap using these Bihar Board Class 9 English Solutions PDF and plan accordingly. Don’t worry about the accuracy as they are given after extensive research by people having subject knowledge alongside from the latest English Textbooks.

Bihar Board Class 9 English Kathmandu Text Book Questions and Answers

A. Answer the following questions orally:

Write any eight-digit number with 6 in ten lakhs place and 9 in ten-thousandth place.

Question 1.
Have you ever visited a sacred place? Share your experiences with your friends.
Answer:
Yes, I have visited a sacred place. It is Deoghar or Baba Dham in Jharkhand. It is a very fine place. The whole place was charmed. One can get, people worshipping Lord Shiva there, I also entered the temple and worshipped the Lord. It is a worth visiting place. It was the month of Shrawan (July) in this month Lakhs of people come here bringing the Ganga water in Karwar. The whole city turns in Kawarias colour. That is ochrous (Gerua). The whole environment looks beautiful.

Question 2.
Name some of the holy places of your state.
Answer:
Some holy places of our state are Bodh Gaya, Rajgir, Pawapuri, many places in Darbhanga, Pumiya and Patna.

Question 3.
Describe the surroundings of a holy place you have visited.
Answer:
Once I got a chance to visit Gurudawara the temple of Patna Saheb. It is famous all over India and abroad. It is a place of pilgrimage for the Sikhs. It is the holy place of Guru Gobind Singhji. Thousands of devotees and worshippers visit it daily. Recitations from Holy Granth go on in the temple at all times. It is very ennobling and to sit in the temple for an hour. Surroundings of the holy place are full of shops. Only Sikhs are seen here as shopkeepers. A visit to this religious place is not without merit.

B.1.1. Write ‘T’ for true and ‘F’ for false statements:

  1. At Pashupatinath, there is an atmosphere of ‘febrile confusion’.
  2. By the main gate an Indian struggles for permission to enter.
  3. I consider what route should take back home.
  4. From a balcony a basket of flowers and leaves, old offerings now wilted, is dropped into the lake.
  5. I enter a Nepal Airport office and buy a ticket for the day after tomorrow flight.

Answer:

  1. — T
  2. — F
  3. — T
  4. — T
  5. — F

B.1.2. Answer the following questions very briefly:

Question 1.
With whom does Mr Vikram Seth visit the two temples in Kathmandu?
Answer:
Mr Vikram Seth visited the two temples in Kathmandu with his son and nephew.

Question 2.
Why does a party of saffron-clad Westerner struggle?
Answer:
A party of saffron-clad Westerner struggles for permission to enter the temple.

Question 3.
Briefly describe Baudhnath Stupa?
Answer:
At the Boudhanath Stupa there is a sense of stillness. It has a white dome small shops are there. That is a heaven of quietness in the busy streets around.

Question 4.
What does the author buy at Nepal Airlines?
Answer:
At Nepal Airlines, the author buys a ticket for the next day’s flight.

Question 5.
When will the Kaliyug end on earth?
Answer:
The Kaliyug will end on earth when the small shrine half protruding from the stone platform on the river bank at the Pashupatinath emerges fully. The goddess inside will escape, and the evil period of the Kaliyug will end on earth.

B.2. Answer the following questions very briefly:

Question 1.
Where does the anther look at the flute seller?
Answer:
The author looks at the flute seller standing in a comer of the square near the hotel.

Question 2.
Name three kinds of the flute.
Answer:
The three kinds of the flute are the reed neh, the recorders and the deep baosuri of Hindustani classical music.

Question 3.
What does the flute seller have in his hand?
Answer:
In the flute seller’s hand, there is a pole with an attachment at the top from which fifty or sixty bansuri protrude.

Question 4.
Why does the author find it difficult to go away from the square?
Answer:
Tire author attracted by the flute music so he finds it difficult to go away from the square.

C. 1. Long Answer Type Questions

Question 1.
Why is Kathmandu famous? Describe briefly.
Answer:
Kathmandu is the capital of Nepal. It is famous for its two temples that are most sacred to Hindu and Buddhists. The first is die Pashupatinath temple. The second is the Baudhnath stupa that is a heaven of the compass in the busy streets around. Besides these, Kathmandu is a very lovely wealthy and religious place.

Question 2.
Describe Baudhnath Stupa and its surroundings.
Answer:
At Baudhnath stupa there is calm and quiet just outside and in the shrine. There are no crowds. Outside the shrine there are small shops of Tibetan immigrants selling felt bags. Tibetan prints and silver jewellery. The Buddhist shrine is a haven of quietness. It is a complete contrast of the Pashupatinath shrine.

Question 3.
Describe daily happenings at Pashupatinath.
Answer:
At Pashupatinath, there is an atmosphere of utter confusion mixed with excitement in and outside the shrine. Priests, hawkers, devotees, tourists, cows, monkeys, dogs and pigeons – all roam through the grounds. The crowd of worshippers push each other to go to the front to get “darshan”. There is noise confusion and disorder. There is a fight of monkeys inside the temple and quarrel for permission to enter by the saffron-clad foreigners.

Question 4.
What, according to the author, has been the pattern of the flute seller’s life?
Answer:
According to the author die flute seller stands in a comer of the square near. In his hand is a pole with an attachment at the top from which fifty or sixty bansuris protrude in all directions like die quills of a porcupine. From time to time he stands the pole on the ground selects a flute and plays for a few minutes. The sound rises clearly above the noise of the traffic and the hawker’ cries. He plays slowly meditatively, without excessive display. He makes sale also. Sometimes he breaks off playing to talk to the fruit seller. This has been the pattern of his life for years.

Question 5.
The author was moved by the music of the flute. Describe a similar experience of your own.
Answer:
Once there was a cultural programme at Ravindra Kala Bhawan in Patna. I had been there. I was watching it. A man appeared at the stage, at first sight, he looked like an ordinary man. He played the guitar and it was so good that I listened patiently. I was so charmed that I felt to be in a world of pleasure.

C. 2. Group Discussion

Discuss the following in groups or pairs

Question 1.
Religious tolerance is inbuilt in Indian society.
Answer:
India is a secularism country. Here people of all religions, irrespective of caste or creed enjoy equal rights. There is no religion of the state. This thought is nothing new for us, as it is embedded in the cultural ethos that makes us tolerant, magnanimous and receptive to ail religions like Sikhism, Jainism and Buddhism and of course Hinduism. People over the centuries lived in peace, except for the last two centuries when foreign rules visited this harmony by their much-maligned policy of divide and rule. Yet we are tolerant Benjamin Franklin said, “We must indeed hang together or, most assuredly we shall all hang separately” The true success of this belief will be when we regard ourselves first as Indians and then as Hindu. Sikhs and Muslims.

Question 2.
Music has overwhelming power.
Answer:
It is true to say that music haš overwhelming power. Music is such an art that can soothe and relax our heart. It is an art of making pleasing. It is combinations of sounds in rhythm and harmony. It finds people with a còmmon bond. It is also a source of living to hear music it is to be drawn into the commonality of all mankind to be moved by music. Its motive force too is living breath, It clearly differs from noise.

Comprehension Based Questions with Answers

1. I get a cheap room in the centre of town and sleep for hours. The next morning, with Mr Shah’s son and nephew, I visit the two temples in Kathmandu that are most sacred to Hindus and Buddhists.
At Pashupatinath (outside which a sign proclaims ‘Entrance for the Hindus only’) there is an atmosphere of ‘febrile confusion’. Priests, hawkers, devotees, tourists, cows, monkeys, pigeons and dogs roam through the grounds. We offer a few flowers. There are so many worshippers that some people trying to get the priest’s attention are elbowed aside by others pushing their way to the front. A princess of
the Nepalese royal house appears; everyone bows and makes way. By the main gate, a party of saffron-clad Westerners J struggle for permission to enter. The policeman is not convinced that they are ‘The Hindus’ (only Hindus are allowed to enter the temple). A light breaks out between two monkeys. One chases the other, who jumps onto a shiva linga, then runs screaming around the temples and down, to the river, the holy Bagmati, which flows below. A corpse is being cremated on its banks; washerwomen are at their work and children bathe. From a balcony a basket of flowers and leaves, old offerings now wilted, is dropped into the river. A small shrine half protrudes from the stone platform on the river bank. When it emerges fully, the goddess inside will escape, and the evil period of the Kaliyug will end on earth.

Questions:

  1. Name the lesson and the author of the above passage.
  2. What does ‘febrile confusion’ apply here?
  3. What made the ‘febrile confusion’?
  4. Why can some people not get the priest’s attention?
  5. Which actions show that the members of the royal of Nepal are respected by common people?
  6. Which word/words in the passage mean the following:
    (a) pushed to one side
    (b) bends with respect.

Answers:

  1. The name of the lesson is ‘Kathmandu’. The author is Vikram Seth.
  2. ‘Febrile confusion’ here implies excited, disorderly nervous movements and noises.
  3. The febrile confusion was created by a crowd of devotees, hawkers, priests tourists, cows, monkeys, pigeons and dogs roaming through the ground.
  4. because they are pushed by others who want to come to the front.
  5. When a Nepalese princess came for worshipping in the temple every one bowed and made way for her.
  6. (a) elbowed
    (b) bows

2. At the Boudhanath stupa, the Buddhist shrine of Kathmandu, there is, in contrast, a sense of stillness. Its immense white dome is ringed by a road. Small shops stand on its outer edge: many of these are owned by Tibetan immigrants; felt bags, Tibetan prints and silver jewellery can be bought here. There are no crowds: this is a haven of quietness in the busy streets around.
Kathmandu is vivid, mercenary, religious, with small shrines to flower-adorned deities along with the narrowest and busiest streets; with fruit sellers, flute sellers, hawkers of postcards; shops selling Western cosmetics, film rolls and chocolate; or copper utensils and Nepalese antiques. Film songs blare out from the radios, 6ar horns sound, bicycle bells ring, stray cows low questioningly at motorcycles, vendors shout out their wares. I indulge myself mindlessly: buy a bar of ’ marzipan, a com-on-the-cob roasted in a charcoal brazier on the pavement rubbed with salt, chilli powder and lemon); a couple of love story comics, and even a Reader’s Digest. All this I wash down with Coca Cola and a nauseating orange drink and feel much the better for it.

Questions:

  1. What does the author want to contrast the Buddhist shrine with?
  2. What does ring with a road imply?
  3. Whose shops are there outside the Buddhist Shrine? What do they sell?
  4. What contrast is there between the inside of the Buddhist shrine and its surroundings?
  5. What type of city is Kathmandu?
  6. What does the writer do to pass his time?
  7. What does ‘wash down’ imply here?
  8. Which words in the passage mean the following.
    (a) to satisfy one’s desire
    (b) safe place.

Answers:

  1. It is contrasted with the Pashupatinath temple in Kathmandu.
  2. It implies that there is a road all around the dome.
  3. There are shops of Tibetan immigrants. They sell felt bags, Tibetan prints and silver jewellery is located in the busy streets of Kathmandu.
  4. Inside the shrine, there is peace and quiet whereas the surroundings are noisy as the temple in located in the busy streets of Kathmandu.
  5. Kathmandu is a religious city with narrow streets. These have shrines dedicated to different gods. There is noise and disorder but Kathmandu is full of life.
  6. He buys some light reading and eating materials.
  7. It implies that he reads and eats while sipping a Coca Cola and orange drink.
  8. (a) Indulge
    (b) haven

3. I consider what route I should take back home. If I were -propelled by enthusiasm for travel purse, I would go by bus and train to Patna, then sail up the Ganges past Benaras to Allahabad, then up the Yamuna, past Agra to Delhi. But I am too exhausted and homesick; today is the last day of August. Go home, I tell myself: move directly towards home. I enter a Nepal Airlines office and buy a ticket for tomorrow’s flight.
I look at the flute seller standing in a comer of the square near the hotel. In his hand is a pole with an attachment at the top from which fifty or sixty bansuris protrude in all directions, like the quills of a porcupine. They are of bamboo: there are cross-flutes and recorders. From time to time he stands the pole on the ground, selects a flute and plays for a few minutes. The sound rises clearly above the noise of the traffic and the hawkers’ cries. He plays slowly, meditatively without excessive display. He does not shout out his wares. Occasionally he makes a sale, but in a curiously offhanded way as if this were incidental to his enterprise. Sometimes he breaks off playing to talk to the fruit seller. I imagine that this has been the pattern of his life for years.

Questions:

  1. Why does the speaker not travel by bus or train?
  2. How does the author describe the flute seller in such a manner?
  3. Why does the flute seller play on the flute for just a few minutes?
  4. While other’s shout out their, wares how does the flute seller attracts the attention of the customers?
  5. How does he play the flute?
  6. Which words in the passage mean the following:
    (a) without any preparation
    (b) not much show off.

Answers:

  1. The speaker is feeling homesick. So to reach his home early he decides to go by air instead of by bus or train.
  2. The author is attracted by the flutes and also by the flute seller. The flute reminds him of the commonality of all mankind.
  3. The flute seller does not seem to bother much about the sale of his flutes.
  4. He attracts the attention of his customers by playing on different flutes.
  5. He plays the flute slowly, meditatively and without much show-off.
  6. (a) offhanded way
    (b) excessive display.

4. I find it difficult to tear myself away from the square. Flute music always does this to me: it is at once the most universal and most particular of sounds. There is no culture that does not have its flute the reed neh, the recorder, the Japanese shakuhachi, the deep bansuri of Hindustani classical music, the clear or breathy flutes of South America, the high-pitched Chinese flutes. Each has its specific fingering and compass. It weaves its own associations. Yet to hear any flute is,, it seems to me, to be drawn into the commonality of all mankind, to be moved by music closest in its phrases and sentences to the human voice. Its motive force too is living breath: it too needs to pause and breathe before it can go on. That I can be so affected by a few familiar phrases on the bansuri, surprises me at first, for on the previous occasions that I have returned home after a long absence abroad, ! have hardly noticed such details, and certainly have not invested them with the significance I now do.

Questions:

  1. What does ‘tear me away’ imply?
  2. What fact shows that the writer is very fond of the flute?
  3. How is flute music universal?
  4. What does it mean to hear any flute?
  5. How can the author be affected by the flute?
  6. Which words in the passage mean the following
    (a) used by all
    (b) special.

Answers:

  1. It implies that the author could not leave the place.
  2. The fact that is difficult for him to move away from it shows that he likes it.
  3. There is no culture in the world which does not have its own flute. This shows that the flute is universal.
  4. To hear any flute means to be drawn into the commonality of all mankind.
  5. The author can be so affected by a few familiar phrases on the bansuri, surprises him that he had hardly noticed such details.
  6. (a) universal
    (b) particular.

Hope you liked the article on Bihar Board Solutions of Class 9 English Chapter 7 Kathmandu Questions and Answers and share it among your friends to make them aware. Keep in touch to avail latest information regarding different state board solutions instantly.

Bihar Board 9th Hindi Objective Answers Godhuli Gadya Chapter 1 कहानी का प्लाँट

Bihar Board 9th Hindi Objective Questions and Answers

BSEB Bihar Board 9th Hindi Objective Answers Godhuli Gadya Chapter 1 कहानी का प्लाँट

कहानी का प्लॉट Objective Bihar Board 9th Hindi प्रश्न 1.
शिवपूजन सहाय का जन्म किस जिले में हुआ था?
(a) आरा
(b) बक्सर
(c) पटना
(d) बनारस
उत्तर-
(b) बक्सर

कहानी का प्लॉट का प्रश्न उत्तर Pdf Bihar Board 9th Hindi प्रश्न 2.
शिवपूजन सहाय का जन्म कब हुआ था ?
(a) 1893 ई. में
(b) 1993 ई. में
(c) 1884 ई. में
(d) 1994 ई. में
उत्तर-
(a) 1893 ई. में

9th Class Objective Question Hindi Bihar Board प्रश्न 3.
शिवपूजन सहाय की मृत्यु कब हुआ?
(a) 1963 ई. में
(b) 1863 ई. में
(c) 1964 ई. में .
(d) 1965 ई. में .
उत्तर-
(a) 1963 ई. में

Class 9 Hindi Objective Questions Bihar Board प्रश्न 4.
उनका एकमात्र उपन्यास कौन-सा था?
(a) देहाती दुनिया
(b) शहरी दुनिया
(c) विदेशी दुनिया
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(a) देहाती दुनिया

कहानी का प्लॉट शिवपूजन सहाय प्रश्न उत्तर Bihar Board 9th Hindi प्रश्न 5.
10वीं की परीक्षा पास करने के बाद उन्होंने कहाँ नौकरी की?
(a) बक्सर
(b) आरा
(c) बनारस
(d) पटना
उत्तर-
(c) बनारस

कहानी का प्लॉट का प्रश्न उत्तर Bihar Board 9th Hindi प्रश्न 6.
शिवपूजन सहाय की रचनावली कितने खंडों में थी?
(a) एक
(b) दो
(c) चार
(d) पाँच
उत्तर-
(c) चार

9th Class Ka Godhuli Bhag 2 Bihar Board प्रश्न 7.
उन्होंने किस प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में संपादन किया ?
(a) गंगा
(b) हिमालय
(c) यमुना
(d) कावेरी
उत्तर-
(b) हिमालय

Bihar Board Solution Class 9 Objective Question प्रश्न 8.
शिवपूजन सहाय अपने समय के कैसे व्यक्ति थे ?
(a) लोकप्रिय
(b) सम्मानित
(c) लोकप्रिय, सम्मानित
(d) बहुचर्चित
उत्तर-
(c) लोकप्रिय, सम्मानित

9 Class Ka Hindi Objective Question Bihar Board प्रश्न 9.
बनारस में कौन-सा नौकरी कर रहे थे ?
(a) नकलनवीस
(b) वकील
(c) शिक्षक
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(a) नकलनवीस

9th Class Hindi Objective Questions Bihar Board प्रश्न 10.
इस कहानी में लेखक ने किसका स्थान निर्धारित किया है ?
(a) नर
(b) नारी
(c) नर-नारी
(d) बालक
उत्तर-
(b) नारी

प्रश्न 11.
कौन-से आंदोलन के बाद उन्होंने सरकारी नौकरी को त्यागपत्र दे दिया?
(a) असहयोग आंदोलन
(b) नर्मदा आंदोलन
(c) नमक आंदोलन
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(a) असहयोग आंदोलन

प्रश्न 12.
हिंदी की प्रतिष्ठित पत्रिका के कौन-से संपादक मंडल में थे ?
(a) मतवाला
(b) गीतवाला
(c) रथवाला
(d) भाग्यवाला
उत्तर-
(a) मतवाला

प्रश्न 13.
कौन-सी राष्ट्रभाषा परिषद उनकी कल्पना का साकार रूप है ?
(a) बिहार
(b) बिहारशरीफ
(c) झारखण्ड
(d) उड़िसा
उत्तर-
(a) बिहार

प्रश्न 14.
शिवपूजन सहाय के रचनावली कहाँ से प्रकाशित की गई है ?
(a) बनारस
(b) पटना
(c) आरा
(d) बक्सर
उत्तर-
(b) पटना

प्रश्न 15.
अपने कौन से बेटे की पत्नी बनने का दुर्भाग्य स्वीकार करती है ?
(a) सौतेले बेटे
(b) अपना बेटे
(c) लेखक के बेटे
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(a) सौतेले बेटे

प्रश्न 16.
कहानी का प्लॉट पाठ के लेखक कौन है ? .
(a) शिवपूजन सहाय
(b) हजारी प्रसाद
(c) विष्णु शर्मा
(d) मोहन सहाय
उत्तर-
(a) शिवपूजन सहाय

प्रश्न 17.
तिलक-दहेज के जमाने में किसको पैदा करना मूर्खता है? .
(a) लड़का
(b) लड़की
(c) बेटा
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(b) लड़की

प्रश्न 18.
मुंशीजी की पुत्री का नाम क्या था?
(a) भगजोगनी
(b) लीलावती
(c) रौशनी
(d) मंगू
उत्तर-
(a) भगजोगनी

प्रश्न 19.
दारोगाजी की कौन बारूद की पुड़िया थी? ।
(a) घोड़ी
(b) घोड़ा
(c) हाथी
(d) कुत्ता
उत्तर-
(a) घोड़ी

प्रश्न 20.
सुंदरता में भगजोगनी अँधेर घर की क्या थी?
(a) दीपक
(b) चिराग
(c) सुंदर
(d) चतुर.
उत्तर-
(a) दीपक

प्रश्न 21.
दारोगाजी के जमाने में मुंशीजी खूब किस चित्र के दीए जलाए करते थे?
(a) घी के
(b) तेल के
(c) पानी के
(d) किरोसीन के
उत्तर-
(a) घी के

प्रश्न 22.
इस युग में क्या प्रबल हो रही है?
(a) अबला
(b) तबला
(c) ढोलक
(d) वाद्ययंत्र
उत्तर-
(a) अबला

प्रश्न 23.
बुढ़ापे में मुंशीजी को क्या पैदा हो गई?
(a) लड़की
(b) लड़का
(c) लड़का-लड़की
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(a) लड़की

प्रश्न 24.
थानेदार की कमाई और किसका तापना दोनों बराबर है ?
(a) फूस का
(b) माघ का
(c) चैत्र का
(d) फागुन का
उत्तर-
(a) फूस का

प्रश्न 25.
शिवपूजन सहाय किस विषय के लेखक थे?
(a) हिंदी
(b) अंग्रेजी
(c) हिंदी कथा साहित्य
(d) हिंदी, अंग्रेजी
उत्तर-
(c) हिंदी कथा साहित्य

प्रश्न 26.
तिलक-दहेज क्रूरता का शिकार कौन हुआ?
(a) भगजोगनी
(b) शिवपूजन सहाय
(c) थानेदार
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(a) भगजोगनी

प्रश्न 27.
‘कहानी का प्लॉट’ शीर्षक पाठ गद्य की कौन-सी विधा है ?
(a) निबंध
(b) रेखाचित्र
(c) कहानी
(d) जीवनी
उत्तर-
(c) कहानी

प्रश्न 28.
मुंशीजी के बड़े भाई किस पद पर कार्य करते मरे ?
(a) किरानी के पद पर
(b) दारोगा के पद पर
(c) शिक्षक के पद पर
(d) इंजीनियर के पद पर
उत्तर-
(b) दारोगा के पद पर

प्रश्न 29.
कुछ लोगों के कथनानुसार गरीब घर की लड़की कैसी होती है ?
(a) मुँहफट और चंचल
(b) सुस्त और कमजोर
(c) कर्मठ और होशियार
(d) चटोर और कंजूस
उत्तर-
(d) चटोर और कंजूस

प्रश्न 30.
अंत में भगजोगनी किसकी पत्नी बनकर जीती रही?..
(a) एक गरीब किसान की
(b) अपने सौतेले पुत्र की
(c) एक बूढ़े धनवान की
(d) एक मालदार नेता की
उत्तर-
(b) अपने सौतेले पुत्र की

प्रश्न 31.
भगजोगनी का सौंदर्य किसका स्वर्गीय धन बना हुआ है ?
(a) उसके स्वर्गीय वृद्ध पति का
(b) उसके चहेते युवकों का
(c) उसके वर्तमान नवयुवक पति का
(d) इनमें से किसी का नहीं
उत्तर-
(c) उसके वर्तमान नवयुवक पति का

प्रश्न 32.
दारोगा किसकी मुहब्बत से दारोगा के पद पर ही रह गए?
(a) अपनी भाई की
(b) भतीती भगजोगनी की
(c) संपत्ति की कमाई की
(d) सात रुपये की घोड़ी की
उत्तर-
(d) सात रुपये की घोड़ी की

प्रश्न 33.
मुंशीजी ने क्या बेचकर दारोगाजी का श्राद्ध किया ?
(a) सोने के जेवर
(b) कीमती जमीन
(c) मकान का हिस्सा
(d) कीमती तुर्की घोड़ी
उत्तर-
(d) कीमती तुर्की घोड़ी

प्रश्न 34.
मुंशीजी की किस्मत पर कैसी मार पड़ी
(a) पहली
(b) दुहरी
(c) तीसरी ।
(d) चौथी
उत्तर-
(b) दुहरी

प्रश्न 35.
भाई दारोगाजी की मृत्यु के बाद मुंशीजी किसको वर्णनातीत है ?
(a) गरीबी
(b) अमीरी
(c) कंगाल
(d) धनवान
उत्तर-
(a) गरीबी

Bihar Board 9th English Reader Objective Answers Chapter 4 The Eyes are not Here

Bihar Board 9th English Objective Questions and Answers

BSEB Bihar Board 10th English Reader Objective Answers Chapter 4 The Eyes are not Here

The Eyes Are Not Here Bihar Board 9th Question 1.
“The Eyes are not Here” is a highly sensitive and throughful.
(a) poem
(b) story
(c) paragraph
(d) stanza
Answer:
(b) story

The Eyes Are Not Here Questions And Answers Bihar Board 9th Question 2.
The story deals with the point that insight is superior to
(a) eye
(b) pupil
(c) retina
(d) eyesight
Answer:
(d) eyesight

The Eyes Are Not Here Has Been Written By Bihar Board 9th Question 3.
The girl was going to
(a) saharanpur
(b) saharsa
(c) sahayapur
(d) samastipur
Answer:
(a) saharanpur

The Eyes Are Not Here Solutions Bihar Board 9th Question 4.
The girl’s aunt was Saharanpur going to meet the………. at Saharanpur
(a) women
(b) mother
(c) girl
(d) sister
Answer:
(c) girl

The Eyes Are Not Here By Ruskin Bond Bihar Board 9th Question 5.
The narrator was going to Dehra and the to.
(a) Mussoorie
(b) Dehradun
(c) Darjling
(d) Simla
Answer:
(a) Mussoorie

The Eyes Are Not Here Is Written By Bihar Board 9th Question 6.
The girl had an interesting and beautiful face with beautiful
(a)leg
(b) finger
(c) hand
(d) eyes
Answer:
(d) eyes

The Eyes Are Not Here Questions And Answers Pdf Bihar Board 9th  Question 7.
A narrator entered into the
(a) compartment
(b) theater
(c) house
(d) marriage hall
Answer:
(a) compartment

The Eyes Are Not Here Poem Bihar Board 9th Question 8.
The story “The Eyes are not Here” deals with the point that insight is supperior to
(a) eye
(b) eyes
(c) eyesight
(d) another sight
Answer:
(c) eyesight

Question 9.
The story “The Eyes are not Here” a highly
(a) Sensitive story
(b) beautiful story
(c) fine story
(d) simple story
Answer:
(a) Sensitive story

Question 10.
The story “The Eyes are not Here” has been written by
(a) Nijamul Hasan
(b) Ruskin Bond
(c) M. Asaduddin
(d) Bill Bryson
Answer:
(b) Ruskin Bond

Question 11.
A girl got in his
(a) room
(b) compartment
(c) place
(d) seat
Answer:
(b) compartment

Question 12.
Once the writer was travelling to
(a) Rohana
(b) Simla
(c)Naini
(d) Delhi
Answer:
(a) Rohana

Question 13.
The writer was totally
(a) blind
(b) blunt
(c) dull
(d) not kind
Answer:
(a) blind

Question 14.
The girl also instructed to avoid speaking to
(a) a man
(b) a woman
(c) a person
(d) strangers
Answer:
(d) strangers

Question 15.
The woman with her gave the girl detailed instructions as to where to keep her.
(a) feet
(b) things
(c) box
(d) none of these
Answer:
(b) things

Question 16.
The girl was with her
(a) friends
(b) mother only
(c) father only
(d) parents
Answer:
(d) parents

Question 17.
The author could see the telegraph posts
(a) passing by
(b) running by
(c) passing through
(d) flashing by
Answer:
(d) flashing

Question 18.
The girl said that she was going to
(a) Saranpur
(b) Saharanpur
(c) Dehra
(d) Mussoorie
Answer:
(b) Saharanpur

Question 19.
The author asked her if she was going to
(a) Delhi
(b) Agra
(c) Mussoorie
(d) Dehra
Answer:
(d) Dehra

Question 20.
The author liked the sound of her
(a) laughing
(b) voice
(c) weeping
(d) crying
Answer:
(b) voice

Question 21.
The writer was unable to tell what the girl
(a) looked like
(b) felt
(c) seemed
(d) was
Answer:
(a) looked like

Question 22.
The author could see the telegraph posts
(a) passing by
(b) running by
(c) passing through
(d) flashing by
Answer:
(d) flashing by

Question 23.
The author wondered if she wore her hair in a
(a) interesting
(b) fun
(c) smile
(d) laughing
Answer:
(b) fun

Question 24.
The train reached at Sahranpur. The girl got up and bean to………..her things.
(a) collect
(b) select
(c) conduct
(d) reselect
Answer:
(a) collect

Question 25.
When the author remarked the girl had an interesting face the girl laughed a clear…….laugh.
(a) turning
(b) running
(c) ringing
(d) singing
Answer:
(c) ringing

Question 26.
The man who had entered the compartment………….my reverie.
(a) got down
(b) go down
(c) broke out
(d) broke into
Answer:
(d) broke into

Question 27.
The author wanted to touch her
(a) hair
(b) face
(c) hand
(d) finger
Answer:
(a) hair

Question 28.
The girl was standing very close to the author, so close that the perfume from her hair was
(a) tantalising
(b) breaking into
(c) breaking out
(d) getting down
Answer:
(a) tantalising

Question 29.
The man replied that he did not mark it but she had beauiful eyes but they were of no use she was completely…….
(a) lame
(b) dump
(c) blind
(d) dull
Answer:
(c) blind

Question 30.
The author asked the new comer if the girl had ……..
(a) short hair
(b) long hair
(c) brown hair
(d) golden hair
Answer:
(b) long hair

Choose the suitable word from options given.

Question 31.
Pleasant thoughts
(a) slapped
(b) reverie
(c) eyesight
(d) insight
Answer:
(b) reverie

Question 32.
Force one’s a way into.
(a) eyesight
(b) insight
(c) broken into
(d) broken out
Answer:
(c) broken into

Question 33.
Strike with palm
(a) reverie
(b) broken into
(c) eyesight
(d) slapped
Answer:
(d) slapped

Question 34.
Power of seeing.
(a) broken into
(b) eyesight
(c) slapped
(d) reverie
Answer:
(b) eyesight

Question 35.
Power of seeing with the mind
(a) insight
(b) slapped
(c) eyesight
(d) broken into
Answer:
(a) insight

Question 36.
Making Journey
(a) affluent
(b) expedition
(c) vanish
(d) endurance
Answer:
(b) expedition

Question 37.
Give as an offer
(a) bestowed
(b) endurance
(c) expedition
(d) affluent
Answer:
(a) bestowed

Question 38.
Very wealthy
(a) vanish
(b) bestowed
(c) endurance
(d) affluent
Answer:
(d) affluent

Question 39.
Suddenly disappear
(a) affluent
(b) vanish
(c) bestowed
(d) expedition
Answer:
(b) vanish

Question 40.
Ability to bear
(a) bestowed
(b) expedition
(c) endurance
(d) vanish
Answer:
(c) endurance

Bihar Board Class 9 Hindi Solutions गद्य Chapter 8 पधारो म्हारे देश

Bihar Board Class 9 Hindi Book Solutions Godhuli Bhag 1 गद्य खण्ड Chapter 8 पधारो म्हारे देश Text Book Questions and Answers, Summary, Notes.

BSEB Bihar Board Class 9 Hindi Solutions गद्य Chapter 8 पधारो म्हारे देश

Bihar Board Class 9 Hindi पधारो म्हारे देश Text Book Questions and Answers

 

Bihar Board Class 9 Hindi Book Solution प्रश्न 1.
‘हाकड़ो’ राजस्थानी समाज के हृदय में आज भी क्यों रचा-बसा है?
उत्तर-
कोई हजार बरस पुरानी डिंगल भाषा में और आज की राजस्थानी में भी हाकड़ो शब्द उन पीढ़ियों की लहरों में तैरता रहा है, जिनके पुरखों ने भी कभी समुद्र नहीं देखा था।

Bihar Board 9th Class Hindi Book Solution प्रश्न 2.
‘हेल’ नाम समुद्र के साथ-साथ अन्य कौन से अर्थ को दर्शाता है?
उत्तर-
इसका अर्थ समुद्र के साथ-साथ विशालता और उदारता भी है।

Bihar Board Solution Class 9 Hindi प्रश्न 3.
किस रेगिस्तान का वर्णन कलेजा सुखा देता है?
उत्तर-
थार रेगिस्तान का वर्णन कुछ ऐसा है कि कलेजा सूख जाता है।

Bihar Board Class 9th Hindi Solution प्रश्न 4.
भूगोल की किताबें किनके ‘अत्यंत कंजूस महाजन’ की तरह देखती है और क्यों?
उत्तर-
भूगोल की किताबें प्रकृति को वर्षा को यहाँ अत्यंत कंजूस महाजन’ की तरह देखती हैं और राज्य के पश्चिमी क्षेत्र को इस महाजन का सबसे दयनीय शिकार बताती हैं।

Class 9 Bihar Board Hindi Solution प्रश्न 5.
राजस्थानी समाज ने प्रकृति से मिलने वाले इतने कम पानी का रोना क्यों नहीं रोया?
उत्तर-
वातावरण की असमानता के बावजूद भी राजस्थानी समाज ने प्रकृति से – मिलने वाले इतने कम पानी के लिए रोया नहीं अपितु इसे एक चुनौती के रूप में स्वीकार किया और ऊपर से नीचे तक कुछ इस ढंग से खड़ा किया कि पानी का स्वभाव समाज के स्वभाव में बहुत सरल ढंग से बहने लगा।

Bihar Board Class 9 Hindi Solution प्रश्न 6.
“यह राजस्थान के मन की उदारता ही है कि विशाल मरुभूमि में रहते हुए भी उसके कंठ से समुद्र के इतने नाम मिलते हैं?” इस कथन का क्या अभिप्राय है।
उत्तर-
प्रस्तुत पंक्तियाँ अनुपम मिश्र द्वारा लिखित “पधारो म्हारे देश” शीर्षक से उद्धृत हैं। इन पंक्तियों में लेखक ने राजस्थानी भाषा का बड़ा ही रोचक वर्णन किया है।
लेखक ने संस्कृत में विरासत से समुद्र के नाम के साथ राजस्थानी लोगों की भाषा में समुद्र के नामों को अंकित किया है जैसे आच, उअह, देधाणा, वडनीर, वारहर, सफरा-भंडार। यह राजस्थान के मन की उदारता है, इसकी दृष्टि भी बड़ी विचित्र रही होगी। सृष्टि की जिस घटना को घटे हुए लाखों बरस हो चुके, जिसे घटने में हजारों बरस लगे, उस सबका जामा घाटा का भी बड़ा विचित्र एवं विचारणीय राजस्थानी भावना का वर्णन किया है।

Bihar Board Class 9th Hindi Solutions प्रश्न 7.
जल संग्रह कैसे करना चाहिए?
उत्तर-
राजस्थान के लोगों ने राँको, कुड-कुडियों, बेरियों, जोहड़ों, नाडियो, तालाबों, बावड़ियों और कुएँ, कुँइयों को अखंड हाकड़ों को खंड-खंड कर नीचे उतार कर पानी संचित करने की अनोखी परंपरा का राजस्थान की लोगों ने विकास किया।

Class 9 Hindi Chapter 8 Bihar Board प्रश्न 8.
त्रिकूट पर्वत कहाँ है?
उत्तर-
आज के जैसलमेर के पास त्रिकूट पर्वत है।

Bihar Board 9th Class Hindi Book प्रश्न 9.
‘धरती धोरां री’ किसे कहा गया है और क्यों?
उत्तर-
राजस्थान के पुराने इतिहास में मरुभूमि का या अन्य क्षेत्रों का भी वर्णन सूखे, उजड़े और एक अभिशप्त क्षेत्र की तरह नहीं मिलता। रेगिस्तान के लिए आज प्रचलित धार शब्द भी ज्यादा नहीं दिखता। अकाल पड़े हैं: कहीं-कहीं पानी का कष्ट भी रहा है पर गृहस्थों से लेकर जोगियों ने, कवियों से लेकर मांगणियारों ने, लंगाओं ने, हिन्दू-मुसलमानों ने इसे ‘धरती धोरांरी’ कहा है।

Bihar Board Class 9 Hindi Solutions प्रश्न 10.
मरुनायकजी कहकर किसे पुकारा गया है? उनकी भूमिका स्पष्ट करें।
उत्तर-
मरुनायक जी श्रीकृष्ण को कहा गया है। मरुनायक जी का वरदान और फिर समाज के नायकों के वोज, सामर्थ्य का एक अनोखा संजोग हुआ। इस संजोग से बाजलतो-ओजतो यानी हरेक द्वारा अपनाई जा सकने वाली सरल, सुंदर रीति को जन्म मिला।

प्रश्न 11.
राजस्थान में वर्षा का स्वरूप क्या है?
उत्तर-
औसत बताने वाले आंकड़े भी यहाँ का कोई ठीक चित्र नहीं देते। राज्य में एक छोर से दूसरे छोर तक कभी भी एक सी वर्षा नहीं होती। कहीं यह 100 सेंटीमीटर से अधिक है तो कहीं 25 सेंटीमीटर से भी कम।

प्रश्न 12.
‘रीति’ के लिए राजस्थान में ‘वोज’ शब्द है। यह क्या-क्या अर्थ रखता है?
उत्तर-
‘वोज’ शब्द का अर्थ है रचना, युक्ति और उपाय साथ ही, सामर्थ्य, विवेक और विनम्रता के लिए भी इस शब्द का उपयोग होता रहा है।

प्रश्न 13.
लेखक ने ‘जसढोल’ शब्द का किस अर्थ में प्रयोग किया है और क्यों?
उत्तर-
‘जस ढोल’ शब्द का अर्थ है प्रशंसा करना। राजस्थान ने वर्षा के जल का संग्रह करने का अपनी अनोखी परंपरा को विकासित किया और उसके जस का कभी ढोल नहीं बजाया।

प्रश्न 14.
इस फीचर को पढ़कर आपको क्या शिक्षा मिली है? आप, इसका उपयोग कैसे करेंगे?
उत्तर
-इस फीचर को पढ़ने के बाद राजस्थान की समस्या से अवगत होते हुए उसके निदान के लिए वहाँ के लोगों द्वारा किये गये उपायों से हमें क्षा मिलती है कि हम पर्यावरण की रक्षा में आनेवाले दिक्कतों का शक्ति से उन्मान करें। वैज्ञानिक तरीकों या अपनी पुरानी परंपरा से सबक लें।

प्रश्न 15.
लेखक क्यों ‘पधारो म्हारे देस’ कहते हैं?
उत्तर-
देश पानी के मामले में बिल्कुल ‘ऊँचा’ गाने लगे, सूखे माने गए इस हिस्से राजस्थान में, मरुभूमि में फली-फूली जल संग का भव्य परंपरा का विकास हो। इसलिए लेखक ‘पधारो म्हारे देस’ कहा है

नीचे लिखें गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे पूछे गए प्रश्नों के उत्तर

1. यह राजस्थान के मन की उदारता ही है कि विशाल मरुभूमि में रहते हुए भी उसके कंठ में समुद्र के इतने नाम मिलते हैं। इसकी दृष्टि भी , बड़ी विचित्र रही होगी। सृष्टि की जिसको घठे हुए ही लाखों वर्ष हो चुके, जिसे घटने में भी हजारों वर्ष लगे, उस सबका जमा-घाटा करने कोई बैठे तो आँकड़ों के अनंत विस्तार के अंधेरे में खो जाने के सिवा और क्या हाथ लगेगा। खगोलशास्त्री लाखों, करोड़ों मील की दरियों को ‘प्रकाश-वर्ष’ से मापते हैं। लेकिन सजस्थान के मन चे तो युगों की भारी-भरकम गुना-भाग को पलक झपक कर निपटा दिया। इस बड़ी घटना को वह ‘पलक दरियाव की तसा याद रखे हैं-पलक झपकते ही दरिया का सुख जाना भी इसमें शामिल है और भविष्य में इस सूखे स्थल का क्षणभर में फिर से दरिया बन जाना भी।
(क) पाठ और लेखक के नाम लिखें।
(ख) राजस्थान के मन की क्या उदारता है?
(ग) राजस्थान में किस घटना को घटे लाखों बरस हो चुके? स्पष्ट करें।
(घ) खगोलशास्त्री क्या करते हैं? राजस्थान के मन ने क्या निपटा दिया। स्पष्ट करें।
(ङ) ‘पलक दरियाव’ के अर्थ को राजस्थानी जीवन के संदर्भ में स्पष्ट करें।
उत्तर-
(क) पाठ-पधारो म्हारे देस, लेखक-अनुपम मिश्र।

(ख) राजस्थान की गोद में कभी समुद्र की अपार जलराशि शोभायमान थी।

आज वहाँ मरुभूमि की तप्त बालुकाराशि कहर ढा रही है। यह राजस्थानी मन की उदारत’ है कि इस विपरीत परिस्थिति में भी वे समुद्र की महिमा को भूले नहीं हैं। उन्हें समुद्र के विविध नाम कंठस्थ है। जल से दगा खकर भी वे जलराशि के नाम का जाप कर रहे हैं।

(ग) राजस्थान की भूमि से समुद्र के पलायन की घटना लाखों वर्ष पूर्व घटी घटना है। यह प्रमाण है कि लाखों वर्ष पूर्व कभी राजस्थान में जल-समुद्र लहराता था। लेकिन, परिवर्तन का भौगोलिक चक्र कुछ ऐसा चला कि वहाँ रेत के समुद्र का साम्राज्य फैल गया।

(घ) खगोलशास्त्री लंबी मीलों की दूरियों को ‘प्रकाश-वर्ष में मापते हैं, लेकिन राजस्थानी जीवन-दृष्टि की यह विशेषता रही है कि वे इस दूरी के गणित को पलक-झपट की अल्पावधि में ही हल करके बैठे हुए हैं।

(ङ) ‘पलक दरियाव’ शब्द का अर्थ है-पलक झपकते ही दरिया, अर्थात् नदी का सूख जाना। राजस्थान में कभी समुद्र की अपार जलराशि लहराती थी। लेकिन, एक समय ऐसा भी आया कि वह अपार जलराशि देखते-ही-देखते, अर्थात् पलक झपकते ही सूख गई।

2. भूगोल की किताबें प्रकृति को, वर्षा को यहाँ ‘अत्यंत कंजूस महाजन’ की तरह देखती हैं और राज्य के पश्चिमी क्षेत्र को इस महाजन का सबसे
दयनीय शिकार बताती हैं। इस क्षेत्र में जैसलमेर, बीकानेर, चुरू, जोधपुर और श्रीगंगानगर आते हैं। लेकिन, यहाँ कंजूसी में भी कंजूसी मिलेगी। वर्षा का ‘वितरण’ बहुत असमान है। पूर्वी हिस्से से पश्चिमी हिस्से की तरफ आते-आते वर्षा कम-से-कम होती जाती है। पश्चिम तक जाते-जाते वर्षा सूरज की तरह ‘डूबने लगती है। यहाँ पहुँचकर वर्षा सिर्फ 16 सेंटीमीटर रह जाती है। इस यात्रा की तुलना कीजिए दिल्ली से, जहाँ 150 सेंटीमीटर से ज्यादा पानी गिरता है, तुलना कीजिए उस गोवा से, कोंकण से, चेरापूँजी से, जहाँ यह आँकड़ा 500 से 1000 सेंटीमीटर तक जाता है। (क) पाठ और लेखक के नाम लिखें।
(ख) भूगोल की किताब राजस्थान के संदर्भ में क्या देखती है?
(ग) “लेकिन, यहाँ कंजूसी में भी कंजूसी मिलेगी।’-इस कथन को स्पष्ट करें।
(घ) ‘राजस्थान में वर्षा का वितरण बहुत असमान है।’ उदाहरण देकर समझाइए।
(ङ) प्रस्तुत गद्यांश का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर-
(क) पाठ-पधारो म्हारे देस, लेखक-अनुपम मिश्रा

(ख) भूगोल की किताब यह बताती है कि राजस्थान वर्षा के मामले में अंतिम, अर्थात् सबसे कम बिंदु पर स्थित है। इस विषय की पुस्तक यह बताती है कि राजस्थान में प्रकृति, अर्थात् वर्षा सबसे कंजूस महाजन बनी हुई है अर्थात् यहाँ वर्षा बहुत कम होती है।

(ग) राजस्थान में वर्षा कंजूस है, अर्थात वहाँ वर्षा कम होती है। वहाँ के आँकड़े यह बताते हैं कि वहाँ वर्षा कम नहीं, अपितु अन्य क्षेत्रों की तुलना में बहुत कम होती है। यहाँ पूरे साल में सिर्फ 60 सेंटीमीटर वर्षा होती है। इसीलिए लेखिका ने कहा है कि यहाँ की वर्षा में कंजूसी नहीं, अपितु बहुत कंजूसी दिखाई पड़ती है।

(घ) राजस्थान में वर्षा का वितरण बहुत असमान है, अर्थात् वहाँ एक समान वर्षा नहीं होती है। पूर्वी हिस्से से पश्चिमी हिस्से की तरफ बढ़ते-बढ़ते हम पाते हैं कि वर्षा कमती चली जा रही है। कहीं यह वर्षा 100 सेंटीमीटर से ज्यादा है, तो कहीं 25 सेंटीमीटर से भी कम।

(ङ) प्रस्तुत गद्यांश में लेखक ने वर्षा के मामले में भूगोल की दृष्टि का परिचय दिया है। यहाँ यह भौगोलिक तथ्य उजागर हैं कि राजस्थान में इस देश के अन्य राज्यों की अपेक्षा कम ही नहीं, बहुत कम वर्षा होती हैं। दूसरी बात यह है कि यहाँ वर्षा का वितरण असमान है-कहीं वर्षा कम है तो कहीं उससे भी बहुत कम है।

3. मरुभूमि में सूरज, गोवा चेरापूँजी की वर्षा की तरह बरसता है। पानी कम और गरमी ज्यादा। ये दो बातें जहाँ मिल जाएँ वहाँ जीवन दूभर हो जाता है, ऐसा माना जाता है। दुनिया के बाकी मरुस्थलों में भी पानी लगभग इतना ही गिरता है, गरमी लगभग इतनी ही पड़ती है। इसलिए वहाँ । बसावट बहुत कम ही रही है। लेकिन, राजस्थान के मरुप्रदेश में दुनिया के अन्य ऐसे प्रदेशों की तुलना में न सिर्फ बसावट ज्यादा है, उस बसावट में जीवन की सुगंध भी है। यह इलाका दूसरे देशों की मरुस्थलों की तुलना में सबसे जीवंत माना गया है।
(क) पाठ और लेखक के नाम लिखें।
(ख) राजस्थान में जीवन बड़ा दूभर है। क्यों और कैसे?
(ग) सामान्य रूप से मरुस्थलों की मौसम संबंधी कौन-सी विशेषता है? राजस्थानी मरुस्थल के मौसम से उसका क्या अंतर है?
(घ) राजस्थान का इलाका सबसे जीवंत माना गया है, क्यों और कैसे?
(ङ) प्रस्तुत गद्यांश का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर-
(क) पाठ-पधारो म्हारे देस, लेखक-अनुपम मिश्रा

(ख) राजस्थान रेगिस्तान की भूमि है। वहाँ पानी बहुत कम है और गर्मी अधिक है। जहाँ ये दोनों बातें रहती हैं वहाँ जीवन दूभर हो जाता है। इसीलिए लेखक ने यह माना है कि अतिवादिता में साँस लेनेवाला राजस्थानी जीवन बड़ा दूभर है।

(ग) सामान्य रूप से दुनिया के मरुस्थलों के क्षेत्र में पानी के अनुपात में ही गरमी पड़ती है यानी जितना कम पानी पड़ता है, गरमी उतनी ही ज्यादा पड़ती है। फलतः उन मरुस्थल प्रदेशों में बसावट कम रही है। लेकिन, राजस्थान में मरुप्रदेश में उन मरुप्रदेशों की तुलना में बसावट अधिक है।

(घ) लेखक की दष्टि में राजस्थान मरुप्रदेश होकर भी बडा जीवंत प्रदेश है। वहाँ के लोगों ने अपने प्रदेश में व्याप्त वर्षा एवं गरमी संबंधी कटु सत्य को चुनौती के रूप में स्वीकारा है और अपने जीवन को कला के साँचे में ढालकर उसे शाश्वत सत्य के रूप में स्वीकारा है। वे कभी मरुस्थल की पीड़ा का रोना नहीं रोते, बल्कि इस पीड़ा में जीवन के उल्लास की सुगंधि का अनुभव करते हैं। इसीलिए, वहाँ का जीवन बड़ा जीवंत है।

(ङ) प्रस्तुत गद्यांश में लेखक के कथन का आशय यह है कि राजस्थान मरुभूमि का प्रदेश होकर भी जीवन की सुगंधि और जीवंतता का प्रदेश बना हुआ है। वहाँ वर्षा कम होती हैं और गरमी अधिक पड़ती है। इसलिए, वहाँ का जीवन दूभर हो गया है। लेकिन, लेखक ने बताया है कि वहाँ की जीवन-शैली और कला ने जीवन की दूभरता की पीड़ा को बड़े ही व्यावहारिक रूप से आत्मसात् कर लिया है जिससे वहाँ का जीवन बाहर से दूभर, लेकिन भीतर से जीवंत है।

4. पानी के काम में यहाँ भाग्य भी है और कर्तव्य भी। वह भाग्य ही तो था कि महाभारत युद्ध समाप्त हो जाने के बाद श्रीकृष्ण करुक्षेत्र से अर्जुन को साथ लेकर वापस द्वारका इसी रास्ते से लौटे थे। उनका रथ मरुदेश पार कर रहा था। आज के जैसलमेर के पास त्रिकूट पर्वत पर उत्तुंग ऋषि तपस्या करते हुए मिले थे। श्रीकृष्ण ने उन्हें प्रणाम किया था और उनके तप से प्रसन्न होकर उन्हें वर माँगने को कहा था। उत्तुंग का अर्थ है, ऊँचा। वे सचमुच बहुत ऊँचे थे। उन्होंने अपने लिए कुछ नहीं माँगा। प्रभु से प्रार्थना की कि “यदि मेरे कुछ पुण्य हैं तो भगवान वर दें कि इस क्षेत्र में कभी जल का अकाल न रहे।” “तथास्तु”, भगवान ने वरदान दिया था।
(क) पाठ और लेखक के नाम लिखें।
(ख) “पानी के काम में यहाँ भाग्य भी है और कर्तव्य भी।”-इस कथन को स्पष्ट करें।
(ग) श्रीकृष्ण से राजस्थान में किस ऋषि ने कब और क्या वरदान माँगा था?
(घ) उस ऋषिविशेष के नाम की सार्थकता स्पष्ट करें।
(ङ) प्रस्तुत गद्यांश का आशय लिखें।
उत्तर-
(क) पाठ-पधारो म्हारे देस, लेखक-अनुपम मिश्न

(ख) राजस्थान में पानी के काम में भाग्य और कर्तव्य दोनों है। भाग्य यह है कि इस भूमि पर भगवान श्रीकृष्ण ने उत्तुंग ऋषि को यह वरदान दिया था कि इस क्षेत्र में कभी जल का अकाल नहीं पड़ेगा। इसलिए वहाँ जल बराबर संचित मिलता है। इस क्षेत्र में वहाँ कर्तव्य भी काम कर रहा है और वह इस रूप में कि वहाँ के लोग काफी प्रयत्न कर प्रकृति से प्राप्त वर्षा जल की एक-एक बूंद को योजनाबद्ध तरीके से संचित किए रहते हैं और प्रयत्नपूर्वक उसका सदुपयोग करते है।

(ग) महाभारत युद्ध की समाप्ति के उपरांत श्रीकृष्ण कुरुक्षेत्र से अर्जुन को साथ लेकर जब द्वारिका लौट रहे थे, तो रास्ते में आज के जैसलमेर के पास त्रिकूट पर्वत पर तपस्या में लीन उत्तुंग ऋषि को तथास्तु कहकर यह वरदान दिया था कि इस क्षेत्र में कभी जल का अकाल नहीं पड़ेगा।

(घ) उस ऋषि विशेष का नाम था ‘उत्तुंग’ जिसका अभिप्राय है ऊँचा। उत्तुंग ऋषि सचमुच बहुत ऊँचे थे। उन्होंने श्रीकृष्ण से वरदान में अपने लिए कुछ नहीं माँगा, बल्कि प्रदेश के कल्याण के लिए ही वरदान के रूप में श्रीकृष्ण से कुछ माँगा। उनकी माँग थी कि “यदि मेरे कुछ पुण्य है तो भगवान वर दें कि इस क्षेत्र में कभी जल का अकाल न रहे।”

(ङ) प्रस्तुत गद्यांश में लेखक ने यह दर्शाया है कि राजस्थान में पानी के काम में भाग्य और कर्तव्य दोनों के विधान शामिल है। राजस्थान के पुत्र उत्तुंग ऋषि ने भगवान श्रीकृष्ण से यह वरदान पाया था कि यहाँ जल का कभी अकाल नहीं रहेगा और वह रहता भी नहीं है इसलिए कि लोगों ने कर्म के विधान द्वारा वर्षा से प्राप्त जल की हर बूंद का संचय योजनाबद्ध तरीके से करना सीखा है।

5. जसढोल, यानी प्रशंसा करना। राजस्थान ने वर्षा के जल का संग्रह करने की अपनी अनोखी परंपरा का, उसके जस का कभी ढोल नहीं बजाया। आज देश के लगभग सभी छोटे-बड़े शहर, अनेक गाँव, प्रदेश की राजधानियाँ और तो और देश की राजधानी तक खूब अच्छी वर्षा के बाद भी पानी जुटाने के मामले में बिलकुल कंगाल हो रही है। इससे पहले कि देश पानी के मामले में बिल्कुल “ऊँचा” सुनने लगे, सूखे माने गए इस हिस्से राजस्थान में, मरुभूमि में फली-फूली जल-संग्रह की भव्य-परंपरा का जसढोल बजना ही चाहिए। पधारो म्हारे देस।
(क) पाठ और लेखक के नाम लिखें।
(ख) राजस्थान में जल-संग्रह की अनोखी परंपरा क्या है?
(ग) ‘जसढोल’ का अर्थ राजस्थानी समाज के संदर्भ में स्पष्ट करें।
(घ) आज देश के अधिकांश शहर किस मामले में बिलकुल कंगाल हो रहे हैं?
(ङ) राजस्थान में किसका जसढोल बजना चाहिए?
उत्तर-
(क) पाठ-पधारो म्हारे देस, लेखक-अनुपम मिश्र

(ख) राजस्थान में जल-संचय की अनोखी परंपरा यह है कि वहाँ कम वर्षा के बावजूद पानी का कभी अकाल नहीं पड़ता, क्योंकि लोग वहाँ पानी जुटाने के मामले में कंगाल नहीं हैं। वे योजनाबद्ध तरीके से वर्षा से प्राप्त जल की हर बूँद को मूल्यवान संपत्ति की तरह सहेज कर रखते हैं।

(ग) राजस्थान के लोग जल-संचय जैसा बड़ा प्रशंसित कार्य करते हैं, लेकिन वहाँ के लोग इस यश का ढोल बजाकर प्रचार नहीं करते। वे चुपचाप पानी जुटाने के मामले में सच्चे कर्म साधक बने रहते हैं।

(घ) आज देश के अधिकांश शहर खूब अच्छी वर्षा के जल से कृतार्थ होकर भी पानी जुटाने के मामले में बिलकुल कंगाल हो रहे है। उन शहरों में राजस्थान की अपेक्षा अधिक वर्षा होती है फिर भी वहाँ पानी के अभाव की पीड़ा बनी रहती है; क्योंकि वह जल के संचय और सदुपयोग की कला से परिचित नहीं हैं।

(ङ) राजस्थान में जल-संग्रह के कार्य की भव्य परंपरा बन गई है। उस परंपरा का जसढोल बजना चाहिए यानि इस आदर्श परंपरा का प्रचार और प्रसार होना चाहिए ताकि लोग इसे अपने-अपने क्षेत्रों में भी अपनाएँ और उन्हें जल के अकाल की पीड़ा से मुक्ति मिले और इस पीड़ा का उन्हें रोना-रोना न पड़े। इस स्थिति में उनका समग्र जीवन जीवंत और सुगंधमय होगा।

Bihar Board Class 9 English Book Solutions Chapter 9 The Gift of The Magi

Get Updated Bihar Board Class 9th English Book Solutions in PDF Format and download them free of cost. Bihar Board Class 9 English Book Solutions Prose Chapter 9 The Gift of The Magi Questions and Answers provided are as per the latest exam pattern and syllabus. Access the topics of Panorama English Book Class 9 Solutions Chapter 9 The Gift of The Magi through the direct links available depending on the need. Clear all your queries on the Class 9 English Subject by using the Bihar Board Solutions for Chapter 9 The Gift of The Magi existing.

Panorama English Book Class 9 Solutions Chapter 9 The Gift of The Magi

If you are eager to know about the Bihar Board Solutions of Class 9 English Chapter 9 The Gift of The Magi Questions and Answers you will find all of them here. You can identify the knowledge gap using these Bihar Board Class 9 English Solutions PDF and plan accordingly. Don’t worry about the accuracy as they are given after extensive research by people having subject knowledge alongside from the latest English Textbooks.

Bihar Board Class 9 English The Gift of The Magi Text Book Questions and Answers

A. Form small groups and discuss the following:

The Gift Of The Magi Questions And Answers Bihar Board Class 9 Question 1.
The importance of gifts on great occasions.
Answer:
The gift is presented on great occasions. It is a token of love and affection. It should be kept with the utmost care. It is just like a treasure of love which is given by his/her affectionate persons. It gives one happiness. Sharing a gift adorn the day. It makes one feel important and adds to one’s happiness and pleasure.

Question Answer Of The Gift Of Magi Bihar Board Class 9 Question 2.
Importance of Christmas, Eid, Diwali and New Year presents.
Answer:
India is a land of fairs and festivals. These speak of the past glory and prosperity of our country. Christmas, Eid, Diwali and New year all are very important festivals. We celebrate these with great pomp and show. We present gifts on these occasions. This adds joy, happiness and deep love for one another. We also hope to celebrate it next year with our near and dear.

B.1.1. Complete the following sentences on the basis of the unit you have studied:

  1. Della counted her money ________ times.
  2. Expenses had been greater than Della had ________
  3. The two precious possessions that Jim and Della had were _______
  4. The Queen of Sheba might have been envious of Della’s __________
  5. “Will you buy my hair?” said __________
  6. Della bought _________ for her husband.

Answer:

  1. three
  2. calculated
  3. Jim’s gold watch and Della’s golden hair
  4. beautiful hair
  5. Della
  6. a platinum fob chain for Jim’s watch.

B.1. 2. Answer the following questions very briefly:

Gift Of The Magi Questions And Answers Bihar Board Class 9 Question 1.
Who are Jim and Della?
Answer:
Jim and Della are husband and wife. They love each other very much.

The Gift Of The Magi Question Answer Bihar Board Class 9 Question 2.
Who is the mistress of the home?
Answer:
Della is the mistress of the home.

Bihar Board English Book Class 9 Pdf Download Question 3.
What is the possession of Della in she took pride?
Answer:
Della had beautiful possession in the form of her long golden hair.

Bihar Board Class 9 English Book Solution Question 4.
What was the precious possession of Jim?
Answer:
Jim’s precious possession watch his gold was which had inherited from his father and grandfather.

The Gift Of Magi Question Answers Bihar Board Class 9 Question 5.
Why did Della sale her hair?
Answer:
Della sold her hair to by Christmas’ gift for her husband.

The Gift Of The Magi Solution Bihar Board Class 9 Question 6.
What was worthy of the watch?
Answer:
The platinum fob chain that she bought was worthy of the watch.

Question 7.
Why did Della buy a platinum fob chain?
Answer:
Della bought a platinum fob chain for Jim’s gold watch, it was a true match for it. It was to be presented on Christmas Eve.

B.2.1. Write ‘T’ for true and ‘F’ for false statements:

  1. Jim will say that Della looks like a Coney Island chorus girl.
  2. Della had a habit of saying noisy prayers.
  3. Jim scolded Della for selling her hair.
  4. Jim bought a set of combs for Della.
  5. The Magi presented a gift to infant Christ.

Answer:

  1. — T
  2. — F
  3. — F
  4. — T
  5. — T

B.2.2. Answer the following questions briefly:

Question 1.
Why does Della say, “Please God, make him think I am still pretty”?
Answer:
Della says, “Please God, make him think I am still pretty.” She says because she had got her hair cut. She is afraid that Jim may not like her. looks after her beautiful hair is cut. Her beautiful hair made her beautiful.

Question 2.
“He simply stared at her fixedly with that peculiar expression on his face”. Why did Jim stare at her fixedly?
Answer:
Jim stared at her fixedly he had brought costly combs for her golden hair. Which she had lost. He was bewildered to see Della with hair on her head.

Question 3.
“Maybe the hairs of my head were numbered but nobody could ever count my love for you.” Why did Della say so?
Answer:
When Jim stared at Della fixedly, she thought that Jim did not appreciate him without her hair. So in order to convince Jim of her love she said so.

Question 4.
Why did Jim say about their gifts that “they’re too nice to use at present?”
Answer:
Both the husband-wife sold their precious possession for gifts, for each other so the gifts were useless presently. So Jim said so.

Question 5.
Who is Magi? Why are Jim and Della called the Magi?
Answer:
The Magi were wise men, who invented the art of giving Christmas presents. Jim and Della are called the Magi because of the selfless love they showed for each other.

C. 1. Long Answer Type Questions

Question 1.
What is the significance of the title “The Gift of the Magi”?
Answer:
The title the Gift of the Magi depicts how the process of sharing gifts began. It was started by the Magi who were too wise men-wonderfully wise men, who brought a gift to the Babe Christ. This shows that sharing gift adds to the happiness and pleasure of the particular day. In fact, the value of gifts comes from its feelings and emotion, but not from its materialistic value.

Question 2.
How can you say that Jim and Della loved each other very much?
Answer:
Jim and Della were husband and wife. According to tradition on Christmas day they had to present the gift. They were poor so they could not buy a costly gift. It has so happened that both had to sell each of their possession Della sold her golden hair for which she longed for a beautiful set of combs. She got cut’ her hair and sold it and bought platinum chain for Jim’s gold watch. On the other side, Jim sold his gold watch for Della. Thus both lost their possessions. They sacrificed for their lover and beloved.

Question 3.
Describe the family status as well as the family life of Jim and Della.
Answer:
Jim and Della were not very sound economically. The family earning was $20 a week only. They were hand to mouth. They had no money left to save. Della saved some money by bulldozing the shopkeepers. Which instigates the moral reflection that life was made up of sobs, sniffles and smiles with sniffles predominating.

Question 4.
Who invented the art of giving Christmas gifts and why are Jim and Della called the Magi?
Answer:
The Magi invented the art of giving Christmas gifts by giving gift to Babe Christ. Jim and Della sacrificed their most precious possessions to buy a suitable gift for each other. So they are called the Magi. They were not selfish rather the giver of the greatest treasure of their house. They emotionally presented each other and with their true heart.

Question 5.
The essence of love is sacrifice. Justify this statement with reference to ‘The Gift of the Magi; Jim and Della were right in their decision.
Answer:
The essence of love is sacrifice. No doubt it is true to say. A true lover always thinks only of the well and happiness of his lover or beloved. Lover love will remain forever. He thinks that it is possible that the sea goes dry but there is, no possibility of the feeling of love for his beloved deserting his heart. Lover feels that his beloved is always as fresh as a rose of June. Jim and Della were like the same. Both sold their costly possessions for their lover and beloved. So, their decision to sacrifice their possessions for the other was in fact the dissolution of age which so important for love.

Question 6.
Do you think that to sell their possessions for Christmas gifts was wise? Give your own opinion.
Answer:
Yes, I think that to sell their possessions for Christmas gifts was a wise to step. Because if a lover or beloved can sacrifice their lives than.what is the value of material things. Jim and Della sold them the greatest treasures of their possessions it was done in emotion. So, in my opinion, the gifts were no doubt wise ones.

C.2. Group Discussion

Discuss the following in groups or pairs:

Question 1.
Christmas and its importance.
Answer:
Christmas and its importance because every festival has its own importance.The&e speak of the past glory and prosperity of the concerning religion. They are traditionally Christians celebrate Christmas on 25th December every year. It is a celebration of the birth of Jesus Christ. Every Christ and makes merry and a happy new year. Small Christmas tree is set up at and decorated with tinsel, candles and presents etc. Every person gives a present to each other and wishes good.

Question 2.
Love overrides helplessness.
Answer:
It is said that everything is fair in love and war. It is true in the sense of Jim and Della, both sacrificed for each other with their home treasures. It was love which over rode on them. For the sake of love, one does any kind of deed so that he or she loves remaind happy. The same is seen in this story. Jim and Della sacrificed their gifts to each other, the greatest possessions for each other’s happiness.

Comprehension Based Questions with Answers

1. One dollar and eighty-seven cents. That was all. And sixty cents of it was in pennies. Pennies saved one and two at a time, by bulldozing the grocer and the vegetable man and the butcher until one’s cheek burned with the silent imputation of parsimony that such close dealing implied. Three times Della counted it. One dollar and eighty-seven cents. And the next day would be Christmas.
There was clearly nothing left to do but flop down on the shabby, little couch and howl. So Della did it. Which instigates the moral reflection that life is made up of sobs, sniffles, and smiles, with sniffles predominating. While the mistress of the home is gradually subsiding from the first stage to the second, take a look at the home. A furnished flat at $8 per week. It did not exactly beggar description, but it certainly had that word on the look-out the mendicancy squad.
In the vestibule below was a letter-box into which no letter would go, and an electric button from which no mortal finger could coax a ring. Also appertaining thereunto was a card bearing the name “Mr. James Dillingham Young”. The “Dillingham” had been flung to the breeze during a former period of prosperity when its possessor was being paid $30 per week. Now, when the income was shrunk to $20. the letters of “Dillingham” looked blurred, as though they were thinking seriously of contracting to a modest and unassuming D.-But whenever Mr. James Dillingham Young came home and reached his flat above he was called “Jim” and greatly hugged by Mrs. James Dillingham Young already introduced to you as Della. Which is all very good.

Questions:

  1. Name the story and its author.
  2. How did Della save money?
  3. How much money did Della have?
  4. What was the cause of Della’s weeping?
  5. Find the word from the passage which mean’s – ‘meant’.

Answers:

  1. The name of the story is ‘The Gift of the Magi’ and its the author is O. Henry.
  2. Della saved money at a time by bulldozing the grocer and the vegetable man and the butcher until one’s cheek burned with silent imputation.
  3. Della had one dollar and eighty-seven cents in all. Sixty cents of it was in pennies.
  4. The cause of Della’s weeping is that life is made up of sobs sniffles and smiles with sniffles predominating.
  5. Implied.

2. Della finished her cry and attended to her cheeks with the pow der rug. She stood by the window and looked out dully at a grey cat walking a grey fence in a grey backyard. Tomorrow would be Christmas Day, and she had only $1.87 with which to buy Jim a present. She had been saving every penny she could for months, with this result. Twenty dollars a week doesn’t go far. Expenses had been greater than she had calculated. They always are. Only $1.87 to buy a present for Jim: Her Jim. Many a happy hour she had spent planning for something nice for him. Something fine and rare and sterling-something just a little bit near to being worthy of , the honour of being owned by Jim. There was a pier-glass between the windows of the room. Perhaps you have seen a pier-glass in an $8 flat. A very thin and very”agile person may, by observing his reflection in a rapid sequence of longitudinal strips, obtain a fairly accu-rate conception of his looks. Della, being slender, had mas-tered the art. Suddenly she whirled from the window and stood before the glass. Her eyes were shining brilliantly, but her face had lost its colour within twenty seconds Rapidly she pulled down her hair and let it fall to its full length.

Questions:

  1. How many dollar had Della?
  2. How had she been saving money?
  3. Why did she suddenly whirled from the window?
  4. Find the word from the passage which mean of standard value.

Answers:

  1. Della had one dollar and eighty-seven cents.
  2. She had been saving every penny she could, for month.
  3. While thinking an idea came into her mind that she had beautiful golden hair which she could sell to get enough money for Jim’s presents. So suddenly shewhirled from the window.
  4. Sterling.

3. Now, there were two possessions of the James Dillingham Young in which they both took a mighty pride. One was Jim’s gold watch that had been his father’s and his grandfather’s. The other was Della’s hair. Had the Queen of Sheba lived in the flat across the airshaft, Della would have let her hair hang out the window some day to dry just to depreciate Her Majesty’s jewels and gifts. Had King Solomon been the janitor, with all his treasures pile up in the base¬ment, Jim would have pulled out his watch every time he passed just to see him pluck at his beard from envy.
So now Della’s beautiful hair about her, rippling and shining like a cascade of brown waters. It reached below her knee and made itself almost a garment for her. And then she did it up again nervously and quickly. Once she faltered for a minute and stood still while a tear or two splashed on the worn red carpet.
On went her old brown jacket; on went her old brown hat. With a whirl of skirts and with the brilliant sparkle still in her eyes, she fluttered out of the door and down the stairs to the street.

Questions:

  1. What were two possessions of the James Dillingham Young?
  2. How was Della’s hair?
  3. How did Della go to the street.
  4. Find the word from the passage which mean ‘golden hair’.

Answers:

  1. The two possessions James Dillingham Young were the Della’s hair and the gold watch of Jim.
  2. Della’s hair was beautiful fell about her, rippling and shining like a cascade of brown waters.
  3. On went her old brown jacket, on went her old brown hat. With a whirl of skirts and with the brilliant sparkle still in her eyes, the fluttered out of the door and down the stairs to the street.
  4. Brown waters.

4. Where she stopped the sign read, “Mme So’fronie. Hair Goods of All Kinds.” One flight up Della ran, and collected herself, panting. Madame, large, too white, chilly, hardly looked the “Sofronie”.
“Will you buy my hair?” asked Della.
” I buy hair,” said Madame, “Take your hat off and let’s have sight at the looks of it.”
Down rippled the brown cascade.
“Twenty dollars,” said Madame, lifting the mass with a prac¬ticed hand.
“Give it to me quick,” said Della.
Oh, and the next two hours tripped by on rosy wings. Forget the hashed metaphor. She was ransacking the stores for Jim’s present.
She found it at last. It surely had been made for Jim, and no one else. There was no other like it in any of the stores, and , she had turned all of them inside out. It was a platinum fob chain simple and chaste in design, properly proclaiming its value by substance alone and not by meretricious omamen- tation-as all good things should do. It was even worthy of The Watch. As soon as she Saw it she knew that it must be Jim’s. It was like him. Quientness and value-the description applied to both. Twenty-one dollars they took from her for it, and she hurried home with the 87 cents. With that chain on his watch Jim might be properly anxious about the time in any company. Grand as the watch was, he sometimes looked at it on the sly on account of the old leather strap that he used in place of a chain.

Questions:

  1. How did Della think when she got a chain in a shop?
  2. What type of was the chain?
  3. How much did she pay for the chain?
  4. Find the words from the passage which means: ‘attractive but of little value’.

Answers:

  1. Della thought that it surely had been made for Jim, and so no one else. There was no other like it in any of the stores.
  2. The chain was a platinum fob chain simple and chaste in design, property proclaiming its value by substance done and not by meretricious ornamentation as all good things should do.
  3. She paid twenty one dollars.
  4. Meretricious.

5. Tradition of giving presents of gifts is very common on some occasions in every religion. For the Christiansit is Christmas, for the Hindus it is Diwali, for the Muslims it is Eid etc. When Della reached home her intoxication gave way a little to prudence and reason. She got out her curling irons and lighted the gas and went to work repairing the ravages made by generosity added to love. Which ii always a tremendous task, dear friends-a mammoth task.
Within forty minutes her head was covered with tiny, close- lying curls that made her look wonderfully like a truant school boy. She looked at her reflection in the mirror long, . carefully, and critically.
“If Jim doesn’t kill me,” she said to herself, “before he takes a second look at me, he’ll say I look like a Coney Island chorus girl. But what could I do-oh! What could I do with a dollar and eighty-seven cents?”
At seven o’clock the coffee was made and the frying-pan was on the back of the stove, hot and ready to cook the chops.

Questions:

  1. What is the tradition? The author describes here?
  2. What did Della do after reaching home?
  3. Which task is tremendous?
  4. What did Della think of her looking?

Answers:

  1. Tradition of giving present or gifts is very common on some occasions in every religion. For the Christianist is Christmus, for the Hinduist is Diwali, for the Muslims it is Eid.
  2. When Della reached home her intoxication gave away a little to prudence. She got out her curling irons and lighted gas and went to work repairing her hair.
  3. The work which made by generosity added to love is always a tremendous task.
  4. Della thought she would look like a Coney Island chorus girl.

6. Jim was never late. Della doubled the fob chain in her hand and sat on the comer of the table near the door that he always entered. Then she heard his step on the stairway down on the first flight, and she turned white for just a moment. She had a habit of saying little silent prayers about the simplest everyday things, and now she whispered: “Please God. make him think I am still pretty.”
The door pened and Jim stepped in and closed it. He looked thin and very serious. Poor fellow, he was only twenty-two and to be burdened with a family! He needed a new over¬coat and he was without gloves.
Jim Stepped inside the door, as immovable as a setter at the scent of quail. His eyes were fixed upon Della, and there was an expression in them that she could not read, and it terrified her. It was not anger, nor surprise, nor disapproval, nor-horror, nor any of the sentiments that she had been prepared for. He simply stared at her fixedly with that peculiar expression on his face.
Della wriggled and went for him.

Questions:

  1. Was Jim ever late to reach his home?
  2. Where did Della sit to wait for Jim?
  3. Why did she turn white?
  4. How did Jim enter the room?
  5. Describe the situation when both him and Della met?

Answers:

  1. No, Jim was never late to reach his home.
  2. Della sat on the comer of the table near the door that Jim always entered and waited for him.
  3. As soon as Della heard the sound of step turned white for a moment.
  4. The door was opened and Jim stepped in.
  5. As Jim entered the room. His eyes fixed upon Della’s hair there was an expression in them that she could not read and it terrified her, it was no anger, nor surprise, nor disapproval, nor horror, nor any sentiments that she had been prepared for. He simply stared at her fixedly.

7. “Jim, darling,” she cried, “don’t look at me that way. I had my hair cut off and sold it because I couldn’t have lived through Christmas without giving you a present. It’ II grow out again—you won’t mind, will you? I just had to do it. My hair grows awfully fast. Say ‘Merry Christmas!’ Jim, and let’s be happy. You don’t know what a nice—what a beautiful, nice gift I’ve got for you.”
“You’ve cut off your hair?” asked Jim laboriously, as if he had not arrived at that patent fact yet even after the hardest mental labour.
“Cut it off and sold it,” said Della. “Don’t you like me just as well, anyhow? I’m me without hair, ain’t I?”
Jim looked about the room curiously.
“You say your hair is gone?” he said with an air almost of idiocy.
“You needn’t look for it,” said Della. It’s sold, I tell you— sold and gone, too. It’s Christmas Eve, the boy. Be good to me, for it went for you. Maybe the hairs of my head were numbered”. She went with a sudden serious sweetness. Shall I put the chops on, Jim?”

Questions:

  1. What did Della say to Jim?
  2. What did Jim reply?
  3. What did Della say in the last?
  4. Find the word from the passage which means: ‘on the occasion’.

Answers:

  1. Addressing as Jim, darling Della told that she had her hair cut off and sold because she could not live without giving Jim Christmas present. It would grow again.
  2. Jim replied silently that she had cut off her hair as if he had not arrived at that patent fact yet.
  3. At last, Della requested Jim to be good to her for it had gone for him.
  4. Eve.

8. Out of his trance, Jim seemed quickly to wake. He enfolded his Della. For ten seconds let us regard with discreet scrutiny some inconsequential object in the other direction. Eight dollars a week or million a year—what is the difference? A mathematician or a wit would give you the wrong answer. The magi brought valuable gifts, but that was not among them. This dark assertion will be illuminated later on. Jim drew a package from his overcoat pocket and threw it upon the table.
“Don’t make any mistake, Dell?” he said, “about me”. I don’t’ think there’s’anything in the away of a haircut or a shave or a shampoo that could make me like my girl any less. But if you’ll unwrap that package you may see why you had me going a while at first.” White fingers and nimble tore at the string and paper. And then an ecstatic scream of joy; and then, alas! a quick feminine change to hysterical tears and wail, necessitating the immediate employment of all the comforting powers of the lord of the flat.
For there lay The Combs—the set of combs, side and back, that Della had worshipped for long in a Broadway window. Beautiful combs, pure tortoise-shell, with jewelled rims— just the shade to wear in the beautiful vanished hair. They were expensive combs, she knew, and her heart had simply craved and yearned over them without the least hope of possession. And now they were hers, but the tresses that should have adorned the coveted adornments were gone. But she hugged them to her bosom, and at length, she was able to look up with dim eyes and a smile and say: “My hair grows so fast, Jim” And then Della leapt up like a little singed cat and cried, “Oh, oh!”

Questions:

  1. What will be illuminated later on?
  2. What did Jim tell, having thrown the gift on the table?
  3. What we’re in the packet of the gift bought by Jim?
  4. What did they do at last?
  5. Find the word from the passage which means ‘put the arms round tightly to show love’.

Answers:

  1. The dark assertion will be illuminated later on.
  2. Jim told that does not think there was anything in the way of a hair cut or a shave or a shampoo that could make him like his girl any less.
  3. There were combs—the act of combs, side and back, that Della had worshipped for long.
  4. At last, they were hers. But she hugged them to her bosom, and at length, she was able to look up with dim eyes and a smile.

9. Jim had not yet seen his beautiful present. She held it out to him eagerly upon her open palm. The dull precious metal seemed to flash with a reflection of her bright and ardent spirit.
“Isn’t it a dandy, Jim? I hunted all over town to find it.. You’ll have to look at the time a hundred times a day now. Give me your watch I want to see how it looks on it.”
Instead of obeying, Jim tumbled down on the couch and put his hands under the back of his head and smiled.
“Dell,” said he, “let’s put our Christmas presents away and keep ’em a while. They’re too nice to use just at present. I sold the watch to get the money to buy your combs. And now suppose you put the chops on.”
The Magi, as you know, were wise men-wonderfully wise when-who brought a gift to the Babe in the manger. They invented the art of giving Christmas presents. Being wise, their gifts were no doubt wise ones, possibly bearing the privilege of exchange in case of duplication. And here I have lamely related to you the uneventful chronicle of two foolish children in a flat who most unwisely sacrificed for each other the greatest treasures of their house. But in the last word to the wise of these days, let it be said that of all who give gifts these two were the wisest. Of all who give and receive gifts, such as they are the wisest. Everywhere they are the wisest. They are the Magi.

Questions:

  1. How did Della show Jim’s presentation?
  2. What did Jim say to Della about presents?
  3. Who were Magi?
  4. Find the word from the passage which means “excellent”.

Answers:

  1. Della held the chain out to him eagerly upon her open palm and show the presentation.
  2. Jim told Della that they should put their Christmas presents away and should keep them awhile. They were so nice to use just at present.
  3. Magi were wise men-wonderful, wise men who brought a gift to the Babe in the manger. They invented the art of giving Christmas presents.
  4. Dandy.

Hope you liked the article on Bihar Board Solutions of Class 9 English Chapter 9 The Gift of The Magi Questions and Answers and share it among your friends to make them aware. Keep in touch to avail latest information regarding different state board solutions instantly.

Bihar Board Class 9 English Book Solutions Poem 8 Abraham Lincoln’s Letter to His Son’s Teacher

Get Updated Bihar Board Class 9th English Book Solutions in PDF Format and download them free of cost. Bihar Board Class 9 English Book Solutions Poem 8 Abraham Lincoln’s Letter to His Son’s Teacher Questions and Answers provided are as per the latest exam pattern and syllabus. Access the topics of Panorama English Book Class 9 Solutions Poem 8 Abraham Lincoln’s Letter to His Son’s Teacher through the direct links available depending on the need. Clear all your queries on the Class 9 English Subject by using the Bihar Board Solutions for Poem 8 Abraham Lincoln’s Letter to His Son’s Teacher existing.

Panorama English Book Class 9 Solutions Poem 8 Abraham Lincoln’s Letter to His Son’s Teacher

If you are eager to know about the Bihar Board Solutions of Class 9 English Poem 8 Abraham Lincoln’s Letter to His Son’s Teacher Questions and Answers you will find all of them here. You can identify the knowledge gap using these Bihar Board Class 9 English Solutions PDF and plan accordingly. Don’t worry about the accuracy as they are given after extensive research by people having subject knowledge alongside from the latest English Textbooks.

Bihar Board Class 9 English Abraham Lincoln’s Letter to His Son’s Teacher Text Book Questions and Answers

A. Answer the following questions orally:

Abraham Lincoln’s Letter To His Son’s Teacher Solutions Bihar Board Question 1.
What do you know about Abraham Lincoln, the famous President of America?
Answer:
Abraham Lincoln was the sixteenth President of the United States of America. He was the man who abolished slavery by Proclamation in 1863. He was shot-dead in 1865.

Abraham Lincoln’s Letter To His Son’s Teacher Questions Answers Pdf Bihar Board Question 2.
Has your father ever written any letter to your teacher?
Answer:
No, he has never written any letter to my teacher.

Abraham Lincoln Letter To His Son’s Teacher Question Answer Bihar Board Question 3.
Can you imagine how much your father is worried about your future?
Answer:
Yes, like every father he is very much worried about my future. He wants it to be good at every step. So he gives proper care of my studies.

B.1. Write ‘T’ for true and ‘F’ for false statement:

  1. It is a letter written by a father to his son.
  2. All men are not just and true.
  3. A dollar earned is of far more value than five pounds.
  4. One should be taught to mourn over losing.
  5. One should be taught to fail rather than to cheat.

Answer:

  1. — F
  2. — T
  3. — T
  4. — F
  5. — T

B.2. Complete the sentences on the basis of your reading of the poem:

  1. Teach him to sell his ________ and brain to the highest _________
  2. Teach him to be _________ with gentle people.
  3. Teach him to ________ at cynics.
  4. Teach him it is far _________ to fail than to ________
  5. Let him learn early that the bullies are the easiest to _________
  6. Teach him the _______ of books.
  7. He should be given quiet time to ponder the _________ mystery of birds in the sky.
  8. One should have sublime _________ in himself to have faith in mankind.

Answer:

  1. brawn, bidder
  2. gentle
  3. scoff
  4. honourable, cheat
  5. lick
  6. wonder
  7. eternal
  8. faith.

C.1. Long Answer Type Questions

Abraham Lincoln Letter To His Son’s Teacher Poem Questions And Answers Bihar Board Question 1.
Why did Abrahafti Lincoln write a letter to his son’s teacher?
Answer:
Abraham Lincoln wrote a letter to his son’s teacher suggesting to give such an education which can make him strong with body, mind and spirit.

Abraham Lincoln’s Letter To His Son’s Teacher Poem Bihar Board Question 2.
What does Lincoln mean by saying that “for every scoundrel, there is a hero; that for every selfish Politician, there is a dedicated leader…”
Answer:
The saying is true. He means to say that there is always every scoundrel there is a hero and for every selfish Politician, there is a dedicated leader. It depends upon thinker as what he .thinks. We should consider it within our heart about the concerning man.

Letter To A Teacher Prose Questions And Answers Bihar Board Question 3.
A child should be treated gently but not cuddled. Do you agree? Give your opinion.
Answer:
Too much of love spoil the child. A child definitely needs well discipline and manner. Emersion says, “Secret of Education lies in respecting pupils.” At the time of giving education, he should be treated kindly but at his fault he must be punished. He.should be treated kindly but a not at his fault.

Abraham Lincoln Letter To His Son’s Teacher Question And Answer Bihar Board Question 4.
“All men are not just, all men are not true.” Comment on this statement.
Answer:
The poet is right to say that all men are not just and are not true. It’s human nature differs individually. Some are kind and some are rude. So Lincoln advises the teacher to teach the boy about human nature. So that he may beware of the people in Future.

Lincoln’s Son Will Learn That Bihar Board Question 5.
Why do you think Lincoln wants his son to steer away from envy and learn the secret of quiet laughter?
Answer:
Lincoln wants his son to steer away from envy because envy is such a person who believes that people do not do things for good. He is not sincere. Such type of man is not social, he does every work for his sake only. Rather he wants his son that a man who remains amused all the. can tackle any situation and should enjoy laughing quietly.

Abraham Lincoln Letter To His Son’s Teacher Poem Bihar Board Question 6.
Why does Lincoln not want his son to follow the crowd when everyone is getting on the bandwagon?
Answer:
Lincoln does not want his son to follow the crowd when everyone is getting on the bandwagon because he won’t be able to develop has personal qualities. He would not be a leader but a follower as a puppet.

Abraham Lincoln’s Letter To His Son’s Teacher Questions And Answers Bihar Board Question 7.
What qualities did Lincoln want his son’s teacher to teach him?
Answer:
Lincoln wants his son’s teacher to teach him to know about different types of people and able to face different situations. He wants that he should not have ill thoughts rather he should be always in a happy mood. He wished for his son a higher and higher post. He must be self-dependent.

C.2. Group Discussion

Lincoln’s Son Will Learn That Answer Bihar Board Question 1.
The present system of education is at variance with the learner’s experience.
Answer:
The multiplicity of subjects that we have to study bewilders me. 1 do some times wonder the utility of studying Shakespeare in English literature, History, Geography, Social studies etc. There are a host of other subjects, which have probably no use in our’ later lives. One could understand if we were to study the history and geography of our country. What is perplexing, however, is that we have to learn the history and geography of different countries and continents that we shall probably never even see in our lives. So present system of education is at variance with the learners is useless.

Comprehension Based Questions with Answers

1. He will have to learn, I know,
that all men are not just,
all men are not true.
But teach him also that
for every scoundrel there is a hero;
that for every selfish Politician,
there is a dedicated leader
Teach him for every enemy there is a friend,
It will take time, I now;
but teach him if you can,
that a dollar earned is of far more value than five-pound….

Questions:

  1. Name the poem and its poet.
  2. What will the pupil have to learn?
  3. What does the poet advise the teacher about foe and friend,
  4. Which earning is preferable to?

Answers:

  1. The name of the poem is “Abraham Lincoln’s letter to his son’s teacher” and the poet is Abraham Lincoln.
  2. The pupil will have to learn that all men are not just and true.
  3. The poet advises the teacher to teach his pupil that for every enemy there is a friend.
  4. A dollar earned honestly is better than five-pound earned otherwise.

Question 2.
Teach him to learn to lose…
and also to enjoy winning.
Steer him away from envy,
if you can,
teach him the secret of
quiet laughter.
Let him learn early that
the bullies are the easiest to lick…
Teach him, if you can,
the wonder of books…
But also give him quiet time
to ponder the eternal mystery of birds in the sky,
bees in the sun,
and the flowers on a green hillside.

Questions:

  1. What are the poet’s suggestions for losing and winning?
  2. What do you mean by envy?
  3. What is an early lesson?
  4. What does the poet say about books?
  5. What does the poet advise about the mystery?

Answers:

  1. The poet suggests the teacher to teach to learn to lose and to enjoy winning.
  2. Envy means a feeling of discontent caused by’some else’s good fortune. The poet here asks the teacher to steer away from his son from envy.
  3. The poet advises the teacher to give his son an early lesson that the bullies are easiest to be defeated.
  4. The poet thinks that there is ‘wonder in books.
  5. The poet advises the teacher to teach his son so he may able to think over birds in the sky. bees in the sun and flowers on the green hillside.

3. In the school teach him
it is far honourable to fail
than to cheat…
Teach him to have faith
in his own ideas,
even if everyone tells hint
they are wrong…
Teach him to be gentle
with gentle people,
and tough with the tough.
Try to give my son
the strength not to follow the crowd when everyone is getting oil the bandwagon…

Questions:

  1. What does the poet advise the teacher to teach the boy at school?
  2. What should he have faith in?
  3. How should he behave with people?
  4. Find the word from the given stanza which means, “cart”.

Answers:

  1. It is far honourable to fail than to cheat.
  2. He should have faith in his own ideas.
  3. He should be gentle with the gentle and tough with the tough.
  4. Wagon.

Question 4.
I each him to listen to all men…
but teach him also to filter
all he hears on a screen of truth,
and take only the good
that comes through.
Teach him if you can.
how to laugh when he is sad…
Teach him there is no shame in tears.
Teach him to scoff at cynics
and to beware of too much sweetness…
Teach him to sell his brawn
and brain to the highest bidders
but never to put a price-tag
on his heart and soul.
Teach him to close his ears
to a howling mob
and to stand and fight
if he thinks he’s right.

Questions:

  1. What does the poet advise in the first line?
  2. What should he do when he is sad?
  3. Whom should he scoff at?
  4. Whom should he sell his brawn and brain?
  5. What should be done with the howling mob?

Answers:

  1. The poet advised in the first line that he should be taught to listen to all men.
  2. When hs is said he should learn to laugh.
  3. He should be taught to scoff at cynics.
  4. He should sell his brawn and brain to the highest bidders.
  5. He should not hear it but should stand and fight if he thinks right.

5. Treat him gently,
but do not cuddle him,
because only the test
of fire makes fine steel.
Let him have the courage
to be impatient…
let him have the patience to be brave.
Teach him always
to have sublime faith in himself,
because then he will have
sublime faith in mankind.
This is a big order,
but see what you can do…
He is such a fine fellow, my son!

Questions:

  1. What is the suggestion of the poet?
  2. How is steel made?
  3. What should he always think?
  4. How is the son?

Answers:

  1. The poet suggests the teacher treat the boy gently but forbade to caddie him.
  2. When iron is made hot in fire it becomes fine steel.
  3. He should always think about the sublime.
  4. His son is very nice.

Hope you liked the article on Bihar Board Solutions of Class 9 English Poem 8 Abraham Lincoln’s Letter to His Son’s Teacher Questions and Answers and share it among your friends to make them aware. Keep in touch to avail latest information regarding different state board solutions instantly.

Bihar Board Class 9 Hindi Solutions पद्य Chapter 8 मेरा ईश्वर

Bihar Board Class 9 Hindi Book Solutions Godhuli Bhag 1 पद्य खण्ड Chapter 8 मेरा ईश्वर Text Book Questions and Answers, Summary, Notes.

BSEB Bihar Board Class 9 Hindi Solutions पद्य Chapter 8 मेरा ईश्वर

Bihar Board Class 9 Hindi मेरा ईश्वर Text Book Questions and Answers

Mera Ishwar Bihar Board Class 9 Hindi  प्रश्न 1.
मेरा ईश्वर मुझसे नाराज है। कवि ऐसा क्यों कहता है?
उत्तर-
‘मेरा ईश्वर’ लीलाधर जगूड़ी द्वारा रचित काव्य पाठ से ये पंक्तियाँ ली गई हैं। इन पंक्तियों में कवि ईश्वर का प्रतीक प्रयोग किया है। ईश्वर शब्द का मूल सांकेतिक अर्थ है-समाज में रहनेवाले प्रभुत्वशाली वर्ग से।

कवि आम आदमी की पीड़ा, वेदना, त्रासदी को स्वयं के रूप में व्यक्त करते हुए इसके लिए ईश्वर को दोषी या जिम्मेदार माना है। समाज का शोषक वर्ग आम आदमी को सुखी या प्रसन्न रूप में देखना नहीं चाहता। इस पंक्तियों में यही भाव : छिपा है। कवि स्वयं कहता है कि मैं दुख से मुक्ति के लिए संकल्पित मन से तैयार हो गया हूँ। अब मिहनत या कर्म के बल पर अपने भाग्य की रेखा को बदल डालूँगा। मेरे ईश्वर नाराज रहें, इसकी मुझे तनिक भी परवाह नहीं।

उपरोक्त पंक्तियों में ईश्वर भारतीय समाज के शोपक, संपन्न वर्ग का प्रतीक है जो अपनी मनमर्जी से आम आदमी को जीने-मरने के लिए विवश कर देता है। इन पंक्तियों का मूलभाव यह है कि भारतीय समाज में आज भी भाग्यवादी लोग हैं जो सबकुछ संपन्न वर्ग के रहमोकरम पर ही जीवन-यापन करते हैं। इस प्रकार ईश्वर पर तीखा प्रहार कवि ने किया है। वह अब ईश्वर की सत्ता को चुनौती देता है। अब वह उनके संबल पर या दया के बल पर जीना नहीं चाहता। इस प्रकार इन पंक्तियों ‘ में आम आदमी की वेदना व्यक्त हुई है।

अपनी कविताओं द्वारा कवि ने आम आदमी को संघर्षशील और कर्त्तव्यनिष्ठ बनने की सीख दी है।

Ishwar In Hindi Bihar Board Class 9 Hindi प्रश्न 2.
कवि ने क्यों दुखी न रहने की ठान ली है?
उत्तर-
प्रस्तुत पंक्तियां-“क्योंकि मैंने दुखी न रहने की ठान ली’ में कवि ने । दृढ़ संकलित होने के इरादा को प्रकट करता है। वह हृदय से चाहता हैं मैं ईश्वर के बल पर क्यों रहूँ? क्यों उसकी दया का पात्र बनूँ? क्यों उसी के सहारे जीने की कामना करूँ? मेरे भीतर का जो पौरुष है उसे ही क्यों न जगाऊँ? यहाँ कवि के भीतर आत्मबल का भाव जागरित होता है। वह अपने कर्म और श्रम पर विश्वास प्रकट करता है। दुख का जो कारण है-उसके निवारण के लिए वह स्वयं को सजग और सहेज करते हुए कर्मठता की ओर ध्यान आकृष्ट करता है।

यहाँ कवि स्वयं की पीडा दख को दर करने की जो बातें कहता है वह कवि की निजी पीड़ा या दुख नहीं है, वह जनता की णेड़ा है वह आम आदमी की पीड़ा है, कष्ट है, वेदना है। कवि उनके भीतर क स्व को जगाते हुए निज पैरों पर खड़े होने का संदेश देता है। उन्हें सोए हुए से जगाता है। उनके भीतर के पौरुष को जगाकर उनमें चेतनामय करना चाहता है।

इस प्रकार कवि मनुष्य के भीतर जो उसका निजी मनुष्य सोया हुआ है उसे जगाकर जीवन के मैदान में लड़ने के लिए ललकारता है। सोया हुआ आदमी लक्ष्य शिखर पर नहीं चढ़ पाता है। यह पंक्ति उद्बोधन का भी भाव जगाती है। आदमी के भीतर जो ऊर्जा है, श्रम है, हूनर है उसका सही इस्तेमाल होने पर दुख खुद भाग जाएगा।
सामाजिक प्रभु वर्गों के शोषण से तभी मुक्ति मिल सकती है जब मनुष्य मिहनत करने की ठान ले।

ईश्वर क्या कर सकते हैं Class 9 Bihar Board प्रश्न 3.
कवि ईश्वर के अस्तित्व पर क्यों प्रश्न चिन्ह खड़ा करता है?
उत्तर-
कवि ‘मेरा ईश्वर’ कविता में ईश्वर के अस्तित्व को नकारता है। वह कर्म पर विश्वास करता है। अगर मनुष्य दृढ़ संकल्प कर ले। जीवन में कुछ करने की ठान ले तो कछ भी असंभव नहीं। यहाँ मनष्य के भीतर आत्मबल होना चाहिए। उसके भीतर ‘स्व’ की चेतना की लौ जलनी चाहिए।

ईश्वर भी उसी की मदद करता है जो स्वयं अपनी मदद करता है। जो श्रमवीर है, कर्मवीर है, उन्हें किसी दूसरे के संबल पर जीने की क्या जरूरत? कवि कहता है कि मेरी परेशानी का आधार ईश्वर क्यों हो यानि हम अपनी परेशानियों के लिए। ईश्वर को क्यों दोप दें। यहाँ कर्म पर कवि जोर देता है। जीवन के पल-पल का अगर सही सदुपयोग हो तो दुख, कहाँ टिकेगा? अब मुझे दुख दूर कैसे हो? वैसा कारोबार यानि रोजगार को करना है। दुख न रहे, आदमी सुखी हो, इस पर ध्यान केन्द्रित करते हुए बुरी लत से छुटकारा पाना है।

दूसरे अर्थ में समाज के प्रभुत्वशाली या शोषक वर्ग के बल पर हम क्यों आश्रित रहें। हम दुख को दूर करने के लिए क्यों न कसमें खायें और जीवन में कुछ करने की जिद ठान लें। उनके बताए मार्ग या आश्रय में रहने पर दुख से छुटकारा असंभव है। अत: उपरोक्त पंक्तियों में ईश्वर के प्रतीकार्थ रूप में प्रभुत्ववर्ग की शोषण-दमन नीति का विरोध करते हुए जन-जन में, चेतना श्रम और संकल्प के प्रति दृढ़ भाव जगाते हुए दुख को दूर करने के लिए मिहनत करनी होगी।

Ishwar Question Bihar Board Class 9 प्रश्न 4.
कवि दुख को ही ईश्वर की नाराजगी का कारण वयों बताता है?
उत्तर-
यहाँ ‘मेरा ईश्वर’ कविता पाठ में कवि के भाव के दो अर्थ लगाए जा सकते हैं। एक तरफ कवि ईश्वर की नाराजगी के कारण ही जन-जन दुख और पीड़ा से पीड़ित है, ऐसा मानता है। यहाँ भाग्यवादी विचारधारा पर प्रकाश पड़ता है तथा ईश्वर यानि परमात्मा को ही दुख का कारण माना जा सकता है।

दूसरे अर्थ में ईश्वर माने समाज का प्रभुत्वशाली वर्ग जो समाज में दु:ख और – पीड़ा देने का कारक है, को माना जा सकता है। भारतीय समाज की बनावट ही ऐसी है कि जो संपन और सामंती भावना से ग्रसित वर्ग है वह आम आदमी की प्रगति में बाधक है। उसके कुचक्रों एवं षड्यंत्रों के विषय जाल में आम आदमी पीड़ित एवं शोषित है। इस प्रकार कवि की उपरोक्त पंक्तियों से परम ब्रह्म परमेश्वर को भी दुख के दाता के रूप में व्याख्यायित किया जा सकता है। ईश्वर जब नाराज होता है तब जन-जन की पीड़ा दुख में जीना पड़ता है। दूसरी ओर सामाजिक व्यवस्था के तहत सामंती सोच या संपन्न वर्ग की शोषण नीति से आम आदमी प्रभावित होता है और वह दुख के साये में जीने के लिए विवश हो जाता है। यहाँ हम दोनों अर्थ को ले सकते हैं। कवि अत्याधुनिक युग का चेतना संपन्न रचनांकन है, अतः उसकी दृष्टि २ सामाजिक व्यवस्था को ही आम आदमी की पीड़ा एवं दुख का कारण मानता है। भले ही वह ईश्वर का प्रतीक प्रयोग कर अपने भावों को मूर्त रूप दिया हो।

आशय स्पष्ट करें:

Hindi Poem For Class 9 Bihar Board प्रश्न 5.
(क) मेरे देवता मुझसे नाराज हैं
क्योंकि जो जरूरी नहीं है
मैंने त्यागने की कसम खा ली है।
उत्तर-
प्रस्तुत पंक्तियाँ ‘मेरा ईश्वर’ काव्य पाठ से ली गई हैं। इन पंक्तियों में कवि ने अपने हृदय के भाव को व्यक्त किया है। मेरे देवता मुझसे नाराज हैं, क्योंकि मैंने अपने जीवन में जो चीजें जरूरी नहीं है, उसे त्याग करने की कसमें खा ली हैं।
यहाँ कहने का मूल आशय है कि ईश्वर के भरोसे मैं जीना नहीं चाहता। दूसरे के आश्रय या संबल पर जीने से अच्छा स्वावलंबी बनकर जीने में है। यहाँ कवि ईश्वर की सत्ता को चुनौती देता है। वह उसके भरोसे जीना नहीं चाहता। कहने का भाव यह है कि कवि भाग्यवादी नहीं है, वह कर्मवादी है। वह श्रम बल पर विश्वास करता है। दूसरे अर्थ में भारतीय समाज की जो बनावट है उसमें प्रभुत्व वर्ग अपनी मर्जी के मुताबिक समाज को दिशा देने का काम करता है अत: आम आदमी उसी के सहारे या संबल पर जीता है। उसका ‘स्व’ रह नहीं पाता। अतः उसका जीवन कारुणिक एवं वेदनामय हो जाता है।

उपरोक्त पंक्तियों में कवि ने अपने क्रांतिकारी विचारों को प्रकट करते हुए ईश्वर के भरोसे जीना-मरना नहीं चाहता। वह जीवन की भाग्य रेखाओं को अपने कौशल से बदलना चाहता है। इसी कारण वह देवता को नाराज कर देता है। उनकी चिंता या परवाह नहीं करता। मनुष्य के जीवन में श्रम ही सब कुछ है। ईश्वर के -अस्तित्व को मानकर जीना पराधीन रूप में जीने के समान है यानि शोषण से मुक्त जीवन से मुक्त जीवन ही सर्वोत्तम है।

आशय स्पष्ट करें:

प्रश्न 5.
(ख) पर सुख भी तो कोई नहीं है मेरे पास
सिवा इसके की दुखी न रहने की ठान ली है।
उत्तर-
लीलाधर जगूडी द्वारा रचित ‘मेरा ईश्वर’ कविता पाठ से उपरोक्त पंक्तियाँ ली गई हैं। इन पंक्तियों में कवि ने अपने विचार को स्पष्ट शब्दों में प्रकट किया है। कवि कहता है कि मेरे पास यानि मेरे जीवन में दूसरे प्रकार का कोई सुख भी तो नहीं है। लेकिन सबसे बड़ी विशेषता यह है कि सुख के नहीं रहने पर भी मैंने दुखी न रहने की ठान ली है यानि संकल्प कर लिया है। अभावों के बीच भी मैं दुखी नहीं रहूँगा। मेरे भीतर का आत्मबल जग गया है उसके आगे सुख-दुख दोनों फीका है। आदमी भीतर से जब जग जाता है तब उसके सामने सांसारिक सुख-सुविधा कोई मायने नहीं रखता। यहाँ भी यही बात है।

कवि का मन आत्मतोष से भरा पूरा है। वह सांसारिक सुख-दुख से अपने को ऊपर रखते हुए चिंतन के उच्च धरातल पर अपने को रखता है। कवि की भावना प्रबल रूप में हमें दिखाई पड़ती है कि उसने दुखी न रहने के लिए संकल्प ले लिया है। कहने का आशय यह है कि कर्म पर उसे भरोसा है, भाग्य या ईश्वर या देवता के बल पर वह जीना नहीं चाहता। उसने दुख को दूर करने के लिए अपनी मिहनत, आत्मबल और पौरुष पर भरोसा किया है। इस प्रकार आत्म चेतना से संपन्न कवि जीवन के यथार्थ का सम्यक् चित्रण करता है। कष्ट से घबड़ाता नहीं बल्कि, उसे दूर करने के लिए संकल्पित मन से जीवन में कुछ करने की ठान लेता है।

आशय स्पष्ट करें:-

प्रश्न 5.
(ग) मेरी परेशानियाँ और मेरे दुख ही ईश्वर का आधार क्यों हों?
उत्तर-
‘मेरा ईश्वर’ काव्य पाठ से उपरोक्त पंक्तियाँ ली गई हैं। इस कविता के रचयिता लीलाधर जगूड़ी आधुनिक युग के चर्चित कवि हैं। कवि ने मानव जीवन में परेशानियों एवं दुख में मूल कारण को खोज रहा है। वह इसके लिए ईश्वर को क्यों आधार माना जाय, इस प्रकार की धारणा को प्रकट करता है।

आम आदमी चेतना शून्य होता है, उसे आत्मज्ञान या युगबोध का ज्ञान नहीं होता इसीलिए वह परेशानियों एवं दुख के कारण के लिए ईश्वर की नाराजगी को मानता है। जबकि कवि उसे नकाराता है। वह ईश्वर की सत्ता को चुनौती देता है। वह ईश्वर को इन बातों के लिए मूल कारण नहीं मानता। ईश्वर पर ही सब कुछ छोड़ कर भाग्य भरोसे बैठकर रहने से जीवन के दुख और परेशानियों का अंत नहीं होने वाला।

कवि सामाजिक व्यवस्था की खामियों पर भी सूक्ष्म भाव प्रकट करता है। उसके अनुसार समाज में भी ईश्वर या देवता के रूप में एक ऐसा प्रभुत्व वर्ग है जो अपने काले-कारनामों द्वारा आम आदमी को दुखी और परेशानियों में डाल देते हैं। इस प्रकार कवि अत्याधुनिक युग में बदलती सामाजिक व्यवस्थाओं एवं मानव मूल्यों के गिरते स्तर पर चिंतित है। वह इसके लिए आम आदमी के भीतर चेतना जगाने का काम अपनी कविताओं द्वारा कर रहा है। जबतक ईश्वर, देवता या प्रभुत्व वर्ग पर आमजन आश्रित रहेगा तबतक वह परेशानियों एवं दुखों से मुक्ति नहीं पा सकेगा। अगर उसे इन सबसे मुक्ति पाना है तो स्वयं को जगाना होगा। अपने आत्मबल के बल पर श्रम की महत्ता देनी होगी। प्रभुत्व वर्ग के झाँसे में नहीं आना होगा। उनके शिकंजे में नहीं फँसना होगा उनके हाथ की कठपुतली नहीं बनना होगा तभी परेशानियों एवं दुखों का अंत होगा और आम आदमी उससे निजात पा सकेगा।

प्रश्न 6.
कविता का केन्द्रीय भाव स्पष्ट करें।
उत्तर-
‘मेरा ईश्वर’ कविता जो युग बोध से युक्त कविता है आम आदमी के जीवन की समग्र स्थितियों पर प्रकाश डालती है।
लीलाधर जगूडी अत्याधुनिक काल के कवि हैं। कवि की कविता समसामयिकता को लेकर लिखी गयी है। कवि बदलते जीवन-मूल्यों से भलीभाँति परिचित है अतः उनकी कविताओं में जन चेतना को जगाने का भाव छिपा हुआ है। लीलाधर जगूड़ी जी की कविता में जीवन के कटुतिक्त अनुभव विद्यमान हैं। काव्य में जो विविधता आयी है उनका दर्शन होता है। भाषिक प्रयोगशीलता भी विद्यामन हैं। कवि अपनी कविताओं में एक विस्मयकारी लोक की रचना करता है।

प्रस्तुत कविता लीलाधर जगूड़ी के कविता संग्रह ईश्व की अध्यक्षता में से ली गई है। यह कविता भारतीय समाज के प्रभु वर्ग पर गहरी चोट करनी है। मनुष्य जो जैसे-तैसे इन प्रभु वर्गों के शिकंजे में फंस जाता है और सदा के लिए इनकी हाथ की कठपुतली बन जाता है, उसी से संबंधित यह कविता है।

कवि ने ईश्वर और देवता के माध्यम से भारतीय समाज के सामंती वर्ग के चरित्र का उद्घाटन किया है। आम आदमी की प्रसन्नता या सुख से यह वर्ग दुखी हो जाता है, नाराज हो जाता है। इस वर्ग को आम आदमी भगवान से भी बढ़कर समझता है। इनके रहमोकरम पर उनका जीना-मरना संभव है।

जब-जब आम आदमी जीवन में कुछ करने, कुछ बनने की ठानता है तब इस वर्ग के छाती पर साँप लोटने लगता है। वे नाराज हो जाते हैं।

कवि पुनः कहता है कि आदमी दुखी नहीं रहे इसके लिए कुछ न कुछ कारोबार तो करना ही होगा। सुख के मार्ग में जो अवरोधक तत्व हैं यानि बूरे व्यसन हैं उनसे तो छुटकारा पाना ही होगा। हम ईश्वर के भरोसे कब तक बैठे रहेंगे? कब तक वह हमारी दुख दूर करेगा? वह कबतक परेशानियों से मुक्ति दिलाएगा? उसके भरोसे बैठकर रहना तो निरीमूर्खता है। सारे दुखों परेशानियों की जड़ में मनुष्य की हीन भावना और भाग्यवादी बनना है। उसे ईश्वर की सत्ता को चुनौती देनी चाहिए और अपने आत्मबल के सहारे दुखों, कष्टों, से निजात पाना चाहिए।

पुनः कवि मूल भाव को प्रकट करते हुए कहता कि मेरे पास सुख नहीं है लेकिन दुख को दूर करने के लिए भी तो मैंने संकल्प ले लिया है। कसमें खा ली हैं। जब मानव जग जाता है तब प्रकृति भी उसकी मदद करती है। इस प्रकार ‘मेरा ईश्वर’ कविता का केन्द्रीय भाव आदमी के भीतर जो उसका ‘स्व’ है उसे जगाना है। उसके भीतर जो आत्महीनता है उसे दूर करना है। मनुष्य ही इस धरा पर अपना स्वयं भाग्य विधाता है। वह अपनी सूझ-बूझ से, अपनी मिहनत से, समाज की व्यवस्था और जीवन की दशा को नया स्वरूप दे सकता है।

ईश्वर की सत्ता को नकारते हुए मनुष्य अपने कर्म, श्रम और आत्मबल पर विश्वास करे। साथ ही दृढ़ संकल्पित होकर जीवन में कुछ करने, कुछ बनने की ठान ले तो जीवन में दुख और परेशानियाँ स्वतः दूर हो जाएंगी।
माथ ही प्रभुत्वशाली वर्ग भी सरल और सहज भाव से आम आदमी के विकास में सहयोगी बनेंगे। शर्त यही है कि आम आदमी सहज और क्रियाशील रहे।

प्रश्न 7.
कविता में सुख, दुख और ईश्वर के बीच क्या संबंध बताया गया है? –
उत्तर-
‘मेरा ईश्वर’ कविता एक सामाजिक भावधारा से जुड़ी हुई कविता है। लीलाधर जगूड़ी जी अत्याधुनिक काल के सशक्त कवि हैं। इनकी कविताओं में युग का सफल चित्रण हुआ है।

अपनी कविता में ‘ईश्वर’ का प्रयोग कवि ने प्रभुत्व-वर्ग की संस्कृति को दर्शाने के लिए किया है। आम आदमी ईश्वर की सत्ता को मानकर भाग्य के भरोसे बैठा रहता है वह क्रियाशील होकर जीवन क्षेत्र में नहीं उतरता। इसी कारण वह जीवन में दुखी रहता है। सुख की छाँह उसे नसीब नहीं होती।

कवि अपनी कविता में कहता है कि “मेरी परेशानियों और मेरे दुख ही ईश्वर का आधार क्यों हो” में ईश्वर के अस्तित्व पर प्रकाश डाला है। कवि की दृष्टि में दुख और परेशानियों का कारण ईश्वर नहीं है। वह कौन होता है जो हमें परेशानियों में डाले या दुख के साये में जीने के लिए विवश कर दे। इस कविता में ईश्वर दुख और कष्टों का कारण नहीं है। जब मनुष्य चेतस हो जाएगा, आत्म बल से पुष्ट हो जाएगा तो दुख और कष्ट से खुद निजात पा जाएगा। सुख का संबंध भी ईश्वर से नहीं है। सुखी रहने के लिए बुरी आदतों को त्यागना आवश्यक है।

इस प्रकार उक्त कविता में सुख, दुख और ईश्वर के त्रिकोण से कवि ने जीवन के यथार्थ को स्पष्ट करते हुए तीनों के बीच के संबंधों पर प्रकाश डाला है।

सुख की प्राप्ति बिना श्रम या संकल्पित हुए बिना संभव नहीं। ईश्वर या देवता दुख क्यों देंगे जब मनुष्य दुख से लड़ने के लिए तैयार हो जाए। यानि जबतक वह भाग्यवादी रहेगा दुख और परेशानियाँ साथ नहीं छोड़ेगी। जब वह स्वयं पर भरोसा कर कर्मवादी बनेगा तभी इन चीजों से छुटकारा पाएगा।

दूसरे संदर्भो में कवि समाज में व्याप्त अव्यवस्था और ईश्वर या देवता के रूप में अवस्थित प्रभुत्व वर्ग के क्रिया-कलापों से भी सुख-दुख और शोषक वर्ग के त्रिकोण के संबंधों की व्याख्या करता है। समाज में प्रभुत्व वर्ग अपने षड्यंत्रों के माध्यम से आम आदमी के जीवन में ऐसा जाल बुनते हैं कि उसमें फंसकर आम आदमी आजीवन उनके हाथों की कठपुतली बनकर दुख और परेशानियों के बीच जीता-मरता है। सुख उसे नसीब ही नहीं होता। इस प्रकार सुख-दुख और ईश्वर रूपी प्रभु वर्ग के त्रिकोण में आम आदमी का जीवन पीसता रहेगा, पेंडुलम की तरह डोलता रहेगा, जबतक वह चेतना संपन्न नहीं हो जाता अपने संकल्प को नहीं जगाता। कुछ करने, कुछ बनने की कसमें नहीं खा लेता। जीवन को कर्म और निष्ठा की कसौटी पर कसना होगा। तभी सुख की प्राप्ति होगी और ईश्वर और दुख से मुक्ति मिलेगी।

नीचे लिखे पद्यांशों को ध्यानपूर्व पढ़कर नीचे पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दें।

1. मेरा ईश्वर मुझसे नाराज है
क्योंकि मैंने दुःखी न रहने की ठान ली
मेरे देवता नाराज हैं
क्योंकि जो जरूरी नहीं है
मैंने त्यागने की कसम खा ली है।
(क) कवि और कविता के नाम लिखें।
(ख) मेरा ईश्वर मुझसे नाराज है। कवि के इस कथन को स्पष्ट करें।
(ग) कवि ने दुःखी न रहने की क्यों ठान ली है?
(घ) कवि के देवता उससे क्यों नाराज हैं?
(ङ) कवि ने क्या त्यागने की कसम खा ली है? स्पष्ट करें।
उत्तर-
(क) कवि-लीलाधर जगूडी, कविता-मेरा ईश्वर

(ख) कवि का कथन है कि उसका ईश्वर उससे नाराज है। कवि की दृष्टि में उसकी नाराजगी का कारण यह है कि मनुष्य रूप कवि (श्रमजीवी) अपने श्रम के बल पर अपनी खराब हालत को सुधारने के लिए पूर्ण सक्षम है। उसके लिए इसे अब ईश्वर पर (प्रभ या स्वामी) आश्रित नहीं होना है तथा प्रार्थना और निवेदन नहीं करना है। अब स्थिति ऐसी आ गई है कि ईश्वर अब यह समझ बैठा है कि कवि (मनुष्य) अब उसके हाथ की कठपुतली नहीं रह गया है और उसके अस्तित्व का विरोध कर रहा है। इसलिए ईश्वररूप और प्रभु इस पर नाराज है।

(ग) कवि यह समझता है कि दु:ख की स्थिति में पड़े रहने पर मनुष्य का कोई मूल्य नहीं रह जाता। दु:ख के कारण व्यक्ति अपने तमाम मूल्यों को खोने के लिए बेचारा होने की स्थिति में बाध्य हो जाता है। उस समय उसकी स्थिति उसे कठपुतली बनने पर बाध्य कर देती है। फलतः वह दु:खी रहना नहीं चाहता है तभी वह प्रभु या मालिक की गुलामी और दासता से मुक्त रहकर स्वाभिमान और आत्मगौरव का परिचय दे सकता है।

(घ) कविता में चर्चित देवता आज के प्रभुवर्ग के प्रतीक हैं। वे सर्वशक्तिमान तथा तथाकथित सभी गुणों से भूषित हैं। वे यह समझते हैं कि उनकी जो भी इच्छा है वह मान ली जाए। इसका नतीजा यह होता है कि वे अपने भाव, विचार एवं इच्छा को दूसरे पर थोपना चाहते हैं। इस संदर्भ में कवि का कथन है कि अब वह उनकी इच्छा को मानने क लिए बाध्य महीं है। कवि का कथन है कि अब वह उनकी इच्छा को मानने के लिए बाध्य नहीं है। कवि प्रभु की थोपी हुई इच्छा या आदेश को अब माने को बाध्य नहीं है। यही कारण है कि उसके देवता उससे अब नाराज हैं। पहले ऐसी स्थिति नहीं थी।

(ङ) कवि अपने प्रभु द्वारा थोपी गई इच्छा, आदेश, सलाह या बात मानना कोई जरूरी नहों समझता है। इस परिस्थिति में उसने प्रभु की उस अनावश्यक और व्यर्थ की बात और उसे मानते रहने की प्रवृत्ति को त्यागने की कसम खा ली है। कवि की यह सोच है कि जो जरूरी नहीं है, उसे त्यागने की कसम खा ही लेनी चाहिए।

2. न दुःखी रहने का कारोबार करना है
न सुखी रहने का व्यसन
मेरी परेशानियाँ और, मेरे दुःख ही
ईश र का आधार क्यों हों?
पर सुख भी तो कोई नहीं है मेरे पास
सिवा इसके की दुःखी न रहने की ठान ली है।
(क) कवि और कविता के नाम लिखें।
(ख) कवि दुःखी रहने का कारोबार क्यों नहीं करना चाहता है?
(ग) कवि सुखी रहने के व्यसन से भी मुक्त रहना चाहता है। क्यों?
(घ) कवि के अनुसार उसकी परेशानियों और उसके दुःख ही ईश्वर का आधार क्यों थे?
(ङ) प्रस्तुत पद्यांश का आशय अपने शब्दों में व्यक्त करें।
उत्तर-
(क) कवि-लीलाधर जगूड़ी, कविता-मेरा ईश्वर

(ख) कवि यह जानता है कि दु:ख इंसान को इंसान नहीं रहने देता। वह उसे परेशानियों में डाले रहता है। ऐसी स्थिति में मनुष्य (कवि) अपने मौलिक गुणों से विरत हो जाता है। उसके पास कोई नैतिक मूल्य बच नहीं पाता है। ऐसा मनुष्य प्रभुवर्ग के सामने गिर जाता है, झुक जाता है और दुःख से मुक्ति पाने के लिए गिड़गिड़ाने लगता है। कवि की दृष्टि में दु:ख की यह स्थिति दुःखद और अग्राह्य होती है। इसीलिए कवि दु:खी रहना नहीं चाहता।

(ग) दुःख की तरह सुख से भी कवि मुक्त और विरत रहना चाहता है। सुख को वह भौतिक सुखों की आसक्ति समझता है। वह जानता है कि व्यक्ति जब सुखी होता है तब उसमें झूठे अहम का भाव जग जाता है। उस सुख की स्थिति में मनुष्य मनुष्य नहीं रह जाता और वह एक आरोपित या झूठे मनुष्य के रूप में रह जाता है। यह स्थिति भी कवि की दृष्टि में ग्राह्य नहीं मानी जाती है। इसी कारण से वह सुखी रहने के व्यसन से भी मुक्त रहना चाहता है।

(घ) कवि के अनुसार मनुष्य की परेशानियाँ और उसके दुःख के कारण ही ईश्वर या प्रभु का अस्तित्व है। इंसान जब बहुत दु:खी होता है और परेशानियों के गहन जंगल में ठोकरें खाते रहने के लिए बाध्य हो जाता है, तभी वह ईश्वर या प्रभु या मालिक की शरण में जाता है। वह उनको याद करता है। उनकी प्रार्थना करता है और अपने कष्ट और दु:ख के हरण के लिए उनसे निवेदन करता है। इस रूप में कवि को लगता है कि ईश्वर की अवधारणा या अस्तित्व का मूल आधार मनुष्य की परेशानियाँ और उसके दुःख ही हैं।

(ङ) इस पद्यांश में कवि दुःख और सुख दोनों की अतिवादि स्थितियों से मुक्त रहने का अपना संकल्प व्यक्त करता है। उसकी अवधारणा है कि संसार में ईश्वर, प्रभु या मालिक का अस्तित्व मनुष्य की दु:खी रहने की स्थिति के ही कारण है। उसकी नजर में सुख इंसान को अहम के भाव से भर देता है। वह अपने मालिक या ईश्वर के अस्तित्व पर इस रूप में एक प्रश्न-चिन्ह लगा देता है। वह यह नहीं चाहता है कि कोई मनुष्य दुःख की दुर्दशा में पड़े और वह ईश्वर की शरण में जाकर प्रभुवर्ग के हाथों की कठपुतली बने।

Bihar Board Class 9 Disaster Management Solutions Chapter 13 समुदाय आधारित आपदा प्रबन्धन

Bihar Board Class 9 Social Science Solutions Disaster Management आपदा प्रबन्धन Chapter 13 समुदाय आधारित आपदा प्रबन्धन Text Book Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 9 Social Science Disaster Management Solutions Chapter 13 समुदाय आधारित आपदा प्रबन्धन

Bihar Board Class 9 Disaster Management समुदाय आधारित आपदा प्रबन्धन Text Book Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

बहुविकल्पीय प्रश्न :

कक्षा 9 आपदा प्रबंधन Bihar Board प्रश्न 1.
आपदा प्रबंधन के तीन प्रमुख अंगों में कौन एक निम्नलिखित में शामिल नहीं है ?
(क) पूर्वानुमान, चेतावनी एवं प्रशिक्षण
(ख) आपदा के समय प्रबंधन गतिविधियाँ ।
(ग) आपदा के बाद निश्चित रहना
(घ) आपदा के बाद प्रबंधन कार्य करना ।
उत्तर-
((ग) आपदा के बाद निश्चित रहना

आपदा प्रबंधन के प्रश्न उत्तर कक्षा 9 Bihar Board प्रश्न 2.
प्रत्येक ग्रीष्म ऋतु में कौन सी आपदा लगभग निश्चित है ?
(क) आगजनी
(ख) वायु दुर्घटना
(ग) रेल दुर्घटना
(घ) सड़क दुर्घटना
उत्तर-
(क) आगजनी

Bihar Board Class 9 History Book Solution प्रश्न 3.
सामुदायिक प्रबंधन के अंतर्गत निम्नलिखित में से कौन एक प्राथमिक क्रियाकलाप में शामिल नहीं है।
(क) निकटतम प्राथमिक चिकित्सा केन्द्र को सूचित करना।
(ख) प्रभावित लोगों को स्वच्छ जल और भोजन की उपलब्धता की गारंटी करना ।
(ग) आपदा की जानकारी प्रशासन तंत्र को नहीं देना।
(घ) आपतकालीन राहत शिविर की व्यवस्था करना।
उत्तर-
(ग) आपदा की जानकारी प्रशासन तंत्र को नहीं देना।

Bihar Board Solution Class 9 Social Science प्रश्न 4.
ग्रामीण आपदा प्रबंधन समिति के प्रमुख कार्य हैं ?
(क) प्राथमिक उपचार की व्यवस्था नहीं करना।
(ख) सभी को सुरक्षा देना।
(ग) राहत शिविर का चयन एवं राहत पहुँचाने का कार्य करना ।
(घ) स्वच्छता का ख्याल रखना ।
उत्तर-
(ख) सभी को सुरक्षा देना।

लघु उत्तरीय प्रश्न

Bihar Board 9th Class Geography Book प्रश्न 1.
अग्निशमन दस्ता आने के पूर्व समुदाय द्वारा कौन से प्रयास किये जाने चाहिए?
उत्तर-
अग्निशमन दस्ता आने के पूर्व समुदाय द्वारा निम्नलिखित प्रयास किया जाना चाहिए

  • आग से झुलसे हुए लोगों को एक जगह पंचायत भवन या विद्यालय में ले जाकर प्राथमिक उपचार करना चाहिए।
  • जले हुए भाग पर पानी डालना या चंदन का लेप लगाना चाहिए।
  • जले हुए भाग पर बर्फ का उपयोग करना चाहिए।
  • टेलीफोन या मोबाइल का प्रयोग करके अस्पताल से एम्बुलेन्स माँगना चाहिए।
  • घायल या अर्द्ध जल लोगों को अच्छे उपचार के लिए अस्पताल पहुँचना चाहिए।
  • जिस जगह पर आग लगी हो, वहाँ अधिक से अधिक पानी, बालू, गोबर तथा मिट्टी डालना चाहिए ।

Bihar Board 9th Class Social Science Book Pdf प्रश्न 2.
ग्रामीण स्तर पर आपदा प्रबंधन समिति के गठन में कौन-कौन से सदस्य शामिल होते हैं ?
उत्तर-
ग्रामीण स्तर पर आपदा प्रबंधन समिति के गठन में के नौ सदस्य होते हैं। ये निम्नांकित हैं-

  • विद्यालय के प्रधानाचार्य
  • गाँव के मुखिया
  • गाँव के सरपंच
  • गाँव के दो समर्पित लोग
  • प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का एक डॉक्टर
  • राष्ट्रीय सुरक्षा सेवा के सदस्य (N.S.S)
  • ग्राम सेवक
  • स्वयं सहायक समूह की दो महिलाएँ
  • नौ सदस्यों की सूची मानी गयी ।

Class 9 History Bihar Board प्रश्न 3.
आपदा प्रबंधन के लिए समुदाय में किन अच्छे गुणों का होना आवश्यक है ?
उत्तर-
आपदा प्रबंधन के लिए समुदाय के लोगों में निम्नलिखित गुणों का होना आवश्यक है

  • (i) समुदाय के सदस्य हमेशा समुदाय की भलाई सोचें ।
  • (ii) समुदाय द्वारा जब सामूहिक कार्य के लिए टीम का गठन हो तो उसमें परिश्रमी और साहसी लोग ही आपदा में शामिल हों ।
  • उसमें जात-पात और धर्म आधारित भेदभाव नहीं होना चाहिए।
  • समुदाय के हर व्यक्ति को सहज रखना चाहिए कि वे संभावित आपदा की जानकारी शीघ्र ही एक दूसरे को दें।
  • समुदाय के लोगों में उत्साह, साहस और आवश्यकतानुसार सख्ती के प्रयोग की क्षमता होनी चाहिए ।
  • हर व्यक्ति के बहुत से निजी कार्य होते हैं लेकिन सामुदायिक आपदा के सामने निजी कार्य के गुण समझते हुए इसके सामना करने हेतु आगे आना चाहिए।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

Social Science Class 9 Bihar Board प्रश्न 1.
आपदा प्रबंधन में समुदाय की केन्द्रीय भूमिका का वर्णन करें।
उत्तर-
कोई आपदा न तो सूचना देकर आती है न ही इसके कोप का मुक्तभोगी एक व्यक्ति होता है । आपदा आर्थिक भौर सामाजिक दृष्टि से असमान परिवारों में कोई भेद-भाव नहीं करती है । इससे निपटने के लिए समुचित तैयारी की आवश्यकता है और पारिवारिक भागीदारी भी आवश्यक है । इसका प्रभाव जानमाल पर तो पड़ता ही है मानसिक क्लेश भी होता है । इन आपदाओं से निपटने की जिम्मेवारी समाज की सामूहिक रूप से होती है। समाज के अनुभवी लोग आपदाओं का पूर्वानुमान या उनसे निपटने के सर्वोत्तम सुझाव दे सकते हैं । इस प्रकार प्रत्येक परिवार तक उसके लाभ पहुंचाने में समुदाय की केन्द्रीय भूमिका होती है।

Bihar Board Class 9 History प्रश्न 2.
ग्रामीण आपदा प्रबंधन समिति के कार्यों का विस्तृत वर्णन करें।
उत्तर-
ग्रामीण आपदा प्रबंधन समिति के निम्नलिखित कार्य हैं

  • पूर्वानुमान के आधार पर चेतावनी एवं सूचना देना यह प्रबंधन समिति जिला मुख्यालय से प्राप्त सूचनाओं को तत्काल लोगों तक पहुँचायेगी।
  • राहत शिविर का चयन और प्रभावित लोगों को राहत पहुचाने का कार्य इसी के साथ जिला प्रशासन को सूचित करना आगजनी है तो दमकल को सूचित कराना।
  • राहत कार्य-मुख्य रूप से लोगों को भोजन एवं पानी उपलब्ध करना।
  • प्राथमिक उपचार की व्यवस्था करना ।
  • सभी को सुरक्षा प्रदान करना-महिला, बच्चों पर विशेष रूप से ध्यान देना ।
  • स्वच्छता का ख्याल रखना-स्वच्छता रखने से विभिन्न प्रकार की बीमारी नही फैलती है।

Geography Class 9 Bihar Board प्रश्न 3.
आपदा प्रबंधन में समुदाय की भागीदारी को कैसे सुनिश्चित किया जा सकता है?
उत्तर-
आपदा प्रबंधन में समदाय की भागीदारी को निम्न प्रकार से सनिश्चित किया जा सकता है-

  • निकटतम विद्यालय में विद्यार्थियों के बीच यह घोषणा करना कि बाढ़ अथवा आँधी की संभावना है इसलिए घर में लोगों को सचेत कर देना ।
  • किसी आपदा के विषय में विद्यालय, मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर में जाकर घोषणा करना तथा आवश्यक निर्देश देना ।
  • समाज के वृद्ध, बच्चे, गर्भवती महिलाओं के लिए पहले से विस्थापन के प्रबंध करना और गाँव के विद्यालय में तैरने के जैकेट, नाव, डॉक्टर और कुशल लोगों की सूची तैयार करना जिससे आपदा के समय इनका विस्थापन आसानी से किया जा सके ।।
  • पंचायत भवन और गाँव के विद्यालय में तैरने के जैकेट. नाव. डॉक्टर और कुशल लोगों की सूची तैयार रखना वहीं ऐसे स्थान से संपर्क रखना जहाँ से आवश्यकता पड़ने पर उचित व्यवस्था हो सके ।
  • महामारी, दंगे और आग लगने पर परिवहन साधन की व्यवस्था रखना जिससे प्रभावित लोगों को शीघ्र अस्पताल पहुंचाया जा सके ।

Bihar Board Class 9 Maths Solutions Chapter 13 पृष्ठीय क्षेत्रफल एवं आयतन Ex 13.1

Bihar Board Class 9 Maths Solutions Chapter 13 पृष्ठीय क्षेत्रफल एवं आयतन Ex 13.1 Text Book Questions and Answers.

BSEB Bihar Board Class 9 Maths Solutions Chapter 13 पृष्ठीय क्षेत्रफल एवं आयतन Ex 13.1

 

Bihar Board Class 9 Math Solution In Hindi प्रश्न 1.
1.5 m लण्या, 1.25 m चीड़ा और 65 cm गहरा प्लास्टिक का एक डिब्बा बनाया जाता है। इसे ऊपर से खुला रखना है। प्लास्टिक शीट की मोटाई को नगण्य मानते हुए, निर्धारित कीजिए-
(i) डिव्या बनाने के लिए आवश्यक प्लास्टिक शीट का क्षेत्रफल
(ii) इस शीट का मूल्य, यदि 1 m² शीट का मूल्य Rs 20 है।
उत्तर:
प्रश्नानुसार, l = 1.5 m, b = 1.25 m और गहराई = ऊँचाई = h = 65 cm = 0.65 m
(i) प्रश्नानुसार डिव्या ऊपर से खुला रखना है,
अत: डिया का पार्श्व पृष्ठीय क्षेत्रफल = 2(l + b) × h
= 2 × (1.5 + 1.25) × 0.65
= 2 × 2.75 × 0.65 = 3.575 m²
तथा आधार का क्षेत्रस्त = l × b = 1.5 × 1.25
= 1.875 m²
अतः प्लास्टिक शीट का कुल क्षेत्रफल = 3.575 + 1.873
= 5.45 m²

(ii) दिया है, 1 m² शीट का मूल्य = Rs 20
∴ 5.45 m² शीट की कुल कीमत = (5.45 × 20)
= Rs 109.

Bihar Board Class 9 Math Solution प्रश्न 2.
एक कमरे की लम्बाई, चौड़ाई और ऊंचाई कमश: 5 m, 4 m और 3 m हैं। Rs 7.50 प्रतिmकी दर से इस कमरे की दीवारों और छत पर सफेदी कराने का व्यय जात कीजिए।
उत्तर:
प्रश्नानुसार, l = 5 m, b = 4 m तथा h = 3 m
चारों दीवारों का पाचपृष्ठ = 2 (l + b) × h
= 2(5 + 4)3 = 54 m²
जया कमरे की छत का क्षेत्रफल = l × b.
= 5 × 4 = 20 m²
आत: कुल क्षेत्रफल = 54 + 20 = 74 m
∵ l m² सफेदी का मूल्य = Rs 7.50
∴ 74 m² सफेदी का मूल्य = 7.50 × 74 = Rs 555.

Bihar Board Class 9th Math Solution प्रश्न 3.
किसी आयताकार हॉल के फर्श का परिमाप 250 m है। यदि Rs 10 प्रति m² की दर से चारों दीवारों पर पेर कराने की लागत Rs 15,000 है, तो इस हॉल की ऊँचाई ज्ञात कीजिए।
उत्तर:
दिया गया है,
चारों दीवारों पर पेन्ट का व्यय = Rs 15,000
अत: चारों दोषारों का क्षेत्रफल = \(\frac{15000}{10}\)
= 1500 m²
⇒ 2(l + b) h = 1500
⇒ परिमाप × ऊँचाई = 1500
⇒ 250 × ऊँचाई = 1500
⇒ ऊँचाई = \(\frac{15000}{250}\) = 6 m.

Bihar Board Class 9 Math Solution Bharti Bhawan प्रश्न 4.
किसी डिव्ये में भरा हुआ पेन्ट 9.375 m² के क्षेत्रफल पर पेंट करने के लिए पर्याप्त है। इस डिब्बे के पेंट से 22.5 cm × 10 cm × 7.5 cm विमाओं वाली कितनी इंट पेंट की जा सकती हैं?
उत्तर:
दिया है, ईंट की विमाएँ.
l = 22.5 cm × 10 cm × 7.5 cm
अत: ईट का पुष्ठीय क्षेत्रफल = 2(lb + bh +hl)
= 2(22.5 × 10 + 10 × 7.5 + 7.5 × 22.5)
= 2 (225 + 75 + 168.75)
= 2 × 468.75
= 937.5 सेमी²
= 0.09375 मी² (∵ 1 मीटर -100 सेमी.)
अतः डिब्बे में भी हुए पेंट से रंगी जा सकने वाली ईटों को
संख्या \(\frac{9.375}{0.09375}\) = 100.

Bihar Board 9th Class Book Math प्रश्न 5.
एक पनाकार डिव्ये का एक किनारा 10 cm लम्बाई का है तथा एक अन्य घनाभाकार डिब्बे की लम्बाई, चौड़ाई और ऊँचाई क्रमश: 12.5 cm, 10 cm और 8 cm है।
(i) किस डिव्ये का पाय पृष्ठीय क्षेत्रफल अधिक है और कितना अधिक है?
(ii) किम डिब्बे का कुल पृष्ठीय क्षेत्रफल कम है और कितना कम है?
उत्तर:
(i) दिया है, घनाभाकार डिब्बे के लिए l = 12.5 cm, b = 10 cm, रचा h = 8cm.
घनाभाकार डिब्बे का पार्श्व पृष्तीय क्षेत्रफल
= 2(l + b) × h
= 2(12.5 + 10) × 8 = 360 cm²
नघा, 10 cm भुजा वाले घनाकार डिब्बे का पाश्य पृष्ठीय क्षेत्रफल = 4a² = 4 (10)² = 400 cm²
अतः पनाकार डिब्बे का पार्श्व पृष्ठीय क्षेत्रफल 40 cm² अधिक है।

(ii) घनाभाकार डिब्बे का कुल पृष्ठीय क्षेत्रफल
= 2(lb + bh + hl)
= 2(12.5 × 10 + 10 × 8 + 8 × 12.50)
= 2(125 + 80 + 100) = 2 × 305 = 610 cm²
तथा, 10 cm भुजा वाले घनाकार डिब्बे का कुल पृष्टीय
= 6(भुजा)² = 6 × (10)² = 3600 cm²
अत: घनाकार हिल्चे का कुल पृष्तीय क्षेत्रफल 10 cm²

Bihar Board Class 9 Math प्रश्न 6.
एक छोटा पौधाधर (greenhouse) सम्पूर्ण रूप से शीशे की पट्टियों से (आधार भी सम्मिलिती घर के अन्दर ही बनाया गया है और शीशे की पट्टियों को टेष द्वारा चिपकाकर रोका गया है। यह पौधाघर 30m लम्बा, 25 cm चौड़ा और 25 cm ऊंचा है।
(i) इसमें प्रयुक्त शीशे की पट्टियों का क्षेत्रफल क्या है।
(ii) सभी 12 किनारों के लिए कितने टेप की आवश्यकता है।
उत्तर:
पौधाधर को विमाएँ l = 30 cm, b = 25 cm तथा h = 25 cm
(i) प्रयुक्त शीशे की पट्टियों का क्षेत्रफल
= कुल पृष्टीय क्षेत्रफल
= 2(lb + bh + hl)
= 2(30 × 25 + 25 × 25 + 25 × 30)
= 2(2125) = 4250 cm².

(ii) सभी 12 किनारों के लिए आवश्यक टेप
= सभी किनारों की लम्बाई
= 4 (l + b + h) = 4 (34 + 23 + 15)
= 320 cm.

Class 9 Maths Bihar Board प्रश्न 7.
शान्ति स्वीट स्टाल अपनी मिठाइयों को पैक करने के लिए गले के डिणे बनाने का ऑर्डर दे रहा था। दो मापों के डिब्बों की आवश्यकता थी। बडे डिब्बों की माप 25 cm × 20 cm × 5 cm श्री और छोटे मियों को माप 15 cm × 12 cm × 5 cm बीं। सभी प्रकार की अनिव्यापिकता (overlaps) के लिए कुल पृष्ठीय क्षेत्रफल के 5% के बराबर अतिरिक्त गत्ता लगेगा। यदि गले की लागत Rs 4 प्रति 1000 cm². तो प्रत्येक प्रकार के 250 दिव्ये बनवाने की कितनी लागत आएगी?
उत्तर:
बड़े हिच्चे की विमाएँ, l = 25 cm, b = 20 cm तथा h = 5 cm
बडे हिचेका कल पुष्टीय क्षेत्रफल = 2(lb + bh + hl)
= 2(25 × 20 + 20 × 5 + 5 × 25) = 1450 cm²
छोटे डिब्बे को विमाएँ l = 15 cm b = 12cm तथा h = 5 cm
छटे डिब्बे का कुल पृष्टीय क्षेत्रफल = 2(lb + bh + hl)
-2(15 × 12 + 12 × 5 + 5 × 15) = 630 cm²
अत: प्रात्येक प्रकार के 250 डिब्बों का कुल पृष्ठीय क्षेत्रफल
= 250 (1450 + 630)
= 520000 cm²
अतिरिक्त आवश्यक क्षेत्रफल
= 520000 × \(\frac{105}{100}\) = 546000 cm²
∴ गने का कुल मूल्य = \(\frac{546000×4}{1000}\) = Rs 2184

Bihar Board 9th Class Math Solution प्रश्न 8.
परवीन अपनी कार खड़ी करने के लिए, एक सन्दूक के प्रकार के डाँचे जैसा एक अस्थाई स्थान तिरपाल की महायता से बनाना चाहती है, जो कार को चारों ओर से और ऊपर से उकले (सामने वाला फलक लटका हुआ होगा जिसे घुमाकर ऊपर किया जा सकता है। यह मानते हुए कि सिलाई के समय लगा तिरपाल का अतिरिक्त कपड़ा नगण्य होगा, आधार विमाओं 4 मीटर × 3 मीटर और ऊंचाई 2.5 मीटर वाले इस बाँचे को बनाने के लिए कितने तिरपाल की। आवश्यकता होगी?
उत्तर:
डाँचे की विमाएँ, l = 4 मीटर, b = 3 मोटा तथा h = 2.5 मीटर।
∴ साँचे का पार्श्व पृष्टीय क्षेत्रफल = 2(l + b) × h
= 2(4 + 3) × 2.5
= 35 m²
डाँचे को छा का क्षेत्रफल l × b = 4 × 3 = 12 m²
अत: ढाँचे के लिए अवश्यक तिरपाल = 35 + 12 = 47 m².
Bihar Board Class 9 Math Book Pdf

Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द

Bihar Board Class 9 Hindi Book Solutions Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द Questions and Answers, Notes.

BSEB Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द

Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द Questions and Answers

(क) पर्यायवाची या समानार्थी शब्द

एक ही अर्थ को प्रकट करने वाले एकाधिक शब्द पर्यायवाची कहलाते हैं। यूँ तो किसी भाषा में कोई दो शब्द समान अर्थ के नहीं होते। उनमें सूक्ष्म-सा अंतर अवश्य होता है। परंतु अर्थ के स्तर पर अधिक निकट होने वाले शब्दों को समानार्थी कहा जाता है। उदाहरणतया-अश्व, हय और तुरंग-तीनों घोड़े के लिए प्रयुक्त होते हैं। अतः ये पर्यायवाची शब्द हैं।

परंतु स्मरणीय बात यह है कि अर्थ में समानता होते हुए भी पर्यायवाची शब्द प्रयोग में सर्वधा एक-दूसरे का स्थान नहीं ले सकते। जैसे –

मृतात्माओं के तर्पण के लिए ‘जल’ शब्द का प्रयोग उपयुक्त है, ‘पानी’ का नहीं। जबकि दोनों समानार्थक (पर्यायवाची) हैं। प्रत्येक पर्यायवाची अपनी अर्थगत विशिष्टता लिए हुए होता है।

यहाँ कुछ शब्दों के पर्यायवाची शब्द दिए जा रहे हैं –

शब्द – पर्याय

अनुपम – अतुलनीय, अद्वितीय, अतुल, अपूर्व, अनूठा, अतुल
अमृत – सुधा, अगरल, अमिय, पीयूप, जीवनोदक
अंसुर – राक्षस, दानव, दैत्य, निशिचर, निशाचर, रजनीचर
आँख – नयन, लोचन, चक्षु, नेत्र, अक्षि, दृग
आकाश – गगन, व्योम, नभ, अंबर, आसमान
आग – अग्नि, वह्नि, अनल, पावक, दहन, ज्वलन, कृशानु
आनंद – सुख, प्रसन्नता, आह्लाद, उल्लास, हर्ष, मोद; आमोद प्रमोद
आम – आम्र, रसाल, सहकार, चूत, अमृतफल, अतिसौरभ।
इच्छा – चाह, कामना, अभिलाषा, आकांक्षा, मनोरथ, मनोकामना, स्मृहा
इंद्र – सुरेंद्र, सुरपति, देवराज, शचीपति, मघवा
इन्द्राणी – इन्द्रवधू, शची पुलोमजा
कपड़ा – वस्त्र, वसन पट, परिधान, अंबर, चीर ।
कमल – पंकज, नलज, पद्म, अरविंद, उत्पल, सरसिज, शतदल, इंदीवर
कामदेव – काम, मदन, अनंग, मार, मन्मथ, कंदर्प, स्मर रतिपति, मनसिज
किताब – पुस्तक, पोथी, ग्रंथ

किरण – रश्मि, मयूख, अंशु, कर, मरीचि
कुबेर – अलकापति यक्षरज किन्नरपति, किन्नरेश, धनद, धनाधिप
गंगा – जाह्नवी, भागीरथी, मंदाकिनी, देवनदी, देवापगा, त्रिपथगा, सुरापगा
गणेश – लंबोदर, गजानन, गजवदन, गणपति, मूषिकवाहन, विनायक
घर – गृह, सदन, धाम, गेह, भवन, आलय, निलय, आगार, निकेत
घोड़ा – अश्व, हय, घोटक, तुरंग, बाजि, सैंधव
चाँद – चंद्र, चंद्रमा, इंदु, कलाधर, सुधांशु, हिमांशु, शशि, राकेश, सोम
चतुर – कुशल, योग्य, होशियार, सयाना, प्रवीण, निपुण, दक्ष, पटु, नागर
जंगल – वन, कानन, विपिन, अरण्य, बनानी
जल – पानी, नीर, वारि, अग्यु, सलिल, तोय, उदक, पथ
जमुना – यमुना, कालिंदी कृष्णा, तरणिजा, रविसुता, रवितनया, रविनंदिनी
तालाब – सरोवर, तड़ाग, सर, हृद, जलाशय, पद्माकर, सरिण, पुष्कर
दास – सेवक, नौकर, चाकर, अनुचर, भृत्य, किंकर, परिचारक
दुःख – पीड़ा, कष्ट, वलेश, वेदना, संताप
दुर्गा – काली, चंडी, गौरी, कल्याणी, चंद्रिका, कालिका, अभया, शाम्भवी
देवत – देव, सुर, अमर, निर्जर, विबुध, त्रिदश, जीर्वाण
धन – दौलत, संपत्ति, ऐश्वर्य, संपत्, संपदा, विभूति, वित्त, द्रव्य
नदी – सरिता, प्रवाहिनी, तरंगिणी, तटिनी, आपगा, निम्नगा
नरक – रौरव, यमपुरी, यमालय, यमलोक, कुंभीपाक
नयन – अक्षि, आँख, नेत्र, चक्षु, दृग, लोचन

नाव – नौका, तरी, जलयान, डोंगी, पतंग, तरणी
पंडित – सुधी, विद्वान, मनीषी, विज्ञ, कोविद, बुध, प्राज्ञ, विचक्षण
पंछी – पक्षी, विहंग, विहंगम, पखेरू, परिंदा, विहग, खग, द्विज
पत्थर – पाहन, पापाण, अश्म, प्रस्तर, उपल
पवन – हवा, वायु, समीर, समीरण, अनिल, वात
पति – प्राणेश, भर्ता, वल्लभ, स्वामी, आर्य
पत्नी – भार्या, गृहिणी, अर्धांगिनी, प्राणप्रिया, सहधिर्मिणी, वल्लभा
पहाड़ – पर्वत, भूधर, शैल, अचन, गिरी, नग, महीधर, भूभृत्, भूमिधर
पार्वती – उमा, गौरी, शिवा, भवानी, दुर्गा, गिरिजा, सती, रुद्राणि शब्द पर्याय
प्रकाश – रोशनी, ज्योति, प्रभा, चमक
पृथ्वी – धरा, बसुंधरा, वसुधा, धरती, धरणी, अवनि, मेदिनी, धरित्री, भू
putra – बेटा, लड़का, बच्चा, पूत, सुत, तनय, आत्मज
पुत्री – बेटी, लड़की बच्ची, सुता, तनया, आत्मजा, दुहिता, नंदिनी
पुष्प – फूल, सुमन, कुसुम, प्रसून
बाण – तीर, शर, विशिख, आशुग, इषु, शिलीमुख, नाराच
बालू – रेत, सैकत, बालुका, पुलिन’
ब्रह्मा – विधि, विधाता, पितामह, विरंचि, प्रजापति, कमलासन, चतुरानन
बिजली – चपला, चंचला, विद्युत, दामिनी, क्षणप्रभा, तड़ित, सौदामिनी
भौंरा – भ्रमर, भृग, मधुप, पट्पद, अलि, द्विरेफ
मछली – मीन, झष, मत्स्य, सफरी, जलजीवन
महादेव – शिव, शंकर, शंभु, भूतनाथ, भोलेनाथ, ईश, पशुपति, महेश
मेघ – बादल, मेह, जलधर, वारिद, नीरद, वारिधर, पयोद, पयोधर
मोक्ष – मुक्ति, परमधाम, परमपद, निर्वाण, कैवल्य, उपवर्ग ।
यम – यमराज, अन्तक, कृतान्त, जीवितेश, जीवनपति, सूर्यपुत्र, अंतक
रमा – लक्ष्मी, कमला, इंदिरा, पद्मा, पद्मासना, हरिप्रिया
राजा – नरपति, नरेश, महीप, महीपति, नृप, भूप, भूपति, अधिपति
राह – रास्ता, पथ, मार्ग, पंथ
रात – रात्रि, रैन, निशा, रजनी, यामिनी, शर्वरी, त्रियामा, विभावरी
वायु – हवा, बयार, समीर वात, मारुत, समीरण, अनिल
वृक्ष – पेड़, तरु, विटप, अगम, द्रुम, पादप, गाछ
विष्णु – जनार्दन, चक्रपाणि, विश्वम्भर, मुकुंद, नारायण, केशव, माधव
स्त्री – नारी, महिला, ललना, वनिता, कांता, रमणी, अंगना
स्वर्ग – सुरलोक, सुरनगर, अमरलोक, देवलोक, दिव, द्यौ, त्रिदिव
सब – सर्व, समस्त, निखिल, अखिल, समग्र, सकल, संपूर्ण
सागर – जलधि, पारावार, रत्नाकर, अब्धि, पयोनिधि, अर्णव, सिंधु
समूह – समुदाय, संघ, दल, मंडल, वृंद, गण, निकर
सरस्वती – शारदा, वीणापाणि, वागीश्वरी, भारती, ब्रह्माणी, गिरा, वाणी
साँप – भुजंग, सर्प, विषधर, व्याल, फणी, उरग, पन्नग, नाग

सिंह – शेर, मृगेंद्र, मृगराज, केशरी, मृगारि, नखायुध
सुंदर – कमनीय, मनोहर, ललित, चारु, मनोरम, रुचिर, रम्य, सुहावना
सूर्य – सूरज, रवि, भानु, दिनकर, अंशुमाली, मार्तण्ड, भास्कर, मरीची
सेना – अनी, पदाति, सैन्य, कटक, चमू
सोना – स्वर्ण, कंचन, सुवर्ण, कनक, हिरण्य, हाटक, जातरूप
हँसी – मुसकान, स्मित, हास्य
हाथ – कर, हस्त, पाणि, भुजा
हाथी – गज, करी, कुंजर, नाग, वारण, द्विरद, द्विप, मतंग, हस्ती

पर्यायवाची शब्दों के अर्थ-भेद

शब्द-युग्म अथवा एकार्थक प्रतीत होने वाले शब्द। कोई भी शब्द पूरी तरह दूसरे शब्द का पर्याय नहीं हो सकता। दो पर्याय से लगने वाले शब्दों में भी सूक्ष्म-सा अंतर अवश्य रहता है। नीचे कुछ ऐसे शब्द-युग्म , दिए जा रहे हैं, जिन्हें भ्रम, से पर्याय मान लिया जाता है। वस्तुतः इनमें अर्थ की दृष्टि से स्पष्ट अंतर होता है –

अगम – जहाँ पहुँचा न जा सके।
दुर्गम – जहाँ पहुँचना कठिन हो।
अधिक – आवश्यकता से ज्यादा।
पर्याप्त – आवश्यकता के अनुसार।
दर्प – नियम के विरूद्ध काम करने पर घमण्ड।
अभियान – अपने को बड़ा और दूसरे को छोटा समझने का भावना।
घमण्ड – प्रत्येक स्थिति में अपने को बड़ा और दूसरे को हीन समझना।

अनभिज्ञ – जिसे किसी बात की जानकारी प्राप्त करने का अवसर न मिला हो।
अभिज्ञ – जानकार, विज्ञ, निपुण अथवा कुशल।
अनुरोध – किसी बात को मनवाने के लिए जोर देना। यह प्रायः बराबर वालों के साथ किया जाता है।
प्रार्थना – ईश्वर अथवा अपने से बड़ों के प्रति की जाती है।
अनुभव – अनुभव का सम्बन्ध इन्द्रियों से है।
अनुभूति – अनुभव की तीव्रता को अनुभूति कहते हैं।
अनुरूप – अनुरूप से किसी की योग्यता अथवा सामर्थ्य का बोध होता है। जैसे-सुशीला को उसकी योग्यता के अनुरूप पुरस्कार मिला।
अनुकूल – अनुकूल से उपयोगिता का बोध होता है। जैसे-रोगी के लिए यहाँ का वातावरण अनुकूल नहीं है।
अपराध – कानून का उल्लंघन अपराध है।
पाप – नैतिक नियमों का पालन न करना अथवा धर्म के विरूद्ध आचरण करना पाप है।
अवस्था – हालत का सूचक शब्द अवस्था कहलाता है।
आयु – जीवन की अवधि को आयु कहते हैं।
आधि – मानसिक कष्ट को आधि कहते हैं।
व्याधि – शारीरिक रोग अथवा कष्ट को व्याधि कहते हैं।
आदरणीय – अपने से बड़ों के प्रति सम्मान-सूचक शब्द!
पूजनीय – गुरु, पिता, माता अथवा महापुरुषों के प्रति प्रयुक्त होने वाला शब्द।
आराधना – किसी देवता या इष्टदेव के सामने की गई दया की याचना।
उपासना – एकनिष्ठ साधना।
आगामी – आने वाला जिसका प्रायः निश्चय हो।
भावी – भविष्य का बोध। (भावी टल नहीं सकती।)
आधिदैविक – देवताओं से मिलने वाला दुःख।
आधिभौतिक – पंचभूतों से मिलने वाला दु:ख। जैसे-आँधी-तूफान आदि।
आलोचना – विषय की सम्यक् एवं सन्तुलित आलोचना।
समालोचना – किसी विषय की सम्यक् एवं सन्तुलित आलोचना।
आज्ञा – किसी पूज्य व्यक्ति द्वारा किया गया निर्देश।
आदेश – किसी अधिकारी द्वारा किया गया निर्देश।

आतंक – जहाँ रक्षा प्राप्त करने की सम्भावना न हो।
अन्तःकरण – विशुद्ध मन की विवेकपूर्ण शक्ति।
आत्मा – एक अतीन्द्रिय तत्व जो अनश्वर है।
अनुराग – किसी के प्रति शुद्ध भाव से मन केन्द्रित करना।
आसक्ति – मोह से सम्बन्धित प्रेम को आसक्ति कहते हैं।
अन्वेषण – अज्ञात वस्तु, स्थान आदि का पता लगाना।
खोज – गुप्त चीज का पता लगाना।
अनुसंधान – प्रत्यक्ष तथ्यों में से कुछ छिपे तथ्यों की जानकारी प्राप्त करना।
गवेषणा – विषय की मूल स्थिति को जानने का प्रयत्न करना।
अनबन – दो पक्षों में आपस में न बनना।
खटपट – दो पक्षों में कहासुनी होना।
अद्वितीय – जिसके बराबर दूसरा न हो।
अनुपम – जिसकी उपमा न की जा सके।
अभिभाषण – लिखित भाषण।
व्याख्यान – वक्ता द्वारा दिया गया मौखिक भाषण।
अगोचर – जो इन्द्रियों द्वारा ग्रहण न किया जा सके, पर जिसे ज्ञान या बुद्धि से अनुभव किया जा सके।
अज्ञेय – जो किसी भी तरह जाना न जा सके।
अभिज्ञ – जिसे अनेक विषयों की सामान्य जानकारी हो।
विज्ञ – जिसे किसी विषय का अच्छा ज्ञात हो।
अलौकिक – जिसका सम्बन्ध लोक से न हो।
असाधरण – जो साधारण से बढ़कर हो।
अपयश – स्थाई रूप से दोष बन जाना।
कलंक – कुसंगति के कारण चरित्र पर दोष लगना।
मन्त्री – सलाहकार। सचिव – सहायक मंत्री।
आवेदन – प्रार्थना-पत्र।
निवेदन – नम्रतापूर्वक अपने विचार प्रकट करना।
इच्छा – चाह।
अभिलाषा – कामना।
ईर्ष्या – किसी की उन्नति देखकर जलना।
द्वेष – शत्रुता का भाव।
स्पर्धा – मुकाबले की भावना। दूसरों को आगे बढ़ते हुए देखकर स्वयं भी आगे बढ़ने की इच्छा रखना।
ग्लानि – किए हुए कुकर्म पर दुःख एवं पछतावा होना।
घृणा – किसी गंदे काम से अरुचि।

लज्जा – अनुचित कार्य कर बैठने पर मुँह छिपाना।
संकोच – कोई कार्य करने में हिचकिचाहट।
चेष्टा – कोई अच्छा काम करने के लिए शारीरिक श्रम।
प्रयत्न – कोई कार्य करने के लिए शारीरिक श्रम।
उद्योग – किसी कार्य को पूरा करने के लिए मानसिक दृढ़ता।
दक्ष – जो हाथ से काम करने में कुशल हो।
निपुण – जो अपने विषय अथवा कार्य का पूरा ज्ञान प्राप्त कर चुका हो।
कुशल – जो हर काम में अपनी शारीरिक तथा मानसिक शक्तियों का प्रयोग भली-भाँति करना जानता है।
निदा – नींद।
तन्दा – आलस्य, प्रमाद।
निधन – महान् एवं लोकप्रिय व्यक्तियों की मृत्यु को निधन कहा जाता है।
मृत्यु – सामान्य शरीरांत को मृत्यु कहा जाता है।
प्रेम- व्यापक अर्थ में प्रयुक्त होने वाला शब्द।
स्नेह – अपने से छोटों के प्रति प्रेम स्नेह कहलाता है।
वात्सल्य – बच्चों अथवा सन्तान के प्रति बड़ों तथा माता-पिता का प्रेम।
प्रणय – पति-पत्नी का प्रेम।
ममता – माता का सन्तान के प्रति प्रेम।
प्रलाप – अत्यधिक कष्ट अथवा मानसिक विकार के कारण ‘प्रलाप’ किया जाता है।
विलाप – शोक अथवा वियोग में रोना ‘विलाप’ कहलाता है।
पारितोषिक – किसी प्रतियोगिता में विजयी होने पर पारितोषिक दिया जाता है।
पुरस्कार – किसी व्यक्ति के अच्छे काम अथवा रचना पर पुरस्कार दिया जाता है।
प्रशासित – बढ़ा-चढ़ाकर प्रशंसा करना।
स्तवन – किसी महान् व्यक्ति की कीर्ति एवं वंश का वर्णन स्तवन कहलाता है।
स्तुति – देवी-देवताओं का गुण-कथन।
परिमल – फूलों से निकलने वाली सुगन्ध जो अधिक दूर नहीं जाती।
सौरभ – वृक्षों अथवा फूलों पत्तियों या वनस्पतियों से निकलने वाली
सुगन्ध जो दूर तक व्याप्त होती है।
प्रतिमान – नमूना, किसी वस्तु का वह रूप जिसकी सहायता से दूसरी वस्तु बनाई जाती है।
मापदण्ड – किसी वस्तु का नाप जानने का साधन।
पर्यटन – किसी विशेष उद्देश्य से की गई यात्रा।
भ्रमण – सैर अथवा दर्शनीय स्थानों को देखने के लिए जाना भ्रमण कहलाता है।
पत्नी – किसी की विवाहिता स्त्री।

स्त्री – कोई भी औरत।
महिला – कुलीन घर की स्त्री।
विरोध – दो व्यक्तियों या दलों में होने वाला मतभेद।
वैमनस्य — मन में रहने वाला वैर अथवा शत्रुता का अभाव।
विवाद – अत्यन्त दु:ख के कारण शारीरिक अथवा मानसिक पीड़ा।
व्यथा – किसी आघात के कारण किंकर्तव्यविमूढ़ बन जाना।
विहीन – अच्छी बात अथवा गुण का अभाव।
रहित – बुरी बात का अभाव। वह सब प्रकार के दोषों से रहित है:
सेवा – किसी को आराम देना।।
शुश्रूषा – रोगी की सेवा।
संतोष – सहज रूप से प्राप्ति पर प्रसन्नता एवं निश्चित बने रहना।
परितोष – आवश्यकताओं की पूर्ति को परितोष कहते हैं।
स्वतंत्रता – अपना तंत्र या व्यवस्था होना।
स्वाधीनता – अपने वश में होना।
समीर – शीतल एवं मन्द गति से बहने वाली वायु।
पवन – मन्द अथवा तेज चलने वाली किसी भी प्रकार की वायु।
सखा – जो आपस मे एक प्राण बनकर रहें।
सुहृदय – अच्छे अथवा कोमल हृदय वाला।
सभा – सभा अस्थायी और सार्वजनिक होती है। यह आकार में भी बड़ी होती है।
गोष्ठी – यह स्थायी होती है। यह आकार में छोटी होती है। इसमें कुछ विशिष्ट व्यक्ति ही भाग लेते हैं।
समिति – आकार में गोष्ठी से भी छोटी होती है। इसमें कुछ विशिष्ट व्यक्ति ही सम्मिलित होते हैं।
संदेह – शक।
भ्रान्ति – चक्कर अथवा उलझन में पड़ जाना।
संशय – जहाँ वास्तविकता का कुछ निश्चय न हो।

(ख) विलोम शब्द या विपरीतार्थक शब्द

किसी शब्द का विलोम बतलाने वाले शब्द को विलोमार्थक शब्द कहते हैं; जैसे-अच्छा-बुरा, ज्ञान-अज्ञान आदि। उपर्युक्त उदाहरणों में ‘अच्छा’ और ‘ज्ञान’ के विलोम अर्थ देने वाले क्रमशः ‘बुरा’ और ‘अज्ञान’ शब्द हैं।

विलोमार्थक शब्द को ही विपरीतार्थक शब्द कहते हैं। विलोमार्थक शब्द मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं –

अ, अन्, वि, अनु, प्रति, अव, अप आदि अनुकूल-प्रतिकूल उपसर्ग जोड़ने से विरोधी अर्थ वाले शब्द और विरोधी प्रत्यय से। जैसे-

शब्द – विपरीतार्थक शब्द

1. अभिज्ञ – अनभिज्ञ
2. अर्थ – अनर्थ
3. अनुरक्त – विरक्त
4. अनुराग – विराग
5. आगत अनागत
6. आचार – अनाचार
7.. आदर – अनादर
8. आवश्यक – अनावश्यक आकर्षण विकर्षण
10. आरोह – अवरोह
11. आस्था – अनास्था
12. आहार – अनाहार
13. इच्छा – अनिच्छा
14. इष्ट – अनिष्ट
15. उदार – अनुदार
16. उचित – अनुचित
17. उत्तीर्ण – अनुत्तीर्ण
18. उदात्त – अनुदात्त
19. उपयुक्त – अनुपयुक्त
20. उपस्थित – अनुपस्थित
21. उन्नति अवनति
22. एक – अनेक
23. एकता – अनेकता
24. औचित्य – अनौचित्य
25. ऋत – अनृत
26. औदात्य – अनौदात्य
27. कीर्ति – अपकीर्ति
28. कृतज्ञ – अकृतज्ञ
29. खाद्य – अखाद्य
30. गुण – अवगुण
31: ज्ञान अज्ञान
32. घात – प्रतिघात
33. चल अचल
34. चिन्मय – अचिन्मय

35. चेतन – अचेतन
36. जाति – विजाति धर्म – अधर्म
38. धार्मिक – अधार्मिक
39. नश्वर – अनश्वर
40. नित्य – अनित्य
41. परिमित – अपरिमत
2. पूर्ण – अपूर्ण
43. प्रत्यक्ष – अप्रत्यक्ष, परोक्ष
44. प्रसन्न अप्रसन्न
45. योग – वियोग
46. नया – पुराना
47. निराकार – साकार
48. निन्दा – प्रशंसा, स्तुति
49. नगर – ग्राम
50. निर्दय – दयालु
51. नैतिक – अनैतिक
52. निष्क्रिय – सक्रिय
53. नैसर्गिक – अनैसर्गिक, कृत्रिम
54. निर्मल – मलिन
55. निरर्थक – सार्थक
56. नकली – असली
57. निष्काम – सकाम
58. निरामिष सामिष
59. निर्लज्ज – सलज्ज
60: निरक्षर – साक्षर
61. नित्य – अनित्य
62. पण्डित – मूर्ख
63. परमार्थ – स्वार्थ
64. परकीय – स्वकीय
65. पक्ष – विपक्ष
66. मनुज – दनुज
67. मित्र – शत्रु
68. मलिन – स्वच्छ वियोग
70. यश – अपयश
71. यौवन बुढ़ापा
72. यथार्थ कल्पित
73. रक्षक – भक्षक
74. राजा – रंक
75. राजतंत्र जनतंत्र
76. राग – विराग
77. रिक्त – पूर्ण
78. रागी – विरागी
79. रोगी – निरोग
80. लाभ – हानि
81. प्रख्यात – अविख्यात
82. परार्थ – स्वार्थ

83. पुरस्कार – तिरस्कार
84. पूर्व – पश्चिम
85. पालक – पीड़क
86. परतंत्र – स्वतंत्र
87. बन्धन – मोक्ष
88. बर्बर – सभ्य
89. भौतिक – आध्यात्मिक
90. भूत – भविष्य
91. भूगोल – खगोल
92. भोगी – योगी
93. भद्र – अभद्र
94. भय – अभय
95. मानव – दानव
96. मूक – वाचाल
97. महात्मा – दुरात्मा
98. मिलन – विरह
99. मंगल – अमंगल
100. मृत – जीवित
101. विपत्ति सम्पति
102. व्यावहारिक – अव्यवहारिक
103. विपन्न सम्पन्न
104. विपद् सम्पद्
105. विधवा – सधवा
106. वक्र – सरल
107. विमुख सम्मुख
108. वैतनिक – अवैतनिक
109. विशाल सूक्ष्म
110. सम – विषम
111. सुगम – दुर्गम
112. सुगन्ध – दुगन्ध
113. संयोग – वियोग
114. संगत – असंगत
115. सगुण – निर्गुण

(ग) श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द
अथवा
समान प्रतीत होने वाले भिन्नार्थक शब्द

बहुतेरे शब्द एक-आध अक्षर या मात्रा के फर्क के बावजूद सुनने में एक-से लगते हैं, किन्तु उनके अर्थ में काफी अन्तर रहता है। ऐसे शब्दों को श्रुतिसम’ (सुनने में एक जैसा लगनेवाले) भिन्नार्थक (किन्तु अर्थ में भिन्नता रखनेवाले) हा जाता है। नीचे उदाहरणस्वरूप कुछ ऐसे शब्द दिये जा रहे हैं –

Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द - 1
Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द - 2

Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द - 3
Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द - 4
Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द - 5

Bihar Board Class 9 Hindi व्याकरण पर्यायवाची, विलोम तथा श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द - 6

Bihar Board Class 9 Maths Solutions Chapter 1 संख्या पद्धति Ex 1.1

Bihar Board Class 9 Maths Solutions Chapter 1 संख्या पद्धति Ex 1.1 Text Book Questions and Answers.

BSEB Bihar Board Class 9 Maths Solutions Chapter 1 संख्या पद्धति Ex 1.1

Bihar Board Class 9 Math Solution In Hindi प्रश्न 1.
क्या शून्य एक परिमेय संख्या है? क्या इसे आप के रूप में लिख सकते हैं, जहाँ p और q पूर्णांक है और q ≠ 0 है?
उत्तर:
हाँ,शून्य एक परिमेय संख्या है। शून्य को \(\frac{p}{q}\) रूप में निम्न प्रकार लिखा जा सकता है.
\(\frac{0}{1}\) = \(\frac{p}{q}\)
जहाँ 0 तथा 1 पूर्णाक हैं और q ≠ 0.

Bihar Board Class 9 Math Solution प्रश्न 2.
3 और 4 के बीच में छ: परिमेय संख्याएँ ज्ञात कीजिए।
उत्तर:
3 और 4 के बीच में छः परिमेय संख्याएँ जात करने के लिए हमें संख्याओं को, (6 + 1) अर्थात् 7 हर लेकर लिखना होगा।
अत: 3 = \(\frac{3×7}{7}\) = \(\frac{21}{7}\) नया 4 = \(\frac{4×7}{7}\) = \(\frac{28}{7}\)
अत: 3 और 4 के बीच अभीष्ट छ: परिमेय संख्याएं
\(\frac{22}{7}\), \(\frac{23}{7}\), \(\frac{24}{7}\), \(\frac{25}{7}\), \(\frac{26}{7}\), \(\frac{27}{7}\)

Bihar Board Class 9 Math Solution Pdf प्रश्न 3.
\(\frac{3}{5}\) और \(\frac{4}{5}\) के बीच पाँच परिमेय संख्याएँ ज्ञात कीजिए।
उत्तर:
\(\frac{3}{5}\) व \(\frac{4}{5}\) के बीच पाँच परिमेय संख्याएँ ज्ञात करने के लिए इन संख्याओं के अंश ज झ में (5 + 1) अर्थात् 6 का गुणा करके लिखने पर, \(\frac{3×6}{5×6}\) = \(\frac{18}{30}\) तथा \(\frac{4×6}{5×6}\) = \(\frac{24}{30}\) प्राप्त होता है।
अतः \(\frac{3}{5}\) व \(\frac{4}{5}\) के बीच अभीष्ट पाँच परिमेय संख्याएँ \(\frac{19}{30}\), \(\frac{20}{30}\), \(\frac{21}{30}\), \(\frac{22}{30}\) एवं \(\frac{23}{30}\) है।

Bihar Board Solution Class 9 Math प्रश्न 4.
नीचे दिए गए कवन सत्य हैंया असत्य, कारण के साथ अपने उत्तर दीजिए

  1. प्रत्येक प्राकृत संख्या एक पूर्ण संख्या होती है।
  2. प्रत्येक पूर्णाक एक पूर्ण संख्या होती है।
  3. प्रत्येक परिमेय संख्या एक पूर्ण संख्या होती है।

उत्तर:

  1. सत्व है, क्योंकि प्राकृत संख्याएँ 1, 2, 3 ….. ∞ है जबकि पूर्ण संख्याएँ , 1, 2, 3 …… ∞ है।
  2. असत्य है, क्योंकि पूर्ण संख्या क्षणात्मक नहीं हो सकती है। जैसे- -3 एक पूर्णाक है लेकिन पूर्ण संख्या नहीं।
  3. असत्य है, क्योंकि प्रत्येक परिमेय संख्या पूर्ण संख्या नहीं हो सकती, जैसे- \(\frac{3}{5}\), \(\frac{1}{3}\), \(\frac{10}{19}\) परिमेय संख्याएँ हैं परन्तु पूर्ण संख्या नहीं।